उत्तर प्रदेश: 26 आईएएस अफसरों का तबादला हुुआ ! | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

शहर

उत्तर प्रदेश: 26 आईएएस अफसरों का तबादला हुुआ !

Published

on

उत्तर प्रदेश

लखनऊ: यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले एक बार फिर बड़े पैमाने पर आईएएस अफसरों का तबादला हुआ है। इस बार यूपी सरकार ने 26 आईएएस अफसर का तबादला किया है।

राज्य के 26 आईएएस अफसर का तबादला हुआ। जिनमें प्रदीप भटनागर प्रमुख सचिव कृषि चंद्रकांत कमिश्नर आगरा बने गए।

मोनिका गर्ग से महिला कल्याण हटाकर रेणुका कुमार प्रमुख सचिव महिला कल्याण सुभाष चंद्र शर्मा सचिव स्वास्थ्य मुरली मनोहर लाल कमिश्नर खाद्य औषधि विभाग गोरखपुर के डीएम ओएन सिंह हटाए गए।

ओएन सिंह विशेष सचिव लोक निर्माण सुखलाल भारती एमडी हथकरघा निगम मनमोहन चौधरी विशेष सचिव व्यवसायिक शिक्षा रमाकांत पांडेय अपर निदेशक ट्रेनिंग अकादमी सुरेश कुमार सिंह अपर आयुक्त ग्राम्य विकास चंद्रपाल सिंह सचिव लोक सेवा आयोग प्रमोद कुमार विशेष सचिव पीडब्ल्यूडी राजेंद्र कुमार सिंह एमडी भूमि सुधार निगम संजय अग्रवाल से लीडा और बंधु MD का हटा कंचन वर्मा सीईओ लीडा बनाई गई।

अलकनंदा दयाल एमडी पिकप व ईडी उद्योग बंधु अजयदीप सिंह एमडी यूपी डेस्को अटल राय विशेष सचिव वाणिज्य कर आंद्रा वाम्सी सीडीओ इलाहाबाद पुलकित खरे सीडीओ वाराणसी पीके शिबू सीडीओ शाहजहांपुर बनाए गए।

नरेंद्र प्रसाद पांडेय सीडीओ फर्रुखाबाद प्रकाश चंद्र श्रीवास्तव विशेष सचिव खाद्य रसद अपूर्वा दुबे ज्वाइंट मजिस्ट्रेट बरेली सुनील कुमार वर्मा ज्वाइंट मजिस्ट्रेट आगरा बनाए गए हैं। वहीं यूपी में आईएस अफसरों के साथ 55 एसडीएम के भी तबादले किए गए।

wefornews bureau

keywords:UP,26 IAS ,officers, transferred, 26 आईएएस,अफसरों,तबादला,उत्तर प्रदेश 

शहर

मुंबई: वर्ली के मनीष कमर्शियल सेंटर में हुआ सिलेंडर धमाका

Published

on

IED blast
प्रतीकात्मक तस्वीर

मुंबई के वर्ली में एनी बेसेंट रोड पर मनीष कमर्शियल सेंटर में सिलेंडर धमाका हो गया है। दमकल विभाग की एक टीम घटनास्थल पर पहुंच गई है। घटना के संबंध में अधिक जानकारी की प्रतीक्षा है।

WeForNews

Continue Reading

शहर

वाराणसी: डीजल रेल इंजन कारखाने में लगी भीषण आग

Published

on

fire

वाराणसी के डीजल रेल इंजन कारखाने (डीरेका) में बुधवार सुबह भीषण आग लग गई।

मौके पर दमकल विभाग की कई गाड़ियां पहुंच गईं। आग में करोड़ों का नुकसान होने की संभावना जताई जा रही है।

जानकारी के अनुसार, डीरेका के प्रशासनिक भवन के प्रौद्योगिकी केंद्र में बुधवार सुबह करीब सवा छह बजे आग लगी थी। इसकी सूचना से रेलवे कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। इस दौरान मौके पर सेफ्टी कार्यालय के कर्मचारी, अग्निशमन की तीन गाडियां, गेल की फायर सर्विस की गाड़ी, आरपीएफ और पुलिस पहुंच गई।

बिल्डिंग की खिड़की को तोड़कर आग बुझाने की कोशिश की गई। करीब तीन घंटे के प्रयास के बाद आग पर काबू पा लिया। किसी के हताहत होने की सूचना अभी तक सामने नहीं आई है।

Continue Reading

शहर

सर्वे: दिल्ली में किराये पर 32.38% परिवार

Published

on

Delhi Shaop-

दिल्ली में रहने वाले लोगों पर एक सर्वे सामने आया है, जिसमें ये जानकारी मिली है कि यहां रहने वाले 32.38 फीसदी परिवार किरायेदार के तौर पर जीवन बिता रहे हैं., जबकि 48.21 फीसदी लोगों के पास अपने इस्तेमाल के लिए वाहन नहीं है. यानी 3 में एक परिवार किराये के मकानों में है और 2 में से 1 के पास वाहन नहीं है। इस सर्वे में 20 लाख 5 हजार परिवार शामिल किए गए हैं।

दिल्ली के डायरेक्टोरेट ऑफ इकोनॉमिक्स एंड स्टेटिस्टिक्स (DES) द्वारा तैयार सामाजिक-आर्थिक सर्वे रिपोर्ट में ये जानकारी सामने आई हैं। ये सर्वे नवंबर 2018 से नवंबर 2019 के बीच कराया गया है। इंडियन एक्सप्रेस में सर्वे के आधार पर ये रिपोर्ट लिखी गई है।

सर्वे के मुताबिक, सर्वे में शामिल 66.33 फीसदी लोगों के पास अपना घर है, ऐसे लोगों की सबसे ज्यादा संख्या (76.37%) शाहदरा जिले में है, जबकि सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट दूसरे नंबर है जहां 72.36% लोगों के पास अपना घर है।

नई दिल्ली में सबसे ज्यादा किरायेदार
सर्वे में जो जानकारी सामने आई है उसके मुताबिक, नई दिल्ली जिले में सबसे ज्यादा किरायेदार लोग रहते हैं. यहां करीब 51.85% लोग ऐसे हैं जो किराये के घरों में जिंदगी गुजार रहे हैं. हालांकि, ये भी तथ्य है कि नई दिल्ली दिल्ली में ज्यादातर घर केंद्र सरकार से जुड़े कर्मचारियों के क्वार्टर्स, मंत्रियों, जजों, नौकरशाहों के बंगले हैं।
दूसरी तरफ किरायेदारों के मामले में दूसरे नंबर पर दक्षिण-पूर्व जिला है., यहां करीब 41.91% परिवार किराये के मकानों में रह रहे हैं. जबकि दक्षिण-पश्चिम जिले में 39.90% किरायेदार हैं।

कितने लोगों के पास वाहन
सर्वे में शामिल 20 लाख 5 परिवारों में से 51.78% ने बताया है कि उनके पास अपने वाहन हैं, जिनमें से 40.35% के पास दो-पहिया वाहन हैं, 4.34% परिवारों के पास चार-पहिया वाहन और 6.59% के पास दो-पहिया और चार-पहिया दोनों किस्म के वाहन हैं।

आमतौर पर किसी परिवार के मासिक खर्च का अंदाजा इस बात पर भी निर्भर करता है कि क्या वो निजी वाहन चलाने की स्थिति में हैं या नहीं, दिल्ली को लेकर जो सर्वे आया है उसमें 48.21% परिवार ऐसे हैं जिनके पास अपना कोई व्हीकल नहीं है, ऐसे लोगों की मासिक आय 10 हजार या इससे कम है, जिनका प्रतिशत 60.20 फीसदी है।

Continue Reading

Most Popular