असम के बारपेटा में जिला सत्र अदालत ने शुक्रवार को गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी को जमानत दे दी।

उन्हें असम पुलिस ने पहली बार 20 अप्रैल को गुजरात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक ‘आपत्तिजनक’ ट्वीट के सिलसिले में गिरफ्तार किया था।

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक आपत्तिजनक ट्वीट के मामले में असम से गिरफ्तार हुए गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवाणी को असम की कोकराझार कोर्ट ने सोमवार को जमानत दे दी थी।

हालांकि, असम पुलिस ने जमानत मिलने के बाद अधिकारियों पर हमला करने के आरोप में फिर से गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस ने बताया कि कांग्रेस समर्थित विधायक मेवानी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

Share.

Leave A Reply