सेंसेक्स में 169 अंकों की बढ़त, निफ्टी 11,900 के ऊपर बंद हुआ | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

व्यापार

सेंसेक्स में 169 अंकों की बढ़त, निफ्टी 11,900 के ऊपर बंद हुआ

Published

on

sensex-min
File Photo

देश के शेयर बाजार में सकारात्मक कारोबारी रुझान देखने को मिला और बीएसई का प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 168.62 अंकों यानी 0.43 फीसदी की तेजी के साथ 39,784.52 पर बंद हुआ।

एनएसई का प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी भी 52.05 अंकों यानी 0.44 फीसदी की तेजी के साथ 11,922.70 पर बंद हुआ।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 171.43 अंकों की मजबूती के साथ 39,787.33 पर खुला और कारोबार के दौरान 39,979.48 तक उछला। सेंसेक्स का निचला स्तर 39,619.97 रहा।

इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 64.25 अंकों की बढ़त के साथ 11,934.90 पर खुला और दिनभर के कारोबार के दौरान निफ्टी 11,975.05 तक उछला जबकि इसका निचला स्तर 11,871.75 रहा।

बीएसई के मिड-कैप सूचकांक में तेजी बनी रही, जबकि स्मॉल-कैप सूचकांक गिरावट के साथ बंद हुआ। मिड-कैप सूचकांक 16.69 अंकों यानी 0.11 फीसदी की तेजी के साथ 14,923.07 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉल-कैप सूचकांक 72.50 अंकों यानी 0.49 फीसदी की गिरावट के साथ 14,584.59 पर रहा।

बीएसई के 15 सेक्टरों के सूचकांकों में तेजी रही जबकि चार में गिरावट दर्ज की गई। सबसे ज्यादा तेजी वाले सेक्टरों में सूचना प्रौद्योगिकी (1.78 फीसदी), टेक (1.61 फीसदी), फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स (1.10 फीसदी), पूंजीगत वस्तु (0.74 फीसदी) और दूरसंचार (0.61 फीसदी) शामिल रहे।

–आईएएनएस

व्यापार

महंगे हुए आलू-टमाटर की दिल्ली सरकार ने की समीक्षा

Published

on

Tomato

दिल्ली सरकार ने बुधवार को दिल्ली में प्याज, टमाटर, आलू और अन्य आवश्यक वस्तुओं की खुदरा कीमतों से सम्बंधित मुद्दों की समीक्षा की। गौरतलब है कि दिल्ली में टमाटर और आलू पहले के मुकाबले काफी मंहगे हुए हैं।

गौरतलब है कि दिल्ली में टमाटर और आलू पहले के मुकाबले काफी मंहगे हुए हैं। बैठक में दिल्ली के खाद्य और आपूर्ति मंत्री, इमरान हुसैन, कृषि उपज विपणन समिति और दिल्ली कृषि विपणन बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया।

बैठक के दौरान, मंत्री ने आवश्यक वस्तुओं की खुदरा कीमतों के उतार-चढ़ाव की समीक्षा की। बैठक में उपस्थित अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली में प्याज की खुदरा कीमतें पिछले वर्ष की तुलना में कम हैं।

उन्होंने यह भी बताया कि पिछले साल की तुलना में इस वर्ष प्याज की मांग में कमी रही है तथा प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध के कारण प्याज की कीमतें निकट भविष्य में स्थिर होंगी, साथ ही अक्टूबर के अंत तक दिल्ली में पर्याप्त मात्रा में ताजा प्याज की आवक भी आरंभ हो जाएगी।

अधिकारियों ने बताया कि जहां तक टमाटर का संबंध है, टमाटर जल्दी खराब होता है, कीमतें मौसम के कारकों पर निर्भर हैं, क्योंकि उत्पादक राज्यों में भी बेमौसम और भारी बारिश से मांग-आपूर्ति की स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

इससे खुदरा कीमतें प्रभावित होती हैं। बैठक में संबंधित एजेंसियों का मानना था कि दिल्ली में जल्द ही टमाटर के भाव गिर सकते हैं। आलू के संबंध में मंत्री को संबंधित अधिकारियों ने सूचित किया कि पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष कम उत्पादन के कारण उनके खुदरा मूल्य में वृद्धि हुई है। इमरान हुसैन ने संबंधित एजेंसियों को किसी भी प्रकार की जमाखोरी, होडिर्ंग गतिविधियों तथा कालाबाजारी के खिलाफ स़ख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

ताजा फल, सब्जियों के दाम में नरमी, लेकिन प्याज निकाल रहा आंसू

Published

on

Onion

ताजा फल और सब्जियों की आवक में सुधार से कीमतों में नरमी आई है, लेकिन प्याज की महंगाई से उपभोक्ताओं के आंसू निकल रहे हैं। प्याज की बढ़ती कीमतों पर लगाम लगाने के लिए सरकार ने इसके निर्यात पर रोक लगा दी है, फिर भी मंडियों में आवक में सुधार नहीं आया है।

दिल्ली-एनसीआर में प्याज का खुदरा भाव 50 से 60 रुपये प्रति किलो चल रहा है। बीते तीन महीने में प्याज का दाम तकरीबन दो से तीन गुना बढ़ गया है।

मंडियों में प्याज का थोक भाव 12.50 रुपये से 35 रुपये प्रति किलो चल रहा है। सीजनल फलों, खासतौर से सेब की आवक बढ़ने से कीमतों में भारी गिरावट आई है।

एशिया में फलों और सब्जियों की सबसे बड़ी मंडी आजादपुर में सेब का थोक 30 रुपये से लेकर 80 रुपये प्रति किलो तक चल रहा है। सब्जियों के दाम मे बीते सप्ताह के मुकाबले थोड़ी नरमी आई है, हालांकि कारोबारी कहते हैं कि आवक में थोड़ा सुधार होने से सब्जियों के दाम में नरमी है, लेकिन आलू और प्याज के दाम में फिलहाल नरमी नहीं आई है।

घिया, करेला, खीरा, पालक, परवल समेत कई हरी शाक-सब्जियों के खुदरा दाम में पिछले सप्ताह के मुकाबले 10-20 रुपये प्रति किलो की नरमी आई है।

चैंबर्स ऑफ आजादपुर फ्रूट्स एंड वेजिटेबल्स एसोसिएशन के प्रेसीडेंट एम.आर. कृपलानी ने बताया कि शिमला से आने वाला सेब का थोक भाव 40 रुपये से 80 रुपये है जबकि कश्मीरी सेब का भाव 30 से 65 रुपये प्रति किलो है। उन्होंने बताया कि सब्जियों की नई फसल की आवक बढ़ने के बाद ही भाव में ज्यादा गिरावट देखने को मिल सकती है।

आजादपुर मंडी पोटैटो ऑनियन मर्चेंट एसोसिएशन यानी पोमा के जनरल सेक्रेटरी राजेंद्र शर्मा ने बताया कि इस समय दिल्ली में महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और राजस्थान से प्याज आ रहा है, जिसमें सबसे उंचे भाव 34 से 35 रुपये प्रति किलो नासिक का प्याज बिक रहा है। शर्मा ने उम्मीद जताई कि आने वाले दो-चार दिनों में प्याज के दाम में गिरावट आ सकती है।

आजादपुर मंडी में आलू का थोक भाव मंगलवार को 12 रुपये से 51 रुपये प्रति किलो जबकि टमाटर का 12 रुपय से 48 रुपये प्रति किलो था।

दिल्ली-एनसीआर में 23 सितंबर को सब्जियों के खुदरा दाम (रुपये प्रति किलो)

आलू 40-50

फूलगोभी-120

बंदगोभी-50

टमाटर 60-70

प्याज 50-60

लौकी/घीया-40

भिंडी-50

खीरा-40-50

कद्दू-40

बैंगन-40

शिमला मिर्च-100

पालक-60

तोरई-40

करेला-60-70

परवल 70-80

लोबिया-80

दिल्ली-एनसीआर में 15 सितंबर को सब्जियों के खुदरा दाम (रुपये प्रति किलो)

आलू 40-50

फूलगोभी-140

बंदगोभी-60

टमाटर 60-90

प्याज 40-50

लौकी/घीया-60

भिंडी-60

खीरा-60

कद्दू-50

बैंगन-60

शिमला मिर्च-100

पालक-80

कच्चा पपीता-50

कच्चा केला-60

तोरई-50

करेला-60

परवल 80-100

लोबिया-80

आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

रिलायंस रिटेल में केकेआर करेगा 5,550 करोड़ का निवेश

Published

on

वैश्विक निवेश फर्म केकेआर रिलायंस इंडस्ट्रीज की सहायक कंपनी रिलायंस रिटेल में 5,550 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड और रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड ने बुधवार को इसकी घोषणा की। इस निवेश से KKR को RRVL में 1.28% इक्विटी हिस्सेदारी मिलेगी। रिलायंस रिटेल द्वारा दो सप्ताह में यह दूसरा सौदा है।

इस महीने की शुरुआत में निजी इक्विटी सिल्वर लेक पार्टनर्स ने कहा था कि वह 1.75% हिस्सेदारी के लिए रिलायंस रिटेल में 7,500 करोड़ का निवेश करेगी। सौदे में रिलायंस रिटेल की प्री-मनी इक्विटी को 4.21 लाख करोड़ रुपये आंका गया।

इस साल की शुरुआत में जियो प्लेटफॉर्म्स में 11,367 करोड़ के निवेश के बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज की सहायक कंपनी में केकेआर द्वारा यह दूसरा निवेश है। 1976 में स्थापित केकेआर के पास 30 जून 2020 तक 222 अरब डॉलर की संपत्ति है। 

रिलायंस रिटेल का दावा है कि देश भर मे फैले 12 हजार से ज्यादा स्टोर्स में सालाना करीब 64 करोड़ खरीददार आते हैं। यह भारत का सबसे बड़ा और सबसे तेजी से विकसित होने वाला रिटेल बिजनेस है। 

रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने कहा कि मुझे रिलायंस रिटेल वेंचर्स में एक निवेशक के रूप में केकेआर का स्वागत करते हुए ख़ुशी हो रही है। उन्होंने कहा कि इस डील के तहत हम अपने भारतीय खुदरा इकोसिस्टम को मजबूत करने के लिए निरंतर आगे बढ़ रहे हैं।

अंबानी ने कहा कि केकेआर के पास उद्योग-जगह में फ्रेंचाइजी के तौर एक मूल्यवान भागीदार होने का बेहतर ट्रैक रिकॉर्ड है और यह कई वर्षों से भारत के लिए प्रतिबद्ध है। मुकेश अंबानी ने कहा, हम अपने डिजिटल सेवाओं और रिटेल बिजनेस में केकेआर के ग्लोबल प्लेटफॉर्म, इंडस्ट्री नॉलेज और ऑपरेशनल एक्सपर्टिस का लाभ लेने को तैयार है।

रिलायंस रिटेल ने अपनी नई वाणिज्य रणनीति के तहत छोटे और असंगठित व्यापारियों का डिजिटलीकरण शुरू किया है। कंपनी का लक्ष्य 2 करोड़ व्यापारियों को इस नेटवर्क से जोड़ना है।

Continue Reading

Most Popular