दुबई में एक लग्जरी होटल में लगी भीषण आग, एक की मौत | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

Published

on

विश्व के सबसे ऊंचे टावर बुर्ज खलीफा के पास दुबई में एक लग्जरी होटल में भीषण आग लग गई जिसमें कम से कम 16 लोग घायल हुए जबकि इस घटना में 1 की मौत हो गई. इस टावर के पास लोग नए साल का समारोह देखने के लिए जमा हुए थे.

दुबई शासन के मीडिया कार्यालय ने ट्वीट किया कि एड्रेस डॉउनटाउन होटल में आग लग गई है. अधिकारी घटना से तेजी से और सुरक्षित रूप से निपटने के लिए मौके पर पहुंचे. प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक 63 मंजिला इमारत की कई मंजिलों में आग फैल गई.

दुबई पुलिस प्रमुख ने बताया कि होटल में मौजूद सभी लोगों को आग लगने की जगह से निकाल लिया गया. आग इतनी ज्यादा थी कि कई घंटों बाद भी इसे बुझाया नहीं जा सका.

जनरल खमीस एम अलमजेमा ने बताया, ‘सभी लोगों को निकाल लिया गया है.’ उन्होंने बताया कि आग बुझाए जाने तक हमारे पास इसके लगने के कारण की जानकारी नहीं है. मीडिया कार्यालय की रिपोर्ट के मुताबिक कम से 14 लोग मामूली रूप से झुलसे हैं. एक की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुआ है.

सरकार ने ट्वीट किया कि आग 20 वीं मंजिल पर लगी और इसने इमारत के सिर्फ बाहरी हिस्से को प्रभावित किया.

wefornews Bureau

अंतरराष्ट्रीय

पीएम केपी शर्मा ओली को सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी से हटाया

Published

on

KP Sharma Oli
File Photo

नेपाल के कार्यवाहक प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को कम्युनिस्ट पार्टी से हटा दिया गया है साथ ही उनकी सदस्यता भी रद्द कर दी गई है। समाचार एजेंसी एएनआई ने स्प्लिन्टर समूह के प्रवक्ता नारायण काजी श्रेष्ठ के हवाले से इसकी पुष्टि की है। बता दें कि ओली के खिलाफ पार्टी में काफी समय से बगावत के सुर बुलंद हो रहे थे।

इससे पहले एनसीपी के अलग गुट के नेता पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ ने शुक्रवार को राजधानी काठमांडो में एक बड़ी सरकार विरोधी रैली निकाली थी। इस रैली में उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली द्वारा संसद को अवैध तरीके भंग किए जाने से देश की संघीय लोकतांत्रिक प्रणाली के लिए गंभीर खतरा पैदा हो गया है।

उन्होंने कहा था कि ओली ने न केवल पार्टी के संविधान और प्रक्रियाओं का उल्लंघन किया है बल्कि नेपाल के संविधान की मर्यादा को भी क्षति पहुंचाई है और लोकतांत्रिक प्रणाली के विरुद्ध काम किया है।

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

नौवें दौर की वार्ता समाप्त, सैनिकों को हटाने की प्रक्रिया आगे बढ़ाएंगे भारत-चीन

Published

on

india china ladakh border-min
File Photo

करीब ढाई महीने के अंतराल के बाद भारत और चीन की सेनाओं ने रविवार को कोर कमांडर स्तर की नौवें दौर की वार्ता की। इसका उद्देश्य पूर्वी लद्दाख में टकराव वाले सभी स्थानों से सैनिकों को हटाने की प्रक्रिया पर आगे बढ़ना है। सूत्रों ने यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि उच्च स्तरीय सैन्य वार्ता पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के चीन की ओर स्थित मोल्दो सीमावर्ती क्षेत्र में पूर्वाह्न दस बजे शुरु हुई थी। इससे पहले, छह नवंबर को हुई आठवें दौर की वार्ता में दोनों पक्षों ने टकराव वाले खास स्थानों से सैनिकों को पीछे हटाने पर व्यापक चर्चा की थी।

वार्ता में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व लेह स्थित 14 वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन कर रहे हैं। भारत लगातार यह कहता आ रहा है कि पर्वतीय क्षेत्र में टकराव वाले सभी स्थानों से सैनिकों को वापस बुलाने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने और तनाव को कम करने की जिम्मेदारी चीन की है।

कोर कमांडर स्तर की सातवें दौर की वार्ता 12 अक्टूबर को हुई थी, जिसमें चीन ने पेगोंग झील के दक्षिणी तट के आसपास सामरिक महत्व के अत्यधिक ऊंचे स्थानों से भारतीय सैनिकों को हटाने पर जोर दिया था। लेकिन भारत ने टकराव वाले सभी स्थानों से सैनिकों की वापसी की प्रक्रिया एक ही समय पर शुरू करने की बात कही थी।

पूर्वी लद्दाख में विभिन्न पवर्तीय क्षेत्रों में भारतीय थल सेना के कम से कम 50,000 जवान युद्ध की तैयारियों के साथ अभी तैनात हैं। दरअसल, गतिरोध के हल के लिए दोनों देशों के बीच कई दौर की वार्ता में कोई ठोस नतीजा हाथ नहीं लगा है।

अधिकारियों के अनुसार चीन ने भी इतनी ही संख्या में अपने सैनिकों को तैनात किया है। पिछले महीने, भारत और चीन ने भारत-चीन सीमा मामलों पर ‘परामर्श एवं समन्वय के लिए कार्यकारी तंत्र’ (डब्ल्यूएमसीसी) ढांचा के तहत एक और दौर की राजनयिक वार्ता की थी, लेकिन इस वार्ता में कोई ठोस नतीजा नहीं निकला था।

छठें दौर की सैन्य वार्ता के बाद दोनों पक्षों ने अग्रिम मोर्चों पर और सैनिक नहीं भेजने, जमीनी स्थिति में बदलाव करने के एकतरफा प्रयास नहीं करने तथा विषयों को और अधिक जटिल बनाने वाली किसी भी गतिविधि से दूर रहने सहित कई फैसलों की घोषणा की थी।

WeForNews

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

श्रीलंका की स्वास्थ्य मंत्री कोरोना पॉजिटिव

Published

on

Coronavirus

श्रीलंकाई स्वास्थ्य मंत्री पवित्रा वन्नियारच्ची नोवल कोरोनावायरस की जांच में पॉजिटिव पाई गई हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की है।

अधिकारियों के हवाले से सिन्हुआ समाचार एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि, शुक्रवार को 56 वर्षीय पवित्रा ने अपना रैपिड एंटीजन टेस्ट कराया था, जिसका नतीजा शनिवार को पॉजिटिव आया। इसके बाद उन्हें एक ट्रीटमेंट सेंटर में ले जाया गया।

पवित्रा हाल के हफ्तों में वायरस की चपेट में आने वाली पांचवी सांसद और दूसरी कैबिनेट मंत्री हैं।

बीते हफ्ते जलदाय मंत्री वासुदेव नानायक्कारा संसद सत्र के दौरान एक अन्य राज्य मंत्री के संपर्क में आने के बाद कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे।

अब तक दो कैबिनेट मंत्री, दो राज्य मंत्री और एक विपक्षी विधायक वायरस से संक्रमित हो चुके हैं

Continue Reading

Most Popular