अपने दो पुराने सहयोगियों- एआईयूडीएफ और बीपीएफ को पछाड़ने के बाद, असम में विपक्षी कांग्रेस अब असम जातीय परिषद (एजेपी) और रायजर दल के साथ गठबंधन करेगी। इस गठबंधन का उद्देश्य 30 अक्टूबर को होने वाले 6 विधानसभा उपचुनावों में सत्तारूढ़ भाजपा से मुकाबला करना है। असम प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेन कुमार बोरा ने कहा कि छह सीटों में से माजुली को एजेपी के लिए छोड़ दिया जाएगा, जबकि भवानीपुर सीट रायजोर दल को दिए जाने की संभावना है। जबकि पार्टी अध्यक्ष अखिल गोगोई से अंतिम निर्णय की उम्मीद है।

 

बोरा ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल के 27 सितंबर को राज्यसभा के लिए निर्विरोध चुने जाने के बाद खाली हुई माजुली सीट के लिए उपचुनाव की घोषणा जल्द की जा सकती है और पार्टी की बैठक में सभी छह निर्वाचन क्षेत्रों के लिए चुनाव संबंधी मुद्दों पर भी चर्चा होगी।

 

चुनाव आयोग ने 28 सितंबर को गोसाईगांव, तामुलपुर, भबनीपुर, मरियानी और थौरा में 30 अक्टूबर को होने वाले उपचुनावों की घोषणा की।

 

बोरा और एजेपी अध्यक्ष लुरिनज्योति गोगोई ने “भाजपा के विभाजनकारी एजेंडे को हराने की जरूरत पर जोर दिया, जो केवल चुनावी लाभ के लिए सांप्रदायिक राजनीति में काम कर रहा था”।

 

एजेपी अध्यक्ष ने कहा, “विधायकों की खरीद की व्यवस्था लोकतांत्रिक परंपराओं को बंधन में रखेगी और यह हम सभी के लिए खतरनाक है। समय की जरूरत है कि असम में एक ऐसा माहौल बनाया जाए जो सांप्रदायिक राजनीति और नफरत के एजेंडे से मुक्त हो।”

 

एजेपी और रायजर दल ने मिलकर मार्च-अप्रैल विधानसभा चुनाव लड़ा लेकिन विधानसभा के लिए केवल गोगोई चुने गए।

 

कांग्रेस, जिसने 15 वर्षो (2001-2016) तक असम पर शासन किया, मार्च-अप्रैल विधानसभा चुनावों में 29 सीटें हासिल करने में सफल रही। 2016 के चुनावों की तुलना में तीन अधिक, जब वह राज्य में भाजपा से हार गई थी।

 

कांग्रेस के अन्य सहयोगियों में से 10-पार्टी ‘महाजोत’ (महागठबंधन) के नेतृत्व में, ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) ने 16 सीटें जीतीं, बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (बीपीएफ) को चार सीटें मिलीं, और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी- मार्क्‍सवादी को सिर्फ एक सीट मिली।

 

असम कांग्रेस ने पिछले महीने घोषणा की थी कि बदरुद्दीन अजमल के नेतृत्व वाली एआईयूडीएफ और आदिवासी-आधारित पार्टी बीपीएफ अब राज्य में ‘महाजोत’ की भागीदार नहीं होगी।

 

मार्च-अप्रैल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने भवानीपुर सीट एआईयूडीएफ के लिए छोड़ दी थी जबकि गोसाईगांव सीट पर बीपीएफ ने चुनाव लड़ा था।

 

हाल ही में मरियानी से चार बार के कांग्रेस विधायक रूपज्योति कुर्मी और थौरा से दो बार के पार्टी विधायक सुशांत बोरगोहेन ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया और भाजपा में शामिल हो गए।

 

भवानीपुर से मुस्लिम-आधारित एआईयूडीएफ के एकमात्र हिंदू विधायक फनीधर तालुकदार ने हाल ही में भाजपा में शामिल होने से पहले विधानसभा से इस्तीफा दे दिया था।

 

यूपीपीएल के तमुलपुर विधायक लेहो राम बोरो और बीपीएफ के गोसाईगांव विधायक मजेंद्र नारजारी की कोविड-19 से मौत हो गई।

 

भाजपा सूत्रों ने कहा कि पार्टी चार सीटों पर उम्मीदवार उतारेगी और तामूलपुर निर्वाचन क्षेत्र को यूपीपीएल के लिए छोड़ देगी।

 

पार्टी की राज्य इकाई के प्रमुख भाबेश कलिता ने दावा किया है कि उपचुनाव में भाजपा सभी पांचों सीटों पर जीत हासिल करेगी।

 

126 सदस्यीय असम विधानसभा में बीजेपी ने 60 सीटें जीती थीं, जो पांच साल पहले मिली सीटों के बराबर है।

 

भाजपा के सहयोगी असम गण परिषद ने पिछली बार 14 के मुकाबले नौ सीटें जीती थीं, जबकि नए गठबंधन सहयोगी यूपीपीएल को छह सीटें मिली थीं।

 

–आईएएनएस

Share.

Comments are closed.


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/wefornewshindi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5275

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/wefornewshindi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5275