टाइप-2 डायबिटीज से हृदय रोग का खतरा ज्यादा | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

लाइफस्टाइल

टाइप-2 डायबिटीज से हृदय रोग का खतरा ज्यादा

Published

on

File Photo

मधुमेह यानी डायबिटीज से पीड़ित लोगों को दिल की बीमारियों से मौत का खतरा बढ़ जाता है। टाइप-2 डायबिटीज वाले लोगों में लगभग 58 प्रतिशत मौतें हृदय संबंधी परेशानियों के कारण होती हैं।

मधुमेह के साथ जुड़े ग्लूकोज के उच्च स्तर से रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचता है, जिससे रक्तचाप और नजर, जोड़ों में दर्द तथा अन्य परेशानियां हो जाती हैं।चिकित्सक के अनुसार, टाइप-2 मधुमेह सामान्य रूप से वयस्कों को प्रभावित करता है, लेकिन युवा भारतीयों में भी यह अब तेजी से देखा जा रहा है।

वे गुर्दे की क्षति और हृदय रोग के साथ-साथ जीवन को संकट में डालने वाली जटिलताओं के जोखिम को झेल रहे हैं। पद्मश्री से सम्मानित डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, “देश में युवाओं के मधुमेह से ग्रस्त होने के पीछे जो कारक जिम्मेदार हैं, उनमें प्रमुख है प्रोसेस्ड और जंक फूड से भरपूर अधिक कैलारी वाला भोजन, मोटापा तथा निष्क्रियता।

समय पर ढंग से जांच न कर पाना और डॉक्टर की सलाह का पालन न करना उनके लिए और भी जोखिम भरा हो जाता है, जिससे उन्हें अपेक्षाकृत कम उम्र में ही जानलेवा स्थितियांे से गुजरना पड़ जाता है।”

उन्होंने कहा कि लोगों में एक आम धारणा है कि टाइप-2 मधुमेह वाले युवाओं को इंसुलिन की जरूरत नहीं होती है, इसलिए ऐसा लगता है कि यह भयावह स्थिति नहीं है। हालांकि, ऐसा सोचना गलत है। इस स्थिति में तत्काल उपचार और प्रबंधन की जरूरत होती है।

ध्यान देने वाली बात यह है कि टाइप-2 डायबिटीज वाले युवाओं में कोई लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। यदि कुछ दिखते भी हैं, तो वे आमतौर पर हल्के हो सकते हैं, और ज्यादातर मामलों में धीरे-धीरे विकसित होते हैं, जिनमें अधिक प्यास और बार-बार मूत्र त्याग करना शामिल है।

डॉ. अग्रवाल ने कहा, “यदि घर के बड़े लोग अच्छी जीवनशैली का उदाहरण पेश करते हैं तो यह युवाओं के लिए भी प्रेरणादायी होगा। इस तरह के बदलाव एक युवा को अपना वजन कम करने में मदद कर सकते हैं (अगर ऐसी समस्या है तो) या उन्हें खाने-पीने के बेहतर विकल्प खोजने में मदद कर सकते हैं, जिससे टाइप-2 मधुमेह विकसित होने की संभावना कम हो जाती है।

जिनके परिवार में पहले से ही डायबिटीज की समस्या रही है, उनके लिए तो यह और भी सच है।

उन्होंने कुछ सुझाव दिए :

  • खाने में स्वस्थ खाद्य पदार्थ ही चुनें।
  • प्रतिदिन तेज रफ्तार में टहलें।
  • अपने परिवार के साथ अपने स्वास्थ्य और मधुमेह व हृदय रोग के जोखिम के बारे में बात करें।
  • यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो इसे छोड़ने की पहल करें।
  • अपने लिए, अपने परिवार के लिए और आने वाली पीढ़ियों के लिए मधुमेह और इसकी जटिलताओं संबंधी जोखिम को कम करने खातिर जीवनशैली में बदलाव करें।

–आईएएनएस

लाइफस्टाइल

घर में ऐसे बनाएं केले के पेटिस…

Published

on

Kele Patties
File Photo

केले खाना भी तो पसंद होता है। ये आपकी सेहत के लिए बहुत लाभकारी है। इसलिए आज हम लाए है केले की अलग रेसिपी।

अगर आपका कुछ हेल्दी खाने का मन है तो घर में बनाएं आसानी से केले के पेटिस। इसे बनाने में आपकी ज्यादा सामग्री भी नहीं लगेगी। साथ ही केले की ये नई रेसिपी बच्चों से लेकर बड़ो तक को पसंद आएगी। आइए जानें इसकी रेसिपी।

सामग्री

पके केले के छिलके- दो से तीन, हरी मिर्च- एक से दो, 1/4 इंच टुकड़ा- अदरक, एक चम्मच-सौंफ, चुटकीभर हींग, एक चम्मच- लाल मिर्च पिसी हुई, चुटकीभर हल्दी, हरी धनिया, बेसन जरूरत के मुताबिक, नमक-स्वादनुसाद, तेल- फ्राई करने के लिए

विधि

केले की पेटिस बनाने के लिए सबसे पहले उसके छिल्के को धोकर एक बाउल में रख ले। अब इन छिल्कों में पानी डालकर उबलने के लिए रख दें। अब जब ये छिल्के उबल जाए तो इनका पानी निचोड़ ले। इसके बाद इन्हें मैश करके इसमें बेसन, मसाले, कटी हरी मिर्च व हरा धनिया डालकर अच्छे से मिक्स कर ले। इस मिश्रण को गाढ़ा होने तक फैट ले।

अब हाथ से इसकी छोटी-छोटी बॅाल बना ले। इसके बाद एक कड़ाही में तेल डालकर गर्म होने के लिए रखें। तेल गर्म होते ही इसमें पेटीस फ्राई होने के लिए डाल दें। जब ये ब्राउन हो जाए तो इन्हें एक प्लेट में निकाल ले। लीजीए तैयार है आपकी टेस्टी केले की पेटिस । इस अब टोमॅटो सॉस, या इमली की चटनी के साथ गर्म-गर्म सर्व करें।

WeForNews

Continue Reading

लाइफस्टाइल

इस विंटर अपने वर्कवियर वॉर्डरोब को करें अपग्रेड

Published

on

Upgrade your workwear wardrobe this winter.

अकसर जाड़े में हमें कई सारी चुनौतियों का सामना करना पड़ जाता है उनमें से जो बेहद आम है वह ये कि सही मौके के लिए सही कपड़ों का चुनाव। हालांकि इसमें कुछ हेरफेर कर आप इस परेशानी से छुटकारा पा सकते हैं।

सॉल्ट अटायर की संस्थापक दीप्ति तोलानी ने इस संबंध में कई टिप्स साझा किए हैं, आइए देखते हैं :

वस्त्रों की लेयरिंग के आदी बनें-

जाड़े में लेयरिंग हमेशा ट्रेंड में बनी रहती है। जाड़े में इस तरह की ड्रेसिंग काफी प्रैक्टिकल भी है, तो लेयरिंग से झिझकने की कोई जरूरत नहीं है। स्वेटर, जैकेट, कोर्ट के नीचे एक टर्टलनेक पहनने से आपको गर्माहट महसूस होगी।

अपने जूते को बनाए अपनी स्टाइल-

जूते की एक अच्छी और स्टाइलिश जोड़ी सर्दियों में आपके स्टाइल को दुगना बढ़ा सकती है। इन्हें आप शॉर्ट ड्रेसेज के साथ पहन सकते हैं।

कोर्ट में बेल्ट लगाकर उन्हें दें नया लुक-

जाड़े के मौसम में हर रोज वही एक कपड़े पहनने से काफी बोरियत महसूस होती है, तो ऐसे में अपने बोरिंग पुराने कोर्ट को आप बेल्ट के साथ पहनकर इसे एक नया लुक दे सकते हैं।

स्कार्फ के साथ करें प्रयोग-

गले में साधारण तरीके से लपेटने के अलावा स्कार्फ का इस्तेमाल कई और तरीके से भी किया जा सकता है और स्कार्फ के साथ एक्सपेरीमेंट करने का सबसे अच्छा मौसम सर्दियों के अलावा कुछ और हो ही नहीं सकता। इसे आप जैकेट के ऊपर से डालकर बेल्ट से बांध सकते हैं या इसे कंधे के पास से एक गठरी जैसा भी बांध सकते हैं।

ब्लेजर और स्लिम लेगिंग्स-

सर्दियों में ब्लेजर को ब्लैक स्लिम लेगिंग्स को आप पहन सकते हैं इससे पूरा का पूरा शरीर ढका रहेगा जिससे गर्माहट बनी रहेगी और इसे आप काले रंग के मोजे या ब्लैक बूट्स के साथ पेयर कर पहन सकते हैं जिससे पूरा का पूरा लुक काफी स्टाइलिश दिखेगा।

–आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

गठिया रोग के मरीज करें इन चीजों से परहेज…

Published

on

Joint pain
File Photo

बढ़ती उम्र के साथ-साथ हमारी हड्डियां भी कमजोर होने लगती है। सबसे ज्यादा यह समस्या पुरूषों के मुकाबले में महिलाओं में पाई जाती है।

हड्डियां कमजोर होने पर हमेशा आपको जोड़ो के दर्द की समस्या रहने लगती है। जिसे आप गठिया रोग से भी जानते है। इस रोग में घुटनों और मांसपेशियों में तेज दर्द रहने लगता है।

अगर आपको भी ऐसी समस्या होने लगती है तो अपने खानपान पर ध्यान देना शुरू कर दे। आइए जानतें है गठिया रोग में किन चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए।

तली-भुनी चीजें से रहे दूर

जिन लोगों को गठिया रोग की समस्या है उन्हें तली-भुनी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए। इन चीजों का सेवन करने से आपके जोड़ो का दर्द बढ़ जाएगा। साथ ही हड्डियों में सूजन की परेशानी हो सकती है। इस बीमारी में डिब्बा बंद चीजें, फ्रोजन सब्जियां और मीट से दूरी बनाकर रखें।

ज्यादा गर्म खाना ना खाएं

जिन्हें जोड़ो के दर्द की समस्या रहती है उन्हें अधिक तापमान पर पकी चीजों से दूर रहना चाहिए। ऐसे मरीजों के लिए माइक्रोवेव या ग्रिलर से बना हुआ खाना हानिकारक है।

चीनी

गठिया के मरीजों को मीठी चीजें जैसे चॉकलेट, केक, सॉफ्ट ड्रिंक और मैदे से बनी चीजें नहीं खानी चाहिए। क्योंकि इन चीजों में अधिक मात्रा में यूरिक एसिड पाया जाता है। जो जोड़ो में सूजन पैदा कर सकता है।

शराब और तंबाकू से रहें दूर

जो लोग जोड़ो के दर्द की समस्या से पीड़ित है उन्हें शराब, सिगरेट और तंबाकू से दूर रहना चाहिए। इनका सेवन गठिया के मरीजों के लिए जहर के समान होता है।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular