'उड़ता पंजाब' के बाद अब नवाज की फिल्म 'हरामखोर' पर सेंसर बोर्ड की कैंची | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

मनोरंजन

‘उड़ता पंजाब’ के बाद अब नवाज की फिल्म ‘हरामखोर’ पर सेंसर बोर्ड की कैंची

Published

on

हरामखोर

‘उड़ता पंजाब’ के बाद अब नवाजुद्दीन सिद्दकी की अपकमिंग फिल्म ‘हरामखोर’ पर सेंसर बोर्ड की तलवार मंडरा रही है।

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी और श्वेता त्रिपाठी की ये फिल्म पिछले साल अक्टूबर में मुंबई फिल्म फेस्टिवल के इंडिया गोल्ड सेक्शन में सिल्वर गेटवे अवॉर्ड (रनर अप) जीत चुकी है।

लेकिन डायरेक्टर श्लोक शर्मा की इस फिल्म के प्लॉट पर सेंसर बोर्ड ने आपत्ति जताई है। दरअसल, इस फिल्म की कहानी एक छोटे शहर की 14 साल की लड़की और उसके ट्यूशन टीचर के बीच के नाजायज रिश्तों के इर्द-गिर्द घूमती है।

haramkhor  12345678900-

इस फिल्म में जहां एक तरफ नवाजुद्दीन सिद्दकी एक ट्यूशन टीचर का किरदार निभा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ श्वेता त्रिपाठी 14 साल की लड़की की भूमिका में हैं। आपको बता दें एक्टिंग की दुनिया में श्वेता की यह डेब्यू फिल्म है।

haramkhor

सेंसर बोर्ड का कहना है कि इस फिल्म का टॉपिक बेहद ही आपत्तिजनक है। जिसके आधार पर सेंसर बोर्ड ने फिल्म को पास करने से मना कर दिया है। अब तक मिली जानकारी के मुताबिक फिल्म के प्रड्यूसर गुनीत मोंगा ने बताया कि सेंसर बोर्ड का कहना है कि उन्हें फिल्म की थीम आपत्तिजनक लगी, इसलिए वे सर्टिफिकेट जारी नहीं कर सकते।

Capture 2345 (2)

सेंसर बोर्ड का मानना है कि नवाज की अपकमिंग फिल्म हरामखोर का जो थीम है वह आप्त्तिजनक है। हमारे समाज में शिक्षकों का एक सम्मान होता है। हम किसी टीचर का एक छोटी लड़की के साथ अफेयर नहीं दिखा सकते। इससे समाज पर बुरा असर पड़ेगा।

क्या सेंसर बोर्ड का फिल्मों के प्रति उठाया गया ये कदम दर्शकों पर पड़ने वाले गलत प्रभाव को रोक पाएगा?

wefornews bureau 

key words: censor board, haramkhor, nawazuddin siddqui,udta punjab, CBFC

मनोरंजन

ड्रग्स केस में कोर्ट ने क्षितिज प्रसाद को 3 अक्टूबर तक NCB रिमांड पर भेजा

Published

on

सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड मामले ने पिछले तीन महीने से ज्यादा समय में बड़े मोड़ लिए हैं। इन सभी में ड्रग्स का केस समय के साथ और बड़ा होता जा रहा है।

आज धर्मा के पूर्व एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर क्षितिज प्रसाद की कोर्ट में पेशी हुई, जिसमें उन्हें 3 अक्टूबर तक की रिमांड में रखने का आदेश दे दिया गया है। अब क्षितिज 3 अक्टूबर तक एनसीबी की कस्टडी में रहेंगे। इस दौरान एनसीबी की टीम ड्रग पेडलर्स के बारे में जानकारी उनसे हासिल करेगी।

एनसीबी ने क्षितिज प्रसाद की 9 दिनों की रिमांड की मांग कोर्ट से की है। एनसीबी का कहना है कि अंकुश अरनेजा से पूछताछ में क्षितिज प्रसाद का नाम सामने आया था। क्षितिज के घर पर एनसीबी के अधिकारीयों ने जब जांच की थी तब उन्हें गांजा बरामद हुआ था।

कोर्ट में पेशी से पहले क्षितिज का मेडिकल टेस्ट हुआ है। ड्रग्स केस में पूछताछ के बाद क्षितिज को एनसीबी गिरफ्तार कर ली थी। एनसीबी की पूछताछ में क्ष‍ितिज ने ड्रग डीलर्स से ड्रग लेने की बात कबूल की है।

वहीं पूछताछ में दीपिका पादुकोण ने स्वीकार कर लिया है कि जिस ड्रग्स चैट का खुलासा हुआ था वो उन्हीं की थी। ड्रग्स मामले को लेकर मुंबई में एनसीबी की सारा अली खान और श्रद्धा कपूर से पूछताछ जारी है।

WeForNews

Continue Reading

मनोरंजन

हिमांशी खुराना कोरोना पॉजिटिव

Published

on

रिएलिटी शो ‘बिग बॉस 13’ एक्स-कंटेस्टेंट हिमांशी खुराना ने हाल ही में सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए से फैन्स को जानकारी दी है कि वह कोरोना पॉजिटिव पाई गई हैं।

25 सितंबर को हिमांशी खुराना किसान रैली में शामिल हुई थीं। भीड़ ज्यादा होने और लोगों के कॉन्टैक्ट में आने के कारण हिमांशी खुराना कोरोना पॉजिटिव पाई गई हैं। 

हिमांशी ने लिखा, “मैं आप सभी को बताना चाहती हूं कि मैं कोरोना पॉजिटिव पाई गई हैं। सभी सावधानियां बरतने के बाद ऐसा हुआ है। आप सभी जानते हैं कि मैं दो दिन पहले एक रैली में शामिल हुई थी। वह एरिया काफी भीड़ वाला था। मुझे शूट पर जाना था तो इससे पहले मैंने खुद का कोरोना टेस्ट कराने का सोचा। जो लोग मेरे कॉन्टैक्ट में आए हैं उन्हें मैं कहना चाहती हूं कि वह भी खुद का कोरोना टेस्ट करा लें। आगे आने वाली रैली में सावधानियां बरतें। न भूलें कि हम महामारी से जूझ रहे हैं, इसलिए अपना ख्याल रखें।” 

View this post on Instagram

🙏🙏

A post shared by Himanshi Khurana 👑 (@iamhimanshikhurana) on

Continue Reading

मनोरंजन

राजनीति में आने की कोई योजना नहीं : सोनू सूद

Published

on

महामारी के कारण लगे लॉकडाउन के दौरान किए जा रहे परोपकारी कार्यों से अभिनेता सोनू सूद काफी सुर्खियों में रहे हैं।

उन्होंने लॉकडाउन के शुरुआती दौर में प्रवासी श्रमिकों को अपने मूल स्थान तक पहुंचाने के लिए परिवहन की सुविधा उपलब्ध कराई थी और तब से उनके परोपकारी कार्य किसी न किसी रूप में चलते रहते हैं। हालांकि अभिनेता ने स्पष्ट कर दिया है कि उनकी राजनीति में प्रवेश करने की कोई योजना नहीं है।

उन्होंने आईएएनएस से कहा, एक अभिनेता के रूप में मेरे हाथ भरे हुए हैं। इसके अलावा मैं बहुत से चैरिटी का काम कर रहा हूं, जिसमें बहुत ध्यान और समय लगता है। इसलिए, अभी राजनीति की जगह कहीं नहीं है। बेशक, मुझे इसकी जानकारी नहीं है कि आज से 10 साल बाद नियति ने मेरे लिए क्या लिखा है।

अभिनेता के मन में प्रवासियों के लिए परिवहन की व्यवस्था करने का विचार तब आया, जब वह लॉकडाउन के दौरान कुछ दिनों तक प्रवासियों को भोजन के पैकेट वितरित कर रहे थे। भोजन बांटने के दौरान वह बच्चों वाले एक परिवार से मिले, जो 10 दिनों के लिए भोजन चाहते थे, क्योंकि वे सभी मूल निवास स्थान बेंगलुरु के लिए निकले हुए थे, तब सूद ने उन्हें बताया कि वह परिवहन के लिए अनुमति प्राप्त करने की कोशिश करेंगे, ताकि उन्हें चल कर इतनी दूर न जाना पड़े।

हर दिन सैकड़ो लोगों को अपने घरों तक वापस भेजने की व्यवस्था करने में कामयाब रहे सोनू ने कहा, मैं उस समय 350 लोगों को भेजने का प्रबंधन कर सकता था। वह ट्रिगर पॉइंट था। मुझे एहसास हुआ कि मैं और अधिक लोगों को वापस भेज सकता हूं, जो परिवहन के अभाव में पैदल चलने की योजना बना रहे थे। उसके बाद मैंने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

हालांकि जब वह इन महीनों में सामाजिक कार्यों में व्यस्त रहे हैं, स्क्रिप्ट्स उनकी टेबल पर जमा होती गई। और दिलचस्प बात यह है कि अब उन्हें जो भूमिकाएं दी जा रही हैं, वे उनकी उम्मीदों से अधिक हैं। उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा, हां, जिस तरह से लोग मुझे देखना और चित्रित करना चाहते हैं, उसे लेकर पूरी धारणा बदल गई है। मैं बदलाव देख सकता हूं और अब सही स्क्रिप्ट चुनने की आवश्यकता हैं और कुछ जादुई होने वाला है।

हालांकि जब बात फिल्मों की आती है तो अभिनेता जल्दबाजी में नजर नहीं आते हैं। उन्होंने अपने निर्माताओं से कहा है कि वे उन्हें कुछ और समय दें, ताकि वह चैरिटी के काम पर ध्यान केंद्रित कर सकें। उन्होंने कहा, मेरा यकीन करें, जब मैं यह कहता हूं तो लोगों की मदद करने के लिए जिस तरह की असाधारण संतुष्टि मिलती है, वह उस व्यक्ति की तुलना में बहुत बड़ी होती है, जो 100 करोड़ की फिल्म का हिस्सा बन सकता है।

वर्तमान में वह दक्षिण की दो फिल्मों की शूटिंग कर रहे हैं और यशराज के साथ पृथ्वीराज के साथ अगले सप्ताह शूटिंग शुरू करेंगे। सूद अब अधिक सशक्त भूमिकाएं तलाश रहे हैं।

ओटीटी प्लेटफार्मों पर जिस तरह के कंटेंट देखने को मिल रहे हैं, सूद उससे उत्साहित हैं और वह भी डिजिटल क्रांति का हिस्सा बनने के लिए सही कहानी और भूमिका का इंतजार कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, कुछ बेहद बेहतरीन काम किए जा रहे हैं। कहानी में बिल्कुल नया अवतार दिया गया है। मुझे पूरी तरह से नई ²ष्टि उभरती दिखाई दे रही है। ये रोमांचक समय है और दर्शकों को मनोरंजन के पूरी तरह से नए रुपांतरण देखने को मिल रहे हैं। जाहिर है, इसका मतलब यह भी है कि लेखकों, निर्देशकों और अभिनेताओं को अधिक काम मिल रहा है। मुझे खुशी है कि डिजिटल माध्यमों ने ऑडियो-विजुअल मनोरंजन को पूरी तरह से नया आयाम दिया है।

बच्चों की चिकित्सकीय देखभाल और उपचार के लिए समर्थन बढ़ाने के लिए केटो के साथ मिलकर उनकी नवीनतम इलाज (आईएलएएजे) इंडिया पहल के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, साल 2019 में देश में अनुमानित आठ लाख बच्चों की मृत्यु किसी भी अन्य देश की तुलना में अधिक थी। सरकारी अस्पतालों की अपर्याप्त संख्या और स्वास्थ्य बीमा की सीमित कवरेज, लोगों को निजी स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उठाने के लिए भारी-भरकम खर्च करने को मजबूर करती है।

उन्होंने आगे कहा कि इलाज इंडिया हेल्पलाइन नंबर रोगियों को उनके चिकित्सा उपचार और सर्जरी के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करेगा। जिन रोगियों को किसी भी चिकित्सा उपचार, प्रत्यारोपण, या महत्वपूर्ण सर्जरी से गुजरना है, वे एक मिस्ड कॉल (02067083686 पर) दे सकते हैं और केटो टीम अगले चरणों के लिए रोगियों तक पहुंच जाएगी। यह पहल सभी के लिए गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल सुलभ बनाने की दिशा में एक प्रयास के साथ शुरू की गई है।

आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular