थाईलैंड के पर्यटकों के लिए नए वीजा नियम | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

थाईलैंड के पर्यटकों के लिए नए वीजा नियम

Published

on

मोदी
थाईलैंड

थाईलैंड से अधिक से अधिक पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने शुक्रवार को घोषणा की। थाईलैंड के नागरिकों के लिए डबल एंट्री ई-टूरिस्ट वीजा की सुविधा दी जाएगी। मोदी ने यह घोषणा राष्ट्रीय राजधानी में थाईलैंड के प्रधानमंत्री प्रयुत चान-ओ-चा के साथ जारी एक साझा बयान में की। चान-ओ-चा भारत दौरे पर हैं।

मोदी ने कहा, “भारत में थाईलैंड के अधिक से अधिक पर्यटकों का स्वागत करने और देश के बौद्ध स्थलों के उनके दौरे को सुविधाजनक बनाने के लिए हम जल्द ही थाईलैंड के नागरिकों के लिए डबल एंट्री ई-टूरिस्ट वीजा की सुविधा देने जा रहे हैं।”

प्रधानमंत्री ने कहा, “अगले साल हमारे कूटनीतिक संबंधों के 70 साल पूरा होने के मौके पर हम थाईलैंड में भारत महोत्सव तथा भारत में थाईलैंड महोत्सव का आयोजन करेंगे।”

दोनों देशों के बीच मजबूत संपर्को की चर्चा करते हुए मोदी ने कहा, “मजबूत संपर्क केवल द्विपक्षीय व्यापारिक संबंधों के विस्तार के लिए ही जरूरी नहीं हैं, बल्कि यह हमारे लोगों को निकट लाता है और विज्ञान, संस्कृति व पर्यटन सहयोग में मदद करता है।”

wefornews bureau

keywords: Thailand, new visa, rules, tourists,थाईलैंड,पर्यटकों,नए वीजा, नियम, प्रधानमंत्री मोदी

अंतरराष्ट्रीय

ऐतिहासिक होगी संयुक्त राष्ट्र की आम सभा, पीएम मोदी लेंगे दो बैठकों में हिस्सा

Published

on

Photo-ANI

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि एवं राजदूत टीएस तिरुमूर्ति ने संयुक्त राष्ट्र के 75वें सत्र के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस बार का सत्र कई मायनों में ऐतिहासिक होने वाला है। उन्होंने बताया कि सोमवार से शुरू होने वाले इस डिजिटल सत्र के दो बहस में प्रधानमंत्री मोदी भी शिरकत करेंगे।

तिरुमूर्ति ने कहा कि पहली बहस एक सामान्य बहस है जहां पीएम मोदी राष्ट्रीय व्यक्तव्य रखेंगे, वहीं सोमवार को संयुक्त राष्ट्र के 75वें सत्र की शुरुआत को लेकर दूसरी बहस एवं महत्वपूर्ण बैठकें होंगी। उन्होंने कहा कि इस दौरान प्रधानमंत्री का संबोधन निश्चित रूप से हमारी भागीदारी का मुख्य आकर्षण होगा।
 

तिरुमूर्ति ने आगे कहा कि विदेश मंत्री एस जयशंकर भी संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) की तर्ज पर होने वाली कुछ मंत्रिस्तरीय बैठकों में भाग लेंगे और महत्वपूर्ण मुद्दों  पर चर्चा करेंगे। उन्होंने कहा कि हम  एक अलग तरह की परिस्थिति में इस सत्र में भाग लेने जा रहे हैं जो कि बेहद दिलचस्प होने वाला है। वहीं कोरोना संकट और यह महत्वपूर्ण बैठक दोनों हम लोगों को कुछ अलग करने को प्रेरित करेगा।

WeForNews

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

ब्राजील में कोरोना से मरने वालों की 135,000 के पार

Published

on

Coronavirus

रियो डि जेनेरो, 19 सितम्बर (आईएएनएस)। ब्राजील में कोरोनावायरस के कारण 858 और मरीजों की मौत होने के साथ देश में इस बीमारी से मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर 135,793 हो गई है।

ब्राजील के स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि इस बीच, पिछले 24 घंटों में 39,797 नए मामले दर्ज किए गए, जिससे कुल मामलों की संख्या बढ़कर 4,495,183 हो गई।

ब्राजील ने हाल ही में दैनिक मौतों की औसत संख्या को कम करने में कामयाबी हासिल की है, जो पिछले सात दिनों में 779 रही, यह पूर्व के 14 दिनों के मुकाबले 9 प्रतिशत कम है।

प्रति दिन नए मामलों की औसत संख्या में भी कमी देखने को मिली है, जो पिछले सात दिनों में 31,097 रही है, यह पिछले दो हफ्तों की तुलना में 22 प्रतिशत कम है।

कोरोना से सबसे प्रभावित राज्य साओ पाउलो में 924,532 मामलों सामने आ चुके हैं और 33,678 मौतें हुई है, उसके बाद रियो डि जेनेरो में 249,798 मामले आ चुके हैं जबकि 17,575 लोग दम तोड़ चुके हैं।

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

थाईलैंड ने दिया चीन को झटका, क्रा नहर परियोजना दौड़ में भारत भी शामिल

Published

on

china-flag-min

थाईलैंड ने हिंद महासागर में बनने वाली क्रा नहर परियोजना से हाथ खींचकर चीन को बड़ा झटका दिया है।

अब थाईलैंड ने दावा किया है कि इस परियोजना के निर्माण को लेकर भारत समेत अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और कई देशों ने रुचि दिखाई है और इसके बारे में वह विचार करेगा। थाईलैंड ने कहा है कि करीब 30 से अधिक विदेशी फर्मों ने नहर निर्माण में रुचि दिखाई है।

इससे पहले चीन ने थाईलैंड के साथ मिलकर हिंद महासागर में 120 किलोमीटर की मेगा नहर काटने की महत्वाकांक्षी परियोजना बनाई थी। यदि थाईलैंड इस परियोजना से हाथ न खींचता तो चीन को दक्षिण सागर से हिंद महासागर पहुंचने के लिए मलक्का जलडमरूमध्य होते हुए गुजरने की जरूरत नहीं पड़ती और दूरी काफी कम हो जाने से ईंधन की भी भारी बचत होती।

थाई समाचार पत्र खोसोद ने परियोजना की व्यवहार्यता का अध्ययन करने वाले थाई नेशन पावर पार्टी के सांसद सोंगक्लोड थिप्पारत के हवाले से कहा है कि भारत, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका निश्चित रूप से थाईलैंड का समर्थन करने के इच्छुक हैं। वे हमारे साथ हैं और ज्ञापन पर दस्तखत करना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, 30 से ज्यादा विदेशी फर्म इस परियोजना में वित्तीय और तकनीकी मदद के साथ हमें निवेश व आपूर्ति में रुचि दिखा रही हैं।

मलक्का के पश्चिमी भाग को रोक सकता है भारत
फिलहाल चीन की वैश्विक महत्वाकांक्षाओं में मलक्का जलडमरूमध्य एक बड़ी अड़चन है जबकि चीन की 80 फीसदी तेल आपूर्ति इसी रास्ते से करनी होती है जो काफी खर्चीली है।

इसीलिए वह इसे किसी भी सूरत में बनाने का इच्छुक है। जबकि भारत की भौगोलिक स्थिति ऐसी है कि यह मलक्का डलडमरूमध्य के पश्चिमी भाग को आसानी से रोक सकता है। इससे चीन को काफी परेशानी हो सकती है।

हकीकत के करीब पहुंच रहा सदियों पुराना सपना
इस प्रोजक्ट की व्यवहार्यता का अध्ययन करने वाली संसदीय समिति के प्रमुख और थाई नेशन पावर पार्टी के सांसद सोंगक्लोड थिप्पारत ने कहा कि क्रा क्षेत्र में एक नहर बनाने का सदियों पुराना सपना वास्तविकता बनने के करीब पहुंच रहा है। भारत, ऑस्ट्रेलिया या अमेरिका जैसे देश इस परियोजना पर थाईलैंड  के साथ हैं।

Wefornews

Continue Reading

Most Popular