भोपाल: मध्य प्रदेश कांग्रेस ने वरिष्ठ अधिवक्ता विवेक तन्खा को राज्य से दूसरे कार्यकाल के लिए उच्च सदन (राज्य सभा) भेजने का फैसला किया है। पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने शनिवार को सभी अटकलों पर विराम लगाते हुए यह घोषणा की।

कमलनाथ ने शनिवार को संवाददाताओं से बात करते हुए कहा, पार्टी ने मध्य प्रदेश से राज्यसभा के लिए वरिष्ठ अधिवक्ता विवेक तन्खा के नाम को अंतिम रूप दे दिया है।

मध्य प्रदेश के तीन राज्यसभा सदस्यों का कार्यकाल, 29 जून को समाप्त हो जाएगा, जिनमें से दो भाजपा (एमजे अकबर और संपतिया उइके) और एक कांग्रेस (विवेक तन्खा) से हैं। वर्तमान में, मध्य प्रदेश से राज्यसभा के लिए 11 सीटें हैं, जिनमें भाजपा के आठ जबकि कांग्रेस के तीन सदस्य हैं।

राज्य कांग्रेस ने तो राज्यसभा के लिए अपने उम्मीदवार का नाम स्पष्ट कर दिया है, हालांकि, भाजपा को इस संबंध में अंतिम निर्णय लेना बाकी है। कांग्रेस के एक वरिष्ठ प्रवक्ता ने आईएएनएस को बताया कि तन्खा जल्द ही राज्यसभा के लिए अपना नामांकन दाखिल करेंगे। कांग्रेस ने तन्खा को 2016 में उच्च सदन भेजा था।

तन्खा मध्य प्रदेश के सबसे कम उम्र के एडवोकेट जनरलों (16 फरवरी 1999 से 15 नवंबर 2003) में से एक थे, उन्हें अप्रैल 1998 में मप्र उच्च न्यायालय की एक बेंच द्वारा जजशिप की पेशकश की गई थी, लेकिन उन्होंने व्यक्तिगत कारणों से इनकार कर दिया था।

साथ ही, वह मध्य प्रदेश के पहले वकील थे जिन्हें भारत का अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल नियुक्त किया गया था। उन्होंने नवंबर 2000 में मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के बीच विवादों को सुलझाने में एक प्रमुख भूमिका निभाई थी।

Share.

Leave A Reply


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/wefornewshindi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5275