खेलWorld Test Championship Final: भारत अपने प्रदर्शन से संतुष्ट

WeForNews DeskJune 20, 202112251 min
World Test Championship Final

एजेस बाउल (साउथम्पटन), 20 जून | स्विंग वाली पिच पर न्यूजीलैंड के टॉस जीतने के बावजूद विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल में भारत के पास अपने प्रदर्शन से संतुष्ट होने का कारण था।

बल्लेबाजी एक चुनौती थी, लेकिन जब मैच के शुरुआती दिन में खराब रोशनी के कारण खेल को तीसरा बार रोका गया था। मैच का पहला दिन पूरी तरह से बारिश में धुल गया था-कप्तान विराट कोहली और उप-कप्तान अजिंक्य रहाणे के बीच चौथे विकेट के लिए एक उम्मीद भरी साझेदारी थी, जिसने आईसीसी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल में और मजबूती के लिए एक मंच तैयार किया।

यह पहले से तय था कि अगर न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन टॉस जीतते हैं तो वह पांच तेज गेंदबाजों के साथ उतरेंगे। भारी बारिश की स्थिति में मैच पूरी तरह से फ्लडलाइट्स के तहत होती है-ने उसे और अधिक प्रभावित किया। जैसा कि क्यूरेटर साइमन ली ने वादा किया था कि पिच में गति और उछाल होगी। लेकिन न्यूजीलैंड के गेंदबाजों को जितनी जल्दी सफलता की उम्मीद थी, वह सफल नहीं हो पाई।

तारीफ करनी चाहिए भारतीय सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा और शुभमन गिल का, जिन्होंने खराब गेंद का इंतजार किया और अर्धशतकीय साझेदारी की। वास्तव में, एक समय में उनका रन रेट लगभग 3.7 प्रति ओवर होता तो बेहतर होता अगर आउटफील्ड नमी से इतनी सुस्त नहीं होती।

जब तक सीम के दोनों किनारों के बीच थोड़ा सा कंट्रास्ट नहीं आता है, तब तक इंग्लिश ड्यूक गेंद आमतौर पर देर से स्विंग नहीं करती है। लेकिन यह 50 ओवरों तक हवा में घुमावदार बना रह सकता है जब तक कि यह असाधारण रूप से शुष्क और गर्म न हो और ऐसा केवल जुलाई या अगस्त में ही हो सकता है।

शर्मा ने बल्ले और गेंद के बीच स्विंग को कम करने के लिए क्रीज के बाहर आना शुरू किया। गिल ने गेंदबाज को अपनी लंबाई के बारे में सोचने के लिए एक या दो कदम आगे बढ़ाया। काइल जैमिसन ने एक शार्ट गेंद फेंका, जोकि बल्लेबाज की ग्रिल पर जा लगा।

शर्मा के पास हमेशा की तरह अपने शानदार ड्राइव और कट्स को अंजाम देने के लिए पर्याप्त समय था। गिल, उल्लेखनीय रूप से आराम से, ट्रेंट बाउल्ट की गेंद पर मिडविकेट पर हुक लगाकर नजरें गड़ाए थे। कड़ी मेहनत करने के बाद, शर्मा एक वाइडिश आउटस्विंगर के लिए पहुंचे, जिसे वह छोड़ सकते थे, जबकि गिल ने अपना बल्ला ऑफ स्टंप के बाहर आगे आती गेंद पर फेंका।

चेतेश्वर पुजारा को तेजी से यह आभास होता है कि वह अपनी पारी की शुरूआत में स्ट्रोकलेस रहते हैं, इसलिए नहीं कि वह आक्रामक शॉट नहीं खेल सकते, बल्कि इसलिए कि उन्होंने ऐसा नहीं किया। उन्होंने 35 गेंदों पर भी अपना खाता नहीं खोला। फिर उन्होंने स्क्वायर कट पर चौका और कवर की अगली दो गेंदों को बाउंड्री पर पहुंचाया।

टेस्ट क्रिकेट में, क्रीज पर कब्जा करना सामरिक रूप से उपयोगी है, लेकिन अगर यह रनों के मामले में पूरी तरह से सही नहीं है। दोहरे अंक तक पहुंचने से पहले बाउल्ट ने बाएं हाथ के इनस्विंगर से पुजारा को पगबाधा आउट किया।

88 रन पर तीन विकेट भारत के लिए स्कोर को मजबूत करने का समय था। अंपायर रिचर्ड इलिंगवर्थ द्वारा उन्हें अनावश्यक रूप से आउट दिया। भारतीय कप्तान को विश्वास था कि गेंद को देखने का प्रयास करते समय उन्होंने संपर्क नहीं किया था और स्निक-ओ-मीटर ने भी इसकी पुष्टि की।

(वरिष्ठ क्रिकेट लेखक आशीष रे ‘क्रिकेट वल्र्ड कप : द इंडियन चैलेंज’ पुस्तक के लेखक और ब्रॉडकास्टर हैं)

Related Posts