राष्ट्रीयलाइफस्टाइलदेश में नफरत प्रवृत्ति में इजाफा चिंताजनक : जमाअत इस्लामी हिन्द

उन्होंने आगे कहा कि, देश की आर्थिक सूरतेहाल का उल्लेख करते हुए कहा कि धीमी आर्थिक विकास और उच्च बेरोजगारी के गतिरोध का सामना कर रहा है।
IANSJuly 4, 20218851 min

नई दिल्ली, 4 जुलाई | जमाअत इस्लामी हिन्द के मासिक ऑन लाइन प्रेस कॉन्फ्रेंस में देश के विभिन्न मुद्दों पर अपनी राय रखते हुए कहा कि, देश में नफरतअंगेजी की प्रवृत्ति में इजाफा हो रहा है।

वहीं संक्रमण से प्रभावित लोगों को सहयोग राशि और उनके स्वास्थ्य की बहाली पर सरकार उचित ध्यान नहीं दे रही है। इसके अलावा सांप्रदायिक शक्तियां अपने चरम पर हैं। भीड़-हिंसा की घटनाओं में भी दिन प्रतिदिन वृद्धि हो रही है।

जमाअत इस्लामी हिन्द के अनुसार, दलिती और अल्पसंख्यकों के खिलाफ अत्याचार से समाज के पिछड़े वर्गों असुरक्षा की भावना बढ़ रही है। समाज में ध्रुवीकरण के मामले बढ़ रहे हैं और इन निंदनीय गतिविधियों में लिप्त तत्वों के खिलाफ कार्रवाई न होने की वजह से उनका हौसला बढ़ता जा रहा है।

जमाअत इस्लामी हिन्द के उपाध्यक्ष प्रोफेसर सलीम इंजीनियर ने मांग की है कि, “सरकार सांप्रदायिक विदद्वेष फैलाने वालों के खिलाफ कठोरता से पेश आए और साथ ही मजदूरी, उद्योगों और ऐसी संस्थाओं जिस पर कॉविड संक्रमण का प्रभाव पड़ा है उसे वित्तीय सहायता प्रदान करने से संबंधित प्रोग्रेस रिपोर्ट को अपने दैनिक प्रेस ब्रिफिंग में पेश करे और कोरोना से मरने वालों के अनाथ बच्चों की शिक्षा का मुफ्त बंदोबस्त करे। उनकी विधवा को वित्तीय सहायता प्रदान करे। और परिवार के किसी एक सदस्य को नौकरी दे। ”

उन्होंने आगे कहा कि, देश की आर्थिक सूरतेहाल का उल्लेख करते हुए कहा कि धीमी आर्थिक विकास और उच्च बेरोजगारी के गतिरोध का सामना कर रहा है।

सलीम इंजीनियर ने सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी के आंकड़ों के का जिक्र किया, उन्होंने कहा कि आंकड़ों के अनुसार, 2021 में देश की मासिक बेरोजगारी दर जनवरी में 6.62 फीसदी से बढ़कर अप्रैल में 7.97 फीसदी हो गई जो मई के अंत तक लगभग 14.5 फीसदी हो गई।

Related Posts