प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन को आज देशभर के युवा बेरोजगारी दिवस के रूप में मना रहे हैं। कांग्रेस ने इस मुद्दे पर युवाओं का समर्थन किया है।

इस मौके पर कांग्रेस नेता सुप्रिया श्रीनेत ने प्रेस से बात की और बेरोजगारी के मुद्दे पर केंद्र की मोदी सरकार को जमकर घेरा।

सुप्रिया श्रीनेत ने कहा, “आज देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी का 72वां जन्मदिवस है, उन्हें हमारी हार्दिक शुभकामनाएं, ईश्वर उनको स्वस्थ और दीर्घायुबनाएं। भारत में महान प्रधानमंत्रियों के जन्मदिवस को प्रतीकात्मक रूप से मनाया जाता रहा है। बच्चों के प्रिय चाचा नेहरू के जन्मदिन को ‘बाल दिवस’, इंदिरा जी के जन्मदिन को ‘कौमी एकता दिवस’ के रूप में, राजीव जी के जन्मदिन को, ‘सद्भावना दिवस’ और अटल जी के जन्मदिन को ‘सुशासन दिवस’ के रूपमें मनाया जाता है।”

पीएम मोदी पर तंज कसते हुए सुप्रिया श्रीनेत ने कहा, “आज का दिन भी बेहद खास है और आज मोदी जी की उपलब्धियों की भी खूब चर्चा हो रही है। देश केयुवाओं के लिए मोदी जी ने इतना कुछ किया है, कि वह आज का दिन ‘राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस’ केतौर पर मना रहे हैं।”

बेरोजगारी के आंकड़े पेश करते हुए कांग्रेस नेता ने कहा, “भारत विश्व का सबसे युवा राष्ट्र है और आज हमारे यहां कामकाजी उम्र के 60 फीसदी लोग या तो कामनहीं कर रहे हैं या काम की तलाश भी नहीं कर रहे। यही नहीं 20-24 वर्ष की उम्र के 42 फीसदी युवा बेरोजगार हैं। अगर यह स्थिति भयावह नहीं तो और क्याहै? और नहीं मोदी जी ना ही कोरोना और ना ही यूक्रेन-रूस के युद्ध के पीछे छुप सकते हैं। हमारे यहां तो कोविड के पहले ही भारत में 45 वर्षों में सबसे शीर्ष पर बेरोजगारी पहुंच गयी थी। आंकड़ों के अनुसार, इस समय बेरोजगारी एक साल में सबसे ऊपर 8.3 फीसदी पर है।”

कांग्रेस नेता ने कहा, “मोदी जी से आशा थी, क्योंकि वादे बहुत बड़े किए थे – 2 करोड़ सालाना रोजगार देने का वादा था तो 8 साल में 16 करोड़ नौकरियां मिल जानी चाहिए थीं। लेकिन इन 8 सालों में नौकरी के आवेदन आए22 करोड़ और रोज़गार मिले मात्र 7 लाख लोगों को। बेरोजगारी की मार तो सबसे ज्यादा महिलाओं पर पड़ी है- 26 फीसदी महिलाओं का लेबर फ़ोर्सपर्टिसिपेशन रेट गिरकर 15 फीसदी तक पर आ गया।”

सुप्रिया श्रीनेत ने सवाल पूछा, “तो क्या मोदी जी को कोई चिंता नहीं है? ऐसा नहीं है। चिंता जरूर है रोजगार की- पर सिर्फ एक व्यक्ति के रोजगार की- अमित शाह सुपुत्र श्री जय शाह जी 2019 से BCCI सचिव हैं और अब उन्हेंनियमतः रिटायर होना है पर उनका रोजगार बनाए रखने के लिए अब BCCI का संविधान बदला जाएगा और वह 3 साल तक अपने पद पर और बने रहेंगे। लेकिन आपके बच्चों को 4 साल की नौकरीके बाद 23 साल की उम्र में ही रिटायर कर दिया जाएगा। ऐसा क्यों है, की स्थिति इतनी ख़राब होने के बावजूद इतने ज्वलंत मुद्दे पर चर्चा नहीं होती है। रोजगार की बात करो तो लच्छेदार भाषण और डींग हांकी जाती है।”

कांग्रेस के सवाल:

• कहां हैं वह सालाना 2 करोड़ रोजगार?

• आखिर क्यों 60 लाख सरकारी पद केंद्र और राज्य सरकारों में खाली पड़े हैं?

• सबसे ज्यादा रोजगार का सृजन करने वाले छोटे लघु मध्यम उद्योगों के लिए कोई नीति क्यों नहीं?

• आखिर लाख उकसाने और फटकारने के बावजूद नीजी क्षेत्र निवेश क्यों नहीं कर रहा, क्या आपकीनीतियों में भरोसा नहीं है?

• सारा ध्यान हम दो और हमारे दो पर ही केंद्रित रहेगा तो बाकी रोजगार कहां और कौन बनाएगा?

• युवाओं को स्थायी रोजगार देने के बजाय 4 – साल के ठेके पर रखकर 23 वर्ष की आयु में रेटायअरकरने का षड्यंत्र क्यों?

Share.

Leave A Reply


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/wefornewshindi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5275

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home/wefornewshindi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5275