यक़ीनन, अबकी बार बिहार पर है संविधान बचाने का दारोमदार | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

चुनाव

यक़ीनन, अबकी बार बिहार पर है संविधान बचाने का दारोमदार

Published

on

Election

संघियों का एक ही एजेंडा है कि सांसद और विधानसभाओं को ख़रीदकर या सैद्धान्तिक रूप से ध्वस्त करके भारतीय लोकतंत्र और संविधान को पूरी तरह से संघ का ग़ुलाम बनाना! यही हिन्दू-राष्ट्र की वो परिकल्पना है जिसका ख़्वाब सावरकर और दीनदयाल ने देखा था। हिन्दुत्व की अफ़ीम चाटकर बैठे सवर्ण हिन्दुओं के लिए इसी एजेंडा को ‘काँग्रेस मुक्त भारत’ कहा गया था। लेकिन इसका असली लक्ष्य ‘विपक्ष विहीन भारत’ बनाना ही है! इसे ही ‘संकल्प से सिद्धि’ वाला ‘नया भारत’ कहा गया है। ‘मन की बात’ इसी का राष्ट्रगान है। संसद हो या सड़क, फ़िलहाल पूरी तेज़ी और तत्परता से ‘विपक्ष विहीन भारत’ बनाने का काम चल रहा है।

बिहार के चुनाव के लिए भी सबसे पहले संघ के उस चिरपरिचित हथकंडे को ही अपनाया गया है जिसे TINA (There is no alternative) फ़ैक्टर कहते हैं। फ़र्क़ सिर्फ़ इतना है कि बिहार में नीतीश कुमार को मोदी का मुखौटा बनाकर पेश किया जाएगा। अफ़वाहें फैलायी जा रही हैं कि नीतीश का विकल्प कोई नहीं है। इसके लिए विरोधियों का चरित्र-हरण भी लाज़िमी है। लोकप्रियता के सर्वे करवाये जा रहे हैं ताकि अफ़वाहों को बिहार के लोग वैसा ही ब्रह्म-सत्य मानकर चलें जैसे 1995 में सारी दुनिया में गणेश जी को एक साथ दूध पिलाया गया था!

नैरेटिव बनाया जा रहा है कि वोट को बेकार करने से क्या फ़ायदा! उसे वोट दो, जो जीत रहा हो, वर्ना वोट बेकार हो जाएगा! और जीत तो हम ही रहे हैं क्योंकि हम कह रहे हैं! हमें छोड़कर किसी और को वोट दोगे तो भी सरकार सरकार तो हमारी ही बनेगी, क्योंकि चुनाव के बाद भी चाहे विधायकों को ख़रीदना ही पड़े लेकिन सरकार तो हम ही बनाएँगे। जैसा हमने मध्य प्रदेश, हरियाणा, कर्नाटक, अरुणाचल और गोवा वग़ैरह में करके दिखाया है। इसीलिए ज़रा इन दलीलों पर भी ग़ौर कीजिए कि विकल्प कहाँ है? लालू और काँग्रेस तो कब के उजड़ चुके हैं। इनके विधायक और नेता भी इन्हें छोड़कर भाग रहे हैं! अरे, डूबते जहाज़ पर कौन रहना चाहेगा! काँग्रेस और उसके दोस्तों से उनके ही लोग नहीं सम्भल रहे। वग़ैरह-वग़ैरह…।

अफ़सोस कि सच्चाई इससे लाख गुना ज़्यादा वीभत्स, विकृत और भयावह है! ख़रीद-फ़रोख़्त या ‘आया राम, गया राम’ के लिहाज़ से काँग्रेसियों का दामन भी कोई कम दाग़दार नहीं है। फ़र्क़ सिर्फ़ इतना है कि संघी इस काम को कहीं ज़्यादा दबंगई से अंज़ाम देते हैं। जो इनके आगे झुकता नहीं, मुँह माँगे दाम पर भी झुकता नहीं, उसकी कनपटी पर भी CBI, ED, Income Tax, NIA जैसे संस्थाओं को पिस्तौल बनाकर तान दिया जाता है, ताकि वो भी इशारे पर नाचकर दिखाएँ। आख़िर, किसानों और श्रमिकों से जुड़े क़ानूनों को अभी संसद ने जिस ढंग से पारित किया है, उसका निहितार्थ कुछ भी और कैसे हो सकता है?

यदि आपको ये बातें कपोल-कल्पना लगे तो भी गाँठ बाँध लीजिए कि संघियों को नियम-क़ायदों, क़ानून-संविधान, हाईकोर्ट-सुप्रीम कोर्ट, चुनाव आयोग-संसद किसी की परवाह नहीं है! गोरक्षकों और दिल्ली के दंगाईयों के रूप में दिखे इनके उन्मादी चेहरे क्या ये नहीं बताते कि इन्हें किसी भी चीज़ का डर या लिहाज़ नहीं है। इनके सारे मुद्दों और चिन्तन में सिर्फ़ ‘ज़बरन’ तत्व की भरमार है।

अनुच्छेद 370 को ख़त्म करो, क्योंकि हम कह रहे हैं! अनुच्छेद 35A को ख़त्म करो, क्योंकि हम कह रहे हैं! तीन तलाक़ को ख़त्म करो, क्योंकि हम कह रहे हैं! समान नागरिक संहिता को लागू करो, क्योंकि हम कह रहे हैं! इतिहास में वो परिवर्तन करो जो हम कह रहे हैं। लिखो कि टीपू, देशद्रोही था! लिखो कि अकबर ने महाराणा के क़दमों में गिरकर रहम की भीख़ माँगी थी, क्योंकि हम कह रहे हैं! सारे विपक्षी नेताओं को भ्रष्ट समझो, क्योंकि हम कह रहे हैं! उन पर तरह-तरह की छापेमारी वाला सर्ज़िकल हमला करो, क्योंकि हम कह रहे हैं! राम मन्दिर फ़ौरन बनाओ, क्योंकि हम कह रहे हैं! स्वीकार करो कि बिहार में सुशासन ही है, क्योंकि हम कह रहे हैं! मानो कि बंगाल में क़ानून-व्यवस्था का राज ख़त्म हो गया है, क्योंकि हम कह रहे हैं!

यक़ीन करो कि लद्दाख में कोई घुसपैठ नहीं है और कश्मीर में शान्ति और ख़ुशहाली बढ़ रही है, क्योंकि हम कह रहे हैं! यक़ीन करो कि दुनिया में भारतीय अर्थव्यवस्था का डंका बज रहा है, क्योंकि हम कह रहे हैं! ख़बरदार, जो किसी ने नोटबन्दी, GST, बेरोज़गारी, धार्मिक उन्माद में इज़ाफ़े की आलोचना की तो उसकी ज़ुबान खींच ली जाएगी। क्योंकि विष्णु अवतार के रूप में अवतरित हुए और विश्व के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों में शामिल विश्व-गुरु के बारे में कुछ भी और सोचना ईश-निन्दा और देशद्रोह के समान है, क्योंकि हम कह रहे हैं!

ऐसी असंख्य बातें हैं। ये तभी मुमकिन हुआ है, जब आपको पता हो कि सब कुछ बिकाऊ है! आपको तो सिर्फ़ गाँठ में रुपये रखकर बाज़ार में कूदना है और जिस सामान पर जी आ जाए, उसकी बोली लगा देना है! आपने तमाम धन्ना सेठों को भी अपनी अंटी में दबा रखा है! वो भी आपको सर्वशक्तिमान मानकर आपके ग़ुलाम हो चुके हैं। इन्हें भी पता है कि अगर इन्होंने आपकी ग़ुलामी से ना-नुकुर की तो इन्हें भी विपक्ष पार्टियों और आलोचकों की तरह नेस्तनाबूद कर दिया जाएगा! धन्ना सेठों में भी जो दबंग और दूरदर्शी हैं उन्होंने मोदी राज की क़ीमत लगाकर इसे अपना लठैत बनाकर पाल लिया है।

इसीलिए, लोकतंत्र में विधायकों-सांसदों और यहाँ तक कि पार्टियों की ख़रीद-फ़रोख़्त या दलबदल को अति-अनिष्टकारी मानना चाहिए। ज़रा सोचिए कि क्या हमारे सांसदों-विधायकों की औक़ात अपनी पार्टियों के ऐसे कर्मचारियों की तरह हो सकती है जो आज एक कम्पनी से इस्तीफ़ा दे और कल दूसरी कम्पनी का मुलाज़िम बन जाए? नेता पार्टी बदलना चाहें तो बदलें लेकिन उन्हें ऐसा होना चाहिए कि आज टाटा के कर्मचारी हैं तो कल से रिलायंस के हो जाए और परसों अडानी चाहें तो ज़्यादा रुपये देकर उसे अपना कारिन्दा बना लें! राजनीति में ऐसा काम कोई भी करे, किसी के लिए भी किया जाए, लोकतंत्र के लिए ये तो हर तरह से महाविनाशकारी ही है!

यहाँ एक ‘जियो’ यदि मुफ़्तख़ोरी करवाकर सारे टेलीकॉम बाज़ार को तहस-नहस कर सकता है तो सोचिए कि नेताओं की मंडी में उनकी नीलामी का क्या-क्या हश्र हो सकता है? अभी यही काम धड़ल्ले से हो रहा है! इन्हीं तथ्यों को देखते हुए किसानों में उबाल आया हुआ है। सरकार की नीयत में यदि खोट नहीं है तो ये एलान क्यों नहीं कर देती कि कृषि उपज को सरकारी मंडी में बेचा जाए या कहीं और, लेकिन न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम कीमत पर ख़रीद-बिक्री ग़ैर-क़ानूनी होगी, अपराध होगी।

ये नीयत में खोट नहीं तो और क्या है कि 2015 में जिस बिहार की जनता ने बीजेपी को नकार दिया था, उसे नये चुनाव के बग़ैर नीतीश कुमार ने कैसे जनादेशधारी बनाने की हिम्मत दिखा दी! वैसे यही काम महाराष्ट्र में शिवसेना ने किया। ज़ाहिर हैं, ये करें या वो, है तो ये घोर अन्धेर ही, जनादेश से धोखा ही। याद रखिए, 2015 में मुद्दा ये नहीं था कि लालू, बढ़िया हैं या घटिया? भ्रष्ट हैं या नहीं? जबकि 2017 में मुद्दा ये था कि चुनाव पूर्व बने जिस गठबन्धन को जनादेश मिला था, यदि वो चलने लायक नहीं बचा तो नीतीश को फिर से जनादेश लेना चाहिए था या नहीं? महाराष्ट्र की जनता वक़्त आने पर इस सवाल का जवाब भी तय करेगी, लेकिन अभी तो बारी बिहार की है।

बिहारियों को तय करना होगा कि वो संविधान के हत्यारों के साथ क्या सलूक करना चाहेंगे! क्या जनता पर चुनाव का बोझ नहीं थोपने की आड़ में जनादेश और संविधान की धज़्ज़ियाँ उड़ायी जा सकती हैं? वैसे संविधान के संरक्षक सुप्रीम कोर्ट को इस मामले में स्वतः संज्ञान लेना चाहिए। उसे किसी याचिका की ज़रूरत भी नहीं होनी चाहिए थी, लेकिन दुर्भाग्यवश संघियों ने इस संरक्षक को भी ज़िन्दा कहाँ छोड़ा है!

तीन तलाक़ की तर्ज़ बीजेपी और एनडीए ने नाता तोड़ने वाली शिरोमणि अकाली दल ने भी अभी वही काम किया है जो शिवसेना ज़रा पहले कर चुकी है कि मौजूदा एनडीए वाजपेयी-आडवाणी के ज़माने वाला नहीं है। नीतीश कुमार भी जब 2015 में बीजेपी से दामन छुड़ाकर भागे थे तब भी यही ‘नैरेटिव’ यानी धारणा बनायी गयी थी। हालाँकि, नये-पुराने एनडीए की बातें विशुद्ध भ्रम हैं। राजनीतिक फ़रेब है। दरअसल, वो भी संघ का सत्ता-काल था और ये भी संघ का ही सत्ता-युग है। वाजपेयी-आडवाणी की तरह ही नरेन्द्र मोदी और अमित शाह की हैसियत भी संघ के मुखौटों जैसी ही है।

क्या राजनीति में बड़े से बड़े नेता के बयान की कोई गरिमा, कोई प्रतिष्ठा नहीं होनी चाहिए? कल आपने जो कहा था क्या आज आप उसका बिल्कुल उल्टा करने लगेंगे? और, क्या जनता को चुपचाप पाँच साल तक सिर्फ़ और सिर्फ़ तमाशा ही देखना पड़ेगा? ये अतिवाद की दशा है, जो देर-सबेर हमें अराजकता और गृह युद्ध के दलदल में ढकेलकर ही मानेगी। नैतिकता और लोकलाज़ विहीन राजनीति का अपनी सीमाओं को तोड़कर बाहर निकल जाना, देश के लिए किसी परमाणु हमले से भी ज़्यादा विनाशकारी और भयावह है! अरे, जब संविधान ही नहीं बचेगा तो भारत कहाँ होगा!

Mukesh Kumar Singh मुकेश कुमार सिंह वरिष्ठ पत्रकार
Mukesh Kumar Singh
मुकेश कुमार सिंह वरिष्ठ पत्रकार
(लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। ये उनके निजी विचार हैं।)

चुनाव

हरियाणा नगर निगम चुनाव की घोषणा , 27 दिसंबर को मतदान और 30 को मतगणना

Published

on

हरियाणा में नगर निगम चुनाव की रणभेरी बज गई है। तीन नगर निगमों के लिए 27 दिसंबर को मतदान होगा। इसके अलावा रेवाड़ी नगर परिषद के अलावा नगरपालिका सांपला, धारूहेड़ा, उकलाना में उपचुनाव भी होंगे। मतगणना 30 को होगी। 

चंडीगढ़ स्थित हरियाणा निवास में राज्य चुनाव आयुक्त दलीप सिंह ने बताया कि 27 दिसंबर को सोनीपत, अंबाला और पंचकूला नगर निगम के लिए मतदान होगा। इसके अलावा रेवाड़ी नगर परिषद के अलावा नगरपालिका सांपला, धारूहेड़ा, उकलाना में उपचुनाव भी होंगे। पांच नगरपालिका के वार्डों में उपचुनाव भी होंगे। 

राज्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि 4 दिसंबर को डीसी चुनाव अधिसूचना जारी करेंगे। 11 दिसंबर से 16 दिसंबर तक नामांकन दाखिल किए जाएंगे। मतदान का समय सुबह 8 बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक रहेगा। मतगणना सुबह 8 बजे से शुरू होगी।  चुनाव आयुक्त ने कहा कि आचार संहिता केवल निगम, परिषद व पालिका क्षेत्र में ही लगेगी, पूरे जिले या खंड में नहीं। अंबाला, पंचकूला और सोनीपत नगर निगम में 20-20 वार्ड हैं। 

पंचकूला नगर निगम में ऑनलाइन नामांकन की भी सुविधा मिलेगी। प्रत्याशी राज्य चुनाव आयोग की वेबसाइट पर पर्चा दाखिल कर सकेंगे।  अगर कोई ऑनलाइन पर्चा दाखिल नहीं करना चाहता तो भौतिक तौर पर पर्चा जमा करा सकता है। पंचकूला नगर निगम में यह ट्रायल  किया जा रहा है। अगर यह सफल रहा तो भविष्य में निकाय, पंचायती राज चुनाव में ऑनलाइन नामांकन अनिवार्य किया जाएगा

Continue Reading

चुनाव

मप्र : कांग्रेस नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव में नई पीढ़ी पर लगाएगी दांव

पार्टी सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस ने नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है, इसके लिए निचले स्तर के कार्यकतार्ओं और संगठन के पदाधिकारियों से संवाद किए जाने के साथ साथ उनसे जमीनी हालात की रिपोर्ट भी मनाई जा रही है।

Published

on

By

Congress Senior leader and former Madhya Pradesh Chief Minister Digvijay Singh

भोपाल, 2 दिसंबर । मध्यप्रदेश में विधानसभा के उपचुनाव में मिली हार के बाद कांग्रेस नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव की तैयारी में जुट गई है। पार्टी इन चुनावों में नए चेहरों और नई पीढ़ी पर दांव लगाने का मन बना रही है, ताकि संगठन को भी मजबूत किया जा सके।

राज्य में उप-चुनाव में मिली हार की बड़ी वजह संगठन की कमजोरी को माना जा रहा है और यही कारण है कि पार्टी निचले स्तर पर मजबूती के लिए रणनीति बना रही है। उसके लिए इस मजबूती का आधार नगरीय निकाय और पंचायत के चुनाव बन सकते हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी यह बात कह चुके हैं कि नई कांग्रेस का निर्माण कैसे किया जाए, इस पर विचार किया जा रहा है। जरूरी है, इसके लिए नए लोगों को मौका दिया जाए। नगर पालिका और नगर पंचायत के चुनाव आने वाले हैं और इन चुनावों में नई पीढ़ी को मौका दिया जाए।

दिग्विजय सिंह के इस बयान के बड़े मायने निकाले जा रहे हैं और माना जा रहा है कि कांग्रेस अपने को बदलना चाहती है और युवा पीढ़ी को आगे लाने की तैयारी में है। ऐसा होने पर संगठन को मजबूत किया जा सकेगा और भाजपा के खिलाफ लड़ाई लड़ी जा सकेगी। वहीं दूसरी ओर कुछ लोगों का मानना है कि इस रणनीति के पीछे बुजुर्गों को कांग्रेस की सियासत से दूर करने की भी योजना है।

पार्टी सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस ने नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है, इसके लिए निचले स्तर के कार्यकतार्ओं और संगठन के पदाधिकारियों से संवाद किए जाने के साथ साथ उनसे जमीनी हालात की रिपोर्ट भी मनाई जा रही है।

राजनीतिक विश्लेषक शिव अनुराग पटेरिया का कहना है कि कांग्रेस का विरोधी दल यानि कि भाजपा परिवर्तन के दौर से गुजर रही है लेकिन भाजपा और कांग्रेस के वर्ग चरित्र में बड़ा अंतर है। कांग्रेस ने अगर अपने नेताओं को खोया तो वह कहीं की भी नहीं रहेगी, यह बात कांग्रेस के राज्यसभा सांसद विवेक तंखा ने भी कही है। तन्खा ने कहा है कि कमलनाथ, दिग्विजय सिंह और सुरेश पचौरी के बगैर कांग्रेस की कल्पना नहीं की जा सकती, इसका आशय है कि कांग्रेस के अंदर भी द्वंद्व है, पीढ़ी परिवर्तन को लेकर, पीढ़ी परिवर्तन हो या ना हो या दोनों में संतुलन बनाकर रखा जाए।

Continue Reading

चुनाव

भाजपा ने जम्मू-कश्मीर के एसएमसी-डीडीसी चुनावों में की धांधलीः महबूबा

Published

on

Mehbooba Mufti

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने भारतीय जनता पार्टी पर (भाजपा) पर श्रीनगर नगर निगम (SMC) तथा जिला विकास परिषद (DDC) चुनावों में धांधली करने का आरोप लगाया है।

महबूबा मुफ्ती ने कहा कि चुनाव आयोग इस तरह के भ्रष्टाचार की कब तक अनदेखी करेगा। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने कहा कि श्रीनगर में जिस दिन एसएमसी के लिए मतदान हो रहा था उस दिन पार्टी के वरिष्ठ नेता राउफ भट्ट को हिरासत में ले लिया गया था।

उन्होंने कहा, “जिस तरह से केंद्र सरकार ने लोकतंत्र को कुचला है, उसने मुझे मुझे पिछले दिनों चुनावों में हुयी धांधली की यादें ताजी कर दी हैं, जो जम्मू-कश्मीर में अशांति का एक कारण है।”

उन्होंने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर लिखा, “पीडीपी के वरिष्ठ नेता राउफ भट को श्रीनगर में एसएमसी के मतदान वाले दिन हिरासत में ले लिया गया था। जिस तरह से केंद्र सरकार ने लोकतंत्र को कुचला है, उसने मुझे मुझे पिछले दिनों चुनावों में हुयी धांधली की यादें ताजी कर दी हैं, जो जम्मू-कश्मीर में अशांति का एक कारण है। चुनाव आयोग कब तक इस तरह के भ्रष्टाचारों की अनदेखी करेगा। ”

उन्होंने कहा, “2002 में भाजपा के वाजपेयी जी ने जम्मू-कश्मीर में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव का वादा किया। लेकिन 2020 में नगरपालिका से लेकर डीडीसी तक हर चुनाव में हेराफेरी और धांधली सुनिश्चित करने के लिए भाजपा बहुत ही आगे बढ़ रही है।”

Continue Reading
Advertisement
Sadhvi Pragya Thakur
राष्ट्रीय19 hours ago

मालेगांव ब्लास्ट केस : साध्वी प्रज्ञा समेत चार आरोपी अदालत में पेश नहीं हुए

NCP leader Nawab Malik
राजनीति19 hours ago

कांग्रेस के बाद अब एनसीपी नेता ने संसद का सत्र बुलाने की मांग की

parkash-singh-badal
अन्य20 hours ago

कृषि कानूनों के खिलाफ पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल ने लौटाया पद्मभूषण

राष्ट्रीय21 hours ago

कैप्टन अमरिंदर सिंह और गृह मंत्री अमित शाह के बीच बैठक शुरू

Farmers on Protest
राष्ट्रीय23 hours ago

मंत्रियों के साथ बैठक में किसान संगठनों ने की लिखित में मांग, तीनों कानून वापस हो

चुनाव23 hours ago

हरियाणा नगर निगम चुनाव की घोषणा , 27 दिसंबर को मतदान और 30 को मतगणना

delhi high court
राष्ट्रीय23 hours ago

दिल्ली में फिलहाल नहीं लगेगा नाइट कर्फ्यू, हाईकोर्ट में बोली केजरीवाल सरकार

Corona Vaccine
अंतरराष्ट्रीय23 hours ago

संगठित अपराधों का निशाना बन सकते हैं कोविड-19 के टीके : इंटरपोल का अलर्ट

Rajinikanth
राजनीति1 day ago

31 दिसंबर को पार्टी का एलान करेंगे रजनीकांत

Rahul Gandhi
राजनीति1 day ago

कोविड टीके के मुद्दे पर क्या है पीएम मोदी का स्टैंड : राहुल

Bihar Election Results
चुनाव3 weeks ago

“अबकी बार किसका बिहार?”, ये 12 सीटें जिन पर होंगी सबकी नजर

shivraj-scindia-kamal-Nath
चुनाव3 weeks ago

मध्य प्रदेश उपचुनाव: सिंधिया की बगावत बचाएगी शिवराज सरकार या फिर कमलनाथ की खुलेगी किस्मत, फैसला आज

Hacker
अंतरराष्ट्रीय3 weeks ago

रूसी, उ. कोरियाई हैकर्स ने भारत में कोविड वैक्सीन निर्माता को बनाया निशाना

rohit sharma-virat kohli
खेल4 weeks ago

ICC ODI rankings: विराट कोहली और रोहित शर्मा शीर्ष दो स्थान पर बरकरार

मनोरंजन4 weeks ago

ड्रग्स मामले: NCB के दफ्तर पहुंचीं दीपिका पादुकोण की मैनेजर करिश्मा

Corona Vaccine
राष्ट्रीय4 weeks ago

आम लोगों को 2022 तक करना होगा कोरोना वैक्सीन का इंतजार: एम्स डायरेक्टर डॉ गुलेरिया

खेल4 weeks ago

आईपीएल-13 : दिल्ली ने टॉस जीतकर गेंदबाजी चुनी

मनोरंजन4 weeks ago

ड्रग्स केस में NCB ने अभिनेता अर्जुन रामपाल को भेजा समन

Kamal Haasan-
मनोरंजन4 weeks ago

2021 में विधानसभा चुनाव लड़ूंगा : कमल हासन

मनोरंजन4 weeks ago

एक्टर फराज खान का 46 साल की उम्र में निधन

Viral Video Tere Ishq Me
Viral सच4 days ago

प्यार में युवती को मिला धोखा तो प्रेमी के घर के सामने डीजे लगाकर ‘तेरे इश्क में नाचेंगे’ पर जमकर किया डांस, देखें Viral Video

Faisal Patel
राजनीति1 week ago

फैसल पटेल ने पिता Ahmed Patel की याद में भावनात्मक वीडियो शेयर कर जताया शोक

8 suspended Rajya Sabha MPs
राजनीति2 months ago

रात में भी संसद परिसर में डटे सस्पेंड किए गए विपक्षी सांसद, गाते रहे गाना

Ahmed Patel Rajya Sabha Online Education
राष्ट्रीय3 months ago

ऑनलाइन कक्षाओं के लिए गरीब छात्रों को सरकार दे वित्तीय मदद : अहमद पटेल

Sukhwinder-Singh-
मनोरंजन4 months ago

सुखविंदर की नई गीत, स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश को समर्पित

Modi Independence Speech
राष्ट्रीय4 months ago

Protected: 74वें स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी का भाषण, कहा अगले साल मनाएंगे महापर्व

राष्ट्रीय4 months ago

उत्तराखंड में ITBP कैम्‍प के पास भूस्‍खलन, देखें वीडियो

Kapil Sibal
राजनीति6 months ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय7 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर8 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

Most Popular