अफगानिस्तान: बसों और टैंकर की टक्कर में 73 लोगों की दर्दनाक मौत | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

अफगानिस्तान: बसों और टैंकर की टक्कर में 73 लोगों की दर्दनाक मौत

Published

on

afghanistan
अफगानिस्तान

पूर्वी अफगानिस्तान में रविवार को दो बसों और एक तेल के टैंकर की टक्कर होने के बाद आग लग गई।

इस हादसे में कम से 73 लोग मारे गए। युद्ध प्रभावित देश में यह सबसे भीषण हादसों में से एक है। अफगानिस्तान की राजधानी के पास गजनी प्रांत में हुए इस भयंकर हादसे में महिलाओं और बच्चों समेत कई लोग जलकर मारे गए, जलने वालों की हालत इतनी बुरी हो गई कि लोगों को पहचान पाना भी संभव नहीं हो पाया। इतना ही नहीं इस हादसे में दजर्नों लोग जख्मी भी हुए हैं।

मंत्रालय के प्रवक्ता इस्माइल काउसी ने बताया कि मरने वालों की संख्या 73 हो गई है, जिनमें से ज्यादतर बुरी तरह से जल गए हैं। उन्होंने बताया कि मरने वालों की संख्या और बढ़ सकती है। जख्मी हुए कई लोगों को कंधार शहर और गजनी के अस्पतालों में उपचार के लिए भेजा गया है। इस्माइल ने अन्य अधिकारियों की तुलना में काफी बढ़ा हुआ आंकड़ा बताया है।

गजनी के प्रवक्ता मोहम्मद अमान हामिमी ने इससे पहले सात हताहतों के बारे में बताया था, लेकिन उनके खुद के प्रवक्ता ने मृतकों की संख्या 50 बताई थी।

wefornews bureau 

 

अंतरराष्ट्रीय

बलूचिस्तान के एक शहर में बम विस्फोट, चार की मौत

Published

on

IED blast

पाकिस्तानी प्रांत बलूचिस्तान के क्वेटा शहर में हजारीगंज स्थित पुलिस स्टेशन के पास रविवार को एक बम विस्फोट हुआ। हादसे में चार लोगों की मौत हो गई और दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट से इसकी जानकारी मिली। 

यह धमाका ऐसे समय हुआ जब शहर के अयूब मैदान में ‘पाकिस्तान डेमोक्रेटिक अलायंस’ (पीडीएम) की सरकार विरोधी रैली आयोजित हुई। पीडीएम, पाकिस्तान की मुख्य विपक्षी पार्टियों का गठबंधन है, जिसने प्रधानमंत्री इमरान खान के विरोध में रैली का आयोजन किया था।

हालांकि, रैली का स्थल उस स्थान से 35-40 किलोमीटर दूर है, जहां धमाका हुआ। बलूचिस्तान सरकार ने सुरक्षा कारणों से जनसभा स्थगित करने के लिए पीडीएम से कहा था।

WeForNews

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

ओबामा ने कोविड-19 महामारी से उबरने के इंतजाम को लेकर ट्रंप पर साधा निशाना

Published

on

Barack Obama at Hindustan Times Leadership Summit (Photo - Hindustan times )
File Photo

अमेरिका में डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडेन के लिए प्रचार करते हुए पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अमेरिकी राष्ट्रपति पर कोविड-19 महामारी से उबरने के नाकाफी इंतजाम को लेकर निशाना साधा।

अमेरिका में कोरोना मामलों और इस बीमारी से हुई मौतों के मामले में दुनिया में शीर्ष पर है।द हिल न्यूज वेबसाइट के मुताबिक, ओबामा ने शनिवार को मियामी में एक रैली में मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि अगर बाइडेन जीतते हैं, तो अमेरिका में एक नॉर्मल राष्ट्रपति होगा। रैली में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा गया था।

पूर्व राष्ट्रपति ने कहा, हमारे पास ऐसा राष्ट्रपति नहीं होगा जो अपनी आलोचना करने पर लोगों को जेल में डालने की धमकी देगा।

उन्होंने कहा, यह सामान्य व्यवहार नहीं है, फ्लोरिडा। आप ऐसा व्यवहार सहकर्मी से बर्दाश्त नहीं करेंगे, आप इसे हाईस्कूल के प्रिंसिपल से बर्दाश्त नहीं करेंगे, आप इसे कोच से बर्दाश्त नहीं करेंगे, आप इसे परिवार के किसी सदस्य से बर्दाश्त नहीं करेंगे।

नवीनतम रियलक्लीयर पॉलिटिक्स पोलिंग एवरेज के अनुसार, बाइडेन वर्तमान में फ्लोरिडा में ट्रंप से 1.4 प्रतिशत अंक की बढ़त लेकर 48.2 प्रतिशत से आगे हैं। ओबामा ने दूसरी बार बाइडेन के लिए प्रचार किया, जो 20 जनवरी, 2009 से 20 जनवरी, 2017 तक उनके उपराष्ट्रपति थे।

22 अक्टूबर को, उन्होंने फिलाडेल्फिया, पेंसिल्वेनिया में एक कार्यक्रम में भाग लिया था।डेमोक्रेटिक पार्टी के सूत्रों के अनुसार, पूर्व राष्ट्रपति द्वारा 3 नवंबर के पहले कई अन्य प्रमुख राज्यों में बाइडेन के पक्ष में प्रचार किए जाने की उम्मीद है।

आईएएनएस

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

टू प्लस टू वार्ता में भारत-अमेरिका वैश्विक सहयोग की होगी समीक्षा

Published

on

india and America

अगले हफ्ते नई दिल्ली में भारत और अमेरिका के बीच होने वाली ‘टू प्लस ट’ मंत्रिस्तरीय वार्ता में दुनिया के दो बड़े लोकतांत्रिक देशों के बीच वैश्विक सहयोग की दिशा में हुई प्रगति की समीक्षा की जाएगी।

इसके साठ ही आगे उठाए जाने वाले कदमों का खाका भी तैयार किया जाएगा। यह बात अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड्र ट्रंप के नेतृत्व वाले प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कही।  

अमेरिका में तीन नवंबर को राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होना है और उससे पहले ट्रंप सरकार की यह आखिरी सबसे बड़ी राजनयिक वार्ता होगी। दो दिवसीय वार्ता में भारत और अमेरिका के शीर्ष चार कैबिनेट मंत्री हिस्सा लेंगे। इसमें दोनों देशों के संबंधों की आगामी चार साल के लिए आधारशिला रखे जाने की संभावना है, भले ही चुनाव कोई भी जीते।

वरिष्ठ अमेरिकी अधिकारियों ने बताया कि विदेश मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय का कहना है कि भारत के साथ संबंधों को लेकर अमेरिका में द्विदलीय समर्थन है।

एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी ने वाशिंगटन डीसी में फॉरेन प्रेस सेंटर द्वारा आयोजित कॉन्फ्रेंस कॉल’ के दौरान कहा कि इस टू प्लस टू वार्ता में अमेरिका और भारत के बीच समग्र रणनीतिक साझेदारी की दिशा में हुई प्रगति की समीक्षा की जाएगी और आगामी कदमों का खाका तैयार किया जाएगा। इस साल वार्ता में चार बड़े मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किए जाने की संभावना हैं।

ये मुद्दे हैं- हिंद प्रशांत में जन स्वास्थ्य के मामले में सहयोग एवं काम समेत वैश्विक सहयोग, ऊर्जा एवं अंतरिक्ष के क्षेत्र में सहयोग समेत आर्थिक सहयोग, लोगों के बीच आपसी संबंध और रक्षा संबंध।

उन्होंने कहा कि भारत और अमेरिका अर्थव्यवस्था और द्विपक्षीय व्यापार को पटरी पर लाने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं। अमेरिका अंतरराष्ट्रीय विकास वित्त सहयोग (यूआईडीएफसी) ने भारत में निवेश परियोजनाओं में 50 करोड़ डॉलर की सहायता मुहैया कराने की प्रतिबद्धता जताई है और हाल में मुंबई में एक प्रबंध निदेशक को नियुक्त किया है, जो भारत और क्षेत्र में निवेश को विस्तार देने में मदद करेगा।

उन्होंने बताया कि कोविड-19 का टीका विकसित करने के संयुक्त प्रयास उल्लेखनीय प्रगति के साथ जारी है। छह से अधिक अमेरिकी कंपनियां और संस्थान ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ जैसे भारतीय साझेदारों के साथ मिलकर टीका खोजने का प्रयास कर रहे हैं।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular