राष्ट्रीयजावेद अख्तर के बयान पर फोगाट का जवाब- ‘देशभक्ति किताबों से नहीं आती’

Priyanka BishtMarch 1, 2017451 min

नई दिल्ली. रामजस कॉलेज विवाद मामले में गुरमेहर कौर को लेकर जावेद अख्तर के कम पढ़े लिखे बयान पर रेसलर बबीता फोगाट और योगेश्वर दत्त ने जवाब दिया है। बबीता ने कहा कि देशभक्ति किताबों से नहीं आती है। उधर, फिल्म प्रोडयूसर ने भी बबीता का सपोर्ट किया है।

बता दें कि जावेद अख्तर ने वीरेंद्र सहवाग और बबीता के गुरमेहर कौर की पोस्ट पर ट्वीट को लेकर कहा था कि बेहद कम पढ़े-लिखे प्लेयर या रेसलर शहीद की बेटी के बारे में बयान दें तो समझा जा सकता है, लेकिन पढ़े-लिखे लोगों को क्या हो गया है?

इस पर फोगाट ने कहा है कि मैंने जब स्कूल देखा भी नहीं था तबसे भारत माता की जय बोल रही हूं।

बबीता फोगाट ने मंगलवार शाम को ट्वीट कर कहा है कि जावेद अख्तर, मैंने जब स्कूल देखा भी नहीं था तबसे भारत माता की जय बोल रही हूं। देशभक्ति किताबों से नहीं आती।

इसी तरह योगेश्वर दत्त ने भी ट्वीट कर अख्तर को जवाब दिया। दत्त ने कहा है कि जावेद अख्तर जी, आपने कविता-कहानी की रचना की तो हमने भी कुछ कारनामे कर छोटा ही सही भारत के लिए विश्वपटल पर इतिहास रचा है।

मधुर भंडारकर भी बबीता और योगेश्वर दत्त के सपोर्ट में आए। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि सर, कम पढ़े-लिखे होने का अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता से कोई लेना देना नहीं हैं। मैं छठवीं फेल स्टूडेंट हूं फिर भी कोई भी मुझे मेरे विचार व्यक्त करने से नहीं रोक सकता।

जावेद अख्तर ने कम पढ़े-लिखे का वाला बयान क्यों दिया

दरअसल कॉन्ट्रोवर्सी शुरू होने के बाद गुरमेहर गुरमेहर का लिखा एक पोस्टर वायरल हो गया था। इस पर लिखा था, “मेरे पिता को पाकिस्तान ने नहीं, बल्कि जंग ने मारा है।”

इसके बाद वीरेंद्र सहवाग ने गुरमेहर तख्ती वाली पोस्ट का मजाक उड़ाया। सहवाग ने भी ट्विटर पर तख्ती के साथ अपनी एक फोटो पोस्ट डाली। इस पर लिखा, “दो ट्रिपल सेन्चुरी मैंने नहीं मारी थी, यह मेरे बैट ने लगाई थी।”

बबीता फोगाट, योगेश्वर दत्त, रणदीप हुड्डा और किरन रिजिजू जैसी कई हस्तियों ने गुरमेहर के बयान का एक तरह से मजाक उड़ाया।

कहां से शुरू हुई कॉन्ट्रोवर्सी?

दिल्ली के रामजस कॉलेज में एक सेमिनार होने वाला था। इसमें जेएनयू के स्टूडेंट लीडर उमर खालिद और शहला राशिद को इनवाइट किया गया था। ABVP ने इसका जमकर विरोध किया, क्योंकि खालिद पर जेएनयू में देशविरोधी नारेबाजी करने का आरोप है। इसके बाद बीते बुधवार को AISA और ABVP के सपोर्टर्स के बीच भारी हिंसा हुई। कॉलेज एडमिनिस्ट्रेशन को सेमिनार कैंसल करना पड़ा।

कौन हैं गुरमेहर?

गुरमेहर लेडी श्रीराम कॉलेज में इंग्लिश लिटरेचर की स्टूडेंट हैं। वे मूल रूप से लुधियाना की रहने वाली हैं। इस कॉन्ट्रोवर्सी में गुरमेहर की एंट्री तब हुई, जब उन्होंने 22 फरवरी को अपना फेसबुक प्रोफाइल पिक्चर बदला और ‘सेव डीयू कैम्पेन’ शुरू किया। वे एक तख्ती पकड़ी हुई नजर आईं। #StudentsAgainstABVP हैशटैग के साथ लिखा- “मैं दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ती हूं। ABVP से नहीं डरती। मैं अकेली नहीं हूं। भारत का हर स्टूडेंट मेरे साथ है।

wefornews bureau 

Related Posts