असदुद्दीन ओवैसी ने मथुरा ईदगाह के खिलाफ RSS पर साधा निशाना | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

राजनीति

असदुद्दीन ओवैसी ने मथुरा ईदगाह के खिलाफ RSS पर साधा निशाना

Published

on

asaduddin owaisi

उत्तर प्रदेश के मथुरा की एक अदालत द्वारा वहां एक ईदगाह के खिलाफ दलील देने के बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर निशाना साधते हुए ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि लोगों को संघ के डिजाइनों के प्रति सचेत रहना चाहिए।

ट्विटर पर ओवैसी ने कहा कि बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि के फैसले ने ‘संघ परिवार’ के संकल्प को मजबूत किया है।

ओवैसी ने हिंदी में ट्वीट किया “जिसका डर था वह सच हो गया है। बाबरी मस्जिद से संबंधित फैसले ने ‘संघ परिवार’ के संकल्प को मजबूत किया है। याद रखें, अगर हम अभी भी नहीं जागे तो संघ इस पर एक और हिंसक अभियान शुरू कर सकता है और कांग्रेस भी अभियान में शामिल हो सकती है”।

उन्होंने कहा कि मथुरा की जिला अदालत ने मथुरा की ईदगाह पर एक याचिका दाखिल की थी और कहा था कि लोगों को आरएसएस के डिजाइनों के प्रति सचेत रहना चाहिए। इससे पहले, ओवैसी ने कहा था कि श्री कृष्ण जन्मस्थान सेवा संघ और शाही ईदगाह ट्रस्ट के बीच विवाद को 1968 में सुलझा लिया गया था और विवाद के पुनरुद्धार पर सवाल उठाया गया था।

ओवैसी ने पहले कहा था “पूजा का स्थान अधिनियम 1991 पूजा के स्थान को परिवर्तित करने से मना करता है। गृह मंत्रालय को इस अधिनियम का प्रशासन सौंपा गया है, अदालत में इसकी प्रतिक्रिया क्या होगी? शाही ईदगाह ट्रस्ट और श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संघ ने अक्टूबर 1968 में इस विवाद को हल किया। अब इसे पुनर्जीवित क्यों करें?”।

मथुरा की एक अदालत ने कृष्ण जन्मभूमि से सटे ईदगाह को हटाने की मांग करने वाली याचिका स्वीकार करने के एक दिन बाद यह फैसला सुनाया और 18 नवंबर को इस मामले की सुनवाई करने के लिए कहा गया।

राजनीति

नवादा रैली में बोले तेजस्वी- रोजगार नहीं दे पा रहे हैं CM नीतीश

Published

on

Tejashwi Yadav

बिहार के नवादा के हिसुआ में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने कहा ने कहा कि जो रोजगार था उसे भी मोदी जी और नीतीश कुमार ने छीन लिया है। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति 15 साल में शिक्षा व्यवस्था ठीक नहीं कर पाया।

बेरोजगारों को रोजगार नहीं दे सका है। उसे अब 5 साल और देने की जरूरत नहीं है। तेजस्वी ने कहा कि मुख्यमंत्री बनते ही 10 लाख नौजवानों को सरकारी नौकरी देने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि मैं ठेठ बिहारी हूं, जो कह रहा हूं उसे पूरा करूंगा।

मोदी बिहार में रैली को संबोधित करने आए हैं, उन्हें बताना चाहिए कि उन्होंने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा क्यों नहीं दिया। उन्हें बताना चाहिए कि उन्होंने बिहार के बेरोजगारों को कितनी नौकरी दी। तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार बिहार के बजट का सिर्फ 60 फीसदी ही खर्च कर पाते हैं, और पूछते हैं कि पैसा कहां से आएगा। तेजस्वी ने कहा कि मैं यह पूछना चाहता हूं कि नीतीश जी यह पैसा युवाओं को रोजगार देने पर क्यों नहीं खर्च करते हैं।

तेजस्वी ने कहा कि हमें मौका दीजिए हम हर जात और हर वर्ग को साथ लेकर चलने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि देश में काम की बात होनी चाहिए। तेजस्वी ने कहा कि कुछ लोग जात और धर्म के नाम पर लड़ाने का काम करेंगे, लेकिन हमें चुनाव मुद्दों पर लड़ना है। उन्होंने कहा कि 10 नवंबर को नीतीश कुमार की विदाई तय है।

WeForNews

Continue Reading

राजनीति

चुनावी रैली पर हाईकोर्ट के प्रतिबंध लगाने पर चुनाव आयोग सुप्रीम कोर्ट पहुंचा

Published

on

Election Commission

मध्यप्रदेश उपचुनाव में उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देते हुए चुनाव आयोग गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया। दरअसल मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग के दिशानिर्देशों के तहत विधानसभा उपचुनावों में चुनाव प्रचार के लिए सीमित संख्या के साथ भौतिक राजनीतिक सभा के लिए दी गई अनुमति पर रोक लगा दी है।

मध्यप्रदेश में भाजपा में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रति निष्ठावान कांग्रेस विधायकों के इस्तीफे के बाद विधानसभा उपचुनाव कराए जा रहे हैं। 

बता दें कि मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय की ग्वालियर पीठ ने राज्य में राजनीतिक दलो की भौतिक रैलियों को प्रतिबंधित कर दिया है। 

हाईकोर्ट की ग्वालियर पीठ ने अपने आदेश में राजनीतिक दलों को भौतिक सभाओं से रोक दिया है, जब तक कि उन्हें जिलाधिकारियों और चुनाव आयोग से यह प्रमाणित नहीं किया गया हो कि वर्चु्अल चुनाव अभियान संभव नहीं है।

अगर भौतिक सभा करने की इजाजत मिल भी जाती है तो, राजनीतिक दल को इसके लिए धन राशि जमा कराने की आवश्यकता होगी। यह धन राशि “सभा में अपेक्षित लोगों की संख्या की सुरक्षा और सैनेटाइजेशन के लिए जरूरी मास्क और सैनेटाइजर की दोगुनी खरीद करने के लिए पर्याप्त” होनी चाहिए।

हाईकोर्ट ने यह भी कहा कि संबंधित उम्मीदवार सभाओं में मौजूद लोगों को मास्क और सैनेटाइजर के वितरण के लिए व्यक्तिगत रूप से जिम्मेवार होंगे।

चुनाव आयोग ने तर्क दिया है कि हाईकोर्ट का 20 अक्तूबर का आदेश सुप्रीम कोर्ट द्वारा लगातार दिए गए आदेशों की अवहेलना करता है। आयोग ने कहा सर्वोच्च अदालत अपने आदेशों में यह कहता रहा है कि चुनाव आयोग चुनाव प्रक्रिया के संचालन और पर्यवेक्षण के लिए एकमात्र प्राधिकरण है और बहु-स्तरीय चुनाव प्रक्रिया में अदालतों को हस्तक्षेप करने से रोकता है। 

चुनाव आयोग ने कहा कि हाईकोर्ट के निर्देशों ने ‘कोविड-19 – अगस्त 2020 के आम चुनाव / उपचुनाव के लिए व्यापक दिशानिर्देशों का उल्लंघन किया है।’

मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय की ग्वालियर पीठ ने पिछले हफ्ते कोरोना महामारी के बीच सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) को सुनिश्चित करने के लिए चुनावी रैलियों में 100 से अधिक लोगों को शामिल करने वाली किसी भी राजनीतिक रैली के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की अनुमति दी थी। 

ग्वालियर पीठ के न्यायमूर्ति शील नागू और न्यायमूर्ति राजीव कुमार श्रीवास्तव की पीठ ने अधिवक्ता आशीष प्रताप द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई के दौरान कोरोना वायरस महामारी को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया था। 

WeForNews

Continue Reading

राजनीति

सासाराम में बोले मोदी- भारत के सम्मान बा बिहार, भारत के स्वाभिमान बा बिहार

Published

on

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए शुक्रवार का दिन अहम है। आज प्रधानमंत्री मोदी ने बिहार के सियासी रण में एंट्री की है। वे एनडीए उम्मीदवारों के लिए जनता से समर्थन मांग रहे हैं। इस दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री और एनडीए के मुख्यमंत्री उम्मीदवार नीतीश कुमार उनके साथ मौजूद हैं।

लगभग आठ महीने बाद प्रधानमंत्री मोदी किसी रैली को संबोधित कर रहे हैं। उन्होंने भारत माता की जय के साथ अपने भाषण की शुरुआत की। इस दौराान उन्होंने रामविलास पासवान को भी श्रद्धांजलि दी।

प्रधानमंत्री का संबोधन

जब बिहार के लोगों ने इन्हें सत्ता से बेदखल कर दिया, नीतीश जी को मौका दिया तो ये बौखला गए। उनके अंदर एक गुस्सा आया और जहर भर गया और इसके बाद इन्होंने 10 सालों तक दिल्ली में यूपीए सरकार में रहते हुए बिहार पर, बिहार के लोगों पर अपना गुस्सा निकाला।

बिहार के विकास की हर योजना को अटकाने और लटकाने वाले ये लोग हैं जिन्होंने अपने 15 साल के शासन में लगातार बिहार को लूटा। आपने बहुत विश्वास के साथ सत्ता सौंपी थी लेकिन इन्होंने सत्ता को अपनी तिजोरी भरने का माध्यम बना लिया।

हम बिहार के भविष्य के लिए एक बार फिर नीतीश जी के साथ आए हैं।
मैं बिहार की भूमि से इन लोगों को एक बात स्पष्ट कहना चाहता हूं- ये लोग जिसकी चाहे मदद ले लें, देश अपने फैसलों से पीछे नहीं हटेगा। भारत अपने फैसलों से पीछे नहीं हटेगा।

इन लोगों को आपकी जरूरतों से कभी सरोकार नहीं रहा। इनका ध्यान रहा है अपने स्वार्थों पर, अपनी तिजोरी पर। यही कारण है कि भोजपुर सहित पूरे बिहार में लंबे समय तक बिजली, सड़क, पानी जैसी मूल सुविधाओं का विकास नहीं हो पाया।

इतना कहने के बाद भी ये लोग बिहार के लोगों से वोट मांगने की हिम्मत दिखा रहे हैं। जो बिहार अपने बेटे-बेटियों को सीमा पर देश की रखवाली के लिए भेजता है क्या ये उसकी भावना का अपमान नहीं है।

जम्मू कश्मीर से आर्टिकल-370 हटने का इंतजार देश बरसों से कर रहा था या नहीं। ये फैसला हमने लिया, एनडीए की सरकार ने लिया। लेकिन आज ये लोग इस फैसले को पलटने की बात कर रहे हैं। ये कह रहे हैं कि सत्ता में आए तो आर्टिकल-370 फिर लागू कर देंगे।

जब-जब, बिचौलियों और दलालों पर चोट की जाती है, तब-तब ये तिलमिला जाते हैं, बौखला जाते हैं। आज हालत ये हो गई है कि ये लोग भारत को कमजोर करने की साजिश रच रहे लोगों का साथ देने से भी नहीं हिचकिचाते।

मंडी और एमएसपी तो बहाना है, असल में दलालों और बिचौलियों को बचाना है। लोकसभा चुनाव से पहले जब किसानों के बैंक खाते में सीधे पैसे देने का काम शुरु हुआ था, तब इन्होंने कैसा भ्रम फैलाया था। जब राफेल विमानों को खरीदा गया, तब भी ये बिचौलियों और दलालों की भाषा बोल रहे थे। 

कोरोना के इस समय में भी गरीबों को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए एनडीए सरकार ने काम किया है। जहां कभी गरीब का राशन, राशन की दुकान में ही लुट जाता था, वहां कोरोना काल में गरीबों को मुफ्त राशन मिला है।

देश जहां संकट का समाधान करते हुए आगे बढ़ रहा है, ये लोग देश के हर संकल्प के सामने रोड़ा बनकर खड़े हैं। देश ने किसानों को बिचौलियों और दलालों से मुक्ति दिलाने का फैसला लिया तो ये बिचौलियों और दलालों के पक्ष में खुलकर मैदान में हैं।

गरीब दीवाली और छठ पूजा ठीक से मना सके, इसके लिए मुफ्त अनाज की व्यवस्था की गई है। इसी कोरोना के दौरान करोड़ों गरीब बहनों के खाते में सीधी मदद भेजी गई, मुफ्त गैस सिलेंडर की व्यवस्था की गई।

शहरों में जो रेहड़ी, ठेला, चलाने वाले साथी हैं, उनके लिए भी बैंकों से आसान ऋण सुनिश्चित कराया जा रहा है ताकि वो अपना काम फिर शुरू कर सकें।

2014 में केंद्र में सरकार बनने के बाद जितने समय बिहार को डबल इंजन की ताकत मिली, राज्य के विकास के लिए और ज्यादा काम हुआ है। राज्य को जो प्रधानमंत्री पैकेज मिला था, उसपर काम की रफ्तार भी तेज गति से आगे बढ़ रही है।

जिन लोगों ने एक-एक सरकारी नौकरी को हमेशा लाखों-करोड़ों रुपये कमाने का जरिया माना, वो फिर बढ़ते हुए बिहार को ललचाई नजरों से देख रहे हैं। आज बिहार में पीढ़ी भले बदल गई हो, लेकिन बिहार के नौजवानों को ये याद रखना है कि बिहार को इतनी मुश्किलों में डालने वाले कौन थे?

वो दिन जब सरकार चलाने वालों की निगरानी में दिन-दहाड़े डकैती होती थी, हत्याएं होती थीं, रंगदारी वसूली जाती थी, वो दिन जब घर की बिटिया, घर से निकलती थी, तो जब तक वापस न आ जाए माता-पिता की सांस अटकी रहती थी।

अंधेरे से उजाले की ओर बढ़ना इसी को कहते हैं। बिहार के लोग भूल नहीं सकते वो दिन जब सूरज ढलते का मतलब होता था, सब कुछ बंद हो जाना, ठप्प पड़ जाना। आज बिजली है, सड़के हैं, लाइटें हैं और सबसे बड़ी बात वो माहौल है जिसमें राज्य का सामान्य नागरिक बिना डरे रह सकता है, जी सकता है।

भारत के सम्मान बा बिहार, भारत के स्वाभिमान बा बिहार, भारत के संस्कार बा बिहार, संपूर्ण क्रांति के शंखनाद बा बिहार, आत्मनिर्भर भारत के परचम बा बिहार।

बिहार के सपूत गलवां घाटी में तिरंगे के खातिर शहीद हो गए, लेकिन भारत मां का माथा नहीं झुकने दिया। पुलवामा हमले में भी बिहार के जवान शहीद हुए, मैं उनके चरणों मे शीश झुकाता हूं और उन्हें श्रद्धांजलि देता हूं।

बिहार के लोगों ने मन बना लिया है, ठान लिया है कि जिनका इतिहास बिहार को बीमारू बनाने का है, उन्हें आसपास भी नहीं फटकने देंगे। जितने सर्वे हो रहे हैं, जितनी रिपोर्ट आ रही है, सभी में ये ही आ रहा है। बिहार में फिर एक बार, एनडीए सरकार बनने जा रही है।

दुनिया के बड़े-बड़े अमीर देशों की हालत किसी से छिपी नहीं है। अगर बिहार में तेजी से काम न हुआ होता तो ये महामारी न जाने कितने साथियों की, हमारे परिवारजनों की जान ले लेती, कितना बड़ा हाहाकार मचता, इसकी कोई कल्पना नहीं कर सकता।

सबसे पहले मैं बिहार के लोगों को बधाई देना चाहता हूं, बधाई इसलिए कि बिहार के लोग इतनी बड़ी आपदा का डटकर मुकाबला कर रहे हैं। कोरोना महामारी से बचने के लिए तेजी से जो फैसले लिए गए हैं, जिस तरह बिहार के लोगों ने काम किया, उसके नतीजे आज दिख रहे हैं।

आज रोहतास के साथ-साथ आस-पास के अन्य जिलों के साथी भी यहां आए हैं। तकनीक के माध्यम से काफी साथी और एनडीए के उम्मीदवार हमारे साथ जुड़े हैं। मैं आप सभी का अभिनंदन करता हूं।

बाबू रघुवंश प्रसाद सिंह जी ने भी गरीबों के उत्थान के लिए निरंतर काम किया। वो भी अब हमारे बीच नहीं हैं। मैं उन्हें भी अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

साथियों हाल ही में बिहार ने अपने दो सपूतों को खोया है, जिन्होंने यहां के लोगों की दशकों तक सेवा की है। मेरे करीबी मित्र और गरीबों, दलितों के लिए अपना जीवन समर्पित करने वाले और आखिरी समय तक मेरे साथ रहने वाले राम विलास पासवान जी को मैं श्रद्धाजंलि अर्पित करता हूं।

Continue Reading
Advertisement
Tejashwi Yadav
राजनीति4 mins ago

नवादा रैली में बोले तेजस्वी- रोजगार नहीं दे पा रहे हैं CM नीतीश

Election Commission
राजनीति17 mins ago

चुनावी रैली पर हाईकोर्ट के प्रतिबंध लगाने पर चुनाव आयोग सुप्रीम कोर्ट पहुंचा

bullet train-min (2)
राष्ट्रीय23 mins ago

पंजाब में किसान आंदोलन के चलते ट्रेनों का संचालन प्रभावित

राजनीति1 hour ago

सासाराम में बोले मोदी- भारत के सम्मान बा बिहार, भारत के स्वाभिमान बा बिहार

Rahul Gandhi
राजनीति1 hour ago

रैली से पहले राहुल का तंज- बिहार का मौसम गुलाबी, दावा किताबी

Coronavirus
राष्ट्रीय2 hours ago

देश में 24 घंटे में कोरोना के 54,366 नए केस आए सामने

Sanjay Raut
राजनीति2 hours ago

मुफ्त कोरोना वैक्सीन पर राउत का तंज- तुम मुझे वोट दो, हम तुम्हें वैक्सीन देंगे

Imran Khan Pakistan
अंतरराष्ट्रीय2 hours ago

FATF में पाकिस्तान के भाग्य का फैसला आज, बना है आतंकियों की पनाहगाह

राष्ट्रीय2 hours ago

भारतीय नौसेना ने दिखाया दम, ताकतवर एंटी-शिप मिसाइल से डुबोया जहाज

शहर3 hours ago

‘बहुत खराब’ लेवल पर दिल्ली की हवा

मनोरंजन2 weeks ago

मुंबई की अदालत ने रिया और शोविक की न्यायिक रिमांड को 20 अक्टूबर तक बढ़ाया

narendra modi Black
ओपिनियन3 weeks ago

बढ़ती बेरोज़गारी, गर्त में जाती अर्थव्यवस्था के बीच सरकारों का निजीकरण पर जोर

Election
चुनाव3 weeks ago

यक़ीनन, अबकी बार बिहार पर है संविधान बचाने का दारोमदार

Narendra Damodar Das Modi
ओपिनियन3 weeks ago

‘टाइम’ में अमरत्व वाली मनमाफ़िक छवि अर्जित करने से श्रेष्ठ और कुछ नहीं!

Hathras and Babri Demolition
ब्लॉग3 weeks ago

हाथरस के निर्भया कांड को बाबरी मस्जिद के चश्मे से भी देखिए

Rape Sexual Violence
ज़रा हटके2 weeks ago

राजनीति को अपराधियों से बचाये बग़ैर नहीं बचेंगी बेटियां

Kolkata Knight Riders
खेल4 weeks ago

आईपीएल-13 : कोलकाता ने हैदराबाद को 7 विकेट से हराया

Nitish Modi
चुनाव2 weeks ago

नीतीश को निपटाने के लिए बीजेपी ने अपनी दो टीमें मैदान में उतारीं

खेल3 weeks ago

आईपीएल-13 : सुपर ओवर के रोमांच में कोहली की बेंगलोर ने मारी बाजी

disney
लाइफस्टाइल3 weeks ago

डिज्नी का बड़ा फैसला, थीम पार्क के 28 हजार कर्मचारियों की होगी छंटनी

8 suspended Rajya Sabha MPs
राजनीति1 month ago

रात में भी संसद परिसर में डटे सस्पेंड किए गए विपक्षी सांसद, गाते रहे गाना

Ahmed Patel Rajya Sabha Online Education
राष्ट्रीय1 month ago

ऑनलाइन कक्षाओं के लिए गरीब छात्रों को सरकार दे वित्तीय मदद : अहमद पटेल

Sukhwinder-Singh-
मनोरंजन2 months ago

सुखविंदर की नई गीत, स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश को समर्पित

Modi Independence Speech
राष्ट्रीय2 months ago

Protected: 74वें स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी का भाषण, कहा अगले साल मनाएंगे महापर्व

राष्ट्रीय3 months ago

उत्तराखंड में ITBP कैम्‍प के पास भूस्‍खलन, देखें वीडियो

Kapil Sibal
राजनीति4 months ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय6 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर6 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य6 months ago

WHO को दिए जाने वाले अनुदान पर रोक को लेकर टेडरोस ने अफसोस जताया

Sonia Gandhi Congress Prez
राजनीति6 months ago

PM Modi के संबोधन से पहले कोरोना संकट पर सोनिया गांधी का राष्ट्र को संदेश

Most Popular