अंतरराष्ट्रीयटेकस्विस सेना ने सुरक्षा कारणों से व्हाट्सएप के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाया

IANSJanuary 8, 20225351 min

स्विस सेना ने गोपनीयता संबंधी चिंताओं का हवाला देते हुए सेना के जवानों द्वारा अन्य लोकप्रिय मैसेजिंग सेवाओं के बीच मेटा के स्वामित्व वाले व्हाट्सएप के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है। डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट स्विसइंफो की रिपोर्ट के अनुसार, सेना के कर्मचारियों को एन्क्रिप्टेड स्विस मैसेजिंग ऐप ‘थ्रीमा’ का उपयोग करने के लिए कहा गया है।

व्हाट्सएप के अलावा स्विस सेना ने सिग्नल और टेलीग्राम के इस्तेमाल पर भी रोक लगा दी है।

रिपोटरें के अनुसार, प्राथमिक चिंता ‘अमेरिका के अधिकार क्षेत्र में आने वाली कंपनियों द्वारा संग्रहीत डेटा तक पहुंचने के लिए वाशिंगटन में अधिकारियों की क्षमता, जैसा कि यूएस क्लाउड अधिनियम में वर्णित है’ प्रतीत होता है।

रिपोटरें के अनुसार, “क्लाउड अधिनियम अमेरिकी क्षेत्राधिकार के तहत सेवा प्रदाताओं को खोज वारंट का पालन करने के लिए बाध्य करता है, चाहे सर्वर कहीं भी स्थित हों।”

चूंकि थ्रेमा स्विट्जरलैंड में स्थित है, इसलिए वह ऐसे खोज वारंट का जवाब देने के लिए बाध्य नहीं होगा।

थ्रेमा यूरोपीय संघ के जीडीपीआर (जनरल डेटा प्रोटेक्शन रेगुलेशन) के अनुरूप भी काम करता है।

तामीडिया अखबार की एक रिपोर्ट में सेना के प्रवक्ता के हवाले से कहा गया है, “डेटा सुरक्षा नीति में बदलाव के कारणों में से एक है।”

स्थानीय सर्वेक्षणों के अनुसार, स्विट्जरलैंड में 16 से 64 साल के बच्चों के बीच व्हाट्सएप सबसे लोकप्रिय मैसेंजर एप्लिकेशन है।

सेना के अधिकारियों द्वारा विदेशी मोबाइल एप्लिकेशन के उपयोग पर इस तरह की चिंताएं भारत में भी उठाई गई हैं क्योंकि वे सुरक्षा से समझौता कर सकते हैं।

2020 में सुरक्षा चिंताओं को लेकर केंद्र द्वारा कई चीनी मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगाने के बाद, भारतीय सेना ने अपने कर्मियों को कई डेटिंग ऐप के साथ-साथ फेसबुक, पबजी, जूम, इंस्टाग्राम, स्नैपचैट और टिक टोक आदि सहित 89 ऐप को हटाने के लिए कहा।

भारतीय सेना ने अब ‘एएसआईजीएमए’ (आर्मी सिक्योर इंडीजीनियस मैसेजिंग एप्लिकेशन) नामक एक समकालीन मैसेजिंग एप्लिकेशन लॉन्च किया है।

एप्लिकेशन का उपयोग आंतरिक सेना नेटवर्क का उपयोग करके मोबाइल फोन पर किया जा सकता है।

रक्षा मंत्रालय के अनुसार, “एप्लिकेशन को आर्मी वाइड एरिया नेटवर्क (एडब्ल्यूएएन) मैसेजिंग एप्लिकेशन के प्रतिस्थापन के रूप में सेना के आंतरिक नेटवर्क पर तैनात किया जा रहा है, जो पिछले 15 वर्षों से सेवा में है।”

–आईएएनएस

Related Posts