जानिए, आखिर क्यों मनाते हैं मुहर्रम... | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

राष्ट्रीय

जानिए, आखिर क्यों मनाते हैं मुहर्रम…

Published

on

Muharram
File Photo

देशभर में मुस्लिम समुदाय के बड़े त्योहारों में से एक मुहर्रम देशभर में मनाया जा रहा है। मुहर्रम एक इस्लामी महीना और इस दिन से नए साल की शुरुआत होती है।

मुहर्रम बेशक से इस्लाम धर्म के नए साल की शुरुआत हो, लेकिन इसके 10वें दिन हजरत इमाम हुसैन की याद में शिया मुस्लिम मातम मनाते हैं। कुछ स्थानों पर 10वें मुहर्रम पर रोज़ा रखने की भी परंपरा है।

मान्यता के मुताबिक 10वें मुहर्रम के दिन ही इस्लाम की रक्षा के लिए हजरत इमाम हुसैन ने अपने प्राणों का त्याग किया था। इस्लामिक मान्यताओं के मुताबिक इराक में यदीज नाम का एक क्रूर शख्स हुआ करता था, जो इंसानियत का दुश्मन था। कहा जाता है कि यदीज खुद को शहंशाह मानता था और खुदा पर विश्वास नहीं करता था।

उसकी मंशा थी कि हजरत इमाम हुसैन उसके खेमे में शामिल हो जाए। लेकिन उन्हें यह उन्हें मंजूर नहीं था। इसके बाद यदीज के फैलते प्रकोप को रोकने के लिए हजरत साहब ने उसके खिलाफ युद्ध छेड़ दिया। पैगंबर-ए इस्‍लाम हजरत मोहम्‍मद के नवासे हजरत इमाम हुसैन को कर्बला में परिवार और तमाम अजीज दोस्तों के साथ शहीद कर दिया।

मुहर्रम मातम मनाने और धर्म की रक्षा करने वाला हजरत इमाम की याद में मनाए जाने वाला त्योहार है। मुहर्रम के महीने में मुस्लिम समुदाय के लोग अपनी खुशियों का त्याग कर शोक मनाते हैं। मुहर्रम के दिन ताजिया निकालने का विशेष महत्व माना जाता है।

मान्यता के मुताबिक शिया मुस्लमान ताजिया के जरिए अपने पूर्वजों को श्रद्धांजलि देते हैं। मुहर्रम के दस दिनों तक बांस, लड़की और अन्य सजावटी सामानों से वह इसे सजाते हैं और 11वें दिन इसे बाहर निकाला जाता और फिर सड़कों पर नगर भ्रमण कराया जाता है। इसके बाद इन्हें इमाम हुसैन की कब्र बनाकर दफनाया जाता है। एक तरीके से 60 हिजरी में शहीद हुए लोगों को एक तरह से यह श्रद्धांजलि दी जाती है।

बता दें भारत में सब्से अच्छी ताजियादारी जावरा मध्यप्रदेश प्रदेश में होती है। यहां जावरा में 12 फिट के ताजिया बनते हैं।

WeForNews

राष्ट्रीय

देश में 24 घंटे में कोरोना के 54,044 नए केस आए सामने

Published

on

Coronavirus

भारत में कोरोना वायरस के दैनिक मामलों के बढ़ने और घटने का सिलसिला जारी है। तीन महीने में पहली बार 47 हजार से कम दैनिक मामलों के बाद आज यानी कि बुधवार को कोरोना के 54 हजार से अधिक मामले रिपोर्ट किए गए हैं।

इसके अलावा देश में कोविड-19 के दैनिक मृतकों की संख्या में भी वृद्धि हुई है। वहीं, देश में संक्रमितों की संख्या 76 लाख को पार कर गई है। इसके अलावा, कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 67 लाख से अधिक हो गई है। 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 54,044 नए मामले रिपोर्ट किए गए हैं। वहीं, इस दौरान 717 लोगों ने वायरस के चलते अपनी जान गंवाई है। देश में कोविड-19 के कुल संक्रमितों की संख्या 76,51,108 हो गई है। 

Continue Reading

राष्ट्रीय

भारत ने एलएसी पर भटककर आए चीनी सैनिक को रिहा किया

Published

on

भारत ने सद्भावनापूर्ण रुख दिखाते हुए वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के विवादित क्षेत्र में भारतीय क्षेत्र के भीतर भटके हुए एक चीनी सैनिक को रिहा कर दिया है।

पूर्वी लद्दाख में विवादित सीमा के डेमचोक सेक्टर में दो दिन पहले भटके चीनी सैनिक को हिरासत में लिया गया था। चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) कॉर्परल ने भारतीय एजेंसियों को बताया था कि सैनिक ने भारत में भटके याक को वापस लाने के लिए विवादित सीमा पार कर ली थी।

उसे मंगलवार रात चुशुल मोल्डो बैठक स्थल पर चीन को सौंप दिया गया। इससे पहले, भारतीय सेना ने एक बयान में कहा था, पीएलए के एक सैनिक जिसकी पहचान कॉर्परल वांग या लोंग के रूप में की गई थी, उसे 19 अक्टूबर, 2020 को एलएसी पर भटक कर आने के बाद पूर्वी लद्दाख के डेमचोक सेक्टर में पकड़ा गया था।

भारत ने कहा था कि पीएलए सैनिक को अत्यधिक ऊंचाई और कठोर जलवायु परिस्थितियों से बचाने के लिए ऑक्सीजन, भोजन और गर्म कपड़े सहित चिकित्सा सहायता प्रदान की गई।

भारतीय सेना ने कहा, लापता सैनिक के ठिकाने के बारे में पीएलए से एक अनुरोध भी प्राप्त हुआ।भारत और चीन के बीच चल रहे तनाव को वरिष्ठ सैन्य कमांडरों और राजनयिकों और मंत्रियों के बीच कई दौर की बातचीत के बाद भी हल नहीं किया जा सका है।

हिमालय में सर्दियां कठोर होती हैं और सैनिक शून्य से 30 डिग्री सेल्सियस नीचे तक के तापमान का भी सामना करते हैं।

–आईएएनएस


Continue Reading

राष्ट्रीय

दिल्ली सरकार ने जिमखाना क्लब का बार लाइसेंस रद्द किया

Published

on

दिल्ली सरकार ने ‘प्रतिबंधित समय में शराब बेचने के कारण’ दिल्ली जिमखाना क्लब का बार लाइसेंस कैंसल कर दिया है। आबकारी विभाग की जांच में पाया गया कि लॉकडाउन के दौरान भी यह क्लब शराब बेचता रहा।

उप आबकारी आयुक्त रणजीत सिंह द्वारा जारी किए गए आदेश के अनुसार, लाइसेंस तत्काल प्रभाव से रद्द कर दिया गया है। साथ ही इस मामले में आगे की कार्यवाही के लिए जिमखाना क्लब के अधिकारियों को 27 अक्टूबर को आबकारी विभाग के सामने पेश होने का निर्देश दिया गया है।

दिल्ली सरकार ने अपने आदेश में कहा है कि 17 सितंबर को निरीक्षण के दौरान क्लब में एक बार सब-स्टोर पाया गया था, जिसके लिए आबकारी विभाग की कोई मंजूरी नहीं ली गई थी। निरीक्षण के दौरान पूछताछ में क्लब के एक अधिकारी ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान एक पूर्व अधिकारी ने बिना मैनेजर या अन्य अधिकारियों को सूचित किए बार सब-स्टोर से शराब की बोतलें निकाल ली थीं।

आदेश में कहा गया, “यह स्पष्ट है कि इस कार्यालय के 21.04.2020 को जारी किए गए आदेश के बाद भी लाइसेंसधारी लॉकडाउन के दौरान शराब की बिक्री में शामिल था। जबकि आदेश में सभी लाइसेंसधारी – थोक, खुदरा, होटल, क्लब और रेस्तरां को शराब बेचने से रोका गया था। इसे देखते हुए मेसर्स दिल्ली जिमखाना क्लब का लाइसेंस तत्काल प्रभाव से रद्द किया जाता है।

आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular