Connect with us

व्यापार

थोक महंगाई दर मामूली घटकर 2.47 फीसदी हुई

Published

on

inflation

देश की मार्च महीने की थोक मूल्य आधारित महंगाई दर (डब्ल्यूपीआई) में फरवरी के मुकाबले मामूली गिरावट आई है। मार्च में थोक महंगाई दर 2.47 फीसदी रही है।

वहीं, फरवरी 2018 में यह दर 2.48 फीसदी थी। वाणिज्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, मार्च 2017 में डब्ल्यूपीआई महंगाई दर इससे दोगुनी से भी अधिक 5.11 फीसदी थी। मार्च महीने के दौरान खाद्य महंगाई दर 0.07 फीसद से घटकर (-)0.07 फीसद पर आ गई है।

वहीं सब्जियों से जुड़ी महंगाई दर 15.26 फीसद से घटकर (-) 2.7 फीसद पर आ गई है। इसके अलावा प्राइमरी आर्टिकल्स से जुड़ी महंगाई दर 0.79 फीसद से घटकर 0.24 फीसद पर आ गई है। वहीं दालों की महंगाई दर (-) 24.51 फीसद से (-) 20.58 फीसद पर आ गई है।

साथ ही अंडे और मांस से जुड़ी महंगाई दर मार्च महीने में (-) 0.22 फीसद से (-) 0.82 फीसद फीसद पर आ गई है। वहीं इसके अलावा मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की महंगाई दर 3.09 फीसद से घटकर 3.03 फीसद रही है। फ्यूल एवं पावर सेक्टर की महंगाई दर 3.80 फीसद से बढ़कर 4.70 फीसद रही है।

वहीं जनवरी महीने में थोक महंगाई 2.84 फीसद रही थी। आपको बता दें कि दिसंबर महीने में डब्ल्यूपीआई महंगाई दर घटकर 3.58 फीसद के स्तर पर आ गई थी। वहीं नवंबर महीने में यह 3.93 फीसद रही थी। गौरतलब है कि फरवरी महीने में खुदरा महंगाई दर 4 महीने के निचले स्तर पर रही है।

बता दें मार्च महीने के दौरान खाने पीने की चीजें भी सस्ती हुई हैं। मार्च महीने में खाद्य महंगाई 3.26 फीसद से घटकर 2.81 फीसद पर आ गई है। वेजिटेबल इन्फ्लेशन घटकर 11.7 फीसद पर आ गई है जो कि फरवरी महीने में 17.57 फीसद रही थी।

साथ ही  दालों की महंगाई दर (-) 13.4 फीसद रही है, जो कि फरवरी महीने में (-) 17.35 फीसद रही थी। वहीं मार्च में कोर महंगाई दर 5.30 फीसदी से घटकर 5.17 फीसदी रही है। फूड एवं बेवरेज इन्फ्लेशन 3.01 फीसद रही है जो कि फरवरी में 3.38 फीसद रही थी।

 

Wefornews Bureau

ब्लॉग

मुकेश अंबानी ने ‘डेटा औपनिवेशीकरण’ के खिलाफ अभियान का आह्वान किया

Published

on

By

mukesh ambani

गांधीनगर, 18 जनवरी | औपनिवेशीकरण के खिलाफ महात्मा गांधी के अभियान को याद करते हुए रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ‘डेटा औपनिवेशीकरण’ के खिलाफ लड़ाई का नेतृत्व करने की गुजारिश की और कहा कि भारतीय डेटा भारतीयों के ‘स्वामित्व और नियंत्रण’ में होने चाहिए। उन्होंने यहां वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट 2019 में कहा, “हम अपने राष्ट्रपिता को उनकी 150वीं जयंती के वर्ष में श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। गांधी जी ने राजनीतिक औपनिवेशीकरण के खिलाफ आन्दोलन चलाया था.. आज हम सब मिलकर डेटा औपनिवेशीकरण के खिलाफ नया अभियान शुरू कर रहे हैं।” इस समिट का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था।

अंबानी ने कहा कि डेटा नई दुनिया में ‘नया तेल और धन’ है। उन्होंने कहा कि भारत के डेटा का स्वामित्व और नियंत्रण भारतीय लोगों के हाथ में ही होना चाहिए और कॉर्पोरेट्स द्वारा नहीं किया जाना चाहिए, खासतौर से वैश्विक कॉर्पोरेशंस द्वारा नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, “माननीय प्रधानमंत्री, मैं आश्वस्त हूं कि आप अपने डिजिटल इंडिया मिशन के प्रमुख लक्ष्यों में इसे भी शामिल करेंगे।”

उन्होंने कहा, “भारत को इस डेटा संचालित क्रांति में सफल होने के लिए, हमें भारतीय डेटा का स्वामित्व और नियंत्रण वापस भारत भेजना होगा.. दूसरे शब्दों में भारतीय संपत्ति वापस लौटानी होगी। भारतीय डेटा को भरतीयों द्वारा नियंत्रित किया जाना चाहिए, न कि वैश्विक कॉर्पोरेट्स द्वारा। डेटा का नियंत्रण हमें अपने हाथों में लेने के लिए अभियान चलाने की आवश्यकता है।”

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने अक्टूबर में कहा था कि सभी डिजिटल भुगतान कंपनियों जैसे गूगल प्ले, वाट्सएप और अन्य को अपने भारतीय कारोबार का डेटा स्थानीय तौर पर स्टोर करना चाहिए।

Continue Reading

व्यापार

शेयर बाजारों में मामूली तेजी, सेंसेक्स 13 अंक ऊपर

Published

on

देश के शेयर बाजारों में शुक्रवार को मामूली तेजी रही। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 12.53 अंकों की तेजी के साथ 36,386.61 पर और निफ्टी 1.75 अंकों की तेजी के साथ 10,906.95 पर बंद हुआ।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 43.5 अंकों की तेजी के साथ 36,417.58 पर खुला और 12.53 अंकों या 0.03 फीसदी तेजी के साथ 36,386.61 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 36,469.98 के ऊपरी और 36,218.33 के निचले स्तर को छुआ।

सेंसेक्स के 30 में से 12 शेयरों में तेजी रही। रिलायंस (4.34 फीसदी), कोटक बैंक (1.41 फीसदी), एचसीएल टेक्नॉलजीज (1.02 फीसदी), ओएनजीसी (0.79 फीसदी) और एशियन पेंट्स (0.68 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।

सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे -सन फार्मा (8.52 फीसदी), भारती एयरटेल (6.42 फीसदी), लार्सन एंड टूब्रो (2.07 फीसदी), एक्सिस बैंक (1.77 फीसदी) और यस बैंक (1.59 फीसदी)।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में गिरावट रही। बीएसई का मिडकैप सूचकांक 118.94 अंकों की गिरावट के साथ 15,023.39 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 106.92 अंकों की गिरावट के साथ 14,504.60 पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 9.65 अंकों की तेजी के साथ 10,914.85 पर खुला और 1.75 अंकों या 0.02 फीसदी तेजी के साथ 10,906.95 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 10,928.20 के ऊपरी और 10,852.20 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के 19 में से तीन सेक्टरों ऊर्जा (2.69 फीसदी), तेल एवं गैस (0.36 फीसदी) और सूचना प्रौद्योगिकी (0.14 फीसदी) में तेजी रही। 

बीएसई के गिरावट वाले सेक्टरों में प्रमुख रहे – दूरसंचार (3.83 फीसदी), स्वास्थ्य सेवाएं (2.00 फीसदी), पूंजीगत वस्तुएं (1.42 फीसदी), रियल्टी (1.22 फीसदी) और औद्योगिक (1.12 फीसदी)।

बीएसई में कारोबार का रुझान नकारात्मक रहा। कुल 896 शेयरों में तेजी और 1,650 में गिरावट रही, जबकि 165 शेयरों के भाव में कोई बदलाव नहीं हुआ। 

–आईएएनएस

Continue Reading

व्यापार

पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी

Published

on

petrol
फाइल फोटो

डीजल में दाम में वृद्धि का सिलसिला लगातार नौवें दिन जारी रहा। वहीं, पेट्रोल की कीमतों में भी लगातार दूसरे दिन बढ़ोतरी दर्ज की गई।

उधर, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल में एक दिन की नरमी के बाद फिर तेजी लौटी है। कच्चे तेल के दाम में पिछले दिनों आई तेजी के बाद तेल विपणन कंपनियां पेट्रोल और डीजल के भाव में लगातार वृद्धि कर रही है।

तेल विपणन कंपनियों ने शुक्रवार को दिल्ली और चेन्नई में पेट्रोल के दाम में आठ पैसे जबकि मुंबई और कोलकाता में सात पैसे प्रति लीटर का इजाफा किया। डीजल की कीमतें दिल्ली, कोलकाता और चेन्नई में 19 पैसे, जबकि मुंबई में 20 पैसे प्रति लीटर बढ़ गई हैं।

इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल के दाम बढ़कर क्रमश: 70.55 रुपये, 72.65 रुपये, 76.18 रुपये और 73.23 रुपये प्रति लीटर हो गए हैं। चारों महानगरों में डीजल के दाम बढ़कर क्रमश: 64.97 रुपयेए 66.74 रुपये, 68.02 रुपये और 68.62 रुपये प्रति लीटर हो गए हैं।

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में शुक्रवार को कच्चे तेल में एक फीसदी से ज्यादा की तेजी आई। इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज पर मार्च डिलीवरी ब्रेंट क्रूड के वायदा सौदे में 0.90 फीसदी की बढ़त के साथ 61.73 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था, जबकि कारोबार के दौरान 61.83 डॉलर प्रति बैरल का ऊंचा स्तर रहा। न्यूयार्क मर्केंटाइल एक्सचेंज पर अमेरिकी लाइट क्रूड वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट के फरवरी डिलीवरी सौदे में 1.13 फीसदी की तेजी के साथ 52.77 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular