6/6/'66 को भारतीय रुपये के लिए इंदिरा गांधी ने उठाया था कदम | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

व्यापार

6/6/’66 को भारतीय रुपये के लिए इंदिरा गांधी ने उठाया था कदम

Published

on

इंदिरा गांधी

50 साल पहले आज के दिन 6/6/1966 को भारतीय रुपये को नया जीवन दान मिला था। आजादी के बाद और भारत पाकिस्तान की जंग खत्म होने के बाद भारतीय रुपये लड़खड़ा रहा था। तब तत्कालीन पीएम इंदिरा गांधी ने दुनिया भर के विरोध के बावजूद रुपये की कीमत में बड़ा बदलाव किया था।

50 साल पहले भारतीय अर्थव्यवस्था जमीन पर थी। विदेशी विनिमय भी सीमित थे। विदेशी निवेश न के बराबर था। इसके अलावा 1965 की भारत पाकिस्तान की लड़ाई के बाद भारत सरकार वित्तीय रूप से लड़खड़ा गई थी। सैन्य खर्च बेतहाशा होने के कारण वित्तीय संकट खड़ा हो गया था। यही नहीं ये पहला मौका था जब अमेरिका जैसे ताकतवर देशों ने भी पाकिस्तान के साथ खड़े होते हुए भारत को दिए जा रहे मदद को रोक दिया था।

इस तरह इंदिरा गांधी की तत्कालीन सरकार ने 1966 में एक बड़ा कदम उठाते हुए रुपये पुनर्मूल्यन कर दिया। उस समय डॉलर के मुकाबले रुपया 4.76 था जो बढ़कर 7.50 हो गया था। इंदिरा गांधी के इस कदम की अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बड़ी आलोचना हुई थी। यह दूसरा मौका था जब रुपये का अवमूल्यन किया गया। इससे पहले तब किया गया था जब रुपये की तुलना पॉन्ड से हटाकर डॉलर से किया जाने लगा था।

रुपये जो 1966 में डॉलर के मुकाबले 7.50 था आज 67 के करीब चल रहा है। करंट अकाउंट डेफिसिट साल 2016 का 1.5% है।
भारत के पास आज विदेशी मुद्रा भंडार 360 बिलियन डॉलर है। ये अगले नौ महीने के आयात के लिए पर्याप्त है। साल 2015 में भारत विदेशी निवेश के लिहाज से सर्वश्रेष्ठ स्थान बताया गया था।

keywords : 6/6 / ’66 Indira Gandhi had taken steps to Indian Rupees, indira gandhi, indian rupees, delhi, इंदिरा गांधी ,भारतीय रुपये, 

Wefornews bureau

व्यापार

सेंसेक्स 1100 अंकों से ज्यादा लुढ़का, 3 फीसदी टूटा निफ्टी

Published

on

Sensex-

खराब वैश्विक संकेतों और डेरीवेटिव सीरीज के अनुबंधों की समाप्ति के चलते गुरुवार को भारतीय शेयर बाजार में कोहराम का आलम रहा।

सेंसेक्स 1,115 अंक लुढ़कर 36,554 पर ठहरा जबकि निफ्टी 326 अंक टूटकर कर 10,806 पर बंद हुआ। दोनों प्रमुख सूचकांकों में करीब तीन फीसदी की गिरावट दर्ज की गई।

सेंसेक्स पिछले सत्र से 1,114.82 अंकों यानी 2.96 फीसदी की गिरावट के साथ 36,553.60 पर बंद हुआ जबकि निफ्टी बीते सत्र से 326.30 अंकों यानी 2.93 फीसदी की गिरावट के साथ 10,805.55 पर बंद हुआ।

निराशाजनक वैश्विक संकेतों से घरेलू शेयर बाजार में आरंभिक कारोबार के दौरान बिकवाली का भारी दबाव बना हुआ था।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र से 386.24 अंकों की गिरावट के साथ 37,282.18 पर खुला और 36,495.98 तक लुढ़का जबकि दिनभर के कारोबार के दौरान सेंसेक्स का ऊपरी स्तर 37,304.26 रहा।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी बीते सत्र से 120.85 अंकों की गिरावट के साथ 11,011 पर खुला और दिनभर के कारोबार के दौरान 10,790.20 तक लुढ़का जबकि कारोबार के दौरान निफ्टी का ऊपरी स्तर 11,015.30 रहा।

आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

महंगे हुए आलू-टमाटर की दिल्ली सरकार ने की समीक्षा

Published

on

Tomato

दिल्ली सरकार ने बुधवार को दिल्ली में प्याज, टमाटर, आलू और अन्य आवश्यक वस्तुओं की खुदरा कीमतों से सम्बंधित मुद्दों की समीक्षा की। गौरतलब है कि दिल्ली में टमाटर और आलू पहले के मुकाबले काफी मंहगे हुए हैं।

गौरतलब है कि दिल्ली में टमाटर और आलू पहले के मुकाबले काफी मंहगे हुए हैं। बैठक में दिल्ली के खाद्य और आपूर्ति मंत्री, इमरान हुसैन, कृषि उपज विपणन समिति और दिल्ली कृषि विपणन बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया।

बैठक के दौरान, मंत्री ने आवश्यक वस्तुओं की खुदरा कीमतों के उतार-चढ़ाव की समीक्षा की। बैठक में उपस्थित अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली में प्याज की खुदरा कीमतें पिछले वर्ष की तुलना में कम हैं।

उन्होंने यह भी बताया कि पिछले साल की तुलना में इस वर्ष प्याज की मांग में कमी रही है तथा प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध के कारण प्याज की कीमतें निकट भविष्य में स्थिर होंगी, साथ ही अक्टूबर के अंत तक दिल्ली में पर्याप्त मात्रा में ताजा प्याज की आवक भी आरंभ हो जाएगी।

अधिकारियों ने बताया कि जहां तक टमाटर का संबंध है, टमाटर जल्दी खराब होता है, कीमतें मौसम के कारकों पर निर्भर हैं, क्योंकि उत्पादक राज्यों में भी बेमौसम और भारी बारिश से मांग-आपूर्ति की स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

इससे खुदरा कीमतें प्रभावित होती हैं। बैठक में संबंधित एजेंसियों का मानना था कि दिल्ली में जल्द ही टमाटर के भाव गिर सकते हैं। आलू के संबंध में मंत्री को संबंधित अधिकारियों ने सूचित किया कि पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष कम उत्पादन के कारण उनके खुदरा मूल्य में वृद्धि हुई है। इमरान हुसैन ने संबंधित एजेंसियों को किसी भी प्रकार की जमाखोरी, होडिर्ंग गतिविधियों तथा कालाबाजारी के खिलाफ स़ख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

ताजा फल, सब्जियों के दाम में नरमी, लेकिन प्याज निकाल रहा आंसू

Published

on

Onion

ताजा फल और सब्जियों की आवक में सुधार से कीमतों में नरमी आई है, लेकिन प्याज की महंगाई से उपभोक्ताओं के आंसू निकल रहे हैं। प्याज की बढ़ती कीमतों पर लगाम लगाने के लिए सरकार ने इसके निर्यात पर रोक लगा दी है, फिर भी मंडियों में आवक में सुधार नहीं आया है।

दिल्ली-एनसीआर में प्याज का खुदरा भाव 50 से 60 रुपये प्रति किलो चल रहा है। बीते तीन महीने में प्याज का दाम तकरीबन दो से तीन गुना बढ़ गया है।

मंडियों में प्याज का थोक भाव 12.50 रुपये से 35 रुपये प्रति किलो चल रहा है। सीजनल फलों, खासतौर से सेब की आवक बढ़ने से कीमतों में भारी गिरावट आई है।

एशिया में फलों और सब्जियों की सबसे बड़ी मंडी आजादपुर में सेब का थोक 30 रुपये से लेकर 80 रुपये प्रति किलो तक चल रहा है। सब्जियों के दाम मे बीते सप्ताह के मुकाबले थोड़ी नरमी आई है, हालांकि कारोबारी कहते हैं कि आवक में थोड़ा सुधार होने से सब्जियों के दाम में नरमी है, लेकिन आलू और प्याज के दाम में फिलहाल नरमी नहीं आई है।

घिया, करेला, खीरा, पालक, परवल समेत कई हरी शाक-सब्जियों के खुदरा दाम में पिछले सप्ताह के मुकाबले 10-20 रुपये प्रति किलो की नरमी आई है।

चैंबर्स ऑफ आजादपुर फ्रूट्स एंड वेजिटेबल्स एसोसिएशन के प्रेसीडेंट एम.आर. कृपलानी ने बताया कि शिमला से आने वाला सेब का थोक भाव 40 रुपये से 80 रुपये है जबकि कश्मीरी सेब का भाव 30 से 65 रुपये प्रति किलो है। उन्होंने बताया कि सब्जियों की नई फसल की आवक बढ़ने के बाद ही भाव में ज्यादा गिरावट देखने को मिल सकती है।

आजादपुर मंडी पोटैटो ऑनियन मर्चेंट एसोसिएशन यानी पोमा के जनरल सेक्रेटरी राजेंद्र शर्मा ने बताया कि इस समय दिल्ली में महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और राजस्थान से प्याज आ रहा है, जिसमें सबसे उंचे भाव 34 से 35 रुपये प्रति किलो नासिक का प्याज बिक रहा है। शर्मा ने उम्मीद जताई कि आने वाले दो-चार दिनों में प्याज के दाम में गिरावट आ सकती है।

आजादपुर मंडी में आलू का थोक भाव मंगलवार को 12 रुपये से 51 रुपये प्रति किलो जबकि टमाटर का 12 रुपय से 48 रुपये प्रति किलो था।

दिल्ली-एनसीआर में 23 सितंबर को सब्जियों के खुदरा दाम (रुपये प्रति किलो)

आलू 40-50

फूलगोभी-120

बंदगोभी-50

टमाटर 60-70

प्याज 50-60

लौकी/घीया-40

भिंडी-50

खीरा-40-50

कद्दू-40

बैंगन-40

शिमला मिर्च-100

पालक-60

तोरई-40

करेला-60-70

परवल 70-80

लोबिया-80

दिल्ली-एनसीआर में 15 सितंबर को सब्जियों के खुदरा दाम (रुपये प्रति किलो)

आलू 40-50

फूलगोभी-140

बंदगोभी-60

टमाटर 60-90

प्याज 40-50

लौकी/घीया-60

भिंडी-60

खीरा-60

कद्दू-50

बैंगन-60

शिमला मिर्च-100

पालक-80

कच्चा पपीता-50

कच्चा केला-60

तोरई-50

करेला-60

परवल 80-100

लोबिया-80

आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular