Connect with us

व्यापार

थोक महंगाई दर मामूली घटकर 2.47 फीसदी हुई

Published

on

inflation

देश की मार्च महीने की थोक मूल्य आधारित महंगाई दर (डब्ल्यूपीआई) में फरवरी के मुकाबले मामूली गिरावट आई है। मार्च में थोक महंगाई दर 2.47 फीसदी रही है।

वहीं, फरवरी 2018 में यह दर 2.48 फीसदी थी। वाणिज्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, मार्च 2017 में डब्ल्यूपीआई महंगाई दर इससे दोगुनी से भी अधिक 5.11 फीसदी थी। मार्च महीने के दौरान खाद्य महंगाई दर 0.07 फीसद से घटकर (-)0.07 फीसद पर आ गई है।

वहीं सब्जियों से जुड़ी महंगाई दर 15.26 फीसद से घटकर (-) 2.7 फीसद पर आ गई है। इसके अलावा प्राइमरी आर्टिकल्स से जुड़ी महंगाई दर 0.79 फीसद से घटकर 0.24 फीसद पर आ गई है। वहीं दालों की महंगाई दर (-) 24.51 फीसद से (-) 20.58 फीसद पर आ गई है।

साथ ही अंडे और मांस से जुड़ी महंगाई दर मार्च महीने में (-) 0.22 फीसद से (-) 0.82 फीसद फीसद पर आ गई है। वहीं इसके अलावा मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की महंगाई दर 3.09 फीसद से घटकर 3.03 फीसद रही है। फ्यूल एवं पावर सेक्टर की महंगाई दर 3.80 फीसद से बढ़कर 4.70 फीसद रही है।

वहीं जनवरी महीने में थोक महंगाई 2.84 फीसद रही थी। आपको बता दें कि दिसंबर महीने में डब्ल्यूपीआई महंगाई दर घटकर 3.58 फीसद के स्तर पर आ गई थी। वहीं नवंबर महीने में यह 3.93 फीसद रही थी। गौरतलब है कि फरवरी महीने में खुदरा महंगाई दर 4 महीने के निचले स्तर पर रही है।

बता दें मार्च महीने के दौरान खाने पीने की चीजें भी सस्ती हुई हैं। मार्च महीने में खाद्य महंगाई 3.26 फीसद से घटकर 2.81 फीसद पर आ गई है। वेजिटेबल इन्फ्लेशन घटकर 11.7 फीसद पर आ गई है जो कि फरवरी महीने में 17.57 फीसद रही थी।

साथ ही  दालों की महंगाई दर (-) 13.4 फीसद रही है, जो कि फरवरी महीने में (-) 17.35 फीसद रही थी। वहीं मार्च में कोर महंगाई दर 5.30 फीसदी से घटकर 5.17 फीसदी रही है। फूड एवं बेवरेज इन्फ्लेशन 3.01 फीसद रही है जो कि फरवरी में 3.38 फीसद रही थी।

 

Wefornews Bureau

व्यापार

शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 96 अंक ऊपर

Published

on

sensex
File Photo

देश के शेयर बाजारों में गुरुवार को तेजी दर्ज की गई। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 95.61 अंकों की तेजी के साथ 34,427.29 पर और निफ्टी 39.10 अंकों की तेजी के साथ 10,565.30 पर बंद हुआ।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 71.99 अंकों की तेजी के साथ 34,403.67 पर खुला और 95.61 अंकों या 0.28 फीसदी की तेजी के साथ 34,427.29 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 34,478.82 के ऊपरी और 34,358.91 के निचले स्तर को छुआ।

सेंसेक्स के 30 में से 15 शेयरों में तेजी रही। टाटा स्टील (3.17 फीसदी), यस बैंक (2.83 फीसदी), भारती एयरटेल (2.64 फीसदी), लार्सन एंड टूब्रो (1.74 फीसदी) और पॉवरग्रिड (1.61 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही। सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे – एक्सिस बैंक (0.91 फीसदी), कोल इंडिया (0.77 फीसदी), कोटक बैंक (0.69 फीसदी), सन फार्मा (0.61 फीसदी) और हीरो मोटोकॉर्प (0.58 फीसदी)।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी तेजी रही। मिडकैप सूचकांक 105.50 अंकों की तेजी के साथ 16,873.55 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 108.69 अंकों की तेजी के साथ 18,174.44 पर बंद हुए। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी सुबह 37.45 अंकों की तेजी के साथ 10,563.65 पर खुला और 39.10 अंकों या 0.37 फीसदी की तेजी के साथ 10,565.30 पर बंद हुआ।

दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 10,572.20 के ऊपरी और 10,546.20 के निचले स्तर को छुआ। बीएसई के 19 में से 14 सेक्टरों में तेजी रही। धातु (4.46 फीसदी), आधारभूत सामग्री (2.76 फीसदी), पूंजीगत वस्तुएं (1.06 फीसदी), सूचना प्रौद्योगिकी (0.92 फीसदी) और प्रौद्योगिकी (0.88 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।

बीएसई के गिरावट वाले शेयरों में – तेल और गैस (1.31 फीसदी), उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुएं (0.86 फीसदी), ऊर्जा (0.59 फीसदी), वित्त (0.07 फीसदी) और बैंकिंग (0.04 फीसदी) शामिल रहे। बीएसई में कारोबार का रुझान सकारात्मक रहा। कुल 1,369 शेयरों में तेजी और 1,285 में गिरावट रही, जबकि 163 शेयरों के भाव में कोई बदलाव नहीं हुआ।

–आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

अब ATM से पैसा निकालना होगा महंगा, प्रति ट्रांजेक्शन 20 रुपये खर्च होंगे!

Published

on

atm
फाइल फोटो

देश के विभिन्न राज्यों में कैश की किल्लत से जूझ रहे बैंक ग्राहकों को जल्दी ही एक बड़ा झटका मिलने वाला है। 5 से अधिक एटीएम ट्रांजेक्शन करने वाले कस्टमर्स को आगे चलकर 20 रुपये प्रति ट्रांजेक्शन खर्च करने होंगे।

मौजूदा समय में सभी बैंक ATM पर होने वाले कैश ट्रांजेक्शन के लिए 15 रुपए और नॉन कैश ट्रांजेक्शन करने पर खाते से 5 रुपए काटते हैं। ये चार्ज प्रत्येक महीने मुफ्त में मिलने वाले ट्रांजेक्शन के ऊपर लगता है।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने एटीएम पर होने वाले ट्रांजेक्शन के लिए कड़े नियम बनाए है, जिसके बाद एटीएम ऑपरेटर्स ट्रांजेक्शन चार्ज को बढ़ाने की मांग कर रहे हैं।

कन्फेडरेशन ऑफ एटीएम इंडस्ट्री (CATMI) ने मांग की है कि एटीएम से ट्रांजेक्शन करने पर चार्ज कम से कम 3 से 5 रुपए बढ़ना चाहिए, जिससे एटीएम ऑपरेटर्स इस बढ़ती महंगाई में अपनी लागत निकाल सकें।

सीएटीएमआई के डायरेक्टर के. श्रीनिवास ने कहा कि हाल ही में RBI ने काफी सख्त गाइडलाइंस जारी की है। जिसके तहत एटीएम सर्विस प्रोवाइडर्स की कुल लागत में बढ़ोतरी होगी।

आरबीआई ने बैंकों से कहा है कि वो नए नियमों को जुलाई तक लागू कर दें। कैश वैन के लिए बनाए गए इन नियमों के मुताबिक कैश मैनेजमेंट कंपनियों के पास में कम से कम 300 कैश वैन, प्रत्येक कैश वैन में एक ड्राइवर, दो कस्टोडियन और दो बंदूकधारी गार्ड होने चाहिए ताकि कैश की सुरक्षा हो सके।

इसके साथ ही प्रत्येक गाड़ी में जीपीएस, लाइव मॉनेटरिंग के साथ भू मैपिंग और नजदीकी पुलिस स्टेशन का पता होना चाहिए ताकि इमरजेंसी के वक्त मदद ली जा सके। इसके साथ ही आरबीआई ने कहा है कि एटीएम का ऑपरेशन केवल वो ही व्यक्ति कर सकेगा, जिसने ट्रेनिंग के बाद सर्टिफिकेट हासिल किया हो।

अभी देश में 19 कंपनियां एटीएम में कैश मैनेजमेंट का काम देख रही हैं। इन कंपनियों के अलावा सभी बैंकों का खर्चा भी काफी बढ़ जाएगा। इसके अलावा आरबीआई ने सभी बैंकों को मशीन के अंदर नोट भरने के लिए प्रयोग में लाई जाने वाली कैसेट को भी सीलबंद करने और खाली हो जाने के बाद भरी हुई कैसेट से बदलने का निर्देश जारी कर दिया है।

WeForNews

Continue Reading

व्यापार

एसबीआई की रिपोर्ट- लोगों की आय नहीं बढ़ने से हुई कैश की किल्‍लत

Published

on

state bank of india

मुंबई। देश में जारी नकदी की कमी को लेकर भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने कहा कि इसका संभावित कारण वित्त वर्ष 2017-18 में लोगों की आमदनी में बढ़ोतरी नहीं होना है। इसके साथ ही पिछले वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में लोगों ने एटीएम से अधिक नकदी निकाली है, जिससे नकदी की किल्लत हुई है। बैंक की मुख्य अर्थशास्त्री सौम्य कांति घोष द्वारा तैयार की गई एसबीआई इकोरैप रिपोर्ट में कहा गया है कि 2018 के मार्च तक अर्थव्यवस्था में नकदी का चलन 18.29 लाख करोड़ रुपये तक था, जो कि नोटबंदी से पहले प्रचलन में रही मुद्रा से भी अधिक है। नोटबंदी से पहले अर्थव्यवस्था में 17.98 लाख करोड़ रुपये नकदी का चलन था।

सरकार ने कुछ क्षेत्रों में नकदी की कमी के लिए ‘असामान्य मांग’ को दोषी ठहराया है और मंगलवार को घोषणा की कि 500 रुपये के नोट पांच गुना अधिक छापे जाएंगे।

एसबीआई की रिपोर्ट में कहा गया है, “वित्त वर्ष 2018 में लोगों की आय बढ़ने की रफ्तार में गिरावट रही, खासतौर से दूसरी तिमाही में। साथ ही यह संकेत भी मिलता है कि 2,000 रुपये के नोट अर्थव्यवस्था में पर्याप्त चलन में नहीं हैं।”

घोष ने कहा, “हमारे आंतरिक अनुमान से पता चलता है कि बिहार, गुजरात और दक्षिणी राज्यों में लोगों की आय में बढ़ोतरी राष्ट्रीय औसत से कम हुई है।”

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular