उत्तराखंड: विधायकों पर कार्रवाई के लिए तैयार स्पीकर, समय बढ़ाने की मांग खारिज | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

राष्ट्रीय

उत्तराखंड: विधायकों पर कार्रवाई के लिए तैयार स्पीकर, समय बढ़ाने की मांग खारिज

Published

on

उत्तराखंड
उत्तराखंड

उत्तराखंड में बागी कांग्रेस विघायकों को वापस पाले में लाने की पार्टी की कोशिश रंग लाती नहीं दिख रही है।

जिस वजह से सियासी घटनाक्रम के लिहाज से शनिवार का दिन बेहद अहम होने जा रहा है। सभी बागी विधायकों को आज शाम 5 बजे तक स्पीकर के नोटिस का जवाब देना होगा। अगर ऐसा नहीं होता है तो स्पीकर एकतरफा कार्रवाई करते हुए सभी बागी विधायकों को विधानसभा की सदस्यता से निष्कासित भी कर सकते हैं।

जानकारी के मुताबिक, विधानसभा में हरीश रावत सरकार के लिए परेशानी खड़ी करने वाले कांग्रेस के सभी 9 बागी विधायकों को 18 मार्च को स्पीकर ने दल-बदल कानून के तहत नोटिस भेजा था।

जिसमें 26 मार्च तक सभी बागी विधायकों से खुद पेश होकर जवाब देने के लिए कहा गया था। 18 मार्च की रात से ही सभी बागी विधायक उत्ताराखंड से बाहर हैं। शुक्रवार 25 मार्च को बागी विधायकों ने स्पीकर के नोटिस को गलत बताते हुए इसके विरोध में नैनीताल हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। विधायकों ने याचिका में स्पीकर के नोटिस का जवाब देने के लिए और समय देने की बात की थी, लेकिन हाईकोर्ट से विधायकों को किसी तरह की राहत नहीं मिल सकी है।

हाईकोर्ट ने बागी विधायकों की याचिका खारिज करते हुए कहा है कि स्पीकर ही बागी विधायकों को अधिक समय देने या न देने के संबंध में फैसला ले सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक, नोटिस की समयावधि 26 मार्च शाम 5 बजे के बाद कभी भी कार्रवाई हो सकती है। हरीश रावत सरकार को 28 मार्च को विधानसभा में अपनी सरकार का बहुमत साबित करना है।

इतना ही नहीं यह भी बताया जा रहा है कि अगर स्पीकर ने बागियों के खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई की तो वे उसे तुरंत अदालत में चुनौती देने की तैयारी कर रहे हैं। उधर, केंद्र सरकार इस पूरे मामले पर नजर रखे हुए है। कुल मिलाकर अगले कुछ दिनों में प्रदेश की सियासत में काफी उतार-चढ़ाव आने वाले हैं।

wefornews bureau 

राष्ट्रीय

बॉम्‍बे हाई कोर्ट कंगना रनौत को दिलाएगा मुआवजा, कहा- BMC ने गलत इरादे से तोड़ा दफ्तर

Published

on

By

बॉम्बे हाईकोर्ट ने सात और नौ सितंबर को अभिनेत्री कंगना रणौत को बृह्नमुंबई महानगर पालिका द्वारा जारी किए गए नोटिस को खारिज कर दिया है।

अदालत ने कंगना के कार्यालय पर की गई तोड़फोड़ को दुर्भावनापूर्ण इरादे से की गई कार्रवाई बताया है। न्यायालय ने यह भी आदेश दिया है कि कार्यालय में की गई तोड़फोड़ के कारण हुए नुकसान का पता लगाने के लिए एक वैल्यूअर (मूल्यांकन करने वाला) को नियुक्त किया जाए।अदालत

Continue Reading

राष्ट्रीय

जम्मू-कश्मीर: घर में नजरबंद की गईं महबूबा मुफ्ती

Published

on

By

Mehbooba Mufti

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती की मुश्किलें एक बार फिर बढ़ गई हैं। शुक्रवार सुबह उनकी बेटी ने फोन पर बताया कि उन्हें और उनकी मां महबूबा को घर में नजरबंद कर दिया गया है।

दोनों में से किसी को घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं है। बता दें कि महबूबा मुफ्ती आज पुलवामा दौरे पर जाने वाली थीं, लेकिन अब नजरबंद होने के बाद वो नहीं जा पाएंगी।दोनों

Continue Reading

राष्ट्रीय

अहमद पटेल किए गए सुपुर्द-ए-खाक

पटेल की मय्यत (पार्थिव देह) को वडोदरा से पिरमण लाया गया था। इसके बाद सैकड़ों स्थानीय एवं कांग्रेस नेताओं की मौजूदगी में पटेल को मुस्लिम कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक किया गया।

Published

on

Ahmed Patel

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल को गुजरात के भरूच जिले के उनके पैतृक गांव पिरमण में बृहस्पतिवार को सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पार्टी के अहम रणनीतिकार और संकटमोचक की तदफीन (दफन करना) में शिरकत की। पटेल का बुधवार को इंतकाल हो गया था।

पटेल की मय्यत (पार्थिव देह) को वडोदरा से पिरमण लाया गया था। इसके बाद सैकड़ों स्थानीय एवं कांग्रेस नेताओं की मौजूदगी में पटेल को मुस्लिम कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक किया गया। कांग्रेस नेता की मय्यत बुधवार रात वडोदरा हवाई अड्डे पहुंची थी और उसे भरूच जिले के अंकलेर शहर में स्थित सरदार पटेल अस्पताल में रखा गया था। गांधी बृहस्पतिवार को सूरत हवाई अड्डे पहुंचे और फिर सड़क के रास्ते से पिरमण गए जहां वह दिवंगत सांसद के परिवार से उनके पुश्तैनी घर में मिले और उन्हें दिलासा दिया।

राहुल गांधी ने पटेल की कब्र पर मिट्टी डाली। कांग्रेस की प्रमुख सोनिया गांधी ने अपने पूर्व सहयोगी को श्रद्धांजलि देने के लिए फूल भिजवाए थे। पटेल को सुपुर्द-ए-खाक करने से पहले उनकी नमाज-ए-जनाजा अदा की गई थी। पटेल की इच्छा के मुताबिक, उन्हें उनके माता-पिता की कब्र के बराबर में दफनाया गया है। पटेल की तदफीन में गुजरात कांग्रेस प्रमुख अमित चावड़ा, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के गुजरात प्रभारी राजीव सातव, लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वाघेला समेत अन्य ने शिरकत की। पटेल (71) का बुधवार को गुड़गांव के एक अस्पताल में कोविड-19 से संबंधित जटिलताओं की वजह से इंतकाल हो गया था।

Continue Reading

Most Popular