राष्ट्रीयलोकसभा में जारी रहा विपक्ष का हंगामा, तीन बार स्थगित हुई कार्यवाही

IANSAugust 2, 20212851 min
Indian Parliament

लोकसभा सोमवार को एक और दिन ठप रही और कृषि कानूनों और जासूसी विवाद को लेकर जारी हंगामें के बीच सदन की कार्यवाही तीन बार स्थगित हुई। विपक्ष ने जहां इन मुद्दों पर चर्चा की मांग की, वहीं सरकार ने उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया। सुबह 11 बजे जब लोकसभा शुरू हुई तो स्पीकर ओम बिरला ने सदन को बताया कि पी. वी. सिंधु ने 1 अगस्त को ओलंपिक में कांस्य पदक जीता है। बिरला ने उनकी उपलब्धि की सराहना करते हुए कहा कि लगातार दो ओलंपिक में पदक जीतने वाली सिंधु पहली भारतीय एथलीट हैं।

 

उसके बाद जैसे ही प्रश्नकाल शुरू हुआ, कई विपक्षी सांसद सदन के वेल में जमा हो गए। सुबह 11.40 बजे तक स्थिति अराजक हो गई। इसके बाद अध्यक्ष ने विरोध करने वाले सदस्यों से सदन के सुचारू संचालन में सहयोग करने का आग्रह करते हुए सदन को दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया।

 

दोपहर 12 बजे सदन फिर से शुरू होने के तुरंत बाद, डिप्टी स्पीकर डॉ. किरीट भाई सोलंकी ने बताया कि कुछ विपक्षी सदस्यों द्वारा दिए गए स्थगन प्रस्तावों को खारिज कर दिया गया है। इससे विपक्ष भड़क गया और उन्होंने विरोध में नारेबाजी शुरू कर दी।

 

डिप्टी स्पीकर सोलंकी ने विरोध जता रहे सदस्यों को शांत करने का प्रयास किया और विपक्ष की नारेबाजी के बीच कार्यवाही शुरू कर दी।

 

उन्होंने संबंधित सदस्य को विभाग से संबंधित स्थायी समिति की रिपोर्ट रखने को कहा और विपक्षी सदस्यों से अपनी सीटों पर वापस जाने का भी अनुरोध किया।

 

लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने विपक्ष की ओर से हस्तक्षेप करते हुए कहा कि सरकार विपक्ष के वैध अधिकार का सम्मान नहीं कर रही है और वे जासूसी सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा चाहते हैं।

 

जब यह सब चल रहा था, इसी बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को ट्रिब्यूनल रिफॉर्म्स (रेशनलाइजेशन एंड कंडीशंस ऑफ सर्विस) बिल, 2001 को वापस लेने और ट्रिब्यूनल रिफॉर्म्स बिल, 2021 को पेश करने की अनुमति दी गई।

 

इसके बाद चौधरी ने कहा, हम चर्चा चाहते हैं, लेकिन पेगासस मुद्दे पर पहले बहस होनी चाहिए।

 

सदन की कार्यवाही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

 

जब दोपहर 2 बजे सदन फिर से शुरू हुआ, तो उपाध्यक्ष रमा देवी ने नियम 377 के तहत महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा शुरू की। विपक्ष ने सदन में विरोध जारी रखा और फिर से कार्यवाही बाधित रही। इस बीच सदन की कार्यवाही लगभग 20 मिनट तक ही चल पाई और फिर से इसे दोपहर 3.30 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया।

 

–आईएएनएस

Related Posts