अब प्रेग्नेंट होने में मदद करेंगे ये ‘स्पर्मवोट’ | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

स्वास्थ्य

अब प्रेग्नेंट होने में मदद करेंगे ये ‘स्पर्मवोट’

Published

on

प्रेग्नेंट

पहली बार जर्मन वैज्ञानिकों ने एक मोटरचालित ‘स्पर्मवोट’(स्पर्म रोबोट) बनाने में कामयाबी हासिल की है उन स्वस्थ शुक्राणुओं को तैरने में मदद करेगी जिसकी गति थोड़ी धीमी होती है, लेकिन गर्भधारण के लिए वे बिल्कुल सक्षम होते हैं. गर्भधारण नहीं कर पाने का एक प्रमुख कारण शुक्राणुओं की तैरने की चाल सुस्त होना भी है. इसका इलाज कृत्रिम गर्भाधान या अन्य प्रजनन तकनीक से किया जाता है, लेकिन यह शत-प्रतिशत कामयाब नहीं है.

जर्मनी के आईएफडब्ल्यू ड्रेसडेन के इंस्टीट्यूट ऑफ इंटिग्रेटिव नैनोसाइंस के शोधार्थियों ने एक माइक्रोमोटर बनाने में कामयाबी हासिल की है जो शुक्राणुओं की पूंछ में चिपक कर उसकी गति बढ़ाने का काम करती है.

प्रयोगशाला में मोटर ने अपने काम को बेहद सटीक तरीके से किया और शुक्राणुओं को संभावित निषेचन के लिए अंडाणु तक तेजी से पहुंचाकर उससे अलग हो गया.

शोधकर्ता मरियाना मेडिना-सेनचेझ, लुकास स्वार्ज, ओलीवर जी स्मिड और उनके साथियों का कहना है कि इस तकनीक के क्लिनिकल टेस्टिंग से पहले इसमें सुधार करने की जरूरत है.

ब्रिटेन ह्यूमन फर्टिलाइजेशन एंड एंब्राइलॉजी विभाग के अनुसार फिलहाल उपलब्ध कृत्रिम गर्भाधान तकनीक की सफलता दर 30 फीसदी से भी कम है. वहीं, आईवीएफ (इन वित्रो फर्टिलाइजेशन) तकनीक कहीं ज्यादा सफल है, इस काफी अधिक खर्च होता है. इस शोध को एसीएस जर्नल नैनो लेटर्स में प्रकाशित किया गया है.

wefornews bureau

राष्ट्रीय

कोरोना वैक्सीन लगने के दूसरे दिन वार्ड ब्वाय की मौत

केंद्र सरकार ने बताया है कि राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के दो दिनों के दौरान देश में 2.24 लाख से अधिक लाभार्थियों को कोविड-19 के टीके लगाये गए। इस दौरान प्रतिकूल प्रभाव के सिर्फ 447 मामले सामने आए।

Published

on

Anti Corona Vaccine

मुरादाबाद: यूपी के मुरादाबाद जिले में कोरोना का टीका लगवाने वाले एक वार्ड ब्वाय की रविवार को अचानक मौत हो गई। वार्ड ब्वाय महिपाल सिंह की उम्र 46 साल थी। डॉक्टरों ने बताया है कि शुरूआती रिपोर्ट के मुताबिक ऐसा लगता है कि हार्ट अटैक के कारण मौत हुई है।

सीएमओ ने बताया कि शनिवार को टीका लगवाने के बाद वह बिल्कुल ठीक थे। वह अपना काम अच्छे से कर रहे थे। हालांकि वार्ड ब्वाय के बेटे ने कहा है कि वैक्सीन लगवाने के बाद उनके पिता की तबीयत पहले की तरह सामान्य नहीं थी।

बताया जा रहा है कि रविवार को सीने में दर्द और सांस लेने में दिक्कत हुई तो घरवाले उन्हें लेकर जिला अस्पताल पहुंचे, जहां डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। महिपाल सिंह जिला अस्पताल में वार्ड ब्वाय के पद पर थे। उनकी ड्यूटी सर्जिकल वार्ड में थी। उनके परिवार में पत्नी, दो बेटे और एक बेटी है।

खबर मिलते ही स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। सीएमओ डॉ. एमसी गर्ग उनके घर पहुंचे। महिपाल के बेटे विशाल की मानें तो शनिवार रात में ही उनके पिता को परेशानी हो रही थी। सुबह उन्हें बुखार भी था।

बेटे विशाल ने रविवार रात में मीडिया को बताया, ‘सुबह ड्यूटी से आने के बाद अचानक उनकी तबीयत खराब हो गई थी। मुझे किसी काम से जाना था तो मैं चला गया, शाम को फोन आया कि तबीयत ज्यादा खराब है आ जाइए। 108 पर घरवालों ने फोन किया पर वे समय पर नहीं आए। शनिवार को वैक्सीनेशन के बाद ही उनकी सांस फूल रही थी।’ एक सवाल के जवाब में विशाल ने बताया कि वह कोरोना पॉजिटिव भी नहीं थे।

अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि अस्पताल लाने से पहले ही महिपाल सिंह की मौत हो चुकी थी। परिजनों के कहने पर उनका कई बार चेकअप किया गया, पर कोई फायदा नहीं हुआ। संभव है कि उन्हें साइलेंट अटैक हुआ हो और उन्हें पता न चल पाया हो।

CMO Moradabad Dr MC Garg ने बताया कि जिला अस्पताल में वार्ड ब्वाय के पद पर तैनात महिपाल सिंह की रविवार शाम 6 बजे मृत्यु हो गई। रविवार दोपहर में उन्हें सांस लेने में दिक्कत हुई थी। शनिवार को दिन में करीब 12 बजे उन्हें वैक्सीन दी गई थी। मृत्यु के कारण की जांच की जा रही है। कोरोना वैक्सीन के रिएक्शन के सवाल पर उन्होंने कहा कि शनिवार रात में इन्होंने नाइट ड्यूटी की थी और उन्हें कोई समस्या नहीं थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत की असली वजह पता चल सकेगी।

Continue Reading

राष्ट्रीय

भारत में रोजाना घट रहे हैं कोविड के मामले

Published

on

Coronavirus

देश में पिछले 24 घंटों में कोरोनावायरस के 15,145 नए मामले सामने आए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में रविवार को भी दैनिक मामलों की संख्या में गिरावट जा रही।

देश में अब मामलों की कुल संख्या 1,05,57,986 हो गई है। मंगलवार को देश में 12,584 नए मामले दर्ज हुए थे, जो 7 महीनों में सबसे छोटा आंकड़ा था। बता दें कि पिछले 8 दिनों से रोजाना 20 हजार से कम मामले दर्ज हो रहे हैं।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने कहा है कि पिछले 24 घंटों में 181 लोगों की मौत के बाद कुल मृत्यु संख्या 1,52,274 हो गई है।

देश में पिछले 23 दिनों से रोजाना 300 से कम नई मौतें दर्ज हो रही हैं। मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, 1,01,96,885 लोग अब तक ठीक हो चुके हैं और 2,08,826 सक्रिय मामले हैं। रिकवरी दर 96.56 प्रतिशत और मृत्यु दर 1.44 प्रतिशत है।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने कहा है कि 15 जनवरी तक 18,57,65,491 परीक्षण हो चुके हैं। इनमें से 8,03,090 परीक्षण शुक्रवार को किए गए थे। दैनिक मामलों में से 76 फीसदी नए मामले 7 राज्यों – केरल, महाराष्ट्र, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, छत्तीसगढ़ और गुजरात के हैं।

2 टीकों के साथ देश में शनिवार से बहुप्रतीक्षित सामूहिक टीकाकरण अभियान शुरू हो चुका है। पहले चरण में लगभग 3 करोड़ लोगों का टीकाकरण होना है।

Continue Reading

राष्ट्रीय

भारत में कोरोना के 15 हजार नए मामले

Published

on

coronavirus

नई दिल्ली, 16 जनवरी (आईएएनएस)। भारत में कोरोना के दैनिक मामलों में कमी आना जारी रहा। है। पिछले 24 घंटों में कोरोनावायरस के 15,158 नए मामले सामने आने के साथ कुल मामलों की संख्या बढ़कर 1,05,42,841 हो गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी।

मंगलवार को, भारत ने 12,584 नए मामले दर्ज किए थे, जो सात महीनों में सबसे कम एकदिनी आंकड़ा था। देश पिछले आठ दिनों से प्रतिदिन 20,000 से कम नए मामले दर्ज कर रहा है।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने कहा कि पिछले 24 घंटों में 175 मौतें होने के साथ इस बीमारी से अब तक 1,52,093 लोग दम तोड़ चुके हैं। पिछले 22 दिनों से, देश में प्रतिदिन 300 से कम नई मौतें दर्ज की गई हैं।

मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, अब तक 1,01,79,715 मरीज ठीक हो चुके हैं और वर्तमान में 2,11,033 सक्रिय मामले हैं। रिकवरी दर 96.56 प्रतिशत है, जबकि मृत्यु दर 1.44 प्रतिशत है।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने कहा कि 14 जनवरी तक जांचे गए नमूनों की कुल संख्या 18,57,65,491 थी, जिनमें शुक्रवार को 8,03,090 का परीक्षण किया गया।

सात राज्यों – केरल, महाराष्ट्र, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, छत्तीसगढ़ और गुजरात से प्रतिदिन लगभग 76 प्रतिशत नए मामले सामने आए हैं।

इस बीच, दो टीकों को मंजूरी के साथ, शनिवार से शुरू होने वाला बहुप्रतीक्षित टीकाकरण अभियान शुरू हो गया है।

केंद्र सरकार ने अभियान के पहले चरण में लगभग 3 करोड़ लोगों को टीका लगाने की योजना बनाई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि 1.1 करोड़ कोविशिल्ड और 55 लाख कोवैक्सीन खुराक क्रमश: 200 रुपये और 206 रुपये प्रति खुराक की लागत पर खरीदे गए हैं।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular