ब्रसेल्स: आतंकी हमले में घायल हुई निधि चाफेकर लौटीं घर | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

ब्रसेल्स: आतंकी हमले में घायल हुई निधि चाफेकर लौटीं घर

Published

on

ब्रसेल्स

मार्च में ब्रसेल्स हवाई अड्डे पर हुए आतंकवादी हमले में घायल हुई जेट एयरवेज के चालक दल की सदस्य निधि चाफेकर शुक्रवार सुबह मुंबई लौटी।

आतंकी हादसे में निधि की तस्वीर दुनिया भर में वायरल हो गई थी। उनके नाक और चेहरे से खून बह रहा था, यह तस्वीर ब्रसल्ज हमले की ट्रेडमार्क तस्वीर की तरह प्रोयग की गई। जेट एयरवेज ने एक बयान जारी कर कहा कि निधि पूरी तरह ठीक हैं और अपने परिवार के पास वापस लौटकर बहुत खुश हैं। डॉक्टरों के मुताबिक निधि का आगे का ईलाज मुंबई में ही किया जा सकता है।

160323-brussels-attack-mourner-936a_ac08f4757f784c6f1ab4d9fda98e7310.nbcnews-ux-2880-1000

वहीं कंपनी ने यह भी कहा कि इस दौरान जेट एयरवेज की ओर से निधि और उनके परिवार को सभी आवश्यक सहायता प्रदान की जाती रहेंगी। जेट एयरवेज की कर्मचारी निधि चाफेकर मुंबई की रहने वाली हैं और उनरे दो बच्चे हैं। ब्रसेल्स हवाई अड्डे पर हुए आतंकवादी हमले में निधि के शरीर का 15% से ज्यादा हिस्सा जल गया था और एक पैर में भी फ्रेक्चर हो गया था।

गौरतलब है कि 22 मार्च 2016 को ब्रसेलस के जवेंतेम हवाई अड्डे पर हुए आतंकी हमले में 30 से ज्यादा लोग मारे गए थे। इस हमले के बाद घबराई निधि की तस्वीर दिखाई गई थी, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी। बाद में वह तस्वीर हमले का प्रतीक बन गई थी। विस्फोट के बाद निधि के पति मुंबई से पहले पेरिस गए और वहां से सड़क मार्ग से ब्रसेल्स पहुंचे थे। तब से वहां अस्पताल में उनकी केयर पति ही कर रहे थे।

wefornews bureau

अंतरराष्ट्रीय

पाकिस्तान को एफएटीएफ की ओर से ब्लैक लिस्ट नहीं किए जाने की उम्मीद

Published

on

By

Imran Khan Pakistan

इस्लामाबाद, 20 अक्टूबर । मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकी वित्तपोषण की निगरानी रखने वाला फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) पेरिस में 21 से 23 अक्टूबर तक अपनी वर्चुअल प्लेनरी बैठक आयोजित करने के लिए तैयार है। इस बीच पाकिस्तान उम्मीद कर रहा है कि उसे ग्रे सूची से हटाकर काली सूची (ब्लैक लिस्ट) में नहीं डाला जाएगा।

पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जाहिद हफीज चौधरी ने कहा है कि एफएटीएफ एक्शन प्लान 2018 से लागू किया जा रहा है और इस संबंध में महत्वपूर्ण प्रगति हुई है।

उन्होंने कहा, एफएटीएफ की प्रक्रिया चल रही है। पाकिस्तान 2018 से एफएटीएफ एक्शन प्लान को लागू कर रहा है और हमने इस संबंध में महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। हमारे संपूर्ण एएमएल/सीएफटी शासन को एफएटीएफ की ओर से निर्धारित अंतर्राष्ट्रीय मानकों पर लाने के लिए कार्य योजना के अनुपालन में नया रूप दिया गया है।

उन्होंने कहा, पाकिस्तान की ओर से एक बड़े राष्ट्रीय प्रयास के तहत की गई पर्याप्त प्रगति में विधायी, नियामक और परिचालन डोमेन के कदम शामिल हैं।

हालांकि देश की यह तथाकथित प्रगति अभी भी एफएटीएफ की ओर से प्रदान की गई 27-बिंदु कार्य योजना का अनुपालन नहीं करती है। अगर एफएटीएफ की ओर से प्रदान किए गए इन बिंदुओं पर पाकिस्तान जमीनी स्तर पर कार्य नहीं दिखा पाता है तो उसकी ग्रे सूची में बने रहने की आस धूमिल हो जाएगी और वह ब्लैक लिस्ट हो जाएगा।

एफएटीएफ के एशियन पैसिफिक ग्रुप (एपीजी) द्वारा जारी हालिया फॉलो-अप रिपोर्ट (एफयूआर) में पता चला है कि पाकिस्तान कम से कम चार सिफारिशों पर गैर-अनुपालन (एनसी) रहा है। वह मोटे तौर पर अनुपालन (एलसी) पर आठ और आंशिक रूप से अनुपालन (पीसी) पर 28 सिफारिशों पर काम कर पाया है। जबकि एफएटीएफ की कुल 48 सिफारिशों पर उसे जमीनी स्तर पर काम दिखाना है।

एफयूआर एपीजी की म्यूचुअल इवैल्यूएशन रिपोर्ट (एमईआर) का हिस्सा है, जिसकी वार्षिक रिपोर्ट पिछले साल अक्टूबर में जारी की गई थी।

इस्लामाबाद 2018 से ही आतंकी वित्तपोषण और धन शोधन के प्रसार और प्रवाह पर अंकुश न लगा पाने या इसे नहीं रोक पाने पर एफएटीएफ ग्रे की सूची में बना हुआ है। पाकिस्तान को फरवरी में समय सीमा बढ़ाकर एक राहत प्रदान की गई थी और उसे धन शोधन व आतंकी वित्त पोषण मामलों पर निगरानी करने वाले इस 36 देशों की संस्था ने जून तक का समय दे दिया था।

हालांकि नोवेल कोरोनावायरस के प्रकोप के बाद एफएटीएफ की बैठक स्थगित हो गई थी।

इस बीच प्रधानमंत्री इमरान खान के नेतृत्व में पाकिस्तान सरकार ने एफएटीएफ मानकों को पूरा करने के उद्देश्य से अपनी कानूनी प्रणाली से संबंधित कम से कम 14 कानूनों में संशोधन किया है।

पाकिस्तान 2018 से तुर्की, चीन और मलेशिया जैसे देशों से सक्रिय राजनयिक समर्थन के माध्यम से कम से कम दो बार एफएटीएफ ब्लैक लिस्ट में धकेले जाने से बच गया है।

यह उम्मीद की जा रही है कि पाकिस्तान एक बार फिर इन देशों के समर्थन की आस में है। वह एफएटीएफ की कार्ययोजना के अनुपालन के लिए अधिक समय हासिल करने की कोशिश करेगा।

पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता चौधरी ने कहा, एफएटीएफ ने पाकिस्तान की राजनीतिक प्रतिबद्धता और कार्य योजना में कई क्षेत्रों में हुई प्रगति को स्वीकार किया है।

उन्होंने कहा, हम एक्शन प्लान को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं और आगे बढ़ रहे हैं। हम इस प्रक्रिया से जुड़े हुए हैं।

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

अमेरिका के अलास्का में भूकंप

Published

on

Earthquake-Strong-1

अमेरिका के अलास्का प्रांत में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 7.5 मापी गई। भूकंप के झटके इतने तेज थे कि इमारतें हिलने लगीं। वहीं, अब भूकंप के बाद यहां सुनामी की चेतावनी जारी की गई है। 

राष्ट्रीय सुनामी चेतावनी केंद्र ने बताया कि भूकंप का केंद्र 900 लोगों की आबादी वाले शहर सेंड प्वाइंट के करीब था। भूकंप के बाद इस इलाके में दो फीट ऊंची समुद्री लहरें भी उठीं। वहीं, अब केंद्र ने यहां सुनामी की चेतावनी जारी कर दी है। कोरोना की मार झेल रहे अमेरिका के लिए अब सुनामी दोहरी मार की तरह है। 

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

मसूद अजहर और हाफिज पर कार्रवाई का दिखावा कर रहा पाक: एफएटीएफ

Published

on

Imran Khan Pakistan

एफएटीएफ की ओर से पाकिस्‍तान के खिलाफ एक्‍शन की तलवार लटकी हुई है। एक आधिकारिक सूत्र ने बताया कि पाकिस्‍तान एफएटीएफ छह प्रमुख दायित्वों को पूरा करने में नाकाम रहा है।

एफएटीएफ की ओर से पाकिस्‍तान को सौंपे गए इन छह एक्‍शन की-नोट में आतंकी मसूद अहजर और हाफि‍ज सईद के खिलाफ कार्रवाई किया जाना शामिल है। सच्‍चाई यह है कि पाकिस्‍तान इन आतंकी सरगनाओं के खिलाफ ठोस कार्रवाई नहीं कर रहा है।

सूत्र ने बताया कि आधिकारिक सूची से 4,000 से अधिक आतंकियों के नाम गायब होने से काफी संभावना है कि पाकिस्‍तान आने वाले दिनों में भी ‘ग्रे लिस्ट’ में बना रहेगा।

सनद रहे कि वित्तीय कार्रवाई कार्यदल यानी एफएटीएफ से संबद्ध क्षेत्रीय समूह पहले ही साफ कर चुका है कि आतंकी फंडिंग को रोकने के पाकिस्तान के उपाय रेटिंग में बदलाव के लिए बिल्‍कुल भी पर्याप्त नहीं हैं।

बता दें कि एफएटीएफ 21-23 अक्‍टूबर को होने वाली डिजिटल बैठक में पाकिस्तान पर फैसला ले सकता है। इस बैठक में पाकिस्‍तान की ओर से आतंकवाद के खिलाफ उठाए गए कदमों की समीक्षा होगी।

बीते दिनों पाकिस्‍तान अखबार डॉन की रिपोर्ट में कहा गया था कि एशिया प्रशांत समूह (एपीजी) ने पाकिस्तान के परस्पर मूल्यांकन पर पहली फोलो-अप रिपोर्ट में कहा गया है कि आतंकी फंडिंग पर लगाम लगाने के लिए एफएटीएफ की 40 सिफारिशों पर कोई बड़ा काम नहीं हुआ है।

Continue Reading

Most Popular