इंदौर में सोशल डिस्टेंसिंग से बेरुखी महंगी पड़ी | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

अन्य

इंदौर में सोशल डिस्टेंसिंग से बेरुखी महंगी पड़ी

Published

on

Coronavirus india lockdown

इंदौर, 2 अप्रैल | स्वच्छता का परचम लहराने वाला मध्य प्रदेश का इंदौर इन दिनों देश और दुनिया में फैली कोरोना वायरस की महामारी से जूझ रहा है। स्वच्छता के बावजूद आखिर क्या वजह रही कि इंदौर में कोरोना के मरीज बढ़ते गए। इनमें एक जो प्रमुख वजह रही वह है सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न किया जाना। इसके साथ ही अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जुड़े और आधुनिक सुविधाओं वाले शहर में शुरुआती केस आने के बाद भी समय पर प्रबंध नहीं किए गए, जिनकी जरूरत थी। शहर में जांच की सुविधा नहीं होना भी अहम वजह रही।

इंदौर की स्थिति पर गौर करें तो एक बात साफ है कि राज्य का सबसे विकसित और आधुनिक सुविधाओं वाला शहर है। यहां अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है और कई देशों की उड़ानें भी आती रही है, इतना ही नहीं रेल और बस सुविधा के मामले में अव्वल है। कई राज्यों से सीधा संपर्क है। औद्योगिक दृष्टि से भी यहां कई बड़े उद्योग हैं, जिससे देशी-विदेशी लोगों की आवाजाही कुछ ज्यादा ही रहती है। इसके अलावा यहां दूसरे स्थानों के हजारों छात्र अध्ययन करने और शिक्षित व्यक्ति रोजगार की तलाश में आते है। वहीं इंदौर के हजारों बच्चे दूसरे शहर और विदेशों में पढ़ते हैं, जो हाल ही में लौटे भी है।

लंबे अरसे से इंदौर और मालवा निमाड़ के क्षेत्र में सामाजिक कार्यकर्ता के तौर पर काम करने वाले जन स्वास्थ्य अभियान के राष्ट्रीय सह संयोजक अमूल्य निधि का कहना है, “इंदौर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जुड़ा हुआ महानगर है यहां कई देशों से फ्लाइट आती हैं और पड़ोसी राज्य गुजरात और महाराष्ट्र से भी बड़ी संख्या में लोग आते हैं। कोरोना महामारी की जब बात सामने आई तब इंदौर में वह प्रबंध नहीं किए गए, जिनकी जरूरत थी। एक तो जांच की सुविधा नहीं थी, दूसरा सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में नहीं रखा गया। यही कारण रहा कि इक्का-दुक्का मरीज कभी आए होंगे, जिनमें यह संक्रमण रहा होगा और वह लगातार समाज के संपर्क में रहे जिससे यह तेजी से फैल गया।”

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए अमूल्य निधि कहते हैं, “मरीजों की संख्या बढ़ने का दूसरा कारण भी है। पहले कम सैंपल लिए जा रहे थे और जांच रिपोर्ट उन सैंपलों की ही आ रही थी। अब ज्यादा नमूने लिए जा रहे है और रिपोर्ट भी ज्यादा आ रही है। इसे नकारात्मक रूप में नहीं लेना चाहिए बल्कि ज्यादा मरीज पाए जा रहे हैं तो यह सुरक्षा ज्यादा बढ़ाने की ओर हमें तैयार रहने का संदेश भी दे रहा है।”

इंदौर फार्मासिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष विनय बाकलीवाल भी मानते हैं, “इंदौर में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया गया और बीमारी फैलने की सबसे बड़ी वजह यही रही। जब लॉकडाउन हुआ है तो अब प्रयास हो रहे हैं और उम्मीद की जानी चाहिए कि जल्दी ही मरीजों की पहचान हो जाएगी और यह शहर सुरक्षित रहेगा।

इंदौर में मरीजों की संख्या बढ़ने के सवाल पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. प्रवीण जरिया ने आईएएनएस से कहा, “यह बात सही है कि इंदौर में संक्रमित मरीजों की संख्या और स्थानों की तुलना में कहीं ज्यादा है। मगर राहत की बात यह है कि गिनती के परिवारों के लोग ज्यादा संक्रमित हैं और उन्हीं के संपर्क में आए लोग संक्रमित पाए जा रहे हैं। प्रशासन ने इसीलिए लोगों को क्वारंटाइन में रखा है और आइसोलेट किया जा रहा है ताकि यह बीमारी आगे न फैल सके।”

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी इस बात को मान चुके है कि इंदौर के कुछ खास इलाकों में ही इस वायरस का संक्रमण फैला है। साथ ही उन्होंने लोगों से लॉकडाउन का पालन करने और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने पर जोर दिया। ऐसा इसलिए क्योंकि घरों में रहकर ही इस बीमारी की चेन को तोड़ा जा सकता है।

यह बात भी सामने आ रही है कि इंदौर के रानीपुरा, नयापुरा, दौलतगंज, हाथीपाला आदि स्थानों पर ही सबसे ज्यादा संक्रमित मरीज पाए जा रहे है। यहां बड़ी संख्या में लोगों को क्वारंटाइन और आइसोलेशन की प्रक्रिया में रखा गया है। होटल और निजी चिकित्सा महाविद्यालयों में इन मरीजों के लिए खास इंतजाम किए जा रहे हैं।

राज्य में कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा असर इंदौर में नजर आ रहा है। यहां मरीजों की संख्या बढ़कर 75 हो गई है, वहीं राज्य में पीड़ितों की संख्या 98 है। अब तक छह लोगों की मौत हो चुकी है। इंदौर के अलावा भोपाल में चार, जबलपुर में आठ, ग्वालियर व शिवपुरी में दो-दो, खरगोन एक और उज्जैन में छह मरीज हैं। इस तरह राज्य में अब कोरोना के पाजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 98 हो गई है।

अन्य

अफगानिस्तान में विस्फोट, 16 की मौत, 90 घायल

Published

on

IED blast

अफगानिस्तान के घोर प्रांत की राजधानी फिरोज कोआह शहर में रविवार को हुए शक्तिशाली बम विस्फोट में करीब 16 लोग मारे गए और 90 अन्य घायल हो गए। यह जानकारी एक अधिकारी ने दी।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, प्रांतीय सरकार ने कहा, हताहतों की संख्या के बारे में मीडिया को बाद में बताया जाएगा। मरने वालों की संख्या में बदलाव हो सकता है, क्योंकि मलबे के नीचे से लोगों को अभी निकाला जा रहा है।

अधिकारी ने कहा कि घायलों में से कई की हालत गंभीर बनी हुई है। एक सुरक्षा अधिकारी ने समाचार एजेंसी सिन्हुआ से कहा, विस्फोट दिन में 11.15 बजे के आसपास हुआ, विस्फोटक से भरे एक मिनीबस को उस क्षेत्र में लाकर खड़ा किया गया था, जहां प्रांतीय पुलिस विभाग और कई अन्य सरकारी कार्यालय स्थित हैं।

उन्होंने आगे कहा, विस्फोट को देखते हुए इसके संदिग्ध आत्मघाती बमबारी होने की संभावना है। विस्फोट के बाद आसमान में धुएं का घना गुबार उठा जिससे लोगों में दहशत फैल गई।

सुरक्षाबलों ने एहतियात के लिए इलाके की घेराबंदी कर दी है। अभी तक किसी भी संगठन ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है।

आईएएनएस

Continue Reading

अन्य

कोविड-19 के वैश्विक मामले 2.23 करोड़ के पार

Published

on

Coronavirus

नई दिल्ली, जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के अनुसार दुनिया में कोरोनावायरस मामलों की कुल संख्या 2.23 करोड़ और मरने वाले लोगों की संख्या 7.86 लाख से अधिक हो गई है।

यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर सिस्टम साइंस एंड इंजीनियरिंग (सीएसएसई) के ताजा अपडेट के मुताबिक, गुरुवार सुबह तक कुल मामलों की संख्या 22,322,208 थी। वहीं इस घातक वायरस के कारण दुनिया में अब तक 7,86,185 लोगों की मौत हो चुकी थी।

सीएसएसई के अनुसार दुनिया में सबसे अधिक 55,27,306 मामलों और 1,73,114 मौतों के साथ अमेरिका लगातार सबसे अधिक प्रभावित देश बना हुआ है। इसके बाद ब्राजील 34,56,652 मामलों और 1,11,100 मौतों के साथ दूसरे स्थान पर है।

वहीं संक्रमण के मामलों की संख्या में भारत 27,67,273 संक्रमित लोगों के साथ दुनिया में तीसरे नंबर पर है। इसके बाद ऐसे देश जिनमें मामलों की संख्या 1 लाख से अधिक हो गई है, उनमें रूस (9,35,066), दक्षिण अफ्रीका (5,96,060), पेरू (5,49,321), मैक्सिको (5,37,031), कोलंबिया (4,89,122), चिली (3,90,037), स्पेन (3,70,867),

ईरान (3,50,279), ब्रिटेन (3,22,996), अर्जेंटीना (3,12,659), सऊदी अरब (3,02,686), पाकिस्तान (2,90,445), बांग्लादेश (2,85,091), फ्रांस (2,56,534),

इटली (2,55,278), तुर्की (2,53,108), जर्मनी (2,29,706), इराक (1,88,802), फिलीपींस (1,73,774), इंडोनेशिया (1,44,945), कनाडा (1,25,408), कतर (1,15,956), इक्वाडोर (1,04,475), कजाकिस्तान (1,03,571) और बोलीविया (1,03,019) हैं।

वहीं कोविड-19 के कारण हुईं 10 हजार से अधिक मौतों वाले देश में मैक्सिको (58,481), भारत (52,889), ब्रिटेन (41,483), इटली (35,412), फ्रांस (30,434), स्पेन (28,797), पेरू (26,658), ईरान (20,125), रूस (15,951), कोलंबिया (15,619), दक्षिण अफ्रीका (12,423) और चिली (10,578) हैं।

आईएएनएस

Continue Reading

अन्य

एलएनआईपीई फिर ‘नंबर-वन’, नैक की सूची में तीसरे पायदान पर जेएनयू

Published

on

ग्वालियर: राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यापयन परिषद (नैक) द्वारा हाल ही में जारी सूची में देश के मशहूर खेल प्रशिक्षण संस्थान और डीम्ड यूनिवर्सिटी लक्ष्मीबाई राष्ट्रीय शारीरिक शिक्षा संस्थान (एलएनआईपीई) को पहले पायदान पर रखा गया है।

नैक यूजीसी की स्वायत्त संस्था है। सूची में दूसरे और तीसरे पायदान पर क्रमश: मुंबई के इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी व दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय रहे हैं।

नैक से हासिल उस अविस्मरणीय उपलब्धि का श्रेय, एलएनआईपीई के कुलपति प्रो. दिलीप कुमार डुरेहा ने विवि के हर शिक्षक-कर्मचारी और विद्यार्थी को दिया है। इस अवसर पर विवि में अपनो को संबोधित करते हुए विवि के कुलपति प्रो. दिलीप कुमार डुरेहा ने कहा, “अगर आप सब दिन-रात कठोर परिश्रम न करते, तो शायद ‘नैक’ जैसी सम्मानित स्वायत्त संस्था से इतना बड़ा सम्मान मिलना दूर की कौड़ी भी हो सकता है। मुझे विश्वास है कि आने वाले वक्त में भी स्टाफ-विद्यार्थियों की कड़ी मेहनत नैक की सूची में इसी तरह पहले पायदान पर निरंतर दर्ज होती रहेगी।”

एलएनआईपीई के प्रवक्ता अभिषेक त्रिपाठी ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, “नैक की सूची में लक्ष्मीबाई राष्ट्रीय शारीरिक शिक्षा संस्थान, ग्वालियर को ‘ए-डबल-प्लस’ रेटिंग के साथ 3.79 सीजीपीए प्राप्त हुए हैं। जबकि दूसरे व तीसरे नंबर पर रहे संस्थानों को 3.77 सीजीपीए दिया गया है।”

उल्लेखनीय है कि, ‘नैक’ हिंदुस्तान की इकलौती वो स्वायत्त संस्था है जो, देश के शिक्षण संस्थानों का मूल्यांकन वहां की शिक्षण प्रणाली, सुविधाओं, वातावरण इत्यादि के आधार पर करती है। किसी भी शिक्षण संस्थान को इस सूची में प्रथम, द्वितीय व तीसरे पायदान पर आने के लिए एक कठिन प्रक्रिया कहिये या फिर परीक्षा, से गुजरना पड़ता है।

इस उपलब्धि पर बात करते हुए एलएनआईपीई के कुलपति प्रो. दिलीप कुमार डुरेहा ने आगे बताया, “यूनिवर्सिटी में चल रहे कामकाज और सुविधाओं के मद्देनजर मुझे उम्मीद थी कि, नैक की सूची में हम पहले की ही तरह पहले पायदान पर अपना कब्जा बरकरार रख पाने में कामयाब होंगे। हालांकि, सूची जारी नहीं होने तक चिंता जरूर थी। अब जब नैक की सूची में हम पहले पायदान पर फिर खड़े हो चुके हैं, तो कल तक की हमारी अपनी चिंता ही, आज हमारे विश्वास में बदल चुकी है।”

कुलपति प्रो. दिलीप कुमार डुरेहा ने अपने संबोधन में कहा, “नैक की सूची में फिर से प्रथम पायदान पर तो आ गए हैं, लेकिन आइंदा भी इस सम्मान को बरकरार रखने के लिए हमें निरंतर कड़ी मेहनत-तपस्या करनी होगी। यह सब एलएनआईपीई के एक एक कर्मचारी और विद्यार्थी के कठोर तप से ही संभव होगा।”

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
Tejashwi Yadav
राजनीति35 mins ago

बिहार चुनाव: तेजस्वी बोले- पहले ही चुनाव हार चुके हैं नीतीश

Earthquake-Strong-1
अंतरराष्ट्रीय1 hour ago

अमेरिका के अलास्का में भूकंप

मनोरंजन2 days ago

सुशांत मामले में अर्जुन रामपाल की गर्लफ्रेंड का भाई हुआ अरेस्ट

राजनीति2 days ago

सोनिया गांधी का सरकार पर निशाना, कहा- कठिन दौर से गुजर रहा लोकतंत्र

Hotspot in Delhi Police
शहर2 days ago

दिल्ली पुलिस ने त्योहारी सीजन में सुरक्षा बढ़ाई

राजनीति2 days ago

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत का 94वें स्थान पर होना शर्मनाक है: कांग्रेस

Congress protest Flag
राजनीति2 days ago

यूपी हाथरस घटना के विरोध में कांग्रेस 26 अक्तूबर को करेगी देशभर में प्रदर्शन

Imran Khan Pakistan
अंतरराष्ट्रीय2 days ago

मसूद अजहर और हाफिज पर कार्रवाई का दिखावा कर रहा पाक: एफएटीएफ

P Chidambaram
राजनीति2 days ago

बिहार के लोग डर को दरकिनार कर उम्मीद को चुनें : चिदंबरम

Delhi Violence
राष्ट्रीय2 days ago

दिल्ली हिंसा: तीन आरोपियों की जामनत याचिका अदालत ने की खारिज

Longi Bhuiyan
ब्लॉग4 weeks ago

लौंगी भुइंया से दशरथ मांझी बनने की पूरी कहानी

राजनीति4 weeks ago

किसान बिल पर हंगामे के चलते राज्यसभा के 8 सांसद निलंबित

मनोरंजन2 weeks ago

मुंबई की अदालत ने रिया और शोविक की न्यायिक रिमांड को 20 अक्टूबर तक बढ़ाया

narendra modi Black
ओपिनियन2 weeks ago

बढ़ती बेरोज़गारी, गर्त में जाती अर्थव्यवस्था के बीच सरकारों का निजीकरण पर जोर

Election
चुनाव3 weeks ago

यक़ीनन, अबकी बार बिहार पर है संविधान बचाने का दारोमदार

Narendra Damodar Das Modi
ओपिनियन3 weeks ago

‘टाइम’ में अमरत्व वाली मनमाफ़िक छवि अर्जित करने से श्रेष्ठ और कुछ नहीं!

Hathras and Babri Demolition
ब्लॉग2 weeks ago

हाथरस के निर्भया कांड को बाबरी मस्जिद के चश्मे से भी देखिए

facebook
टेक4 weeks ago

फेसबुक इंडिया के एमडी अजीत मोहन को विधानसभा समिति का नोटिस

Rape Sexual Violence
ज़रा हटके2 weeks ago

राजनीति को अपराधियों से बचाये बग़ैर नहीं बचेंगी बेटियां

Kolkata Knight Riders
खेल3 weeks ago

आईपीएल-13 : कोलकाता ने हैदराबाद को 7 विकेट से हराया

8 suspended Rajya Sabha MPs
राजनीति4 weeks ago

रात में भी संसद परिसर में डटे सस्पेंड किए गए विपक्षी सांसद, गाते रहे गाना

Ahmed Patel Rajya Sabha Online Education
राष्ट्रीय1 month ago

ऑनलाइन कक्षाओं के लिए गरीब छात्रों को सरकार दे वित्तीय मदद : अहमद पटेल

Sukhwinder-Singh-
मनोरंजन2 months ago

सुखविंदर की नई गीत, स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश को समर्पित

Modi Independence Speech
राष्ट्रीय2 months ago

Protected: 74वें स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी का भाषण, कहा अगले साल मनाएंगे महापर्व

राष्ट्रीय3 months ago

उत्तराखंड में ITBP कैम्‍प के पास भूस्‍खलन, देखें वीडियो

Kapil Sibal
राजनीति4 months ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय6 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर6 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य6 months ago

WHO को दिए जाने वाले अनुदान पर रोक को लेकर टेडरोस ने अफसोस जताया

Sonia Gandhi Congress Prez
राजनीति6 months ago

PM Modi के संबोधन से पहले कोरोना संकट पर सोनिया गांधी का राष्ट्र को संदेश

Most Popular