बेल्जियम में आतंकवाद के संदेह में 12 गिरफ्तार | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

बेल्जियम में आतंकवाद के संदेह में 12 गिरफ्तार

Published

on

बेल्जियम

बेल्जियम पुलिस ने राजधानी ब्रसेल्स में मार्च के महीने में हुए बम हमलों के बाद आतंकवाद के खिलाफ चलाए गए एक बड़े अभियान में 12 संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। अभियोजन पक्ष ने कहा कि शुक्रवार रात हिरासत में लिए गए संदिग्धों पर आतंकवादी हमले की साजिश करने का संदेह है।

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, वे उन 40 लोगों में शामिल हैं, जिन्हें पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है।

खोज अभियान 16 नगरपालिकाओं, मुख्य रूप से ब्रसेल्स के आसपास चलाया गया। इस दौरान 152 लॉक-अप गैराजों में तलाशी ली गई।

ब्रसेल्स में जेवेंतम हवाईअड्डे और मालबीक मेट्रो स्टेशन पर 22 मार्च को हुए हमले में 34 लोगों की जान चली गई थी।

wefornews bureau

keywords: 12 arrested,Belgium, suspicion,terrorism,बेल्जियम,आतंकवाद, संदेह ,12 गिरफ्तार

अंतरराष्ट्रीय

संसद सदस्यों ने सीनेट को सौंपा ट्रंप के खिलाफ महाभियोग आरोपपत्र

Published

on

Donald Trump
File Photo

अमेरिकी हाउस ऑफ रिप्रेंजेटेटिव्स का एक प्रतिनिधिमंडल सोमवार को सीनेट चेम्बर पहुंचा और वह आरोपपत्र पेश किया जिसमें पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को अमेरिकी संसद भवन (कैपिटल) पर हिंसा भड़काने के लिए अपने पार्टी कार्यकर्ताओं को उकसाने का आरोपी बनाया गया है।

इस प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई हाउस ऑफ रिप्रेंजेटेटिव्स के सदस्य जेमी रस्कीन कर रहे थे। उन्होंने सीनेट को ट्रंप के खिलाफ चलाए जाने वाले महाभियोग मामले से संबंधित आरोपपत्र पढ़कर सुनाया।

गौरतलब है कि अमेरिका के इतिहास में डोनाल्ड ट्रंप एकमात्र ऐसे राष्ट्रपति हैं जिन पर दो बार महाभियोग का मामला चलाया गया है। इस मामले में पहली सुनवाई 8 फरवरी को होनी है।

ट्रंप पर यह आरोप है कि उन्होंने 6 जनवरी को अपने हजारों समर्थकों को अमेरिकी संसद भवन (कैपिटल) पर धावा बोलने के लिए उकसाया। बहरहाल, ट्रंप के खिलाफ महाभियोग मामले में कैरोलाइना के प्रख्यात वकील बुच बॉवर्स उनका बचाव करेंगे। बॉवर्स भारतीय मूल की अमेरिकी नेता निक्की हेली के लिए भी 2012 में केस लड़ चुके हैं।

आईएएनएस

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

15 घंटे चली नौंवे दौर की वार्ता, भारत ने कहा- चीन को पूरी तरह से हटना पड़ेगा पीछे

Published

on

india china ladakh border-min
File Photo

भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर पिछले साल मई की शुरुआत से गतिरोध जारी है। इसी तनाव को कम करने के लिए रविवार को मोल्डो में भारत और चीन ने नौंवे दौर की कॉर्प्स कमांडर स्तर की वार्ता की जो देर रात ढाई बजे तक चली।

15 घंटे तक चली इस वार्ता में सीमा पर तनाव कम करने को लेकर बातचीत हुई। इस बातचीत से पहले वायुसेनाध्यक्ष एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने चीन को दो टूक कह दिया था कि भारत को भी आक्रामक होना आता है।

बातचीत के बारे में जानकारी रखने वाले लोगों का कहना है कि वार्ता के दौरान भारत ने इस बात पर जोर दिया है कि टकराव वाले क्षेत्रों में डिसइंगेजमेंट और डी-एस्केलेशन की प्रक्रिया को आगे बढ़ाना चीन के ऊपर है। इसके लिए भारत ने एक व्यावहारिक रोडमैप पेश किया। इसके तहत पहले चरण में पेंगोंग त्सो, चुशुल और गोगरा-हॉट्सप्रिंग क्षेत्रों में मौजूद तनाव बिंदुओं पर यथास्थिति बहाल की जाए।

इससे पहले भारत और चीन के बीच छह नवंबर को आठवें दौर की वार्ता हुई थी। इसमें दोनों पक्षों ने टकराव वाले खास स्थानों से सैनिकों को पीछे हटाने पर व्यापक चर्चा की थी। बता दें कि पिछले नौ महीनों से दोनों देशों के बीच सीमा विवाद जारी है। पूर्वी लद्दाख में दोनों तरफ से सेना और हथियारों की भारी तैनाती की गई है। भारत ने चीन की किसी भी हरकत का जवाब देने के लिए सीमा पर आर्टिलरी गन, टैंक, हथियारबंद वाहन तैनात कर रखे हैं।

WeForNews

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

पीएम केपी शर्मा ओली को सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी से हटाया

Published

on

KP Sharma Oli
File Photo

नेपाल के कार्यवाहक प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को कम्युनिस्ट पार्टी से हटा दिया गया है साथ ही उनकी सदस्यता भी रद्द कर दी गई है। समाचार एजेंसी एएनआई ने स्प्लिन्टर समूह के प्रवक्ता नारायण काजी श्रेष्ठ के हवाले से इसकी पुष्टि की है। बता दें कि ओली के खिलाफ पार्टी में काफी समय से बगावत के सुर बुलंद हो रहे थे।

इससे पहले एनसीपी के अलग गुट के नेता पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ ने शुक्रवार को राजधानी काठमांडो में एक बड़ी सरकार विरोधी रैली निकाली थी। इस रैली में उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली द्वारा संसद को अवैध तरीके भंग किए जाने से देश की संघीय लोकतांत्रिक प्रणाली के लिए गंभीर खतरा पैदा हो गया है।

उन्होंने कहा था कि ओली ने न केवल पार्टी के संविधान और प्रक्रियाओं का उल्लंघन किया है बल्कि नेपाल के संविधान की मर्यादा को भी क्षति पहुंचाई है और लोकतांत्रिक प्रणाली के विरुद्ध काम किया है।

Continue Reading

Most Popular