अफगानिस्तान में अमेरिकी फोटो पत्रकार की हत्या  | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

अफगानिस्तान में अमेरिकी फोटो पत्रकार की हत्या 

Published

on

afghanistan
अफगानिस्तान

वाशिंगटन: अमेरिकी प्रसारक नेशनल पब्लिक रेडियो (एनपीआर) के पुरस्कारों से सम्मानित फोटो पत्रकार डेविड गिल्की की रविवार को अफगानिस्तान में हत्या कर दी गई।

एनपीआर की प्रवक्ता इसाबेल लारा ने एक बयान में बताया कि गिल्की (50) हेलमंड प्रांत में अफगानिस्तानी सेना की यूनिट के साथ जा रहे थे। इस दौरान सेना के काफिले पर गोलीबारी हुई जिसकी चपेट में उनका वाहन भी आ गया।

न्यूज एेजेंसी एफे न्यूज के अनुसार अफगानिस्तानी अनुवादक जबीहउल्ला तमन्ना (38) भी हमले में मारे गए। एक अन्य वाहन में सवार एनपीआर के दो अन्य पत्रकार टॉम बोमैन और मोनिका इव्स्तातीवा बाल-बाल बच गए। तमन्ना भी पहले फोटो पत्रकार के रूप में काम कर चुके थे।

गिल्की दुनिया के श्रेष्ठ फोटो पत्रकारों में एक माने जाते थे। उन्हें 2010 में जॉर्ज पोल्क पुरस्कार, 2007 में एम्मी पुरस्कार समेत कई पुरस्कार और ह्वाइट हाउस न्यूज फोटोग्राफर एसोसिएशन की ओर से दर्जनों सम्मान मिले थे।

अमेरिका के विदेश मंत्री जॉन केरी ने डेविड को ‘प्रतिभाशाली कहानीकार’ बताते हुए कहा, “यह हमला उस भयावह खतरे की याद दिलाता है जिसका अफगानिस्तान के लोग, अफगानिस्तानी सुरक्षा बल और निडर पत्रकार सामना कर रहे हैं।”

एनपीआर के वरिष्ठ उपाध्यक्ष माइकेल ओरेस्केस ने कहा, “डेविड 9/11 की घटना के बाद से ही इराक और अफगानिस्तान में युद्ध और संघर्ष को कवर कर रहे थे। इन युद्धों को देखने के बाद वह लोगों की मदद करने के लिए प्रतिबद्ध हुए थे। वह अपनी प्रतिबद्धता पूरी करने के दौरान काल के गाल में समा गए।”

कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (सीपीजे) के अनुसार सन 1992 से अफगानिस्तान में 27 पत्रकारों की मौत हो चुकी है।

सीपीजे ने कहा कि सन 1992 से अब तक दुनिया भर में मारे गए पत्रकारों में 90 प्रतिशत स्थानीय थे, जबकि इसी अवधि में अफगानिस्तान में मारे गए पत्रकारों में 75 प्रतिशत विदेशी थे।

wefornews bureau 

अंतरराष्ट्रीय

नेपाली सेना में कोविड-19 से दूसरी मौत

Published

on

Coronavirus

नेपाली सेना में कोरोनावायरस के कारण दूसरी मौत हो गई है। मीडिया के अनुसार अब यहां संक्रमित सैनिकों की संख्या 2,197 हो गई है।

द हिमालयन टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, शनिवार को एक बयान में सेना के प्रवक्ता संतोष बल्लव पौडेल ने कहा कि मृतक काठमांडू घाटी में तैनात एक 20 वर्षीय सैनिक था। उसे मिर्गी की बीमारी थी। बीमारी के चलते 22 सितंबर को उन्हें चौनी स्थित बिरेंद्र अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसके 2 दिन बाद उनका कोरोनावायरस परीक्षण पॉजिटिव आया था।

प्रवक्ता के हवाले से आगे लिखा गया, “डॉक्टरों ने तब उसे इलाज के लिए कोविड -19 सेक्शन में स्थानांतरित कर दिया था लेकिन शुक्रवार देर शाम उसने वायरस के कारण दम तोड़ दिया।”

द हिमालयन टाइम्स ने बताया कि पौडेल ने दावा किया कि उन्हें पता नहीं था कि सैनिक कोरोनावायरस पीड़ित है फिर भी उन्होंने वायरस को फैलने से रोकने के सभी एहतियाती उपाय किए थे।

अब वे संपर्क ट्रेसिंग पर काम कर रहे हैं। सेना के संक्रमित कर्मियों में से 1,656 का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। अब तक नेपाल में कुल 71,821 मामले और 467 मौतें दर्ज हो चुकी हैं।

आईएएनएस

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

नवाज शरीफ ने ‘डूबते’ देश को बचाने की कसम खाई

Published

on

Nawaz Sharif

इस्लामाबाद, 27 सितंबर (आईएएनएस)। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा है कि उन्हें जेल भेजने के लिए जिम्मेदार लोगों ने देश को डूबो दिया है और उनकी ऐसी हरकतों को जारी रखने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक पीएमएल-एन के सुप्रीमो ने शनिवार को ट्विटर पर जवाबदेही प्रक्रिया की विश्वसनीयता पर सवाल उठाया, जिसके जरिए उन्हें दोषी ठहराया गया था और जेल भेजा गया था।

अपने ट्वीट के साथ उन्होंने इस्लामाबाद उच्च न्यायालय (आईएचसी) के पूर्व न्यायाधीश शौकत अजीज सिद्दीकी का एक वीडियो साझा किया। सिद्दीकी को राज्य के संस्थानों के खिलाफ एक विवादास्पद भाषण देने के बाद पद से हटा दिया गया था।

वीडियो में पूर्व जज अरशद मलिक को भी दिखाया गया था, जिसमें वे शरीफ को दोषी ठहराने के लिए दबाव की बात स्वीकार कर रहे थे। इन जज को भी बाद में लाहौर उच्च न्यायालय की प्रशासनिक समिति द्वारा बर्खास्त कर दिया गया।

ट्वीट में आगे लिखा गया, जबावदेही प्रक्रिया की ये वास्तविकता है कि तीन बार के चुने गए प्रधानमंत्री को सजा दी जाती है और फरार घोषित किया जाता है।

शरीफ ने फोन पर जेयूआई-एफ के प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान के साथ भी बात की और इमरान खान के नेतृत्व वाली मौजूदा सरकार को बाहर करने के विकल्पों पर चर्चा की।

सूत्रों ने द एक्सप्रेस ट्रिब्यून को बताया कि दोनों विपक्षी नेताओं ने विपक्षी दलों द्वारा नवगठित पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (पीडीएम) गठबंधन के प्रमुख की नियुक्ति पर भी चर्चा की। साथ ही उन्होंने विधानसभाओं से इस्तीफा देने वाले विपक्षी सांसदों के मामले को तय करने के लिए समिति के गठन को भी मंजूरी दी।

बता दें कि 2018 में एक जवाबदेही अदालत ने अल-अजीजिया मामले में दोषी पाए जाने के बाद शरीफ को 7 साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई थी।

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

पाकिस्तान में यात्री वैन पलटने से 13 की मौत

Published

on

accident

पाकिस्तान में कराची-हैदराबाद मोटरवे पर एक यात्री वैन के पलटने और उसमें आग लग जाने के कारण कम से कम 13 लोगों की मौत हो गई है। हादसे में कई लोग घायल भी हुए हैं।

मोटरवे पुलिस के अतिरिक्त आईजी डॉ.आफताब पठान ने डॉन न्यूज को बताया कि जीवित बचे 7 लोगों में से 5 को अस्पताल ले जाया गया है। शवों को निकालने के प्रयास किए जा रहे हैं। बचे हुए लोगों में वैन चालक और एक बच्चा शामिल है। पीड़ितों की तुरंत पहचान नहीं हो सकी है।

नूरीबाद के पुलिस अधीक्षक नजर दीशक ने कहा कि वैन हैदराबाद से कराची जा रही थी। रास्ते में वैन पलट गई और सड़क पर कई पलटियां खाने के बाद उसमें आग लग गई।

उन्होंने कहा कि यात्रियों के शरीर पूरी तरह से जले हुए थे। दुर्घटना के बाद मोटरवे पर वाहनों का आना-जाना रोक दिया गया था।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular