शी जी20 में शामिल नहीं हुए तो चीन पर और शुल्क लगा देंगे ट्रंप | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

शी जी20 में शामिल नहीं हुए तो चीन पर और शुल्क लगा देंगे ट्रंप

Published

on

donald-trump
File Photo

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि अगर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग इस महीने जापान में होने वाले जी20 शिखर सम्मेलन में उनसे मुलाकात नहीं करेंगे तो वह 300 अरब डॉलर मूल्य के चीनी उत्पादों पर आयात शुल्क लगा देंगे।

एफे न्यूज के मुताबिक, ट्रंप ने सीएनबीसी से एक साक्षात्कार में कहा कि अगर शी जी20 सम्मेलन में शामिल नहीं होंगे तो वह चीन पर तत्काल नए कर लगा देंगे।

उन्होंने कहा, “चीन समझौता करना चाहता है। मैं जितना चाहता हूं वे उससे भी अधिक चाहते हैं कि समझौता हो, लेकिन हम देखेंगे कि क्या होती है। चीन समझौता करेगा क्योंकि उन्हें समझौता करना होगा।”

शी के साथ जापान में वार्ता करने के बारे में उन्होंने कहा, “हमारी मुलाकात की उम्मीद है और अगर ऐसा होता है तो ठीक और अगर ऐसा नहीं होता – तो देखिए, हमारे दृष्टिकोण में जो सबसे अच्छा समझौता हो सकता है वह है 600 अरब डॉलर पर 25 प्रतिशत।”

ट्रंप ने कहा, “अगर हमारा समझौता नहीं होता और हम समझौता नहीं करते तो हम आयात शुल्क बढ़ा देंगे।”

ट्रंप ने मई में 200 अरब डॉलर के चीनी उत्पादों पर आयात शुल्क 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 प्रतिशत कर दिया था और जी20 में शी के साथ कोई समझौता नहीं होने की स्थिति में चीन से आयातित अन्य उत्पादों पर भी शुल्क लगाने की धमकी दी थी।

–आईएएनएस

अंतरराष्ट्रीय

इजरायल में कोरोना के 2,445 नए मामले, 12 मौतें

Published

on

Coronavirus

यरूशेलम, 23 सितम्बर (आईएएनएस)। इजरायल के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि देश में मंगलवार को कोरोनावायरस के 2,445 नए मामले सामने आए, जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या 193,374 हो गई।

यहां एक दिन में 12 मौतों के बाद अब तक कोविड-19 से 1,285 मौतें हो चुकी हैं। अभी भी 1,352 मरीजों में से 668 मरीज इस वायरस से गंभीर रूप से बीमार हैं।

इजरायल में 140,751 लोग कोरोनावायरस से उबर चुके हैं, जबकि एक्टिव मामलों की संख्या 51,338 है।

इससे पहले मंगलवार को इजरायल की सरकार ने अर्थव्यवस्था पर महामारी के दुष्प्रभाव को रोकने के लिए एक नई योजना पर मुहर लगाई।

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

दुनिया में संक्रमितों की संख्या 3 करोड़ 17 लाख के पार

Published

on

Coronavirus

दुनियाभर में कोरोना से अबतक पौने दस लाख लोगों की जान जा चुकी है। लेकिन पिछले कुछ दिनों से रिकवर होने वाले मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है।

पिछले 24 घंटे में ठीक होने लोगों की संख्या संक्रमण के नए मामलों से ज्यादा है. कुल एक्टिव केस की संख्या अब घट रही है। पिछले 24 घंटों में दुनिया में 2 लाख 72 हजार नए मामले सामने आए हैं और 2 लाख 77 हजार मरीज ठीक हुए हैं। हालांकि 5 हजार 605 लोगों की जान भी चली गई।

वर्ल्डोमीटर के अनुसार, दुनियाभर में अबतक 3 करोड़ 17 लाख 131 हजार लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। इसमें से 9 लाख 75 हजार (3.06%) लोगों ने अपनी जान गंवा दी है तो वहीं 2 करोड़ 34 लाख (73%) से ज्यादा मरीज ठीक हो चुके हैं। पूरी दुनिया में 74 लाख से ज्यादा एक्टिव केस हैं यानी कि फिलहाल इतने लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है।


अमेरिका, ब्राजील जैसे देशों में कोरोना मामले और मौत के आंकड़ों में कमी आई है। भारत ही एक मात्र देश है जहां कोरोना महामारी सबसे तेजी से बढ़ रही है। हालांकि कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों की लिस्ट में अमेरिका पहले पायदान पर है। यहां अबतक 71 लाख लोग संक्रमण के शिकार हो चुके हैं। अमेरिका में पिछले 24 घंटों में 35 हजार से ज्यादा नए केस आए हैं. वहीं ब्राजील में 24 घंटे में 35 हजार से ज्यादा मामले आए हैं।निया में कोरोना मामलों में नंबर-2 स्थान पर पहुंच चुके भारत में हर दिन सबसे ज्यादा केस सामने आ रहे है।

दुनिया के 23 देशों में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2 लाख के पार पहुंच चुकी है। इनमें ईरान, पाकिस्तान, तुर्की, सउदी अरब, इटली, जर्मनी और बांग्लादेश भी शामिल है। दुनिया में 60 फीसदी लोगों की जान सिर्फ छह देशों में गई है।

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

पुतिन की अपील, चिकित्सा सहयोग में बाधाओं को करें दूर

Published

on

Vladimir Putin

मास्को, 23 सितंबर (आईएएनएस)। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को देशों के बीच चिकित्सा के क्षेत्र में सहयोग करने में आ रही बाधाओं को दूर करने का आह्वान किया।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र महासभा के 75 वें सत्र की सामान्य बहस में पुतिन ने कहा, अर्थव्यवस्था की ही तरह चिकित्सा क्षेत्र में भी हमें सहयोग के दौरान आ रही बाधाओं को दूर करना जरूरी है।

उनके भाषण के क्रेमलिन ट्रांसस्क्रिप्ट के अनुसार, उन्होंने कहा कि कोविड -19 से मुकाबला करने में रूस ने वैश्विक और क्षेत्रीय दोनों ही स्तरों पर योगदान दिया है।

पुतिन ने कहा, ऐसा करने में हम सबसे पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की केंद्रीय समन्वयकारी भूमिका को सबसे ऊपर रखते हैं। इसके साथ ही हम इसे कई गुना मजबूत बनाने को आवश्यक मानते हैं।

उन्होंने आगे कहा, यह काम पहले ही शुरू हो चुका है, और रूस वास्तव में इसमें शामिल होने के लिए प्रेरित है।

पुतिन ने कहा कि महामारी के दौरान, विभिन्न देशों के डॉक्टर, स्वयंसेवक और नागरिक ने पारस्परिक सहायता और समर्थन के उदाहरण पेश और ऐसी एकजुटता ही सीमाओं की रक्षा करती है। इसी तरह कई देशों ने भी नि:स्वार्थ भाव से एक-दूसरे की मदद की।

उन्होंने आगे कहा, हालांकि कुछ ऐसे मामले भी सामने आए, जिनमें मानवता की कमी नजर आई। हम मानते हैं कि संयुक्त राष्ट्र की प्रतिष्ठा बहुपक्षीय और द्विपक्षीय संबंधों में मानवीयता की भूमिका को और बढ़ा सकती है। जैसे लोगों से लोगों का जुड़ाव, यूथ एक्सचेंज प्रोग्राम, सांस्कृतिक संबंध, सामाजिक और शैक्षिक कार्यक्रम, खेल, विज्ञान, प्रौद्योगिकी, पर्यावरण और स्वास्थ्य संरक्षण जैसे कई क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाया जा सकता है।

इस मौके पर राष्ट्रपति ने दोहराया कि रूस ऐसे साझा संबंधों और सहयोग के लिए पूरी तरह तैयार है। उन्होंने कहा, इसी के चलते हम एंटी-कोरोनावायरस वैक्सीन के विकास में सहयोग करने के इच्छुक देशों के लिए जल्द ही एक ऑनलाइन उच्च-स्तरीय सम्मेलन आयोजित कर रहे हैं।

Continue Reading

Most Popular