बकरीद : हैदराबाद में बकरे की ऑनलाइन बिक्री, आउटसोर्स कुर्बानी | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

राष्ट्रीय

बकरीद : हैदराबाद में बकरे की ऑनलाइन बिक्री, आउटसोर्स कुर्बानी

Published

on

Online payment
प्रतीकात्मक तस्वीर

हैदराबाद में इस बार बकरीद के मौके पर कुर्बानी के लिए कोई जानवर खरीदने को बाजार में भागदौड़ करता नजर नहीं आ रहा है, जानवरों के कत्ल के लिए कसाई को तलाशने की जरूरत नहीं और कोरोनावायरस महामारी के समय में जगह को साफ रखने को लेकर कोई चिंता नहीं है।

इस बार ईद-उल-अजहा हैदराबाद और तेलंगाना के अन्य हिस्सों में मुसलमानों के लिए अलग होगा, क्योंकि उनमें से ज्यादातर अपने घरों में ही बैठकर कुर्बानी दे रहे होंगे।

वे पशु व्यापारियों और अन्य समूहों को काम आउटसोर्स कर रहे हैं, जो न केवल उनके लिए भेड़, बकरी या मवेशी खरीद रहे हैं, बल्कि जानवरों का कत्ल भी करते हैं और उनके घर के दरवाजे तक मांस भी पहुंचाते हैं या अपनी इच्छा के अनुसार इसे गरीबों और जरूरतमंदों में वितरित करते हैं।

1 अगस्त को मनाया जाने वाला ईद-उल-अजहा जिसे बकरीद के नाम से भी जाना जाता है, इस बार कई मायनों में अलग होगा। अब तक जिस तरह से यह त्योहार मनाया जाता रहा है, उसके मनाने के अंदाज को कोविड-19 ने बदल दिया है।

चूंकि राज्य में वायरस का फैलाव जारी है, और हैदराबाद हॉटस्पॉट बना हुआ है, इसलिए अधिकांश मुसलमान व्यापारियों, गैर सरकारी संगठनों, सामाजिक-धार्मिक संगठनों और कुछ इस्लामी सेमनेरी द्वारा दी जाने वाली सेवाओं का लाभ उठा रहे हैं।

एहतियात को ध्यान में रखते हुए ज्यादातर लोग जानवर खरीदने के लिए बाहर निकलने या घर पर कुर्बानी करने से बच रहे हैं। वे जानवर को मारने के लिए भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने या कसाई को बुलाने का जोखिम नहीं उठाना चाहते। हर साल, सैकड़ों व्यापारी विभिन्न जिलों से भेड़ या बकरियों को हैदराबाद लाते हैं और अपने अस्थायी स्टॉल लगाते हैं।

इस बार, अधिकांश व्यापारियों ने अपने स्मार्टफोन पर संभावित खरीदारों के लिए जानवरों की तस्वीरें और वीडियो भेजकर और उनके भुगतान विकल्पों की पेशकश करके अपना व्यवसाय ऑनलाइन किया है। हर बार अधिकांश लोग कुर्बानी के लिए कसाइयों की सेवा लेते हैं, लेकिन कोरोना के चलते इस बार कई ने अपनी योजना बदल दी है।

अपने दम पर जानवरों की बलि देने के बजाय, वे इस काम को व्यापारियों और संगठनों को आउटसोर्स कर रहे हैं। ये समूह हर साल इज्तेमाई कुर्बानी या सामूहिक कुर्बानी की व्यवस्था करते हैं, लेकिन यह उन लोगों के लिए होता है जो मवेशियों की साझा खरीद में हिस्सा लेते हैं।

सात व्यक्ति एक बड़े जानवर की कुर्बानी में शामिल हो सकते हैं, जबकि एक भेड़ या बकरी को एक व्यक्ति द्वारा कुर्बान किया जा सकता है। हर साल कई समूह और व्यक्ति सामूहिक कुर्बानी का आयोजन करते हैं।

टोली चौकी क्षेत्र के एक सामाजिक कार्यकर्ता फारूक अहमद, जो हर साल इज्तेमाई कुबार्नी की व्यवस्था करते हैं, ने कहा कि इस बार उनके समूह ने पेशेवर कसाई सहित कई अन्य लोगों के साथ करार किया है।

इस साल प्रत्येक हिस्सा की कीमत 3,400 रुपये है, जो पिछले साल 3,000 रुपये थी, क्योंकि जानवरों की कीमतें 30 से 40 प्रतिशत तक बढ़ गई हैं।

मौलवियों का कहना है कि तीन दिवसीय त्योहार पैगंबर इब्राहिम के महान बलिदान को याद करने का एक अवसर है, जिन्होंने अल्लाह के आदेश पर अपने बेटे पैगंबर इस्माइल को कुर्बान करने की पेशकश की। अल्लाह के रहम से जब इस्माइल अपने बेटे की कुर्बानी देने चले तब उनके बेटे की जगह एक मेमना आ गया।

एक बुजुर्ग शख्स इश्तियाक अहमद ने कहा, यह एक बड़ी कुर्बानी को याद करने और अल्लाह की राह में कुछ भी कुर्बान करने के लिए तैयार रहने का संकल्प लेने का अवसर है।

आईएएनएस

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश में कोरोना के 4583 नए केस

Published

on

-Coronavirus-min

नई दिल्ली, उत्तर प्रदेश में कोरोना के 4583 नए केस सामने आए है। इसके साथ ही राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 लाख 36 हजार 238 हो गई है।

प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में अबतक 84 हजार 661 मरीज इलाज के बाद पूरी तरह स्वस्थ हो चुके हैं।

वहीं प्रदेश में फिलहाल कोरोना के 49 हजार 347 सक्रिय मामले हैं। इनका इलाज प्रदेश के अलग-अलग अस्पतालों में चल रहा है। इनमें से 21 हजार 758 मरीज होम आइसोलेशन में अपना इलाज करा रहे हैं।

बीते 24 घंटों में राज्य में कोरोना के कारण 54 लोगों की मौत दर्ज की गई है। इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना की वजह से मरने वालों की संख्या 2 हजार 230 हो गई है।

WeForNews

Continue Reading

राष्ट्रीय

कोरोना मामले अभी तक अपने चरम पर नहीं पहुंचे : एम्स निदेशक

Published

on

नई दिल्ली, 12 अगस्त (आईएएनएस)। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक और भारत के प्रमुख चिकित्सा विशेषज्ञों में से एक रणदीप गुलेरिया ने दावा किया है कि देश में कोरोनावायरस के मामलों अभी तक अपने चरम नहीं पहुंचे हैं।

यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है, जब देश में हर दो दिन में कम से कम एक लाख नए संक्रमण के मामले जुड़ रहे हैं। 30 जनवरी को पहला मामला सामने आने के बाद से अब तक 23 लाख से अधिक मामले दर्ज किए जा चुके हैं। संक्रमण की वजह से अभी तक 46,000 से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

गुलेरिया महामारी की निगरानी करने वाली एक कोर टीम का हिस्सा भी हैं। उन्होंने कहा कि यह परीक्षा लेने वाला समय है, मगर भारत में अभी भी संक्रमण अपने चरम पर नहीं पहुंचा है।

वैक्सीन के विकसित होने को लेकर उन्होंने कहा कि भारत को इससे काफी फायदा होगा, क्योंकि यह दुनिया के लगभग 60 प्रतिशत वैक्सीन या टीके बनाता है।

उन्होंने कहा, हमारे पास बड़ी संख्या में टीके बनाने की क्षमता है और सरकार और निर्माताओं ने जो प्रतिबद्धता दिखाई है, वह यह है कि हम अपनी विनिर्माण क्षमता को न केवल अपने देश के लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए सक्षम कर पाएंगे।

भारत में तीन वैक्सीन उम्मीदवार मानव नैदानिक (ह्यूमन क्लीनिकल) परीक्षणों के विभिन्न चरणों में हैं। पहला पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया व ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा, दूसरा भारत बायोटेक द्वारा और तीसरा जायडस कैडिला द्वारा परीक्षण किया जा रहा है।

देश के शीर्ष पल्मोनोलॉजिस्ट ने कहा कि विभिन्न देशों के बीच सहयोगात्मक कार्य के कारण वैक्सीन बनाने की प्रक्रिया इतनी तेजी से आगे बढ़ी है।

गुलेरिया ने कहा कि महामारी ने शोधकतार्ओं, निमार्ता और उद्योग को हमारे सामने आने वाली किसी भी कठिनाई को दूर करने के एक साथ आने पर मजबूर किया है।

गुलेरिया ने हालांकि रूसी वैक्सीन के संबंध में सावधानी बरतने की सलाह दी, जिसे दुनिया की पहली कोरोनावायरस वैक्सीन कहा जा रहा है। उन्होंने सुरक्षा पहलू के बारे में कहा कि यह मुद्दा सिर्फ यह सुनिश्चित करने के लिए होगा कि टीका सुरक्षित और प्रभावकारी हो।

गुलेरिया ने कहा, कोई भी वैक्सीन, जो बड़ी संख्या में उन लोगों पर आजमाई जाती है, जो बुजुर्ग हैं या जिन्हें पहले से ही बीमारी हैं तो सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण चीज होती है।

बता दें कि हाल ही में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने घोषणा की है कि रूस ने कोरोनावायरस की वैक्सीन बना ली है, जिसके बाद गुलेरिया की यह टिप्पणी आई है।

Continue Reading

राष्ट्रीय

कोरोना वैक्सीन पर बने एक्सपर्ट ग्रुप की हुई पहली बैठक

Published

on

नई दिल्ली, कोरोना वैक्सीन पर बने एक्सपर्ट ग्रुप ने बुधवार को पहली बैठक की। बताया जा रहा है कि इस बैठक में एक्सपर्ट कमेटी कई अहम पहलुओं पर चर्चा की, जिसमें कोरोना वैक्सीन के चयन, खरीद, वितरण को लेकर बातचीत हुई।

इसके साथ ही पहले यह वैक्सीन किन लोगों को दी जाए, इस पर भी चर्चा हुई है। नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वीके पॉल की अध्यक्षता में बैठक हुई। बता दें कि रूस द्वारा वैक्सीन बना लेने की घोषणा के बाद यह बैठक हो रही। ऐसे में यह बैठक काफी अहम बताई जा रही है।

नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वीके पॉल की अध्यक्षता में कोरोना वैक्सीन के लेकर बनाई गई यह विशेष समिति राज्य सरकारों और वैक्सीन निर्माताओं सहित इससे जुड़े अन्य हितधारकों के साथ अहम बिंदुओं पर चर्चा की।

स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने कहा कि एक्सपर्ट ग्रुप की प्राथमिकता एक उपयुक्त टीका का चयन करने की है। साथ ही यह उन लोगों को पहले दी जाए, जिन्हें इसकी सबसे अधिक जरूरत है। उन्होंने कहा हम रूस की कोरोना वायरस वैक्सीन खरीदने पर भी विचार कर रहे हैं।

इस समय भारत में तीन टीकों का अलग-अलग चरणों में क्लीनिकल ट्रायल चल रहा है। ये तीन टीके भारत बायोटेक वैक्सीन, जाइडस कैडिला और ऑक्सफोर्ड वैक्सीन है। कोविड-19 के दो संभावित टीकों के मानवीय क्लिनिकल परीक्षण का पहला चरण पूरा हो गया है और परीक्षण दूसरे चरण में पहुंच चुका है।

WeForNews

Continue Reading
Advertisement
Smartphone-Addiction-min-1
टेक2 mins ago

स्मार्टफोन उपयोग उत्पादकता में एस्पेरेशनल भारत ने 120 प्रतिशत वृद्धि की : टेक्नो सीएमआर

राजनीति7 mins ago

कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी का निधन

saif-kareena
मनोरंजन13 mins ago

करीना और सैफ का ऐलान, परिवार में जल्द आएगा दूसरा मेहमान

-Coronavirus-min
राष्ट्रीय18 mins ago

उत्तर प्रदेश में कोरोना के 4583 नए केस

राष्ट्रीय33 mins ago

कोरोना मामले अभी तक अपने चरम पर नहीं पहुंचे : एम्स निदेशक

राष्ट्रीय49 mins ago

कोरोना वैक्सीन पर बने एक्सपर्ट ग्रुप की हुई पहली बैठक

राष्ट्रीय54 mins ago

66 मीटर कपड़ा, 27 सौ कैलोरी भोजन- न्यूनतम वेतन का जानिए नया सरकारी फॉर्मूला

sharad pawar
राजनीति59 mins ago

सुशांत केस: पवार बोले- मुझे मुंबई पुलिस पर भरोसा, CBI जांच का नहीं करेंगे विरोध

Coronavirus
राष्ट्रीय1 hour ago

तमिलनाडु में कोरोना के 5871 नए मामले

राजनीति1 hour ago

केंद्रीय आयुष मंत्री नाइक कोरोना पॉजिटिव

मनोरंजन4 weeks ago

सुशांत के निधन के बाद अंकिता की सोशल मीडिया पर पहली पोस्ट

Donald Trump
अंतरराष्ट्रीय4 weeks ago

ट्रंप ने हांगकांग स्वायत्तता अधिनियम पर किए हस्ताक्षर

sensex-min
व्यापार4 weeks ago

मजबूत विदेशी संकेतों घरेलू शेयर बाजार की तेज शुरूआत, सेंसेक्स 400 अंक उछला

Election Commission
चुनाव4 weeks ago

बिहार में 65 वर्ष से अधिक आयु के नागरिकों को पोस्टल बैलट सुविधा का विस्तार नहीं: EC

mamata banerjee dilip ghosh
ओपिनियन2 weeks ago

गाय, गधा, ग़ालिब और दिलीप घोष की मज़ेदार जुगलबन्दी

Coronavirus
लाइफस्टाइल4 weeks ago

कोरोना वायरस कब सामने आया?

SBI
व्यापार4 weeks ago

एसबीआई कार्ड के सीईओ हरदयाल प्रसाद का इस्तीफा

Kapil Sibal
राजनीति7 days ago

राम मंदिर भूमि पूजन के मौके पर कपिल सिब्बल ने कही ये बड़ी बात

Pregnancy
लाइफस्टाइल4 weeks ago

कोरोनाकाल में गर्भवती महिलाओं का मानसिक रूप से स्वस्थ रहना जरूरी : विशेषज्ञ

Brain
लाइफस्टाइल3 weeks ago

दिमाग भी हो सकता है बीमार : विशेषज्ञ

राष्ट्रीय2 weeks ago

उत्तराखंड में ITBP कैम्‍प के पास भूस्‍खलन, देखें वीडियो

Kapil Sibal
राजनीति2 months ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय3 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर4 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य4 months ago

WHO को दिए जाने वाले अनुदान पर रोक को लेकर टेडरोस ने अफसोस जताया

Sonia Gandhi Congress Prez
राजनीति4 months ago

PM Modi के संबोधन से पहले कोरोना संकट पर सोनिया गांधी का राष्ट्र को संदेश

मनोरंजन4 months ago

रफ्तार का नया गाना ‘मिस्टर नैर’ लॅान्च

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
अंतरराष्ट्रीय4 months ago

चीन ने महामारी के फैलाव को कारगर रूप से नियंत्रित किया : डब्ल्यूएचओ

मनोरंजन5 months ago

शिवानी कश्यप का नया गाना : ‘कोरोना को है हराना’

Honey Singh-
मनोरंजन5 months ago

हनी सिंह का नया सॉन्ग ‘लोका’ हुआ रिलीज

Most Popular