द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) प्रमुख और तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने शनिवार को दिल्ली में अपनी पार्टी के नए कार्यालय ‘अन्ना-कलैगनार अरिवलयम’ का उद्घाटन किया।

इस मौके पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी मौजूद रहीं।तमिलनाडु की क्षेत्रीय पार्टी डीएमके अब राष्ट्रीय राजनीति की ओर कदम बढ़ाना चाहती है।

डीएमके ने शनिवार को दिल्ली में पार्टी के भव्य कार्यालय का उद्घाटन किया। इस मौके पर डीएमके प्रमुख ने बीजेपी-कांग्रेस सहित कई दलों के नेताओं को उद्घाटन समारोह में आमंत्रित किया था।

शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, भारतीय मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता सीताराम येचुरी इस उद्घाटन समारोह में मौजूद रहे।

एम के स्टालिन ने गुरुवार को अपने दिल्ली दौरे के पहले दिन केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल व अन्य दलों के नेताओं से मुलाकात कर उन्हें आमंत्रित किया था।

गौरतलब है कि सीएम स्टालिन के पिता और तमिलनाडु के दिवंगत मुख्यमंत्री के करुणानिधि ने एनडीए और यूपीए, दोनों के साथ गठबंधन किया था। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के वक्त डीएमके एनडीए केंद्र सरकार में शामिल रहा था। अब पार्टी कांग्रेस की अगुवाई वाले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) का हिस्सा है, लेकिन अब स्टालिन पार्टी का क्षेत्रीय दल तक सीमित नहीं रखना चाहते। इसलिए राष्ट्रीय स्तर पर पार्टी को आगे बढ़ाना चाहते हैं। उल्लेखनीय है कि डीएमके 23 सांसदों के साथ लोक सभा में तीसरी सबसे बड़ी पार्टी है।

पश्चिम बंगाल की तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और आंध्र प्रदेश की वाईएसआरसीपी को 2019 के लोकसभा चुनाव में दो-दो सीटें मिली थीं और वो डीएमके के पीछे रही थीं। इस तरह, डीएमक देश के दो विशालतम दलों बीजेपी (303 सीटें) और कांग्रेस (52 सीटें) के बाद सबसे ज्यादा सीटें जीतने पार्टी है।

–आईएएनएस

Share.

Leave A Reply