जानिए, आखिर क्यों मनाते हैं मुहर्रम... | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

राष्ट्रीय

जानिए, आखिर क्यों मनाते हैं मुहर्रम…

Published

on

Muharram
File Photo

देशभर में मुस्लिम समुदाय के बड़े त्योहारों में से एक मुहर्रम देशभर में मनाया जा रहा है। मुहर्रम एक इस्लामी महीना और इस दिन से नए साल की शुरुआत होती है।

मुहर्रम बेशक से इस्लाम धर्म के नए साल की शुरुआत हो, लेकिन इसके 10वें दिन हजरत इमाम हुसैन की याद में शिया मुस्लिम मातम मनाते हैं। कुछ स्थानों पर 10वें मुहर्रम पर रोज़ा रखने की भी परंपरा है।

मान्यता के मुताबिक 10वें मुहर्रम के दिन ही इस्लाम की रक्षा के लिए हजरत इमाम हुसैन ने अपने प्राणों का त्याग किया था। इस्लामिक मान्यताओं के मुताबिक इराक में यदीज नाम का एक क्रूर शख्स हुआ करता था, जो इंसानियत का दुश्मन था। कहा जाता है कि यदीज खुद को शहंशाह मानता था और खुदा पर विश्वास नहीं करता था।

उसकी मंशा थी कि हजरत इमाम हुसैन उसके खेमे में शामिल हो जाए। लेकिन उन्हें यह उन्हें मंजूर नहीं था। इसके बाद यदीज के फैलते प्रकोप को रोकने के लिए हजरत साहब ने उसके खिलाफ युद्ध छेड़ दिया। पैगंबर-ए इस्‍लाम हजरत मोहम्‍मद के नवासे हजरत इमाम हुसैन को कर्बला में परिवार और तमाम अजीज दोस्तों के साथ शहीद कर दिया।

मुहर्रम मातम मनाने और धर्म की रक्षा करने वाला हजरत इमाम की याद में मनाए जाने वाला त्योहार है। मुहर्रम के महीने में मुस्लिम समुदाय के लोग अपनी खुशियों का त्याग कर शोक मनाते हैं। मुहर्रम के दिन ताजिया निकालने का विशेष महत्व माना जाता है।

मान्यता के मुताबिक शिया मुस्लमान ताजिया के जरिए अपने पूर्वजों को श्रद्धांजलि देते हैं। मुहर्रम के दस दिनों तक बांस, लड़की और अन्य सजावटी सामानों से वह इसे सजाते हैं और 11वें दिन इसे बाहर निकाला जाता और फिर सड़कों पर नगर भ्रमण कराया जाता है। इसके बाद इन्हें इमाम हुसैन की कब्र बनाकर दफनाया जाता है। एक तरीके से 60 हिजरी में शहीद हुए लोगों को एक तरह से यह श्रद्धांजलि दी जाती है।

बता दें भारत में सब्से अच्छी ताजियादारी जावरा मध्यप्रदेश प्रदेश में होती है। यहां जावरा में 12 फिट के ताजिया बनते हैं।

WeForNews

राष्ट्रीय

जयललिता की सहेली शशिकला जेल से रिहा

Published

on

sasikala

ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (अन्नाद्रमुक) की बर्खास्त नेता वी के शशिकला आज (27 जनवरी) रिहा हो गई हैं। उन्हें साल 2017 में 66 करोड़ के आय से अधिक संपत्ति के मामले में चार सालों की सजा सुनाई गई थी।

उनकी संबंधी जे इलावारसी को भी सजा मिली थी। बंगलूरू के परप्पना अग्रहरा जेल में बंद शशिकला तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री और दिवंगत नेता जे जयललिता की करीबी रही हैं। जयललिता के दत्तक बेटे वीएन सुधाकरण को भी एक मामले में सजा सुनाई गई थी।

Continue Reading

राष्ट्रीय

25 जनवरी की शाम को ही वादे से मुकर गए थे किसान: दिल्ली पुलिस

Published

on

गणतंत्र दिवस के मौके पर किसानों ने जो ट्रैक्टर परेड निकाली उसमें दिल्ली के कई स्थानों पर हुई हिंसा में 300 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं। लाल किले पर झंडा फहराने से लेकर नांगलोई, आईटीओ और अक्षरधाम जैसी जगहों पर हुए उपद्रव में काफी तोड़फोड़ और हिंसा हुई। उसी को लेकर दिल्ली पुलिस आयुक्त एस.एन. श्रीवास्तव प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दे रहे हैं।

दिल्ली पुलिस आयुक्त एस.एन. श्रीवास्तव ने बताया कि किसान नेताओं को कुछ शर्तों के साथ मार्च की मंजूरी दी थी। किसानों ने तय रूट की अनदेखी की और बैरिकेट्स तोड़कर दिल्ली के अंदर घुस गए। जबकि हमने किसान नेताओं से कहा था कि वो कुंडली, मानेसर, पलवल पर ट्रैक्टर मार्च निकाले। लेकिन किसान दिल्ली में ही ट्रैक्टर रैली निकालने पर अडिग रहे। 

Continue Reading

राष्ट्रीय

केरल सरकार का बड़ा फैसला, सख्त प्रतिबंध लगेंगे और निगरानी करेगी पुलिस

Published

on

India Coronavirus

केरल में कोविड-19 के बढ़ते मामलों को लेकर राज्य सरकार ने बढ़ा फैसला लिया है। मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार, राज्य में अब पूर्व में लगाए गए

लॉकडाउन से भी ज्यादा सख्त प्रतिबंध लागू किए जाएंगे। इसके साथ ही प्रतिबंधों का पालन कराने के लिए पुलिस कर्मचारियों को तैनात किया जाएगा।

Continue Reading

Most Popular