आशीष सर्राफ एयरबस समूह के उपाध्यक्ष बने | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

Published

on

एयरबस समूह ने आशीष सर्राफ को उद्योग विकास, रणनीतिक साझेदारी और ऑफसेट खंड का उपाध्यक्ष नियुक्त किया है.

यह जानकारी सोमवार को एक अधिकारी ने दी. सर्राफ इससे पहले टाटा सिकोस्र्की के साथ थे. नए पद पर वह समूह के भारतीय कारोबार को दिशा देंगे.

सर्राफ ने कहा, “एयरबस समूह का लक्ष्य भारत सरकार की ‘मेक इन इंडिया’ सोच को पूरा करने की दिशा में एक मानक की स्थापना करने वाली कंपनी बनना है. मैं कंपनी को अपने लक्ष्य पूरा करने और अपने देश को स्वदेशीकरण का लक्ष्य हासिल करने में मदद करने की उम्मीद करता हूं.”

Wefornews Bureau

व्यापार

RBI ने बदला पैसों के लेनदेन से जुड़ा ये नियम

Published

on

By

rbi

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ग्राहकों को बेहतर सुविधाएं प्रदान करने के लिए आए दिन किसी नई सुविधा का ऐलान करता रहता है।

अब आरबीआई ने करोड़ों ग्राहकों के लिए एक और बड़ी घोषणा की है। दिसंबर से बैंकों ने पैसों के लेन-देन से जुड़े एक अहम नियम में बदलाव किया है।

अक्तूबर में आरबीआई ने रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) सिस्टम को दिसंबर 2020 से 24 घंटे सातों दिन चालू रखने का ऐलान किया था। यानी अब आपको बड़ी रकम ट्रांसफर करने के लिए बैंक के खुलने और बंद होने का इंतजार नहीं करना होगा।

मौद्रिक नीति समिति (MPC) के फैसलों की घोषणा करते समय गवर्नर शक्तिकांत दास ने ग्राहकों को यह तोहफा दिया था। आज से पहले ग्राहकों के लिए आरटीजीएस सिस्टम की टाइमिंग सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक थी। दूसरे और चौथे शनिवार को, जब बैंक की छुट्टी होती है, तब यह सुविधा भी बंद रहती थी। इसके साथ ही रविवार को भी यह सर्विस बंद रहती थी।

Wefornews

Continue Reading

लाइफस्टाइल

पांचवी तक पढ़ी मोबिना ने पढ़ाया आईएएस अफसरों को

राष्ट्रीय आजीविका मिशन के जुगल सोनी बताते हैं कि मोबिना और उनके साथियों ने कई इनोवेशन किए हैं और उसकी चर्चा हर तरफ है।

Published

on

By

Mobina

भोपाल, 30 नवंबर । नाम है मोबीना और उन्होंने पढ़ाई की है पांचवी तक, मगर उन्होंने देश की सबसे बड़ी सरकारी सेवा भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को पढ़ाया है। यह सुनने में अचरज भरा हो सकता है मगर हकीकत यही है क्योंकि उन्होंने गांव की गरीब और कमजोर महिलाओं की जिंदगी को रोशन करने का काम किया है।

मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले के पंडोला गांव की रहने वाली है मोबिना। उनका परिवार मजदूरी करके चलता था मगर उन्होंने अपने परिवार के साथ अन्य लोगों के परिवार की जिंदगी में बदलाव लाने की मुहिम शुरू की और वर्ष 2005 में बिस्मिल्ला स्व सहायता समूह बनाया। इस स्व सहायता समूह के जरिए 10 महिलाओं को जोड़ा और उनके परिवारों की जिंदगी में बड़ा बदलाव ला दिया।

मोबीना बताती हैं कि उन्होंने आपस में मिलकर पहले न्यूनतम राशि इकटठा की और एक दूसरे की सहायता शुरू की। बात आगे बढ़ी तो उन्हें सरकारी स्तर पर और बैंक से भी सहायता मिलने लगी, उसी का नतीजा है कि आज उनकी समूह की महिलाओं की जिंदगी बदल गई है, सभी अलग-अलग तरह के कारोबार कर रही हैं।

मोबीना बताती हैं कि उनके पति मोहम्मद सलीम मजदूरी करते थे। आमदनी नहीं होने पर पहले बमुश्किल से एक फसल ले पाती थी। जब उनकी आमदनी बढ़ी तो उन्होंने सिंचाई के लिए पंप खरीदा और अब तो दो फसलें लेने लगी है। इसके साथ ही आय भी लगातार बढ़ती जा रही है। अब तो वे अन्य लोगों को भी काम देने लगी है।

राष्ट्रीय आजीविका मिशन के जुगल सोनी बताते हैं कि मोबिना और उनके साथियों ने कई इनोवेशन किए हैं और उसकी चर्चा हर तरफ है। आर्थिक मामले में भी सक्षम हो रही है। यही कारण है कि मोबीना और उनकी साथी महिलाओं को भारतीय प्रशासनिक सेवा के प्रशिक्षणरत अधिकारियों को अपने प्रयास और अनुभव को साझा करने के लिए मसूरी बुलाया गया था।

मोबीना बताती है कि उन्हें मसूरी जाने से पहले उनके दिमाग में कई तरह के सवाल उठ रहे थे और सोच रही थी कि इन बड़े शहरों के लोगों को वह कैसे अपने अनुभव बताएंगी। उन्होंने आगे बताया कि इस प्रवास से उन्हें भी लाभ मिला। वहां जाकर देखा की बड़ी-बड़ी उम्र की लड़कियां भी पढ़ाई कर रही हैं और जब अपने गांव लौटे तो अपनी बेटियों को पढ़ाया। उनके स्व सहायता समूह की महिलाएं अपनी बेटियों को भी पढ़ा रही हैं।

मोबीना कहती हैं कि उन्होंने मसूरी में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे अधिकारियों को स्व सहायता समूह के गठन, उनके काम करने के तरीके और होने वाली आमदनी के बारे में विस्तार से बताया था। उनके इन अनुभवों को प्रशिक्षण प्राप्त करने वालों ने बड़े उत्साह के साथ जाना था।

Continue Reading

व्यापार

चार दिनों से जारी पेट्रोल, डीजल की महंगाई पर लगा ब्रेक, कच्चे तेल में नरमी

नवंबर के महीने में पेट्रोल और डीजल के दाम में अब तक नौ बार बढ़ोतरी हुई है जिसके बाद देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल के दाम में 1.28 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हो गई है जबकि डीजल 1.96 रुपये प्रति लीटर महंगा हो गया है।

Published

on

By

Petrol

नई दिल्ली, 30 नवंबर । पेट्रोल और डीजल के दाम में बीते चार दिनों से जारी वृद्धि का सिलसिला एक बार फिर थम गया है। तेल विपणन कंपनियों ने सोमवार को पेट्रोल और डीजल के दाम में कोई बदलाव नहीं किया। उधर, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में भी नरमी देखी जा रही है।

बाजार के जानकार बताते हैं कि कच्चे तेल में नरमी राहत की खबर है क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में गिरावट से पेट्रोल और डीजल की कीमतें भी घट सकती हैं। हालांकि नवंबर में कच्चे तेल के दाम में काफी वृद्धि हो चुकी है, इसलिए पेट्रोल और डीजल के दाम में तत्काल गिरावट की संभावना नहीं है।

इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल की कीमतें सोमवार को बिना किसी बदलाव के क्रमश: 82.34 रुपये, 83.87 रुपये, 89.02 रुपये और 85.31 रुपये प्रति लीटर पर बनी रही।

चारों महानगरों में डीजल के दाम भी पूर्ववत क्रमश: 72.42 रुपये, 75.99 रुपये, 78.97 रुपये और 77.84 रुपये प्रति लीटर पर बने हुए हैं।

तेल विपणन कंपनियों ने एक दिन पहले पेट्रोल के दाम में दिल्ली में 21 पैसे, कोलकाता में 20 पैसे, मुंबई में 21 पैसे जबकि चेन्नई में 19 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि की। वहीं, डीजल के दाम में दिल्ली और कोलकाता में 29 पैसे जबकि मुंबई में 31 पैसे और चेन्नई में 28 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि की गई थी।

नवंबर के महीने में पेट्रोल और डीजल के दाम में अब तक नौ बार बढ़ोतरी हुई है जिसके बाद देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल के दाम में 1.28 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हो गई है जबकि डीजल 1.96 रुपये प्रति लीटर महंगा हो गया है।

अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार इंटर कांटिनेंटल एक्सचेंज (आईसीई) पर ब्रेंट क्रूड के फरवरी डिलीवरी वायदा अनुबंध में सोमवार को पिछले सत्र के मुकाबले 1.37 फीसदी की कमजोरी के साथ 47.59 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था। बता दें कि दो नवंबर को बेंट्र क्रूड का भाव 35.74 डॉलर प्रति बैरल तक टूटा था। जिसके बाद बीते सप्ताह गुरुवार को ब्रेंट का भाव 49.09 डॉलर प्रति बैरल तक उछला था जोकि इस साल मार्च के बाद का सबसे उंचा स्तर है।

न्यूयार्क मकेर्टाइल एक्सचेंज (नायमैक्स) पर वेस्ट टेक्सस इंटरमीडिएट (डब्ल्यूटीआई) के जनवरी डिलीवरी वायदा अनुबंध में सोमवार को पिछले सत्र के मुकाबले 1.47 फीसदी की गिरावट के साथ 44.86 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था।

Continue Reading

Most Popular