नीतीश को निपटाने के लिए बीजेपी ने अपनी दो टीमें मैदान में उतारीं | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

चुनाव

नीतीश को निपटाने के लिए बीजेपी ने अपनी दो टीमें मैदान में उतारीं

Published

on

Nitish Modi

अंक और गिनती से पनपी गणित की दर्ज़नों शाखाएँ हैं। अंकगणित, बीजगणित, ज्यामिति वग़ैरह से तो सभी परिचित हैं। गणित विज्ञान है। विज्ञान की तरह गणित के भी नियम और सिद्धान्त अकाट्य होते हैं। तभी तो पूरे ब्रह्मांड में हर जगह दो और दो, चार ही होता है। लेकिन ‘सियासी-गणित’ ऐसी विचित्र विधा है जिसमें ‘चार’ कभी ‘साढ़े तीन’ बन जाता है तो कभी ‘साढ़े चार’। मज़ेदार तो ये है कि दुनिया भर में ‘राजनीति-विज्ञान’ ऐसे ही बेतुके नियमों से चलती है। इसीलिए पुराने तज़ुर्बों की बदौलत राजनीतिक प्रेक्षक भी तमाम तिकड़मों की समीक्षा करते हैं।

अभी बिहार की राजनीति सबसे मौजूँ है। वहाँ सियासी बिसात पर सभी ख़ेमे भीतरघाती चालें ही चल रहे हैं। इसने घाट-घाट का पानी पीये नीतीश कुमार की दशा ‘पानी में मीन प्यासी’ वाली बना दी है। ऐन चुनावी बेला पर ‘कुर्सी कुमार’ के नाम से धन्य नीतीश बाबू की आँखों में धूल झोंककर किरकिरी पैदा करने का काम जहाँ प्रत्यक्ष में ‘मौसम विज्ञानी’ राम विलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी कर रही है तो परोक्ष रूप से इसे बीजेपी का आला नेतृत्व इसे हवा दे रहा है। सभी नाज़ुक वक़्त का फ़ायदा उठाने की फ़िराक़ में हैं।

बिहार के चुनावी महाभारत में चिराग़ पासवान में उस अर्जुन का चेहरा दिख रहा है जो शिखंडी की तरह बाग़ियों और दलबदलुओं के पीछे छिपकर नीतीश जैसे भीष्म को निपटाने के लिए आतुर है। फ़र्क़ इतना है कि कुरुक्षेत्र में भीष्म ने ख़ुद ही शिखंडी का नुस्ख़ा बताया था जबकि बिहार में बीजेपी ने इतिहास से सबक सीखने की रणनीति बनायी है। इसी रणनीति के तहत महीनों से अधिक सीटों के नाम पर शुरू हुई खींचतान ने ‘दो-एनडीए’ पैदा कर दिये हैं। दोनों एनडीए असली हैं क्योंकि दोनों में बीजेपी मौजूद है।

दरअसल, बीजेपी ने ख़ुद को टीम-ए और टीम-बी में बाँट लिया है। टीम-ए में बीजेपी के साथ औपचारिक तौर पर नीतीश हैं तो टीम-बी में अनौपचारिक तौर पर चिराग़। कृष्ण की तरह मोदी-शाह ने अपनी सेना तो कौरव रूपी नीतीश तो दे दी है, लेकिन ख़ुद युद्ध नहीं करने का संकल्प लेकर चिराग़ रूपी पाँडवों के साथ हैं। संघ के खाँटी नेताओं या कार्यकर्ताओं का बीजेपी के ‘कमल’ को डंके की चोट में हाथ में थामे रखकर चिराग़ की ‘झोंपड़ी’ में जाना अनायास नहीं है। टिकट तो बस बहाना है। बग़ावत छलावा है। मक़सद तो मौक़ा पाकर नीतीश को ठिकाने लगाना है।

बीजेपी ने चिराग़ के चुनाव-चिन्ह की बदौलत चोर दरवाज़े से नीतीश के मुक़ाबले अपने ज़्यादा उम्मीदवारों को मैदान में उतारने का खेल खेला है। इसीलिए चिराग़ के पास जाकर टिकट पाने वाले संघी नेता बहुत गर्व से कहते हैं कि उन्होंने घर बदला है, विचारधारा या संस्कार नहीं है। ये ‘दोस्ताना मुक़ाबले’ का सबसे शानदार फ़रेब है कि विरोधी ख़ेमे में भी अपने ही उम्मीदवार मौजूद हों। यानी, ‘ये’ जीते या ‘वो’, संख्या तो अपनी ही बढ़ेगी। फिर भी यदि कसर रह जाएगी तो चुनाव के बाद जनता दल यूनाइटेड में वैसी ही तोड़-फोड़ क्यों नहीं होगी, जैसे हम अनेक मौकों पर देख चुके हैं। विधायकों की मंडी लगाना बीजेपी के लिए बायें हाथ का खेल है।

लिहाज़ा, ये चिराग़ का सियासी ढोंग या पैंतरा नहीं तो फिर और क्या है कि हम मोदी के साथ तो हैं लेकिन मोदी जिसके साथ हैं उसके साथ नहीं हैं। ये फ़रेब नहीं तो फिर और क्या है कि ‘नीतीश की ख़ैर नहीं, मोदी से बैर नहीं’? अकाली, शिवसेना और तेलगू देशम् ने एनडीए और बीजेपी से नाता तोड़ा तो सत्ता की मलाई खाने के लिए मोदी की गोदी में ही नहीं बैठे रहे। लेकिन पासवान ऐसे नहीं हैं। उन्हें भी नीतीश की तरह जीने के लिए सत्ता की संजीवनी चाहिए ही। नीतीश-पासवान, दोनों ही इस पाखंड की गिरफ़्त हैं कि उनकी दोस्ती सिर्फ़ बीजेपी से है। हालाँकि, राज्यसभा की सीट लेने के लिए पासवान ने थोड़ी देर के लिए नीतीश को दोस्त मानने में ही अपना स्वार्थ देखा।

ज़ाहिर है, बीजेपी भी साफ़-साफ़ बोलकर तो नीतीश को ठिकाने लगाएगी नहीं, इसीलिए महीनों से बयान जारी होते आये हैं कि मुख्यमंत्री का चेहरा वही रहेंगे। चिराग़ ने नीतीश के उम्मीदवारों के ख़िलाफ़ अगड़ी जाति के लोगों को टिकट देने की रणनीति बनायी है। ताकि अगड़ी जाति वाले बीजेपी के वोट नीतीश के उम्मीदवारों को नहीं मिले। इस तरह, चिराग़ के उम्मीदवार यदि नहीं भी जीतें तो नीतीश के लिए वोट-कटुआ तो बन ही जाएँ। उधर, बीजेपी के कोटे वाली सीटों पर नीतीश के वोटरों के लिए कमल की अनदेखी करना सम्भव नहीं होगा। गठबन्धन की वजह से नीतीश के समर्थकों को भी बीजेपी को वोट देना ही पड़ेगा।

लगता है कि बीजेपी और एलजेपी की रणनीति है कि ‘सुशासन बाबू’ को सही वक़्त पर उनके उसी हथकंडे से ठिकाने लगाया जाए जिससे 2015 में उन्होंने पहले 17 साल पुराने दोस्त बीजेपी को और फिर 2017 में महागठबन्धन को गच्चा दिया था। इसीलिए अबकी बिहार चुनाव का सबसे दिलचस्प सवाल ये बन गया कि अव्वल दर्ज़े के ‘गच्चेबाज़’ और अव्वल दर्ज़े के ‘सौदागार’ में से बाज़ी कौन मारेगा? नीतीश बाबू यदि ‘पलटी-मार’ हैं तो बीजेपी भी उनसे कतई कम नहीं है। इसके मौजूदा कर्णधारों को विधायकों को ख़रीदने, राज्यपालों से मनमर्ज़ी फ़ैसले करवाने और मुक़दमों-छापों के ज़रिये विरोधियों का चरित्रहनन करके अन्ततः सत्ता हथियाने में महारत हासिल है।

ऐसा नहीं है कि नीतीश को ये खेल समझ में नहीं आ रहा है। उनके पास दोस्तों के पीठ या सीने में छुरा भोंकने का इतना तज़ुर्बा है कि उन्होंने उड़ती चिड़िया के पंख गिन लिये। नीतीश को साफ़ दिख रहा है चिराग़ की पार्टी से बीजेपी के बाग़ी नहीं बल्कि सिपाही पा रहे हैं टिकट। कई महीने से नीतीश बारम्बार बीजेपी को आगाह करते रहे कि पासवान को सेट कीजिए। बीजेपी उन्हें तरह-तरह से गच्चा देती रही ताकि वक़्त निकलता चला जाए। अन्त में, नीतीश को चक्रव्यूह में फँसाने के लिए चिराग़ से नौटंकी करवायी गयी। ख़ुद को चक्रव्यूह में घिरा पाकर नीतीश ने सख़्त नाराज़गी जतायी तो ‘सियासी-मरहम’ लगाते हुए बीजेपी ने साझा प्रेस कांफ्रेंस के दौरान 44 सेकेंड में 5 बार नीतीश के नेतृत्व में आस्था जता दी।

‘डैमेज़ कंट्रोल’ के नाम पर कहा गया कि मोदी के नाम पर चिराग़ वोट नहीं मान सकते। फ़िलहाल, मोदी का ‘कॉपीराइट’ नीतीश के पास है। चिराग़ पर अपनी पार्टी के बैनर-पोस्टर में बीजेपी के नेताओं के इस्तेमाल पर भी रोक लगा दी गयी। लेकिन एलजेपी को एनडीए से बाहर नहीं किया गया। क्योंकि चिराग़ जो कुछ भी करते रहे हैं उसकी रणनीति तो बीजेपी ने बनायी है। एकलव्य की तरह चिराग़ भी मोदी को ही द्रोणाचार्य बता रहे हैं तो बीजेपी कह रही है कि वो गुरु-दक्षिणा में अंगूठा नहीं माँग सकती, क्योंकि ये द्वापर नहीं बल्कि घोर-कलियुग है। लीपा-पोती की ख़ातिर ये एलान ज़रूर हो गया कि चुनाव के बाद चाहे नीतीश की सीटें कम भी रह जाएँ लेकिन मुख्यमंत्री पद के दावेदार वही रहेंगे।

बीजेपी की ऐसी ‘राजनीतिक प्रतिज्ञाओं’ पर जिन्हें यक़ीन हो उन्हें भी शातिर ही मानना चाहिए। नीतीश हों या पासवान या संघ के मोदी-शाह, सबका रिकॉर्ड दग़ाबाज़ियों से भरपूर रहा है। मौजूदा दौर की राजनीति में तमाम जाने-पहचाने दस्तूर हैं। चाल-चरित्र-चेहरा तो कब का बेमानी हो चुका है। यहाँ कोई किसी का सगा नहीं। येन-केन-प्रकारेण सबको सत्ता, कुर्सी और ओहदा चाहिए। राजनीति में जनहित की बारी आत्महित के बाद ही आती है। जनता लाख छटपटाये लेकिन उसे इसी भंवर या दलदल में जीना पड़ता है।

यही भंवर फ़िलहाल, बिहार में सियासी बवंडर बना हुआ है। अभी वहाँ भीतरघातियों और दलबदलुओं का बाज़ार उफ़ान पर है। वहाँ टिकटों के बँटवारे की अन्तिम घड़ी तक सभी नेता, पार्टियाँ और गठबन्धन एक-दूसरे को लूट-ख़सोटने पर लगे हैं। राजनीति में इन लुटेरों को बाग़ी भी कहते हैं। आपराधिक छवि या पृष्ठभूमि वाले नेताओं की तरह बाग़ियों का ख़ानदान भी हर पार्टी में मौजूद है। सभी ने बग़ावत, दग़ाबाज़ी और भीतरघात के संस्कार अपने आला-नेताओं से ही सीखें हैं।

चुनाव

बिहार : आयकर अधिकारी पहुंचे कांग्रेस दफ्तर, गोहिल भड़के

Published

on

By

Shaktisinh Gohil

पटना, 22 अक्टूबर । बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय में गुरुवार को आयकर विभाग के अधिकारियों ने छापेमारी की। इस दौरान एक वाहन से करीब आठ लाख रुपये बरामद होने की सूचना है।

आयकर विभाग के सूत्रों के मुताबिक, शुक्रवार की शाम कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय में छापेमारी की गई। विभाग के अधिकारियों ने यहां एक कार से करीब आठ लाख रुपये बरामद किए हैं। विभाग के अधिकारी कांग्रेस के नेताओं से पूछताछ की है तथा वहां एक नोटिस चिपकाया गया है।

इस विषय में हालांकि आयकर विभाग के अधिकारियों ने कोई अधिकारिक बयान नहीं आया है।

इधर, प्रदेश कार्यालय में मौजूद कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने कहा कि मौजूदा सरकार को हार दिख रही है, इसलिए बौखलाहट में ये सब हथकंडे अपनाए जा रहे हैं।

उन्होंने इसे परेशान करने की कार्रवाई बताते हुए कहा, “कोई कितना भी परेशान करे, कोई फर्क नहीं पड़ेगा। राहुल गांधी के कार्यक्रम के एक दिन पहले कांग्रेस मुख्यालय पर छापा क्यों डाला गया, पब्लिक सब जानती है। कार्यक्रम होगा और बहुत सफल होगा। ”

उन्होंने कहा, “गाड़ी से 8 लाख रुपया निकलता है तो मुझे उससे क्या लेना-देना है?”

–आईएएनएस

Continue Reading

चुनाव

Bihar polls 2020: बिहार में वादों की बारिश, जानें कौन सी पार्टी ने कितनी नौकरियां देने का किया वादा

आज यानी 22 अक्टूबर 2020, गुरुवार को केन्द्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण ने पटना में भाजपा के ‘5 सूत्र, एक लक्ष्य, 11 संकल्प’ के विजन डाक्‍यूमेंट को जारी किया। बता दें कि इस घोषणा पत्र में बीजेपी ने 19 लाख युवाओं को रोजगार देने का वादा किया है।

Published

on

Election

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Election 2020) को शुरू होने में बस कुछ ही दिन बाकी है। ऐस में पार्टियों के वादों का समय आ गया है। हर पार्टियां अपना अपना घोषणापत्र जारी कर रही हैं। राजद (RJD) और कांग्रेस (Congress) पार्टी ने जहां बिहार के 10-10 लाख युवाओं को नौकरी देने का वादा किया है वहीं, भाजपा (BJP) ने 19 लाख युवाओं को रोजगार देने का वादा किया है।

आज यानी 22 अक्टूबर 2020, गुरुवार को केन्द्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण ने पटना में भाजपा के ‘5 सूत्र, एक लक्ष्य, 11 संकल्प’ के विजन डाक्‍यूमेंट को जारी किया। बता दें कि इस घोषणा पत्र में बीजेपी ने 19 लाख युवाओं को रोजगार देने का वादा किया है।

बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में वादा किया है कि एक हजार नए किसान उत्पाद संघों को आपस में जोड़कर राज्यभर के विशेष सफल उत्पाद, (जैसे- मक्का, फल, सब्जी, चूड़ा, मखाना, पान, मशाला, शहद, मेंथा, औषधीय पौधों के लिए सप्लाई चेन विकसित करेंगे) और 10 लाख रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे।

इससे पहले काग्रेंस ने बुधवार 21 अक्टूबर 2020 को अपना घोषणा पत्र जारी किया था। कांग्रेस के इस घोषणा पत्र में 10 लाख युवाओं को रोजगार और जिन लोगों को रोजगार नहीं मिलेगा, उन्हें 1500 रुपये मासिक दिए जाएंगे की बात लिखी है।

वहीं, राजद नेता तेजस्वी यादव ने अपना मेनीफेस्टो जारी करते हुए कहा था कि हमने संकल्प लिया है कि हमारी सरकार बनते ही पहली कैबिनेट में युवाओं को 10 लाख रोजगार देने पर मुहर लगेगी।

Continue Reading

चुनाव

Bihar Election: नीतीश कुमार का तेजस्‍वी से सवाल, दिल्ली में किसके यहां रहते थे

Bihar Election: नीतीश कुमार ने तेजस्वी यादव का नाम लिए पूछा कि कहाँ रहते थे जी, कहां भागे रहते थे यहाँ से और ज़रा बताओ कि दिल्ली में किसके यहां जाकर रहते थे ज़रा ये तो बताओ, बताना नहीं चाहिए किसी को मालूम है कहां रहता था, क्या करता था।

Published

on

By

tejashwi-nitish

Bihar Election: बिहार के सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने तेजस्वी पर तंज कसते हुए उनसे सवाल पूछा है कि तुम क्यों भागे जाते थे दिल्ली और बताओ दिल्ली में किसके यहां रहते थे। मुख्‍यमंत्री ने कहा, ‘कुछ लोग मेरे ख़िलाफ़ बोलते रहते हैं, बहुत अच्छा हैं बोलते रहो हम बधाई देते हैं, हमको कहता है कि थक गए हैं नीतीश ने पूछा कि हम थक गए हैं?

नीतीश कुमार ने तेजस्वी यादव (Tejashwi yadav) का नाम लिए पूछा कि कहाँ रहते थे जी, कहां भागे रहते थे यहाँ से और ज़रा बताओ कि दिल्ली में किसके यहां जाकर रहते थे ज़रा ये तो बताओ, बताना नहीं चाहिए किसी को मालूम है कहां रहता था, क्या करता था। यह कहते हुए नीतीश बोले कि हम लोग को क्या कहना है?

अरे अरे अपनी माँ पिता और माता की जगह पर कोई आने की कोशिश कर रहा है, क्या ही करेंगे। नीतीश ने फिर कहा कि क्‍या चीज़ का ज्ञान हैं किस चीज़ का अनुभव हैं, फिर उन्होंने कहा कि हम लोगों को जब काम करने का मौक़ा मिला तो अपराध पर काबू पाया। जहां जंगल राज कायम था, उसकी जगह क़ानून का राज क़ायम किया।

आपको बता दें कि हाल ही में विपक्ष के नेता तेजस्‍वी नीतीश कुमार के बारे में कहा था कि वो अब (नीतीश) थक गए हैं। तेजस्वी यादव (Tejashwi yadav) के इस बयान पर गुरुवार को मुज़फ़्फ़रपुर ज़िले के मीनापुर विधान सभा में प्रचार के दौरान भाषण में नीतीश कुमार की नाराज़गी साफ़ दिख रही थी।

Continue Reading
Advertisement
Tejashwi Yadav
राजनीति11 mins ago

नवादा रैली में बोले तेजस्वी- रोजगार नहीं दे पा रहे हैं CM नीतीश

Election Commission
राजनीति25 mins ago

चुनावी रैली पर हाईकोर्ट के प्रतिबंध लगाने पर चुनाव आयोग सुप्रीम कोर्ट पहुंचा

bullet train-min (2)
राष्ट्रीय31 mins ago

पंजाब में किसान आंदोलन के चलते ट्रेनों का संचालन प्रभावित

राजनीति1 hour ago

सासाराम में बोले मोदी- भारत के सम्मान बा बिहार, भारत के स्वाभिमान बा बिहार

Rahul Gandhi
राजनीति1 hour ago

रैली से पहले राहुल का तंज- बिहार का मौसम गुलाबी, दावा किताबी

Coronavirus
राष्ट्रीय2 hours ago

देश में 24 घंटे में कोरोना के 54,366 नए केस आए सामने

Sanjay Raut
राजनीति2 hours ago

मुफ्त कोरोना वैक्सीन पर राउत का तंज- तुम मुझे वोट दो, हम तुम्हें वैक्सीन देंगे

Imran Khan Pakistan
अंतरराष्ट्रीय2 hours ago

FATF में पाकिस्तान के भाग्य का फैसला आज, बना है आतंकियों की पनाहगाह

राष्ट्रीय2 hours ago

भारतीय नौसेना ने दिखाया दम, ताकतवर एंटी-शिप मिसाइल से डुबोया जहाज

शहर3 hours ago

‘बहुत खराब’ लेवल पर दिल्ली की हवा

मनोरंजन2 weeks ago

मुंबई की अदालत ने रिया और शोविक की न्यायिक रिमांड को 20 अक्टूबर तक बढ़ाया

narendra modi Black
ओपिनियन3 weeks ago

बढ़ती बेरोज़गारी, गर्त में जाती अर्थव्यवस्था के बीच सरकारों का निजीकरण पर जोर

Election
चुनाव3 weeks ago

यक़ीनन, अबकी बार बिहार पर है संविधान बचाने का दारोमदार

Narendra Damodar Das Modi
ओपिनियन3 weeks ago

‘टाइम’ में अमरत्व वाली मनमाफ़िक छवि अर्जित करने से श्रेष्ठ और कुछ नहीं!

Hathras and Babri Demolition
ब्लॉग3 weeks ago

हाथरस के निर्भया कांड को बाबरी मस्जिद के चश्मे से भी देखिए

Rape Sexual Violence
ज़रा हटके2 weeks ago

राजनीति को अपराधियों से बचाये बग़ैर नहीं बचेंगी बेटियां

Kolkata Knight Riders
खेल4 weeks ago

आईपीएल-13 : कोलकाता ने हैदराबाद को 7 विकेट से हराया

Nitish Modi
चुनाव2 weeks ago

नीतीश को निपटाने के लिए बीजेपी ने अपनी दो टीमें मैदान में उतारीं

खेल3 weeks ago

आईपीएल-13 : सुपर ओवर के रोमांच में कोहली की बेंगलोर ने मारी बाजी

disney
लाइफस्टाइल3 weeks ago

डिज्नी का बड़ा फैसला, थीम पार्क के 28 हजार कर्मचारियों की होगी छंटनी

8 suspended Rajya Sabha MPs
राजनीति1 month ago

रात में भी संसद परिसर में डटे सस्पेंड किए गए विपक्षी सांसद, गाते रहे गाना

Ahmed Patel Rajya Sabha Online Education
राष्ट्रीय1 month ago

ऑनलाइन कक्षाओं के लिए गरीब छात्रों को सरकार दे वित्तीय मदद : अहमद पटेल

Sukhwinder-Singh-
मनोरंजन2 months ago

सुखविंदर की नई गीत, स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश को समर्पित

Modi Independence Speech
राष्ट्रीय2 months ago

Protected: 74वें स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी का भाषण, कहा अगले साल मनाएंगे महापर्व

राष्ट्रीय3 months ago

उत्तराखंड में ITBP कैम्‍प के पास भूस्‍खलन, देखें वीडियो

Kapil Sibal
राजनीति4 months ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय6 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर6 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य6 months ago

WHO को दिए जाने वाले अनुदान पर रोक को लेकर टेडरोस ने अफसोस जताया

Sonia Gandhi Congress Prez
राजनीति6 months ago

PM Modi के संबोधन से पहले कोरोना संकट पर सोनिया गांधी का राष्ट्र को संदेश

Most Popular