21 जून को भारत में लॉन्च होगा HP Spectre लैपटॉप | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

टेक

21 जून को भारत में लॉन्च होगा HP Spectre लैपटॉप

Published

on

HP Spectre
HP Spectre

विश्व का सबसे पतले लैपटॉप के लिए एपल के मैक बुक एयर को जानते थे। मगर HP ने Spectre के नाम से एक ऐसे लैपटॉप की जारी की है जो अबतक का सबसे पतला लैपटॉप है कंपनी इस लैपटॉप को 21 जून को भारत में लॉन्च करेगी। खास क्या है इस लैपटॉप में…

dsdfs HP Spectre लैपटॉप की मोटाई 10.4 मिली मीटर की है जिसका खुलासा HP ने साल की शुरुआता में किया था। HP ने 13 इंच के डिस्प्ले वाले लैपटॉप के रेंज में HP Spectre को 13.3 इंच के डिस्प्ले के साथ उतार कर नया बेंचमार्क सेट किया है।

hinge-design_bg_56f110d957c98_1 HP Spectre लैपटॉप Intel के कोर i5 और i7 प्रोसेसर के वेरिएंट्स के साथ भारत में उतारा जाएगा। 13.3 इंच की फुल HD डिस्प्ले के साथ HP Spectre में 8 जीबी की रैम और 256 जीबी की स्टोरेज दी गई है।

computer-loptop-wefornewshindi

sfsfsf HP Spectre के बॉडी के किनारों को बनाने में अल्युमीनियम का इस्तेमाल किया गया है। इसका बॉटम एरिया कार्बन फाइबर से बना है। इसके अलावा इस लैपटॉप में USB Type-C पोर्ट्स भी लगे हुए हैं।
sssfs HP Spectre के बेसिक मॉडल की कीमत भारत में लगभग 78,282 रुपये होने की संभावना है।

wefornews bureau

kyewords: HP Spectre laptop, launched in India,June 21,भारत में लॉन्च होगा, HP Spectre लैपटॉप,

टेक

ऑनर 8 अक्टूबर को भारत में 2 नए स्मार्टवॉच लॉन्च करेगा

Published

on

स्मार्टफोन ब्रांड ऑनर भारत ने अपने वियरेबल पोर्टफोलियो का विस्तार करने जा रहा है और इसके तहत यह 8 अक्टूबर को दो नए स्मार्टवॉच-वॉच ईएस और वॉच जीएस प्रो लॉन्च करेगा।

इंडस्ट्री सोर्सेज के अनुसार ऑनर वॉच ईएस 10 हजार रुपये से कम कीमत का होगा जबकि वॉच जीएस प्रो की कीमत 20 हजार रुपये के करीब होगी।

बर्लिन में आयोजित आईएफए के दौरान ऑनर ने अपने दोनों स्मार्टवॉचेज को पेश किया था।

वॉच जीएस प्रो की बैटरी 25 दिनों तक चलेगी और इसमें डुअलस सेलेलाइट पोजीशनिंग सिस्टम्स लगे हैं। यह फोन 100 से अधिक वर्कआउट्स को सपोर्ट करता है। दूसरी ओर, ऑनर वॉच ईएस में 1.64 इंच एमोलेड डिस्प्ले है और यह 95 वर्कआउट मोड्स के साथ है।

आईएएनएस

Continue Reading

टेक

वोडाफोन आइडिया ने शुरू किया 3जी यूजर्स को 4जी में अपग्रेड करने का काम

Published

on

vodafone-idea
File Photo

वोडाफोन आइडिया लिमिटेड (वीआईएल) ने कुछ प्रमुख बाजारों में 3जी यूजर्स को 4जी में अपग्रेड करने का काम शुरू कर दिया है।

रविवार को एक बयान में कंपनी ने कहा कि वोडाफोन और आइडिया दोनों नेटवर्क को आपस में मिलाकर 4जी की क्षमता को बेहतर बनाने का काम किया गया है। नई तकनीकों की मदद से 3जी स्पेमट्रम के एक बड़े हिस्से को 4जी में अपग्रेड किया जा रहा है।

बयान में कहा गया, “वीआईएल अब वी जीआईजीएनेट नेटवर्क पर अपने 3 जी उपयोगकतरओ को 4 जी डेटा स्पीड प्रदान करने में सक्षम होगा। फिलहाल कंपनी के एंटरप्राइज ग्राहकों द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे 3जी सेवाओं को चरणबद्ध तरीके से 4जी और 4जी आधारित आईओटी एप्लीकेशंस और सेवाओं में अपग्रेड किया जाएगा।”

अपने 2जी यूजर्स के लिए कंपनी की तरफ से बेसिक वॉयस सर्विसेज की सेवाएं यथावत रहेंगी, जबकि सभी बाजारों में 3जी डेटा यूजर्स को धीरे-धीरे 4जी में तब्दील किया जाएगा।

वोडाफोन आइडिया लिमिटेड के एमडी और सीईओ रविंदर ताक्कर के अनुसार, “देश में स्पेक्ट्रम की पर्याप्तता के चलते इसके एक बड़े हिस्से को पहले से ही 4जी में बदल दिया गया है, वीआईएल हमारे 2जी/3जी यूजर्स के लिए हाई स्पीड 4जी डेटा सर्विसेज में अपग्रेड होने का सबसे बेहतर स्थान है।”

4जी जीआईजीएनेट नेटवर्क का लाभ उठाने के लिए 3जी यूजर्स को वीआई 4जी सिम कार्ड और 4जी स्मार्टफोन में अपग्रेड होना पड़ेगा। इसके लिए कंपनी की तरफ से ढेरों ऑफर्स उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

आईएएनएस

Continue Reading

टेक

नासा में अगले मूनवॉक की जमकर हो रही तैयारी

Published

on

अपने आर्टेमिस चंद्रमा अन्वेषण कार्यक्रम के तहत नासा की योजना 2024 तक चांद की धरती पर दोबारा इंसानों को भेजने की है और इसकी तैयारी अभी से शुरू कर दी गई है।

तैयारी के एक चरण के रूप में अंतरिक्ष यात्रियों को हर उस चुनौतियों से रूबरू करवाया जा रहा है, जिनका सामना उन्हें चांद की सतह पर करना पड़ सकता है।

प्रशिक्षण के तहत अंतरिक्ष यात्रियों से अंडर वॉटर टास्क ज्यादा कराए जा रहे हैं और इसके लिए बड़े-बड़े पूलों का निर्माण किया गया है, जिनमें कृत्रिम वातावरण का निर्माण भी किया गया है, ताकि इन्हें चांद के पर्यावरणीय स्थिति से मिलाया जा सके।

नासा ने कहा, ह्यूस्टन के जॉनसन स्पेस सेंटर में न्यूट्रल ब्यूएन्सी लैब (एनबीएल) में होने वाली एक टेस्ट सीरीज के हिस्से के रूप में अंतरिक्ष यात्री और इंजीनियर्स स्पेससूट और गोता लगाने के लिए जरूरी उपकरण हार्ड हेट जैसी चीजों के साथ कई अलग-अलग तरह के टास्क कर रहे हैं, जिन्हें उन्हें चांद की सतह पर करना पड़ सकता है।

इन परीक्षणों के नेतृत्व में शामिल डैरन वेल्श ने कहा, ये शुरुआती परीक्षण भविष्य के आर्टेमिस ट्रेनिंग और मिशन के लिए जरूरतों और हार्डवेयर के विकास के लिए मददगार साबित होंगे।

इस एनबीएल की लंबाई 202 फीट, चौड़ाई 102 फीट और गहराई 40 फीट है (जमीनी स्तर से 20 फीट ऊपर और 20 फीट नीचे) और इसमें 62 लाख गैलन पानी भरा है।

अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा किए जा रहे टास्क में चांद की सतह से नमूनों को संग्रह करने, चंद्र लैंडर (चांद पर उतरने वाला यान) का परीक्षण करने और अमेरिकी ध्वज को चांद की सतह पर लगाने संबंधी काम शामिल हैं।

एएसएन

Continue Reading

Most Popular