ऑफिस में बॉस के साथ अच्छे रिश्ते बनाने से काम होगा आसान | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us
बॉस बॉस

लाइफस्टाइल

ऑफिस में बॉस के साथ अच्छे रिश्ते बनाने से काम होगा आसान

ऑफिस

Published

on

ऑफिस में अगर बॉस के साथ अच्छे रिलेशन न हों तो काम करना बहुत मुश्किल हो जाता है।

इतना ही नहीं जॉब के लिए दूसरी किसी जगह जाने पर हो सकता है आपका बॉस आपके लिए मुसीबतें खड़ी कर दे। इसलिए जितना हो सके उनके साथ अच्छा रिलेशन बना कर रखें।

इसके लिए सबसे जरूरी है समय पर अपना काम करना। ये बॉस को ये फील कराना कि आप वक्त पर अपना काम खत्म कर सकते हैं।

कुछ भी काम करने से पहले जरूरी है कि आप पहले ये समझ लें कि आपका बॉस कौन से खास तरीके से काम करना पसंद करते हैं। वही तरीका अपनाए और बॉस की अकॉर्डिंग अपना काम करें।

office-wefornewshindi

आपको दिए गए कोई भी अलग से काम को मना करने की गलती न करें। अगर वो काम आपकी फील्ड का नहीं तो भी करने की कोशिश करें।
इसके अलावा ध्यान रखें कि आपके बॉस ईमेल से बात करना बेहतर समझते हैं या फोन कॉल या कोई मीटिंग।

कोई भी बॉस किसी भी चीज या गलती पर आपके बहाने सुनना पसंद नहीं करता, इसलिए ऐसा करने से बचें।

ये कुछ खास बातें आपके बॉस से आपका अच्छा रिलेशन बना सकती है।

wefornews bureau 

लाइफस्टाइल

खान-पान में भारतीय बेहद शौकीन, खर्च करने के मामले में हैं न्यूयॉर्क से आगे

Published

on

food

भारतीय खाने-पीने के मामले में बेहद शौकीन होते हैं। भारतीयों के खाने-पीने पर खर्च की तुलना न्यूयॉर्क से करने पर हैरान करने वाले परिणाम सामने आए हैं। जहां औसनत भारतीय हर दिन अपनी दैनिक आय का 3.5 प्रतिशत खाने की थाली पर खर्च करते हैं।

वहीं न्यूयॉर्क के नागरिक औसतन अपनी दैनिक आय का 0.6 प्रतिशत ही खाने की थाली पर खर्च करते हैं, जो भारतीय की तुलना में बेहद कम है। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के वर्ल्ड फूड प्रोग्राम (डब्ल्यूएफपी) द्वारा शुक्रवार को जारी रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। 

रिपोर्ट के अनुसार, भोजन की सबसे मंहगी थाली दक्षिणी सूडान की है, जहां लोगों को औसतन अपनी दैनिक आय का 186 प्रतिशत जरूरी सामग्री पर खर्च करना होता है। खाने पर खर्च को लेकर दुनिया के 36 देशों की सूची में भारत 28वें स्थान पर है। रिपोर्ट में कहा गया कि भारतीय हर दिन भोजन की थाली पर अपनी दैनिक आय का 3.5 प्रतिशत खर्च करते हैं। वहीं न्यूयॉर्क के नागरिक हर दिन अपनी भोजन की थाली पर अपनी दैनिक आय का 0.6 प्रतिशत ही खर्च करते हैं। 

रिपार्ट में सामने आया कि उप-सहारा अफ्रीका के देश इस क्षेत्र में शीर्ष 20 में से 17वें स्थान पर हैं। इसमें कहा गया कि इन देशों में ज्यादातर खाद्य सामग्री बाहर से आयात की जाती है, जो आर्थिक रूप से विश्व में इन देशों को कमजोर बनाती है। इसके चलते इन देशों में भुखमरी जैसी समस्याएं बढ़ रही हैं। श्रमिकों के लिए दो वक्त का भोजन जुटाना भी मुश्किल हो जाता है। 

जलवायु परिवतर्न ने बढ़ाई मुश्किलें : 

रिपोर्ट में कहा गया है कि विकासशील और विकसित देशों में रहने वाले लोगों की दैनिक आय का भोजन पर खर्च करने को लेकर भारी असमानताएं हैं। विकासशील देशों के नागरिकों को विकसित देशों की अपेक्षा भोजन के लिए अधिक श्रम करना पड़ता है। इसके अलावा जलवायु परिवर्तन ने कई देशों में लोगों का भोजन के प्रति संघर्ष और बढ़ा दिया है।

जिन देशों में लोगों की आजीविका खेती पर निर्भर है, वहां जलवायु परिवर्तन के चलते उपज कम हो रही है। वहीं ये लोग परिवार को खिलाने के लिए अनाज व अन्य खाद्य सामग्री खरीदने में असमर्थ होते हैं। अब वैश्विक महामारी कोरोना वायरस कम आय वाले श्रमिकों के सामने नई चुनौतियां दी हैं। बढ़ती बेरोजगारी, आर्थिक मंदी और कारोबारों के ठप रहने के चलते लोगों को पौष्टिक भोजन जुटाने मुश्किल हो रही है। 

Continue Reading

लाइफस्टाइल

हाथ धोकर संक्रमण को दी जा सकती है मात

Published

on

प्रतीकात्मक तस्वीर

 कोरोना संकट के कारण लोगों में हाथ धोने की जागरूकता आयी है। इस आदत को अपनाने से कोरोना के अलावा अन्य कई संक्रामक बीमारियों से बचा जा सकता है।

डाक्टरों का मानना है कि लोग बिना हाथ धोए खाना इत्यादि खा लेते हैं। इससे कई प्रकार की बीमारियां फैल सकती हैं। हाथ धोकर कई प्रकार के संक्रामक बीमारियों को मात दी जा सकती है।

हर साल 15 अक्तूबर को विश्व हैंडवाशिंग डे मनाया जाता है, लेकिन कोरोना के चलते इस बार इस दिवस का महत्व काफी बढ़ गया है। विशेषज्ञों की राय है कि घर में प्रवेश करते वक्त इंसान को 30-40 सेकेंड तक हाथ धोना चाहिए ताकि वायरस अगर हाथ में चिपका भी हो तो घर में प्रवेश न करे। इस साल हम सभी ने हाथ की स्वच्छता के महत्व को बखूबी समझा भी है।

अवंतीबाई बाल महिला अस्पताल (डफरिन) के वरिष्ठ बाल रोग विषेषज्ञ डा. सलमान ने बताया कि, साबुन से हाथ धोने से डायरिया, दस्त, पीलिया जैसे रोगों से बचा जा सकता है। बच्चों को शौचालय के बाद और भोजन से पहले साबुन से हाथ धोने की आदत को विकसित करना चाहिए। हाथ धुलने से करीब 80 प्रतिशत बीमारियों से बचा जा सकता है।

हाथ धोने के बाद हाथ को कपड़े से पोछना नहीं चाहिए। इसे हवा में सुखाना चाहिए। इससे बैक्टिेरिया फैलने का खतरा ज्यादा रहता है। छोटे बच्चों को छूने से पहले और छूने के बाद हाथ धोना बहुत अनिवार्य है।

कोरोना संकट में लोगों के अंदर जागरूकता आयी है, यह निरंतरता बनी रहे तो अन्य संक्रामक रोंगों से बचा जा सकता है। इसे पाठ्यक्रम में भी शामिल करने की जरूरत है। अस्पताल और सार्वजनिक स्थानों से लौटने के बाद हाथ धुलने की आदत जरूर होनी चाहिए।

केजीएमयू के मेडिसिन विभाग के प्रोफसर अरविंद मिश्रा के मुताबिक, कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सबसे प्रभावी तरीका ठीक तरह से हाथ धोना है जिससे संक्रमण का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है। डब्ल्यूएचओ के वैश्विक सुझावों में कोविड-19 महामारी को रोकने व नियंत्रित करने और इसे व्यवहार में लाने के लिए हाथ की स्वच्छता का लक्ष्य रखा गया। इसके लिए हाल ही में डब्ल्यूएचओ और यूनिसेफ की अगुवाई में हैंड हाइजीन फॉर ऑल ग्लोबल इनीशिएटिव लांच किया गया।

हाथ की स्वच्छता हमारे स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता का ही एक हिस्सा है क्योंकि सिर्फ साबुन से अच्छी तरह हाथ धुल लेने से ही कई तरह की बीमारियों से बचा जा सकता है। रोगाणु कई माध्यमों के जरिये हमारे शरीर में फैलते हैं।

बलरामपुर हॉस्पिटल के वरिष्ठ बालरोग विशेषज्ञ डॉ. देवेंद्र सिंह कहते हैं कि, कोरोना संक्रमण के बाद कई लोगों ने इसे जिम्मेदारी समझकर अपनाया है तो वहीं कुछ लोग इसे संक्रमण के डर से अपना रहे हैं। सही तरह से हाथ धोने से हम दस्त, टाइफाइड, पेट संबंधी रोग, आंख में होने वाले संक्रमण, त्वचा संबंधी रोग आदि से बच सकते हैं।

द स्टेट ऑफ हैंड वॉशिंग की 2016 की वार्षिक रिपोर्ट बताती है कि भारत के ग्रामीण क्षेत्र में 54 प्रतिशत आबादी शौचालय के बाद हाथ धोती है, वहीं सिर्फ 13 प्रतिशत आबादी खाना बनाने से पहले और 27 प्रतिशत आबादी बच्चों को खाना खिलाने से पहले हाथ धोती है। दूसरी तरफ शहरी क्षेत्र में 94 प्रतिशत लोग शौचालय के बाद हाथ धोते हैं। 74 प्रतिशत खाना बनाने से पहले और 79 प्रतिशत बच्चों को खाना खिलाने से पहले हाथ धोते हैं।

आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

इस त्योहारी मौसम में लोगों का रुझान ऑनलाइन खरीदारी की ओर

Published

on

online_shopping

त्यौहारों के मौसम की शुरूआत अब बस होने ही वाली है। इसे लेकर तैयारियां भी शुरू हो गई हैं। इसी बीच एक सर्वे के मुताबिक, इस बार ऑनलाइन शॉपिंग में 51 फीसदी तक की तेजी आई है।

साल 2019 में हुए लोकल सर्कल्स में केवल 27 फीसदी ही ग्राहक ऐसे थे, जिनकी पहली प्राथमिकता ऑनलाइन शॉपिंग रही थी, हालांकि इस बार यह कुछ अलग है।

साल 2020 में त्यौहारों के इस मौसम में लोकल सर्कल्स द्वारा किए गए सर्वेक्षण में यह बात सामने आई है कि इस बार 51 फीसदी लोग शॉपिंग के लिए ई-कॉमर्स साइट या तरह-तरह के ऐप का इस्तेमाल करेंगे क्योंकि पिछले साल की तुलना में इस बार कुछ बदलाव आया है।

इसके अलावा, अगर हम लघु, मझले और कुटीर उद्योगों से खरीददारी की बात करें, तो 80 फीसदी लोगों ने इसके लिए हांमी भरी है, केवल 10 फीसदी ही ऐसे रहे हैं, जिन्होंने अपना जवाब ना में दिया है और 10 फीसदी इस बारे में अनिश्चित दिखे हैं। इस सर्वेक्षण को भारत के 330 से अधिक जिलों के तीन लाख से अधिक लोगों में अंजाम दिया गया।

इससे यह साफ है कि इस त्योहारी सीजन में मॉल और बाजारों की रौनक गायब ही रहने वाली है। लोग खरीददारी के लिए बाहर नहीं जाना पसंद कर रहे हैं। कोरोना काल में ई-कॉमर्स उनकी पहली पसंद बन गई है।

आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
राजनीति4 hours ago

बिहार चुनाव के लिए कांग्रेस ने जारी किया घोषणा पत्र, बेरोजगारों को हर महीने 1500 रुपये देने का वादा

Samajwadi Party
राजनीति4 hours ago

सपा स्टार प्रचारकों की सूची में मुलायम, आजम लेकिन जया गायब

IED blast
अंतरराष्ट्रीय5 hours ago

कराची विश्वविद्यालय के पास चार मंजिला इमारत में धमाका, 3 की मौत

Coronavirus
राष्ट्रीय5 hours ago

देश में 24 घंटे में कोरोना के 54,044 नए केस आए सामने

राष्ट्रीय5 hours ago

भारत ने एलएसी पर भटककर आए चीनी सैनिक को रिहा किया

राजनीति5 hours ago

पंजाब के बाद अब राजस्थान में कृषि कानूनों पर बुलाया जाएगा विशेष सत्र

राष्ट्रीय5 hours ago

दिल्ली सरकार ने जिमखाना क्लब का बार लाइसेंस रद्द किया

rajnath singh
राष्ट्रीय6 hours ago

घरेलू रक्षा उद्योग को बढ़ावा देने के लिए डीआरडीओ की नई खरीद नीति को मंजूरी

usha thakur
राजनीति6 hours ago

मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री ऊषा ठाकुर का विवादित बयान, कहा- मदरसों में पैदा होते हैं आतंकी

accident
शहर6 hours ago

महाराष्ट्र के नंदूरबार में खाई में बस गिरने से 5 लोगों की मौत

Longi Bhuiyan
ब्लॉग4 weeks ago

लौंगी भुइंया से दशरथ मांझी बनने की पूरी कहानी

मनोरंजन2 weeks ago

मुंबई की अदालत ने रिया और शोविक की न्यायिक रिमांड को 20 अक्टूबर तक बढ़ाया

narendra modi Black
ओपिनियन3 weeks ago

बढ़ती बेरोज़गारी, गर्त में जाती अर्थव्यवस्था के बीच सरकारों का निजीकरण पर जोर

Election
चुनाव3 weeks ago

यक़ीनन, अबकी बार बिहार पर है संविधान बचाने का दारोमदार

Narendra Damodar Das Modi
ओपिनियन3 weeks ago

‘टाइम’ में अमरत्व वाली मनमाफ़िक छवि अर्जित करने से श्रेष्ठ और कुछ नहीं!

Hathras and Babri Demolition
ब्लॉग3 weeks ago

हाथरस के निर्भया कांड को बाबरी मस्जिद के चश्मे से भी देखिए

Rape Sexual Violence
ज़रा हटके2 weeks ago

राजनीति को अपराधियों से बचाये बग़ैर नहीं बचेंगी बेटियां

Kolkata Knight Riders
खेल3 weeks ago

आईपीएल-13 : कोलकाता ने हैदराबाद को 7 विकेट से हराया

खेल4 weeks ago

आईपीएल-13 : रॉयल्स की विजयी शुरुआत, चेन्नई को 16 रनों से पटका

Lok Sabha
राष्ट्रीय4 weeks ago

संसद ने महामारी संशोधन विधेयक को मंजूरी दी

8 suspended Rajya Sabha MPs
राजनीति4 weeks ago

रात में भी संसद परिसर में डटे सस्पेंड किए गए विपक्षी सांसद, गाते रहे गाना

Ahmed Patel Rajya Sabha Online Education
राष्ट्रीय1 month ago

ऑनलाइन कक्षाओं के लिए गरीब छात्रों को सरकार दे वित्तीय मदद : अहमद पटेल

Sukhwinder-Singh-
मनोरंजन2 months ago

सुखविंदर की नई गीत, स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश को समर्पित

Modi Independence Speech
राष्ट्रीय2 months ago

Protected: 74वें स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी का भाषण, कहा अगले साल मनाएंगे महापर्व

राष्ट्रीय3 months ago

उत्तराखंड में ITBP कैम्‍प के पास भूस्‍खलन, देखें वीडियो

Kapil Sibal
राजनीति4 months ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय6 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर6 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य6 months ago

WHO को दिए जाने वाले अनुदान पर रोक को लेकर टेडरोस ने अफसोस जताया

Sonia Gandhi Congress Prez
राजनीति6 months ago

PM Modi के संबोधन से पहले कोरोना संकट पर सोनिया गांधी का राष्ट्र को संदेश

Most Popular