Connect with us

राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश : कैबिनेट मंत्री राजभर की नाराजगी दूर करने शाह ने बुलाया दिल्ली

Published

on

अमित शाह
फाइल फोटो

उत्तर प्रदेश में 22 मार्च को होने वाले राज्यसभा चुनाव के गणित को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने अपने सहयोगी दल सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के मुखिया और उप्र के कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर को मनाने का प्रयास शुरू कर दिया है। भाजपा के सूत्रों के मुताबिक राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने राजभर को बातचीत के लिए दिल्ली बुलाया है। उम्मीद है कि उन्हें मना लिया जाएगा।

भारतीय जनता पार्टी के सूत्रों ने बताया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी से नाराज चल रहे उत्तर प्रदेश भाजपा सरकार में सहयोगी दल के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर को मुलाकात के लिए दिल्ली बुलाया है।

इससे पहले राजभर ने सोमवार को धमकी देते हुए कहा था कि यदि उनसे अमित शाह ने बात नहीं की तो उनकी पार्टी राज्यसभा चुनाव का बहिष्कार करेगी। इस धमकी का असर उस समय दिखाई दिया जब उप्र के शहरी विकास मंत्री सुरेश खन्ना ने राजभर के घर जाकर उनसे मुलाकात की। उन्हें मनाने का प्रयास किया गया, लेकिन वह नहीं माने।

गौरतलब है कि ओमप्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी भाजपा की सहयोगी दल है और उसके चार विधायक हैं। उनकी नाराजगी का आलम यह है कि सरकार के एक साल पूरा होने पर आयोजित कार्यक्रम में वह शामिल नहीं हुए।

राजभर ने सोमवार को चेतावनी देते हुए कहा था कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से बात करने की कोशिश की, लेकिन बात नहीं हुई।

राज्यसभा में अखिलेश यादव का साथ दिए जाने के सवाल पर कहा कि उनसे कोई बात नहीं हुई है। भाजपा गठबंधन का धर्म नहीं निभा रही है। उत्तर प्रदेश सरकार का सारा ध्यान सिर्फ मंदिर पर है न कि गरीबों के कल्याण पर, जिन्होंने उन्हें वोट देकर सत्ता दी है।

–आईएएनएस

राष्ट्रीय

कर्नाटकः बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा ने नामांकन दाखिल किया

Published

on

bs-yeddyurappa
फाइल फोटो

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा ने गुरुवार को शिमोगा के शिकारपुरा विधानसभा सीट से नामांकन पत्र दाखिल किया।

कर्नाटक में एक ही चरण में 12 मई को चुनाव होंगा और 15 को नतीजे आएंगे। 224 सीटों में से सरकार बनाने के लिए 113 सीटों की जरूरत होती है। सत्तारूढ़ कांग्रेस के पास 122 सीटें हैं जबकि बीजेपी के पास 43 और जेडीएस के पास 37 सीटें हैं।

WeForNews

Continue Reading

राष्ट्रीय

जज लोया मौत मामले में कांग्रेस ने उठाए सवाल, की निष्‍पक्ष जांच की मांग

Published

on

surjewala
कांग्रेस प्रवक्‍ता रणदीप सुुुुरजेवाला

जज लोया की मौत के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी जांच कराने की याचिकाओं को खारिज कर दिया। कोर्ट के इस फैसले के बाद कांग्रेस ने जज लोया की मौत पर 10 सवाल उठाते हुए निष्‍पक्ष जांच की मांग की है।

कांग्रेस प्रवक्‍ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद कई ऐसे प्रश्न खड़े हुए हैं, जिनका जवाब नहीं मिला है। सुरजेवाला ने कहा कि जज लोया की मौत का जांच मामला काफी गंभीर था। उन्होंने कहा कि वो सोहराबुद्दीन मामले की सुनवाई कर रहे थे, जिसमें अमित शाह का नाम आया था। ऐसे में कांग्रेस की ओर से उठाए गए सवाल निम्‍न हैं:-

1. सोहराबुद्दीन और प्रजापति के केस को 2012 में जजों का ट्रांसफर किया गया था। जज उत्पत का भी ट्रांसफर कर दिया गया था।

2. जज लोया को 100 करोड़ रुपए की रिश्वत, एक फ्लैट देने की पेशकश की गई थी।

3. जज लोया की मौत का हार्ट अटैक से मौत बताया गया था लेकिन ईसीजी की रिपोर्ट में ऐसा कुछ भी नज़र आया था।

4. नागपुर में उनकी सुरक्षा को हटा दिया गया था।

5. जज लोया मुंबई से नागपुर ट्रेन के जरिए गए थे।

6. जज लोया के नागपुर रेलभवन में रुकने का कोई रिकॉर्ड नहीं।

7. जिस गेस्ट हाउस में जज लोया रुके हुए थे, वहां कई कमरे थे। लेकिन तीन जज उसी कमरे में ही क्यों रुके हुए थे।

8. परिवार को जज लोया के कपड़ों में गर्दन के पास खून मिला था।

9. पोस्टमॉर्टम की रिपोर्ट में उनका नाम गलत लिखा गया था।

10. जज लोया की मौत के बाद दो अन्य जजों की भी मौत हुई जिस पर भी कई तरह के सवाल हैं।

सुरजेवाला ने कहा कि भारत के लोगों को जवाब चाहिए। जांच से ही सब कुछ स्पष्ट हो पाएगा लेकिन जज लोया के मामले में अब तक जांच नहीं हुई है। कोई तय नहीं कर सकता कि मौत प्राकृतिक है या नहीं। उन्होंने कहा कि जांच से ही संदेह से पर्दा हट सकता है।

WeForNews

Continue Reading

राष्ट्रीय

सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट जज लोया केस में फैसला आने के कुछ देर बाद हैक!

Published

on

SC WEBSITE

सुप्रीम कोर्ट से जज बीएच लोया की मौत की एसआईटी जांच की मांग ठुकराने का जैसे ही बहुप्रतीक्षित फैसला आया। सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट उसके कुछ देर बाद ही हैक हो गई। सोशल मीडिया में इससे जुड़ी तस्वीरें भी वायरल हुई हैं। जिसमें वेबसाइट के हैक होने का दावा किया है।

सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर क्लिक करने पर ‘This site can’t be reached’ का मैसेज प्रदर्शित हो रहा है। साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि हैक होने की बात अफवाह है, साइट की मेंटीनेंस के लिए सर्वर डाउन किया गया होगा। क्योंकि कुछ देर बाद ही साइट पर अंडर मेंटीनेंस का संदेश दिखाई दिया। हालांकि न्यूज 18 ने ट्वीट कर सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट हैक होने का दावा किया और इसके पीछे ब्राजीलियाई हैकर्स का हाथ होने की बात कही।

आपको बता दें कि हाल ही में गृहमंत्रालय की वेबसाइट भी हैक हुई थी। इससे पहले ब्राजील के हैकर्स 2013 में एक साथ कई भारतीय वेबसाइट्स को हैक कर चुके हैं।

wefornews 

Continue Reading

Most Popular