हैप्पी बर्थडे दीपिका पादुकोण | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

फोटो गैलरी

हैप्पी बर्थडे दीपिका पादुकोण

Published

on

फोटो गैलरी

जिन 11 राज्यों में सबसे ज्यादा बेरोजगारी उनमें से 6 में बीजेपी की सरकार

Published

on

unemployment
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

नेशनल सैंपल सर्वे ऑफिस (एनएसएसओ) साल 2017-18 की राज्यों में चल रही बेरोजगारी की रिपोर्ट लेकर आया है। इस आंकड़ों में देश के अलग-अलग राज्यों में बेरोजगारी की निराशाजनक तस्वीर साफ दिखी है। एनएसएसओ की रिपोर्ट के अनुसार 2017-18 में 11 राज्यों में बेरोजगारी की दर राष्ट्रीय औसत 6.1 प्रतिशत से ज्यादा है। देश में बेरोजगारी की दर 6.1 फीसदी है जो पिछले 45 सालों में सबसे ज्यादा है। इन 11 राज्यों में से 6 में बीजेपी की सरकार है।

साल 2011-12 के मुकाबले केरल, हरियाणा, असम, पंजाब, झारखंड, तमिलनाडु, उत्तराखंड, बिहार, ओडिशा, उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी की दर बेतहाशा बढ़ी है।

साल 2011-2012 में केरल में बेरोजगारी की दर 6.1 प्रतिशत थी, जबकि साल 2017-18 में ये 11.4 प्रतिशत हो गई। ऐसा माना जा सकता है कि सबसे ज्यादा बेरोजगारी केरल में ही ।.

केरल के बाद नंबर हरियाणा का आता है, हरियाणा में 2011-12 में बेरोजगारी की दर 2.8 प्रतिशत रही थी जो साल 2017-18 में बढ़कर 8.6 प्रतिशत हो गई।

एनएसएसओ विभिन्‍न क्षेत्रों में व्‍यापक स्‍तर पर सर्वेक्षण करता है। एनएसएसओ द्वारा बेरोजगारी की दर को देखने के लिए जिन 19 प्रमुख राज्यों का सर्वेक्षण किया गया उनमें हरियाणा, असम, झारखंड, केरल, ओडिशा, उत्तराखंड, पंजाब, तमिलनाडु, बिहार, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर, राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ शामिल थे।

WeForNews

Continue Reading

ज़रा हटके

6 फीट के सांप ने गिलहरी को निगला, लोग सहमे

Published

on

snake swallos squirrel

मुरादाबाद, 13 जुलाई । उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद शहर के सिविल लाइन इलाके में शुक्रवार को दिन में सड़क किनारे मिले लगभग 6 फीट के एक सांप ने एक गिहलरी को निगल लिया और पास में मौजूद एक चिकित्सक के घर में बने लॉन की दीवार पर चढ़कर अंदर घुस गया। इस घटना के बाद आसपास के रहने वाले लोग सहम गए हैं। तत्काल सांप पकड़ने वाले को बुलाया गया। इस दौरान वहां काफी भीड़ जमा हो गई।

भीड़ में मौजूद सांपों के जानकार मोहम्मद तौफीक ने बताया कि इस सांप को ‘धावन या घोड़ा पछाड़’ के नाम से जाना जाता है। यह काफी खतरनाक होता है। इंसान को काट ले तो उसकी घंटेभर में मौत हो सकती है। यह आकार में करीब दस फीट तक का होता है। इसकी खास बात है कि यह हमेशा अपने जोड़े के साथ रहता है।

यह अधिकतर जंगलों में पाया जाता है और छोटे-छोटे जानवरों को निशाना बना लेता है। इसके चलने की गति इतनी तेज होती है कि यह घोड़े से भी आगे निकल जाता है, इसलिए इसे घोड़ा पछाड़ भी कहा जाता है।

–आईएएनएस

Continue Reading

ज़रा हटके

मधुबनी पेंटिंग और इतिहास का अनूठा मेल

Published

on

Madhubani Painting

नई दिल्ली, 19 अप्रैल | घनी चित्रकारी और उसमें इंद्रधुनषी रंगों को समेटे बिहार की मधुबनी पेंटिंग कला देश ही नहीं, विदेशों में भी लोकप्रिय है। नवोदित कलाकार नेहा दासगुप्ता ने इतिहास के प्रति अपने रुझान के चलते इस प्राचीन कला में ऐतिहासिक इमारतों के चित्रों का समावेश किया है

नेहा एक सामूहिक चित्र प्रदर्शनी ‘दिल्ली तेरे इश्क में’ में शामिल होने जा रही हैं, जिसका आयोजन 20 से 22 अप्रैल के बीच होगा।

मधुबनी पेंटिंग के प्रारंभिक स्वरूप पर गौर करें तो इस प्राचीन कला में ज्यादातर राम, जानकी, लक्ष्मण, राधा-कृष्ण व दुर्गा से जुड़े प्रसंगों को उकेरा जाता था, मगर समय के साथ इसमें नए-नए प्रयोग भी किए जाते रहे हैं। नेहा भी नया प्रयोग कर पेंटिंग की इस शैली को नए स्वरूप में पेश करने का प्रयास करती हैं।

नेहा दासगुप्ता की चित्र-कृतियां विशुद्ध रूप से मधुबनी पेंटिंग नहीं हैं, उससे केवल प्रेरित हैं, इसलिए उन्होंने अपनी प्रदर्शनी को नाम दिया है ‘ए टच ऑफ मधुबनी’।

अपनी पेंटिंग्स की खासियत बताते हुए नेहा कहती हैं, “मेरी पेंटिंग्स इसलिए अलग हैं, क्योंकि उनमें मधुबनी और इतिहास का अनूठा मेल है। अपनी प्रदर्शनी में मेरा उद्देश्य मधुबनी कला से प्रेरणा लेते हुए वैश्विक स्मारकों को चित्रित करना था। इसके जरिए मैंने इतिहास और यात्रा के प्रति अपने रुझान को एक सूत्र में बांधने का प्रयास किया है।”

उन्होंने कहा, “अपनी इन पेंटिंग्स के जरिए मैं अपनी यात्राओं को कागज पर उतारना चाहती थी। मैं जिस भी देश में गई, वहां के एक लोकप्रिय स्मारक को या उस स्थान से प्रेरित चित्र को चित्रित किया। इसलिए इस प्रदर्शनी में लगने वाली मेरे बनाए चित्रों में कोलकाता में बिताए मेरे समय और वहां की मछलियों की प्रतिछाया भी देखने को मिलेगी।”

इतिहास की छात्रा रहीं नेहा कहती हैं कि इस विषय में ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन करने के कारण ऐतिहासिक इमारतों के प्रति उनका लगाव बेहद स्वाभाविक है। उन्होंने कहा, “मैं ऐतिहासिक इमारतों की याद को किसी भी माध्यम से सहेजना चाहती थी, इसलिए यह प्रयोग किया।”

विभिन्न चित्र-शैलियों के मेल को आप कितना सही मानती हैं? इस सवाल पर नेहा ने कहा, “मेरा ख्याल है कि किसी भी पारंपरिक कला को एक नया स्वरूप देना अच्छा है। इस कला की खूबसूरती और विरासत को ध्यान में रखते हुए मैंने ऐतिहासिक इमारतों के प्रति अपने रुझान को पेश करने का प्रयास किया है, जैसे कि मैंने इनमें पेरिस के आइफिल टॉवर, रोम के कोलोसम, आगरा के ताजमहल और दिल्ली के इंडिया गेट और कुतुब मीनार को चित्रित किया है।”

कला को समाज के आईने के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। क्या आपको लगता है कि इसे समाज में मौजूद समस्याओं को दर्शाने के लिए प्रभावशाली माध्यम के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है, यह पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “बेशक, कला को जागरूकता फैलाने और सच्चाई को सामने लाने के लिए प्रयोग किया जा सकता है। चित्रकार हों या फोटोग्राफर, वे समाज के सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं को उभारते हुए लम्हों को कैद कर सकते हैं।”

वह कहती हैं, “कला मात्र सुखद पहलू से बढ़कर है, इसके माध्यम से लोगों को बेहतर जिंदगी और बेहतर समाज के लिए कोशिश करने के लिए प्रेरित किया जा सकता है। कला समाज और उसमें हो रहे विकास को रचनात्मक स्वरूप में पेश करने का माध्यम है।”

कला के विभिन्न माध्यमों को एक ही आर्टवर्क में पेश करने के सवाल पर नेहा कहती हैं, “मुझे लगता है कि यह सही है, लेकिन साथ ही किसी भी कलाकार को किसी कला से प्रेरणा लेते हुए उसके मौलिक स्वरूप के इतिहास और विरासत का सम्मान करना चाहिए। बदलाव गलत नहीं है, यह केवल रचनात्मक रूप से नए प्रयोग करने के हमारे कौशल को दर्शाता है।”

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular