गुटखा-सिगरेट का सेवन करने वालों में कोरोना का खतरा ज्यादा : विशेषज्ञ | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

लाइफस्टाइल

गुटखा-सिगरेट का सेवन करने वालों में कोरोना का खतरा ज्यादा : विशेषज्ञ

Published

on

smoking

नई दिल्ली, विशेषज्ञों का कहना है कि गुटखा और सिगरेट का सेवन करने वालों को कोरोना संक्रमण होने का खतरा ज्यादा रहता है।

खैनी, गुटखा खाने वाले लोग कई गैरसंचारी रोगों के भी आसानी से शिकार बन जाते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लयूएचओ) और शोधकर्ताओं ने भी चेतावनी दी है कि तम्बाकू से कमजोर हुए फेफड़े कोरोना को संक्रमण का दायरा बढ़ाने में मुफीद साबित हो रहे हैं।

केजीएमयू के मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर अरविंद मिश्रा ने बताया, “तंबाकू का किसी भी रूप में उपयोग करना नुकसानदेह ही है। यह ना सिर्फ प्रयोग करने वालों को नुकसान पहुंचाता है, बल्कि उनके आस-पास के लोगों को भी गंभीर रूप से प्रभावित करता है। उस पर से कोरोना वायरस चूंकि फेफड़ों को प्रभावित करता है, इसलिए सिगरेट, हुक्का या वाटरपाइप जैसी चीज का सेवन करने वालों के लिए यह और भी गंभीर खतरा हो सकता है।”

उन्होंने बताया कि तम्बाकू खाने के दौरान इंसान हाथ-मुंह को छूता है। यह भी संक्रमण फैलने का अहम जरिया है। कोरोना हाथ के जरिए मुंह तक पहुंच सकता है या हाथों में मौजूद कोरोना वायरस तम्बाकू में जाकर मुंह तक पहुंच सकता है। तम्बाकू चबाने के दौरान मुंह में अतिरिक्त लार बनती है, ऐसे में जब इंसान थूकता है तो यह संक्रमण दूसरों तक पहुंच सकता है।

डॉ. अरविंद ने बताया, “तंबाकू सेवन करने वालों में गैरसंचारी रोग- दिल और फेफड़े की बीमारी, कैंसर और डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है। कोरोना संक्रमित होने पर ऐसे लोगों की जान जाने के मामले काफी संख्या में सामने आए हैं।”

रिपोर्ट के मुताबिक तंबाकू में जहरीले केमिकल मिले होते हैं जो फेफड़ों को नुकसान पहुंचाते हैं। इससे सेवन करने वाले व्यक्ति की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है। टीबी के ऐसे मरीज जो तंबाकू का सेवन करते हैं उनमें मृत्यु का अंदेशा 38 प्रतिशत अधिक हो जाता है।

स्मोकिंग करने से भी कोविड-19 होने का खतरा अधिक है। स्मोकिंग और किसी भी रूप में तम्बाकू लेने पर सीधा असर फेफड़े के काम करने की क्षमता पर पड़ता है।

इससे सांस संबंधी बीमारियां बढ़ती हैं। संक्रमण होने पर कोरोना सबसे पहले फेफड़ों पर ही अटैक करता है, इसलिए इसका मजबूत होना बेहद जरूरी है। वायरस फेफड़े की कार्यक्षमता को घटा देता है।

अब तक की रिसर्च के मुताबिक धूम्रपान करने वाले लोगों में वायरस का संक्रमण और मौत दोनों का खतरा ज्यादा है। सिगरेट, सिगार, बीड़ी, वाटरपाइप और हुक्का पीने वालों पर कोविड-19 का रिस्क ज्यादा है।

सिगरेट पीने के दौरान हाथ और होंठ का इस्तेमाल होता है और संक्रमण का खतरा रहता है। वहीं एक ही हुक्का को कई लोग इस्तेमाल करते हैं जो कोरोना का संक्रमण सीधे तौर पर एक से दूसरे इंसान में पहुंचा सकता है।

आईएएनएस


लाइफस्टाइल

डिज्नी का बड़ा फैसला, थीम पार्क के 28 हजार कर्मचारियों की होगी छंटनी

Published

on

disney

कोरोना महामारी के कारण दुनियाभर में बेरोजगारी का सिलसिला भी बढ़ता जा रहा है। अब मनोरंजन क्षेत्र की दिग्गज कंपनी डिज्नी ने अपने थीम पार्कों में कार्यरत 28 हजार कर्मचारियों की छंटनी का फैसला लिया है।

कंपनी ने मंगलवार को यह घोषणा करते हुए कहा कि कोरोना महामारी के लंबे समय तक प्रभावी होने के मद्देनजर अमेरिका के अधिकांश थीम पार्कों में कार्यरत कर्मचारियों की छंटनी की जाएगी।

डिज्नी पार्क के चेयरमैन जोश डी अमारो ने इस संबंध में कहा कि यह फैसला काफी दुखदायी है। परंतु कोविड 19 की वजह से बुरी तरह प्रभावित हुए कारोबार के साथ ही सामाजिक दूरी के नियम की बाध्यता, कम से कम कर्मचारी संख्या में काम चलाना और महामारी के लंबे समय तक बने रहने जैसे अनिश्चितता वाले माहौल में यह एकमात्र संभव विकल्प है। 

कंपनी ने कहा कि वह थीम पार्क के अपने करीब 28,000 कर्मचारियों या लगभग एक चौथाई कर्मचारियों की छंटनी करेगी। बता दें कि अकेले कैलिफोर्निया और फ्लोरिडा में डिज्नी के थीम पार्कों में महामारी से पहले तक करीब 1,10,000 कर्मचारी कार्यरत थे।

अब नई नीति के तहत छंटनी की घोषणा के बाद कर्मचारियों की यह संख्या 82 हजार के करीब रह जाएगी। डी अमारो ने एक बयान में कहा कि कैलिफोर्निया में फिलहाल प्रतिबंध हटाए जाने की कोई उम्मीद नजर नहीं आ रही है, जिससे कि डिज्नीलैंड फिर से खुल सके, इसलिए छंटनी का फैसला लेना पड़ा। बता दें कि जुलाई के मध्य में फ्लोरिडा में वॉल्ट डिज्नी वर्ल्ड आंशिक रूप से फिर से खोला गया था।

WeForNews

Continue Reading

लाइफस्टाइल

कोरोना का बच्चों की जिंदगी पर बड़ा असर

Published

on

कोरोनावायरस महामारी ने वैसे तो आम आदमी की जिंदगी पर असर डाला है, मगर बच्चे इससे कुछ ज्यादा ही प्रभावित हुए हैं,क्योंकि उनकी पढ़ाई से लेकर खेल-कूद और दिनचर्या बुरी तरह प्रभावित हुई है।

बच्चों ने अपनी परेशानी को चाइल्ड राइट अब्जर्वेटरी (सीआरओ) और यूनिसेफ के संयुक्त आयोजन में खुलकर जाहिर किया।

आईएएनएस

Continue Reading

ब्लॉग

लौंगी भुइंया से दशरथ मांझी बनने की पूरी कहानी

लौंगी भुइंया के साथ के लोग शायद अब उनके साथ न हों पर आने वाली उस गाँव की पीढ़ी “लौंगी भुइंया” का हमेशा शुक्रगुज़ार रहेगी।

Published

on

Longi Bhuiyan

अभी हाल ही में महामारी के दौरान आप सभी को पता लगा… की लोग शहर छोड़ अपने-अपने गाँव लौट रहे है। और उनमें जो मजदूर थे वो ज़्यादातर बिहार से ताल्लुक रखते थे। ख़ैर ये तो बात थी उनके लौटने की।उनके अपने गाँव छोड़ शहर जाने की कहानी भी बहुत लम्बी है …पर उसके बारे में बात फिर कभी।

फिलहाल उन्हीं लम्बी कहानियों में से एक कहानी हैं, बिहार के “गया” ज़िले की राजधानी पटना से 200 किमी दूर बांकेबाज़ार प्रखंड की कहानी हैं।

यहाँ पर रहने वाले लोगों की ज़िन्दगी खेती पर ही निर्भर हैं और खेती निर्भर है पानी पर… यानी सिंचाई पर। और यहीं से शुरू होती है यहाँ पर रहने वाले लोगों के संघर्ष की कहानी।

यहाँ के लोगों का मुख्य व्यवसाय कृषि है। मगर धान और गेहूं की खेती के लिए जो पानी उन्हें चाहिए था उस पानी और वहाँ रहने वालों के बीच जो सबसे बड़ा रोड़ा था वो था एक “पहाड़” ।

और यहीं से शुरू होती है देश के दूसरे दशरथ मांझी लौंगी भुइंया की कहानी।

पानी की किल्लत की वजह से वहां से लोगों का पलायन शुरू हुआ, और पलायन का असर उनके घर तक आ पहुंचा।

यहाँ तक की उनके खुद के बेटों ने भी वो गाँव छोड़ दिया। फिर एक दिन हुआ यूँ की लौंगी भुइंया उसी पहाड़ पर बकरी चरा रहे थे की अचानक उनको ख्याल आया की अगर ये पहाड़ तोड़ दिया जाए तो पलायन रुक सकता है।

उस दिन उस ख्याल ने उन्हें ढंग से सोने नहीं दिया। उनकी पत्नी ने भी उनसे कहा की…. ये तुमसे नहीं हो पायेगा । पर लौंगी भुइंया को अपनी ज़िद्द के आगे कुछ समझ नहीं आया।
फिर क्या था…. फावड़ा उठाया और चल दिया पहाड़ तोड़ने।

30 साल अकेले फावड़े और दूसरे औज़ारों से उन्होंने आज 3 किमी लम्बी नहर खोद डाली और पानी गाँव तक पहुंचा दिया। इस साल पहली बार उनके गाँव तक बारिश का पानी पहुंचा और इसी वजह से आसपास के तीन गाँव के किसानों को भी इसका लाभ मिल रहा हैं। लोगों ने इस बार धान की फसल भी उगाई है। पर अफ़सोस की अब तक गाँव के कई लोग दूसरे शहरों में पलायन कर चुके हैं।

लौंगी भुइंया के साथ के लोग शायद अब उनके साथ न हों पर आने वाली उस गाँव की पीढ़ी “लौंगी भुइंया” का हमेशा शुक्रगुज़ार रहेगी।

लौंगी भुइंया कहते हैं “हम एक बार मन बना लेते हैं तो पीछे नहीं हटते। अपने काम से जब फुर्सत मिलता हम नहर काटने में लग जाते।

हमारी पत्नी कहती थी की तुमसे नहीं हो पायेगा…. लेकिन मुझे लगता था की हो जायेगा।

Continue Reading
Advertisement
voting
राजनीति16 mins ago

मप्र के 28 विधानसभा क्षेत्रों में पिछले चुनाव से 3 लाख मतदाता ज्यादा

राष्ट्रीय19 mins ago

बाबरी विध्वंस केस में फैसला सुनाते ही जज सुरेंद्र यादव रिटायर

Abhijit-Vinayak-Banerjee
राष्ट्रीय32 mins ago

भारत दुनिया की सबसे खराब प्रदर्शन करने वाली अर्थव्यवस्थाओं में से एक : अभिजीत बनर्जी

Supreme_Court_of_India
राष्ट्रीय41 mins ago

अगर सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा स्थगित हुई तो 50 करोड़ रुपये दांव पर: सुप्रीम कोर्ट

Supreme Court
राष्ट्रीय46 mins ago

4 अक्टूबर को ही UPSC प्रीलिम्स, SC का परीक्षा टालने का आदेश देने से इनकार

joshi-advani
राष्ट्रीय58 mins ago

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में आडवाणी, जोशी समेत सभी आरोपी बरी

Randeep Surjewala
राजनीति60 mins ago

हाथरस मामले पर कांग्रेस ने योगी से इस्तीफा मांगा

mayawati
राजनीति1 hour ago

हाथरस केस में बोलीं मायावती – सुप्रीम कोर्ट संज्ञान ले

Anurag Kashyap-
मनोरंजन1 hour ago

पायल घोष मामला: अनुराग कश्यप को मुंबई पुलिस ने भेजा समन

Coronavirus
राष्ट्रीय2 hours ago

देश में कोरोना के मरीजों की संख्या 62 लाख के पार

Mayawati
राजनीति3 weeks ago

मायावती शासन की अनियमितताओं पर शुरू होगी कार्रवाई

Sonia Gandhi and Rahul
ब्लॉग3 weeks ago

कांग्रेस की बीमारियां उन्हें क्यों सता रहीं जिन्होंने इसे वोट दिया ही नहीं?

राजनीति1 week ago

किसान बिल पर हंगामे के चलते राज्यसभा के 8 सांसद निलंबित

Rhea-
मनोरंजन3 weeks ago

सुशांत केस : ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती को भेजा गया मुंबई जेल

former president pranab-mukjerjee
राष्ट्रीय4 weeks ago

भारत रत्न पूर्व राष्ट्रपति का 84 साल की उम्र में निधन

Supreme Court
राष्ट्रीय3 weeks ago

लोन मोरेटोरियम केस: SC ने कहा- आखिरी सुनवाई से पहले जवाब दाखिल करे सरकार

Face-Shield
लाइफस्टाइल4 weeks ago

‘फेस शील्ड और एन-95 मास्क मिलकर भी कोरोना को नहीं रोक सकता’

अंतरराष्ट्रीय3 weeks ago

रूस ने तैयार किया कोविड-19 वैक्सीन का पहला बैच

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य4 weeks ago

बढ़ते संक्रमण के बीच लॉकडाउन को तेजी से खोलना होगा विनाशकारी: WHO

Coronavirus Test
राष्ट्रीय4 weeks ago

दिल्ली : मार्केट, बस स्टैंड, साप्ताहिक बाजारों में होंगे कोरोना टेस्ट

8 suspended Rajya Sabha MPs
राजनीति1 week ago

रात में भी संसद परिसर में डटे सस्पेंड किए गए विपक्षी सांसद, गाते रहे गाना

Ahmed Patel Rajya Sabha Online Education
राष्ट्रीय2 weeks ago

ऑनलाइन कक्षाओं के लिए गरीब छात्रों को सरकार दे वित्तीय मदद : अहमद पटेल

Sukhwinder-Singh-
मनोरंजन2 months ago

सुखविंदर की नई गीत, स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश को समर्पित

Modi Independence Speech
राष्ट्रीय2 months ago

Protected: 74वें स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी का भाषण, कहा अगले साल मनाएंगे महापर्व

राष्ट्रीय2 months ago

उत्तराखंड में ITBP कैम्‍प के पास भूस्‍खलन, देखें वीडियो

Kapil Sibal
राजनीति4 months ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय5 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर6 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य6 months ago

WHO को दिए जाने वाले अनुदान पर रोक को लेकर टेडरोस ने अफसोस जताया

Sonia Gandhi Congress Prez
राजनीति6 months ago

PM Modi के संबोधन से पहले कोरोना संकट पर सोनिया गांधी का राष्ट्र को संदेश

Most Popular