आंध्र प्रदेश में सड़क हादसा, 3 की मौत | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

Published

on

आंध्र प्रदेश के पश्चिम गोदावरी जिले में गुरुवार को एक सड़क दुर्घटना में तीन लोगों की मौत हो गई और एक अन्य व्यक्ति घायल हो गया.

पुलिस ने बताया कि तेलंगाना के नालगोंडा जिले से आ रही एक मिनी-वैन की उन्गुतुरुम मंडल में कैकरम के निकट एक खड़े ट्रक से टक्कर हो गई.

इस हादसे में मिनी वैन में सवार तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि उसका ड्राइवर गंभीर रूप से घायल हो गया. ड्राइवर को पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

पुलिस ने संभावना जताई है कि ड्राइवर को झपकी आ गई होगी, जिसके चलते यह दुर्घटना घटी होगी.

wefornews Bureau

राजनीति

कृषि कानून किसान विरोधी, राजद गांधी मैदान में देगी धरना : तेजस्वी

बिहार में जहां मंडियों का सवाल है वह 2006 में ही बंद कर दिया गया। हालत ये हो गई है कि बिहार के किसान खेती छोड़ मजदूरी करने लगे हैं। जब मंडी खत्म हो गई तो किसान कमजोर होते गए।

Published

on

By

Tejashwi Yadav

पटना, 4 दिसंबर । बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (RJD) ने नए कृषि कानूनों को किसान विरोधी बताते हुए बिहार के किसानों को भी आंदोलन में शामिल होने की अपील की है।

राजद के नेता तेजस्वी यादव ने शुक्रवार को कहा कि उनकी पार्टी के नेता और कार्यकर्ता शनिवार को पटना के गांधी मैदान में महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने कृषि कानून के विरोध में धरने पर बैठेंगे।

बिहार विधनसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि कृषि कानून काला कानून है और ये देश के खिलाफ है। उन्होंने बिहार के किसानों और किसान संगठनों से अपील करते हुए कहा कि वर्तमान, आने वाली पीढ़ियों और भविष्य को देखते हुए वे इस कानून के विरोध में सड़कों पर आएं और आंदोलन को मजबूत करें।

उन्होंने कहा, पंजाब और हरियाणा समेत कई राज्यों के किसानों में आक्रोश है। यह वही सरकार है जो किसानों की आय 2022 तक दोगुनी करनी की बात करती है। लेकिन एमएसपी को खत्म कर रही है। कृषि को भी प्राइवेट हाथ को सौंप रही है, जिससे प्राइवेट कंपनियों से किसान खरीद बिक्री करेंगे।

उन्होंने कृषि कानूनों को किसान विरोधी कानून बताते हुए कहा कि किसानों को सही मूल्य मिलना चाहिए। कई जगहों पर कर्ज में डूबने से किसान आत्महत्या कर रहे हैं। जो अन्नदाता हैं उनके लिए इस तरह का कानून बनाना देश के खिलाफ है।

उन्होंने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इतनी बड़ी समस्या सामने है, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मौन हैंै। कोई भी फैसला जनता का होना चाहिए ना कि किसी व्यक्ति का। उन्होंने कहा कि कृषि कानून बनाने के पहले किसानों से राय नहीं ली गई और अब उन्हें गुमराह किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अगर एमएसपी समाप्त नहीं होना है, तो सरकार लिखकर क्यों नहीं दे रही है।

उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि अगर कृषि कानून के इतने ही फायदे हैं तो देश भर में किसान इसके खिलाफ क्यों है, भाजपा की सबसे पुरानी सहयोगी पार्टी अकाली दल ने किनारा क्यों किया। उन्होंने कहा कि खिलाड़ी और अभिनेता भी किसान के समर्थन में आगे आएं हैं।

उन्होंने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री कृषि रोड मैप की बात करते हैं लेकिन धान के एमएसपी की बात नहीं करते। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि बिहार में अब तक किसी जिले में धान की खरीदी प्रारंभ नहीं की गई है।

बिहार में जहां मंडियों का सवाल है वह 2006 में ही बंद कर दिया गया। हालत ये हो गई है कि बिहार के किसान खेती छोड़ मजदूरी करने लगे हैं। जब मंडी खत्म हो गई तो किसान कमजोर होते गए।

Continue Reading

राष्ट्रीय

गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों के प्रदर्शन में अब जानवरों की एंट्री

किसानों का कहना है अभी हम दो जानवर ले कर आए हैं। और जानवर आएंगे और यही रहेंगे, जिसमें गाएं भी शामिल हैं।

Published

on

Farmers Protest Animal

गाजीपुर बॉर्डर (दिल्ली/उप्र), 2 दिसंबर । गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसान अब अपने साथ जानवर (गाय) लेकर पहुंच गए हैं। मंगलवार को सरकार से बातचीत बेनतीजा रहने पर किसान अब आर-पार की लड़ाई के मूड में हैं।

पिछले 6 दिनों से चल रहा किसान आंदोलन बुधवार को 7वें दिन भी थमता नहीं दिख रहा है। गाजीपुर बॉर्डर पर आए किसानों ने अपने घरों से जानवरों को बुला लिया है और अपने साथ इस प्रदर्शन में शामिल कर लिया है। किसान जानवरों को लखीमपुर खीरी और उत्तराखंड से ले कर आए हैं। उनका कहना है कि अभी दो ही जानवरों को लाया गया है, और जानवर आने वाले हैं।

पुलिस प्रशासन द्वारा लगाए गए बेरिगेड पर इन जानवरों को बांध दिया गया है और वहीं जानवरों के खाने की व्यवस्था भी की गई है।

किसानों का कहना है कि इस प्रदर्शन की वजह से जानवरों को घरों में अकेला छोड़ नहीं सकते। जानवरों को चारा डालने में समस्या आ रही थी। वहीं अब बॉर्डर पर ही इन जानवरों की देखरेख करेंगे।

किसानों का कहना है अभी हम दो जानवर ले कर आए हैं। और जानवर आएंगे और यही रहेंगे, जिसमें गाएं भी शामिल हैं।

किसानों के प्रदर्शन के चलते दिल्ली की ओर आने वाले सभी बोर्डरों पर जगह जगह जाम की स्थिति बनी हुई है।

Continue Reading

शहर

दिल्ली में कोरोना का प्रकोप जारी, 108 और मरीजों की मौत

Published

on

Coronavirus Death US

राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस (COVID-19) का प्रकोप दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। लेकिन राहत की बात यह है कि पिछले 24 घंटों के दौरान नए मामलोें की तुलना में स्वस्थ होने वालों की संख्या अधिक होने से सक्रिय मामलों में कमी आयी और सोमवार को यहां सक्रिय मामले 2206 घटकर 32,885 पहुंच गये।

दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग की ओर से सोमवार को जारी बुलेटिन के अनुसार दिल्ली में इस अवधि में 3,726 नये मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 5,70,374 हो गयी है। जबकि 5,824 मरीजों के स्वस्थ होने से सक्रिय मामलों में कमी आयी है और कोरोना मुक्त लोगों की संख्या 5,28,315 हो गयी। कोरोना रिकवरी दर 92.62 फीसदी पहुंच गयी है। इस दौरान 108 और मरीजों की मौत होने से मृतकों का आंकड़ा 9,174 पहुंच गया है जोकि काफी चिंताजनक माना जा रहा है। जबकि मृत्यु दर 1.61 हो गयी है। मृतकों के मामले में पूरे देश में दिल्ली चौथे स्थान पर आ गया है।

दिल्ली में फिलहाल सक्रिय मामले घटकर 32,885 रह गये हैं जाे रविवार को 35,091 थे। राजधानी में पिछले 24 घंटों के दौरान 50.6 हजार नमूनों का परीक्षण किया गया। इसके साथ ही अब तक हुई जांच संख्या बढ़कर 62.88 लाख पहुंच गयी है। प्रत्येक दस लाख पर जांच का औसत 3,30,950 है। दिल्ली में कंटेनमेंट जोन की संख्या में भी लगातार इजाफा हो रहा है और यह संख्या 5552 हो गयी है।

Continue Reading

Most Popular