5 सालों में विकास दर बढ़ाकर हुई 7.6 | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

व्यापार

5 सालों में विकास दर बढ़ाकर हुई 7.6

Published

on

 

देश की विकास दर 2015-16 में बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में सर्वाधिक 7.6 फीसदी रही। भारत ने जहां चीन को पीछे छोड़ दिया, वहीं देश के लिए भी यह दर पिछले पांच सालों में सर्वाधिक है। बीते वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही में विकास दर 7.9 फीसदी रही। आधिकारिक आंकड़ों से मंगलवार को यह जानकारी मिली। इस आंकड़ों पर प्रतिक्रिता व्यक्त करते कॉरपोरेट जगत ने कहा है कि यह तेजी का संकेत है। समीक्षाधीन वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही में भारत का सकल घरेलू उत्पाद 7.9 फीसदी रहा है, जो सभी अनुमानों से अधिक है।

वास्तविक प्रति व्यक्ति आय भी 6.2 फीसदी बढ़कर 77,435 रुपये हो गई।

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा राष्ट्रीय आय पर जारी आंकड़े के मुताबिक, 2015-16 में देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 113.50 लाख करोड़ रुपये रहा, जो एक साल पहले 105.52 लाख करोड़ रुपये था। यह 7.6 फीसदी की वृद्धि है।

भारतीय रिजर्व बैंक के मंगलवार के संदर्भ मूल्य 67.20 रुपये प्रति डॉलर के मुताबिक, जीडीपी का मूल्य 1,690 अरब डॉलर है।

आंकड़े के अनुसार, बीते वित्त वर्ष में प्रथम तिमाही की विकास दर 7.5 फीसदी, दूसरी तिमाही की 7.6 फीसदी, तीसरी तिमाही की 7.2 फीसदी और चौथी तिमाही की 7.9 फीसदी रही।

2014-15 में देश की विकास दर 7.2 फीसदी रही थी और 2013-14 में यह 6.6 फीसदी थी और 2012-13 में यह दर 5.6 फीसदी थी।

क्षेत्रवार देखा जाए, तो सात फीसदी से अधिक विकास दर वाले क्षेत्रों में रहे वित्तीय, रियल एस्टेट और पेशेवर सेवाएं (10.3 फीसदी), विनिर्माण (9.3 फीसदी), व्यापार, होटल, परिवहन, संचार और प्रसारण संबंधी सेवाएं (नौ फीसदी) और खनन (7.4 फीसदी)।

सीएसओ के आंकड़ों के मुताबिक, समीक्षाधीन वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में जहां कृषि और उससे जुड़ी गतिविधियां में एक फीसदी की गिरावट आई थी, वहीं चौथी तिमाही में इसमें 1.2 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई है, जबकि विकास दर 1.1 फीसदी रही है।

इसमें बताया गया कि “कृषि मंत्रालयों ने इन आंकडों के बाद खाद्यान्न उत्पादन के पूर्वानुमान में बदलाव किया है।”

वहीं, ताजा विकास दर चीन की दर से अधिक है। चीन की विकास दर कैलेंडर वर्ष 2015 की आखिरी तिमाही में 6.8 फीसदी और 2016 की प्रथम तिमाही में 6.7 फीसदी दर्ज की गई, जो 2009 के बाद सबसे कम है।

वर्ष 2015-16 के आर्थिक सर्वेक्षण में देश की विकास दर 2015-16 में 7.6 फीसदी रहने का अनुमान दिया गया था।

इस साल की शुरुआत में भारत को लेकर अपने पूर्वानुमानों में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) और विश्व बैंक ने साल 2015-16 में चीन को पीछे छोड़ने का अनुमान लगाया था और वर्तमान वित्त वर्ष में इसके और तेजी से बढ़ने का अनुमान लगाया गया है।

भारतीय रिजर्व बैंक ने विकास दर 7.4 फीसदी रहने का अनुमान दिया था।

आईएमएफ ने मई में कहा था कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बनी रहेगी और जीडीपी साल 2015-16 के लिए 7.5 फीसदी रहने का अनुमान लगाया था। वहीं, विश्व बैंक ने जीडीपी की दर 7.3 फीसदी का अनुमान लगाया था।

जीडीपी आंकड़ों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उद्योग मंडल फिक्की के अध्यक्ष हर्षवर्धन नेवतिया ने कहा, “इससे भी ज्यादा उत्साहजनक बात यह है कि साल 2015-16 की चौथी तिमाही में वृद्धि दर 7.9 रहने के बाद अर्थव्यस्था में आगे तेजी का संकेत मिल रहा है।”

उद्योग मंडल एसोचैम ने जीडीपी आंकड़ों को उत्साहजनक बताया है। एसौचैम के अध्यक्ष सुनील कनोरिया ने कहा, “जीडीपी के आंकड़े भारतीय अर्थव्यवस्था की मजबूत तस्वीर दिखाते हैं। लेकिन कुछ अन्य सूक्ष्म संकेतक इसे बढ़ावा देते प्रतीत नहीं हो रहे हैं जैसे बैंक के ऋणों की मांग, ग्रामीण मांग और कारखानों में उत्पादन आदि।”

कोटक महिंद्रा बैंक ने जीडीपी के आंकड़ों को उम्मीद के अनुरूप बताते हुए कहा है कि निजी उपभोग को रफ्तार मिलने का मुख्य कारण निवेश से होने वाले खर्चो में बढ़ोतरी की बजाए कॉरपोरेट कंपनियों द्वारा भारी लाभांश भुगतान है।

कोटक महिंद्रा की अर्थशी उपासना भारद्वाज ने कहा, “कुल मिलाकर पूंजीगत माल के उत्पाद में कमजोरी और क्षमता विस्तार में कमी अर्थव्यवस्था को पीछे खींचते रहेगी। अगले कुछ तिमाहियों तक निजी पूंजी का निवेश कम ही होगा और अर्थव्यवस्था पूरी तरह से सरकार के निवेश और खर्च पर निर्भर करेगी।”

wefornews bureau

 

व्यापार

सेंसेक्स 593 अंक उछला, 11200 के ऊपर बंद हुआ निफ्टी

Published

on

sensex

घरेलू शेयर बाजार में सोमवार को लगातार दूसरे सत्र में जोरदार तेजी दर्ज की गई। सेंसेक्स बीते सत्र के मुकाबले 593 अंक चढ़कर 37,982 के करीब बंद हुआ और निफ्टी 177 अंकों की तेजी के साथ 11,228 के करीब ठहरा।

अनलॉक-5 से पहले घरेलू शेयर बाजार गुलजार हुआ है। लगातार दो सत्रों में सेंसेक्स 1,400 अंकों से ज्यादा उछला और निफ्टी में 400 अकों से ज्यादा की तेजी आई है।

सेंसेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 592.97 अंकों यानी 1.59 फीसदी की तेजी के साथ 37,981.63 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी बीते सत्र से 177.30 अंकों यानी 1.60 फीसदी की तेजी के साथ 11,227.55 पर बंद हुआ।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र से 367.59 अंकों की तेजी के साथ 37,756.25 पर खुला और 38,035.87 तक चढ़ा, जबकि दिनभर के कारोबार के दौरान सेंसेक्स का निचला स्तर 37,544.05 रहा।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी पिछले सत्र से 90.60 अंकों की बढ़त के साथ 11,140.85 पर खुला और 11,239.35 तक उछला, जबकि दिनभर के कारोबार के दौरान निफ्टी का निचला स्तर 11,050.25 रहा।

बीएसई मिडकैप सूचकांक पिछले सत्र से 384.29 अंकों यानी 2.68 फीसदी की तेजी के साथ 14,720.97 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉलकैप सूचकांक 367.67 अंकों यानी 2.54 फीसदी की तेजी के साथ 14,863.25 पर बंद हुआ।

सेंसेक्स के 30 शेयरों में 27 शेयरों में तेजी रही, जबकि तीन शेयर गिरावट के साथ बंद हुए। सेंसेक्स के सबसे ज्यादा तेजी वाले पांच शेयरों इंडसइंड बैंक (7.83फीसदी), बजाज फाइनेंस (6.29 फीसदी), एक्सिस बैंक (5.83 फीसदी), पावरग्रिड (4.51 फीसदी) और ओएनजीसी (4.35 फीसदी) शामिल रहे। सेंसेक्स के तीन गिरावट वाले शेयरों में हिंदुस्तान यूनीलीवर (0.66 फीसदी), इन्फोसिस (0.15 फीसदी) और नेस्ले इंडिया (0.12 फीसदी) शामिल रहे।

बीएसई के सभी 19 सेक्टरों में तेजी दर्ज की गई। बीएसई के सबसे ज्यादा तेजी वाले पांच सेक्टरों में पावर (3.40 फीसदी), बैंक इंडेक्स (3.38 फीसदी), ऑटो (3.00 फीसदी), रियल्टी (2.98 फीसदी) और युटिलिटीज (2.85 फीसदी) शामिल हैं।

आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

29 सितंबर से शुरू होने वाली RBI की MPC बैठक टली

Published

on

rbi

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास की अगुवाई में 29 सितंबर से होने वाली मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) बैठक टल गई है। शीघ्र ही नई तारीख की घोषणा होगी। पहले आरबीआई एक अक्तूबर को बैठक के फैसलों का खुलासा करने वाला था।

रेपो रेट में कटौती की गुंजाइश कम
अधिकतर विशेषज्ञों का मानना है कि रेपो रेट में कटौती की गुंजाइश कम है। बाजार विश्लेषकों का कहना है कि पहली तिमाही में जीडीपी रिकॉर्ड निचले स्तर तक जाने के बाद होने वाली यह पहली बैठक काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है। 
विशेषज्ञों की राय
गवर्नर दास ने पिछले दिनों कहा था कि जरूरत के हिसाब से मौद्रिक नीतियों में बदलाव कर सकते हैं और ब्याज दरों फिर कटौती की गुंजाइश भी बनी हुई है। एसोचैम के महासचिव दीपक सूद ने कहा कि आरबीआई को ब्याज दरें घटाने का सिलसिला जारी रखना चाहिए। यूनियन बैंक के एमडी-सीईओ राजकिरन राय ने कहा, महंगाई के दबाव में रेपो घटाना संभव नहीं लग रहा है।

चार साल का होता है बाहरी सदस्यों का कार्यकाल
हालांकि बैंक ने बैठक टालने के पीछे की वजह का खुलासा नहीं किया है। नए बाहरी सदस्यों पर समिति को सरकार के फैसले का इंतजार है। आरबीआई एक्ट के अनुसार, एमपीसी में बाहरी सदस्यों का कार्यकाल चार साल का होता है। एमपीसी अक्तूबर 2016 में बनी थी।

Continue Reading

व्यापार

कोरोना के कारण ढाका, चटगांव में 68 प्रतिशत लोगों ने गंवाया रोजगार

Published

on

employment crisis in india 2018-19

ढाका, 28 सितम्बर (आईएएनएस)। बांग्लादेश के शहरी क्षेत्रों ढाका और चटगांव में काम करने वाले लोगों में से लगभग 68 प्रतिशत लोग कोरोनोवायरस महामारी के कारण अपना रोजगार गंवा चुके हैं। विश्व बैंक की एक नई रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है।

समाचार पत्र द डेली स्टार ने सर्वे लूजिंग लाइवलीहुड्स : द लेबर मार्केट इम्पैक्ट ऑफ कोविड-19 इन बांग्लादेश के हवाले से सोमवार को बताया कि राजधानी में रोजगार गंवाने वाले लोगों की दर जहां 76 प्रतिशत हैं, वहीं बंदरगाह शहर में 59 प्रतिशत है।

इसने बताया कि झुग्गी इलाकों में यह सबसे ज्यादा 71 प्रतिशत देखा गया। वहीं, नॉन-स्लम इलाकों में यह 61 प्रतिशत रहा। इसने कहा कि अपनी पिछली नौकरियों को फिर से जॉइन करने की उम्मीद कर रहे कुछ लोग शायद ऐसा न कर पाएं, इस प्रकार वास्तव में नौकरी गंवाने वालों की संख्या और ज्यादा हो सकती है।

ढाका में, चार में से एक उत्तरदाता ने इंटरव्यू से पहले, सप्ताह में सक्रिय रूप से काम नहीं करने की बात कही, लेकिन 25 मार्च से पहले काम किया था। यह आंकड़ा चटगांव में 22 प्रतिशत था।

विश्व बैंक की रिपोर्ट के अनुसार, आय का नुकसान तीन क्षेत्रों में व्यापक रहा।

ढाका और चटगांव में, लगभग 80 प्रतिशत मजदूरी कर कमाने वाले और 94 प्रतिशत व्यापारियों ने कहा कि उनकी कमाई सामान्य से कम रही।

कोविड-19 की मार से पहले सामान्य आय की तुलना में वेतनभोगियों और दैनिक श्रमिकों की आय में लगभग 37 प्रतिशत की गिरावट आई। यह गिरावट ढाका में 42 फीसदी और चटगांव में 33 फीसदी रही।

द डेली स्टार ने रिपोर्ट के हवाले से कहा कि महिला श्रमिकों की भागीदारी की कम दरों को देखते हुए, महिलाएं महामारी से अत्यधिक प्रभावित हुई मालूम पड़ती हैं और उन्होंने अपेक्षाकृत ज्यादा काम गंवाया है।

आय के नुकसान से निपटने के लिए, 69 प्रतिशत परिवारों ने अपने भोजन के सेवन की मात्रा को कम किया और इतनी ही संख्या में लोगों ने अपने दोस्तों की मदद ली।

विश्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार, सर्वे में 38 प्रतिशत घरों को सरकारी मदद मिली, जबकि 42 प्रतिशत ने अपनी बचत का इस्तेमाल किया।

इसने बताया कि इस बीच, नौकरी के बाजार में अनिश्चितता, तनाव और चिंता पैदा कर रहे हैं जो आगे चलकर महामारी से जुड़े स्वास्थ्य प्रभावों को बढ़ा सकते हैं, विशेष रूप से मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं।

दोनों शहरों के गरीब इलाकों में, 10 में से आठ वयस्कों को तनाव या चिंता से गुजरना पड़ा, जिससे उनकी दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को पूरा करने की क्षमता प्रभावित हुई।

Continue Reading
Advertisement
राष्ट्रीय51 mins ago

दिल्ली में कोरोना के 1984 नए केस, 37 की मौत

Jammu and Kashmir Shopian Indian Army
राष्ट्रीय53 mins ago

CAPF के दिव्यांग जवानों और शहीदों के आश्रितों को ‘सैन्य कर्मियों’ की तर्ज पर केरल सरकार देगी पक्की नौकरी

राजनीति1 hour ago

कृषि विधेयकों को खारिज करने के लिए कानूनों पर विचार करे कांग्रेस शासित राज्य : सोनिया गांधी

Court
राष्ट्रीय1 hour ago

मोइन कुरैशी मामले में 3 पूर्व प्रमुखों से पूछताछ न करने पर सीबीआई की खिंचाई

Amarinder Singh
राजनीति1 hour ago

कृषि कानून: अमरिंदर बोले- मेरा ट्रैक्टर, मैं फूंक रहा हूं तो किसी और को क्या तकलीफ?

KC Venugopal
राजनीति1 hour ago

कांग्रेस का राज्य सरकारों को निर्देश, कृषि विधेयकों के खिलाफ पारित कराएं बिल

Adhir Ranjan
राजनीति1 hour ago

बिहार की राजनीति का शिकार हुई रिया की फैमिली, ‘रॉबिनहुड’ ले रहे आशीर्वाद : अधीर रंजन

राष्ट्रीय1 hour ago

कोरोना: अहमदाबाद में रात 10 बजे के बाद सबकुछ बंद, आपातकालीन सेवाएं रहेंगी जारी

Farmers rabi crops
राष्ट्रीय2 hours ago

महाराष्ट्र ने अगस्त में ही लागू कर दिया था कृषि विधेयक

राष्ट्रीय2 hours ago

पश्चिम बंगाल में संविधान की रक्षा नहीं हुई तो मुझे करनी पड़ेगी कार्रवाई: राज्यपाल

Mayawati
राजनीति3 weeks ago

मायावती शासन की अनियमितताओं पर शुरू होगी कार्रवाई

राजनीति1 week ago

किसान बिल पर हंगामे के चलते राज्यसभा के 8 सांसद निलंबित

Sonia Gandhi and Rahul
ब्लॉग3 weeks ago

कांग्रेस की बीमारियां उन्हें क्यों सता रहीं जिन्होंने इसे वोट दिया ही नहीं?

Blood Pressure machine
लाइफस्टाइल4 weeks ago

हाई-ब्लड प्रेशर, हाइपरटेंशन में वायु प्रदूषण का योगदान : शोध

Rhea-
मनोरंजन3 weeks ago

सुशांत केस : ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती को भेजा गया मुंबई जेल

former president pranab-mukjerjee
राष्ट्रीय4 weeks ago

भारत रत्न पूर्व राष्ट्रपति का 84 साल की उम्र में निधन

Rhea Chakraborty
मनोरंजन4 weeks ago

सुशांत मामला : रिया से आज फिर पूछताछ करेगी सीबीआई

Supreme Court
राष्ट्रीय3 weeks ago

लोन मोरेटोरियम केस: SC ने कहा- आखिरी सुनवाई से पहले जवाब दाखिल करे सरकार

Face-Shield
लाइफस्टाइल4 weeks ago

‘फेस शील्ड और एन-95 मास्क मिलकर भी कोरोना को नहीं रोक सकता’

अंतरराष्ट्रीय4 weeks ago

मॉडर्ना जापान को कोविड वैक्सीन की 4 करोड़ खुराक की करेगी आपूर्ति

8 suspended Rajya Sabha MPs
राजनीति7 days ago

रात में भी संसद परिसर में डटे सस्पेंड किए गए विपक्षी सांसद, गाते रहे गाना

Ahmed Patel Rajya Sabha Online Education
राष्ट्रीय1 week ago

ऑनलाइन कक्षाओं के लिए गरीब छात्रों को सरकार दे वित्तीय मदद : अहमद पटेल

Sukhwinder-Singh-
मनोरंजन1 month ago

सुखविंदर की नई गीत, स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश को समर्पित

Modi Independence Speech
राष्ट्रीय1 month ago

Protected: 74वें स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी का भाषण, कहा अगले साल मनाएंगे महापर्व

राष्ट्रीय2 months ago

उत्तराखंड में ITBP कैम्‍प के पास भूस्‍खलन, देखें वीडियो

Kapil Sibal
राजनीति4 months ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय5 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर5 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य6 months ago

WHO को दिए जाने वाले अनुदान पर रोक को लेकर टेडरोस ने अफसोस जताया

Sonia Gandhi Congress Prez
राजनीति6 months ago

PM Modi के संबोधन से पहले कोरोना संकट पर सोनिया गांधी का राष्ट्र को संदेश

Most Popular