कितना मुनासिब है नीतीश के मंत्रियों की शैक्षिक योग्यता की खिल्ली उड़ाना? | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

Published

on

बिहार में नवगठित नीतीश सरकार के मंत्रियों की ‘शैक्षिक योग्यता’ का सोशल मीडिया पर ख़ूब मज़ाक उड़ाया जा रहा है. ये बात बहुत महत्वपूर्ण है. क्योंकि सोशल मीडिया आज समाज का आईना बन चुका है. खिल्ली तो लालू यादव के नौवीं फेल बेटे तेज प्रकाश की भी उड़ी क्योंकि उसने ‘अपेक्षित’ और ‘उपेक्षित’ बोल दिया. विरोधियों ने उपहास उड़ाया कि उन्हें इन शब्दों का फ़र्क़ ही नहीं मालूम. हालाँकि, ऐसे उदार विरोधी भी सामने आये, जिन्होंने इसे अज्ञानता की जगह ‘ज़ुबान के फ़िसलने’ (Slip of tongue) के रूप में देखा. यही तरीक़ा सही भी है. लेकिन मंत्रियों की ‘शैक्षिक योग्यता’ को लेकर हो रहे उपहास की समीक्षा भी ज़रूरी है. उपहास की ये प्रवृत्ति सदियों पुरानी है. इसकी जड़ें बहुत गहरी हैं. इसका मनोविज्ञान बहुत गूढ़ (Complicated) है.

भारत में तरह-तरह की शैक्षिक ‘डिग्री’ हासिल करने वालों में ये अहंकार और दुराग्रह ख़ूब दिखायी देता है कि जिनके पास डिग्रियाँ नहीं हैं वो नाक़ाबिल हैं. नाक़ाबिल, श्रेष्ठ कैसे हो सकता है! क़ाबिलों का ‘बॉस’ कैसे बन सकता है! इसीलिए नाक़ाबलियत का उपहास उड़ाया जाता है. किसी ज़माने में ब्राह्मणों को छोड़ अन्य किसी को वेद पढ़ने की छूट नहीं थी. कालान्तर में समाज में जाति के नाम पर जो छुआछूत की परम्परा चली, उसमें मर्म में भी जातिगत उपहास ही था. इसीलिए उपहास एक सामन्तवादी और वर्ण-व्यवस्था वाली मनो-विकृति (Mental Deformity) है. नौकरशाहों ने इसे व्यापक स्तर पर फैला रखा है. इससे वो अपनी नाकामियों पर पर्दा डालते हैं. बड़ी चतुराई से अपनी हरेक ख़ामी को सियासी व्यवस्था पर थोप देते हैं. यही अलग-अलग कामों को ‘छोटा’ और ‘बड़ा’ बनाता है.

इसीलिए जब राजनीति के ज़रिये ‘डिग्री-हीन’ नेता, नौकरशाहों के आक़ा बन जाते हैं तो वो इसे अपनी डिग्रियों का उपहास और अपमान समझते हैं. प्रतिकार में नेतागिरी का उपहास बनाते हैं. व्यवस्था की हरेक ख़ामी के लिए इन्हीं सियासी आक़ाओं और उनकी ‘योग्यता’ को ज़िम्मेदार ठहराते हैं. ताकि नेताओं का चरित्र-हनन करके नौकरशाह अपना उल्लू सीधा करते रहें. नौकरशाह अपने इस मक़सद में पूरी तरह से कामयाब रहे हैं. यही वजह है कि भारत में नेताओं की तो जबावदेही है, लेकिन नौकरशाही की कोई जबाबदेही नहीं. रिश्वतख़ोरी, हरामख़ोरी, निरंकुश सत्ता, दबंगई और कुर्सी का अहंकार को नौकरशाही अपना हक़ और कर्त्तव्य समझती है. नौकरशाही की ये प्रवृत्ति गहरे चिन्तन का नतीज़ा है. देश की तमाम समस्याओं की जड़ इसी प्रवृत्ति और चिन्तन में है.

संविधान निर्माताओं ने सामन्तवाद और वर्ण-व्यवस्था से पनपने वाली हरेक बीमारी को दूर से ही पहचान लिया था. इसीलिए उन्होंने निर्वाचित प्रतिनिधियों के लिए ‘शैक्षिक योग्यता’ का कोई विधान नहीं बनाया. सिर्फ़ एक कसौटी है, ‘जिस पर जनता को भरोसा हो, वही उसका नुमाइन्दा है.’ भरोसे से बढ़कर कुछ भी नहीं. यही पर्याप्त है. सर्वोपरि है. अकाट्य है. अटल है. इसीलिए नेतागिरी की कोई उम्र सीमा नहीं है. अन्य शर्तों का कोई वज़ूद नहीं है. सिवाय इसके, कि उम्मीदवार भारत का नागरिक हो, एक ख़ास उम्र का हो और मानसिक रूप से ठीक हो. व्यावहारिक जीवन में भी ऐसा ही है. आपके पास डिग्री भले ही न हो, ओलम्पिक पदक हो सकता है. आप बिज़नेस और रोज़गार में बहुत कामयाब हो सकते हैं. सफ़ल उद्यमी हो सकते हैं. इसीलिए नेतागिरी में भी अहम मुक़ाम हासिल कर सकते हैं. बस, आप पर लोगों का भरोसा होना चाहिए.

नौकरशाही को आमतौर पर, जनता के विश्वास और भरोसे से कोई लेना-देना नहीं होता. उसे जनता से मिलने वाले स्नेह और सम्मान की कोई कद्र नहीं होती. क्योंकि वो जनता का ही तो शोषण करती है. इन्हें ठेंगे पे रखती है. इसीलिए जनता भी सिर्फ़ ‘कुर्सी’ को अहमियत देती है. कुर्सी गयी तो जलाल गया, वैभव गया. नौकरशाही को क़ानून के मुताबिक़ चलने के लिए बनाया गया है. जबकि क़ानून बनाना नेतागिरी का काम है. दोनों एक-दूसरे पर अंकुश लगाने के लिए भी बने हैं. नेतागिरी का काम है सही क़ानून बनाना. जबकि नौकरशाही का काम है ग़लत क़ानून नहीं बनने देना. नेतागिरी का दायित्व ये देखना भी है कि क्या क़ानून और नौकरशाही अपना काम सही तरीक़े से कर रही है? यदि नहीं, तो उसकी दिक़्कतें दूर करने का दारोमदार भी नेतागिरी पर ही है. इसीलिए इसे सत्ता या सरकार कहते हैं. जहाँ सत्ता की लग़ाम जनता के हाथों में है, वहाँ लोकतंत्र है.

आज़ादी के बाद देश में शिक्षा और रोज़गार के जिन नये क्षेत्रों का विस्तार हुआ उनमें ‘औपचारिक रूप से शिक्षित’ लोगों को अच्छे अवसर मिले. कालान्तर में यही ‘शिक्षित’ लोग सरकारी या ग़ैर-सरकारी क्षेत्र में नौकरशाही का हिस्सा बने. उन्होंने विभिन्न रोज़गारों के लिए अलग-अलग शैक्षिक योग्यता तय की. जिसके पास ख़ास तरह की शैक्षिक योग्यता या डिग्री नहीं होगी वो ख़ास तरह के काम के लिए अयोग्य होगा. देखते ही देखते समाज, औपचारिक डिग्रियों यानी सनद रूपी प्रतीकों के साथ जीने लगा. लोगों को ये घुट्टी पिलायी गयी कि डिग्री और योग्यता एक-दूसरे के पर्याय हैं. लिहाज़ा, जिसके पास डिग्री नहीं है, जो अँग्रेज़ी बोलना-लिखना नहीं जानता, जो शुद्ध लिखना-पढ़ना नहीं जानता, वो अयोग्य है.

संविधान की तरह ही समाज भी डिग्रीधारियों की श्रेष्ठता को बनावटी मानता है. इसीलिए अपना प्रतिनिधि चुनते वक़्त वो इस बात को नकार देता है कि जो डिग्रीधारी हैं, वही क़ाबिल हैं. जनता को वंशवाद से भी कोई लेना-देना नहीं है. सैकड़ों-हज़ारों नेताओं की सन्तानों को उसने ठुकरा दिया. कुछ ही भाग्यशाली नेता हैं, जिनकी औलादें नेतागिरी में अपने पैर जमा सकीं. सियासी वंशवाद भी आपको सिर्फ़ तेज़ पहचान दिलवा सकता है. जैसे किसी फ़िल्मी हस्ती, कलाकार और खिलाड़ी वग़ैरह को जनता जल्दी पहचान लेती है. क्योंकि वो जीवन के दूसरे क्षेत्रों से प्रसिद्धि लेकर राजनीति में आते हैं. बाक़ी पैमाने तो सबके लिए बराबर ही हैं.  सबको चुनाव जीतना पड़ता है. जनता का भरोसेमन्द बनना पड़ता है. यही असली विधान है. बाक़ी सब झूठ है.

अब ज़रा नीतीश के मंत्रियों का ब्यौरा देखकर ये समझिए कि आख़िर जनता की नज़र में उस शैक्षिक योग्यता का क्या महत्व है जिसे नौकरशाही अपनी सबसे बड़ी विशेषज्ञता समझती है. इसी को लेकर कुंठित रहती है. नयी कुंठा ये भी है कि ऐसा ‘बिहार’ में ही हो सकता है. जबकि हक़ीक़त ये है कि ऐसा देश-व्यापी है. आज़ाद भारत में हमेशा कम या ज़्यादा दिखायी देता रहा है. तमाम ‘अशिक्षित’ या ‘कम शिक्षित’ नेता जनता के भरोसेमन्द बनते रहे हैं. नीतीश मंत्रिमंडल की इस सूची का एक और सन्देश है कि यदि ‘शिक्षित’ लोग राजनीति के थपेड़े झेलने के लिए आगे नहीं आएँगे तो उन्हें ‘अशिक्षित’ लोगों के मातहत रहना पड़ेगा. क्योंकि राजनीति में कभी निर्वात (Vacuum) नहीं होता. ‘अच्छे’ लोग आगे नहीं आएँगे तो ‘ख़राब’ को कोई रोक नहीं सकता. इसीलिए ‘ख़राब’ का रोना व्यर्थ है.

1. नीतीश कुमार, मुख्यमंत्री, गृह, सामान्य प्रशासन और सूचना एवं जनसम्पर्क (इंज़ीनियर); 2. तेजस्वी यादव, उप मुख्यमंत्री, पथ निर्माण, भवन निर्माण और पिछड़ा-अतिपिछड़ा कल्याण (9वीं); 3. तेज प्रताप यादव, स्वास्थ्य, लघु सिंचाई, पर्यावरण (12वीं); 4. अब्दुल बारी सिद्दीकी, वित्त (12वीं); 5. विजेन्द्र प्रसाद यादव, ऊर्जा (10वीं); 6. राजीव रंजन उर्फ़ लल्लन सिंह, जल संसाधन (स्नातक); 7. मंजू वर्मा, समाज कल्याण (12वीं); 8. मदन मोहन झा, राजस्व एवं भूमि सुधार (डॉक्टरेट); 9. मदन साहनी,  खाद्य-आपूर्ति (स्नातक); 10. अशोक चौधरी, शिक्षा एवं आईटी (डॉक्टरेट); 11. विजय प्रकाश, श्रम संसाधन (स्नातकोत्तर); 12. राम विचार राय, कृषि (10वीं); 13. कपिल देव कामत, पंचायती राज (8वीं); 14. सन्तोष निराला, एससी-एसटी कल्याण (स्नातक); 15. अब्दुल जलील मस्तान, उत्पाद एवं निबन्धन (12वीं); 16. अब्दुल गफ़ूर, अल्पसंख्यक कल्याण (डॉक्टरेट); 17. चन्द्रिका राय,  परिवहन (स्नातकोत्तर); 18. महेश्वर हज़ारी, नगर विकास (स्नातक); 19. चन्द्रशेखर, आपदा प्रबन्धन (स्नातकोत्तर); 20. जय कुमार सिंह, उद्योग, विज्ञान-तकनीकी (स्नातक); 21. अनीता देवी, पर्यटन (स्नातक); 22. अवधेश सिंह, पशु पालन (स्नातक); 23. मुनेश्वर चौधरी, खनन एवं भूतत्व (स्नातक); 24. कृष्ण नन्दन वर्मा, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी एवं क़ानून (स्नातक); 25. ख़ुर्शीद उर्फ़ फ़िरोज़ अहमद, गन्ना उद्योग (10वीं); 26. शैलेश कुमार, ग्रामीण कार्य अभियंत्रण (स्नातकोत्तर); 27. आलोक मेहता, सहकारिता (स्नातक); 28. श्रवण कुमार, ग्रामीण विकास (12वीं); 29. शिवचन्द्र राम, कला-संस्कृति (स्नातक).

Uncategorized

कोरोना की चपेट में आए सिंगर कुमार सानू

Published

on

kumar-sanu-

बॉलिवुड के जाने-माने सिंगर कुमार सानू कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं। 14 अक्टूबर को उन्हें परिवार से मिलने लॉस ऐंजेलिस जाना था। इस बीच उनको कोरोना हो गया तो प्लान कैंसिल करना पड़ा।

बॉम्बे टाइम्स से रीसेंट चैट में उन्होंने बताया था कि पूरे लॉकडाउन भर वह लगातार काम करते रहे हैं। 9 महीने से वह अपने परिवार से नहीं मिले। उनको परिवार से मिलने लॉस ऐंजेलिस जाना था। कुमार सानू ने बताया था, मैं अपनी पत्नी सलोनी, बेटी शैनन और ऐनाबेल से मिलने के लिए बेकरार हूं। फाइनली 20 अक्टूबर को उनके साथ अपना बर्थडे मनाऊंगा। कुमार सानू ने यह भी कहा था कि दिसंबर में वाइफ का बर्थडे मनाकर मुंबई लौटेंगे।

हालांकि कोरोना की वजह से उन्हें प्लान कैंसिल करने पड़े। सोर्सेज के मुताबिक, बीएमसी ने वो फ्लोर सील कर दिया है जिसमें कुमार सानू रहते हैं। लॉस ऐंजेलिस से उनकी पत्नी सलोनी ने बताया, अगर उन्हें ठीक लगा तो 8 नवंबर तक वह यूएस आएंगे। फिलहाल वह क्वॉरंटीन हैं। वह हम लोगों से मिलने के लिए बीते 9 महीने से तड़प रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर वह नहीं आ पाएंगे तो आने वाले सारे त्योहार सेलिब्रेट करने पूरा परिवार उनके पास मुंबई आ जाएगा।

Continue Reading

Uncategorized

बिहार : कोरोना संक्रमितों की संख्या हुई 1.71 लाख, रिकवरी रेट 91.60 फीसदी

Published

on

Coronavirus

बिहार में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1,71,465 तक पहुंच गई है। बिहार में मंगलवार को 1,609 नए मामले सामने आए। राज्य में पिछले 24 घंटों के दौरान 3 संक्रमितों की मौत हुई है, जबकि रिकवरी रेट 91़ 60 प्रतिशत तक पहुंच गया है।

Continue Reading

Uncategorized

संसद में घमासान के बीच पवार-ठाकरे को आयकर का नोटिस, चुनावी हलफनामे पर सवाल

Published

on

NCP chief Sharad Pawar interacts with Shiv Sena chief Uddhav Thackeray

संसद में सरकार और विपक्ष के बीच राजनीतिक घमासान जारी है। इसी बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार को आयकर विभाग ने नोटिस भेजा है। उन्हें यह नोटिस पिछले चुनाव में दिए गए हलफनामे को लेकर भेजा गया है।

इसके अलावा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, मंत्री आदित्य ठाकरे, एनसीपी नेता सुप्रिया सुले को भी आयकर ने नोटिस भेजा है।

जानकारी के अनुसार, आयकर विभाग की तरफ से इस नोटिस के जरिए पिछले कुछ चुनावों में दाखिल किए गए हलफनामे की जानकारी मांगी गई है। नोटिस मिलने को लेकर जब पवार से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि वो लोग (नोटिस भेजने वाले) कुछ लोगों को ज्यादा चाहते हैं।

बता दें कि पिछले काफी समय से भाजपा और महाराष्ट्र सरकार के बीच तनातनी चल रही है। इसी बीच आयकर विभाग ने नेताओं को नोटिस भेजा है। इतना ही नहीं शरद पवार और शिवसेना ने लगातार कृषि विधेयकों का विरोध किया है। वहीं एनसीपी प्रमुख ने निलंबित राज्यसभा सांसदों के प्रति एकजुटता दिखाने के लिए एक दिन का उपवास रखने की घोषणा की है।

Continue Reading
Advertisement
Farmers and Traffic
राष्ट्रीय3 hours ago

Farmers Protest: नोएडा-दिल्ली सीमाओं पर यातायात प्रभावित

P Chidambaram
राजनीति5 hours ago

चिदंबरम के खिलाफ एयरसेल मैक्सिस मामले में अनावयक जांच सुस्त

Farmers Union Leader
राष्ट्रीय5 hours ago

गाजीपुर बॉर्डर से BKU के नेता सिंघु बॉर्डर रवाना, बैठक में लेंगे हिस्सा

Rahul Gandhi
राजनीति6 hours ago

किसान आंदोलन को लेकर राहुल का PM मोदी पर हमला, कहा- ‘जागिए अहंकार की कुर्सी से उतरकर सोचिए’

Congress Senior leader and former Madhya Pradesh Chief Minister Digvijay Singh
चुनाव6 hours ago

मप्र : कांग्रेस नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव में नई पीढ़ी पर लगाएगी दांव

Farmers Protest Animal
राष्ट्रीय6 hours ago

गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों के प्रदर्शन में अब जानवरों की एंट्री

pfizer-biontech-vaccine
स्वास्थ्य7 hours ago

Coronavirus: ब्रिटेन में अगले हफ्ते से उपलब्ध होगी फाइजर की वैक्सीन

मनोरंजन7 hours ago

किसान आंदोलन: फिर विवादों में कंगना रणौत, अब वकील ने भेजा कानूनी नोटिस

Farmers on Protest
राष्ट्रीय8 hours ago

किसान आंदोलन 7वें दिन जारी, सिंघु बॉर्डर पर चल रही संगठनों की बैठक

Corona Test-min
राष्ट्रीय9 hours ago

माघ मेला में ड्यूटी करने वाले पुलिसकर्मियों का होगा कोविड-19 परीक्षण

राजनीति4 weeks ago

ट्रंप के बेटे ने पोस्ट किया विवादित नक्शा, उमर अब्दुल्ला-थरूर ने कसा तंज

Bihar Election Results
चुनाव3 weeks ago

“अबकी बार किसका बिहार?”, ये 12 सीटें जिन पर होंगी सबकी नजर

shivraj-scindia-kamal-Nath
चुनाव3 weeks ago

मध्य प्रदेश उपचुनाव: सिंधिया की बगावत बचाएगी शिवराज सरकार या फिर कमलनाथ की खुलेगी किस्मत, फैसला आज

Hacker
अंतरराष्ट्रीय3 weeks ago

रूसी, उ. कोरियाई हैकर्स ने भारत में कोविड वैक्सीन निर्माता को बनाया निशाना

KBC-
मनोरंजन4 weeks ago

केबीसी के सवाल पर बिग बी के खिलाफ एफआईआर दर्ज

Shane-Watson
खेल4 weeks ago

IPL में खेलते नहीं दिखेंगे शेन वॉटसन, फ्रेंचाइजी क्रिकेट को कहा अलविदा

राष्ट्रीय4 weeks ago

बैंकों की ओर से सेवा शुल्क बढ़ाए जाने को लेकर केंद्र का कड़ा रुख

rohit sharma-virat kohli
खेल4 weeks ago

ICC ODI rankings: विराट कोहली और रोहित शर्मा शीर्ष दो स्थान पर बरकरार

कंगना रनोट
मनोरंजन4 weeks ago

कंगना और बहन रंगोली चंदेल को मुंबई पुलिस का नोटिस, 10 नवंबर तक पेश होने का आदेश

मनोरंजन4 weeks ago

ड्रग्स मामले: NCB के दफ्तर पहुंचीं दीपिका पादुकोण की मैनेजर करिश्मा

Viral Video Tere Ishq Me
Viral सच2 days ago

प्यार में युवती को मिला धोखा तो प्रेमी के घर के सामने डीजे लगाकर ‘तेरे इश्क में नाचेंगे’ पर जमकर किया डांस, देखें Viral Video

Faisal Patel
राजनीति6 days ago

फैसल पटेल ने पिता Ahmed Patel की याद में भावनात्मक वीडियो शेयर कर जताया शोक

8 suspended Rajya Sabha MPs
राजनीति2 months ago

रात में भी संसद परिसर में डटे सस्पेंड किए गए विपक्षी सांसद, गाते रहे गाना

Ahmed Patel Rajya Sabha Online Education
राष्ट्रीय2 months ago

ऑनलाइन कक्षाओं के लिए गरीब छात्रों को सरकार दे वित्तीय मदद : अहमद पटेल

Sukhwinder-Singh-
मनोरंजन4 months ago

सुखविंदर की नई गीत, स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश को समर्पित

Modi Independence Speech
राष्ट्रीय4 months ago

Protected: 74वें स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी का भाषण, कहा अगले साल मनाएंगे महापर्व

राष्ट्रीय4 months ago

उत्तराखंड में ITBP कैम्‍प के पास भूस्‍खलन, देखें वीडियो

Kapil Sibal
राजनीति6 months ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय7 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर8 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

Most Popular