Connect with us

राष्ट्रीय

‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ के लोकार्पण का विरोध करेंगे आदिवासी

Published

on

statue
गुजरात के नर्मदा जिले में सरदार पटेल की 182 मीटर यह प्रतिमा स्थापित की जाएगी।

अहमदाबाद, केंद्र और राज्य सरकार दुनिया की सबसे ऊंची सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ के अनावरण की तैयारी कर रही है लेकिन प्रतिमा के निकट स्थित गांवों के हजारों ग्रामीण इस परियोजना के विरोध में भारी प्रदर्शन करने की तैयारी में हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 31 अक्टूबर को इस प्रतिमा का अनावरण करेंगे।

नर्मदा जिला के केवड़िया में स्थानीय आदिवासी संगठनों ने कहा कि ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ परियोजना से प्रभावित लगभग 75,000 आदिवासी प्रतिमा के अनावरण और प्रधानमंत्री का विरोध करेंगे।

आदिवासी नेता डॉक्टर प्रफुल वसावा ने कहा, “उस दिन हम शोक मनाएंगे और 72 गांवों में किसी घर में खाना नहीं पकाया जाएगा। वह परियोजना हमारे विनाश के लिए है।”

आदिवासी रिवाज के अनुसार, घर में किसी की मृत्यु होने पर शोक के तौर पर घर में खाना नहीं पकाया जाता है।

उन्होंने आईएएनएस से कहा, “आदिवासियों के अधिकारों का हनन हो रहा है। हमारा गुजरात के महान सपूत सरदार पटेल से कोई विरोध नहीं है, और उनका सम्मान होना चाहिए। हम इसके खिलाफ नहीं है लेकिन सरकार का विकास का विचार एकतरफा और आदिवासियों के खिलाफ है।”

आदिवासी शिकायत कर रहे हैं कि उनकी जमीनें ‘सरदार सरोवर नर्मदा परियोजना’, उसके नजदीक स्थित ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’ तथा इसके साथ-साथ क्षेत्र में प्रस्तावित अन्य पर्यटन गतिविधियों के लिए ले ली गई हैं।

वसावा के अनुसार, ‘असहयोग आंदोलन’ को प्रदेश के लगभग 100 छोटे-बड़े आदिवासी संगठन समर्थन दे रहे हैं। विरोध प्रदर्शन में उत्तरी गुजरात के बनसकांठा से दक्षिणी गुजरात के डांग्स जिले तक लगभग नौ आदिवासी जिले आंदोलन में भाग लेंगे।

उन्होंने कहा, “31 अक्टूबर को ‘बंद’ सिर्फ स्कूलों, कार्यालयों या व्यावसायिक संस्थानों तक ही सीमित नहीं रहेगा, बल्कि घरों में भी (खाना ना पकाकर) विरोध किया जाएगा।”

–आईएएनएस

राष्ट्रीय

पुलवामा हमले पर जल्दबाजी में जवाबी कार्रवाई के खिलाफ हैं शत्रुघ्न सिन्हा

“जोश में कहीं अपना होश न खो बैठें। मैं जानता हूं कि पुलवामा में जो भी हुआ, उसके बाद गुस्सा उबल रहा है। यह कायरता का बेशर्मी भरा कृत्य है और इससे सबसे संभव कठोर तरीके से निपटा जाना चाहिए।”

Published

on

By

Shatrughan Sinha

मुंबई, 18 फरवरी | जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले से परेशान और विचलित सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने जल्दबाजी में जवाबी कार्रवाई के प्रति आगाह किया है।

अभिनेता से राजनेता बने शत्रुघ्न ने कहा, “जोश में कहीं अपना होश न खो बैठें। मैं जानता हूं कि पुलवामा में जो भी हुआ, उसके बाद गुस्सा उबल रहा है। यह कायरता का बेशर्मी भरा कृत्य है और इससे सबसे संभव कठोर तरीके से निपटा जाना चाहिए।”

उन्होंने आगाह किया, “हमारे माननीय प्रधानमंत्री ने हमसे हिंसा के इस उन्मादी कृत्य का मुंहतोड़ जवाब देने का वादा किया है। हमें गुस्से में आकर जवाब नहीं देना चाहिए। हम सभी भारतीय घायल और चोट खाए हुए हैं। हमें कुछ करने से पहले अपने अगले कदम के बारे में गहराई से सोचना चाहिए।”

पुलवामा हमले पर पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की टिप्पणी पर प्रत्यक्ष रूप से बोलने से इनकार करते हुए शत्रुघ्न ने राजनेताओं को इस प्रकार के बयान देने के प्रति चेताया।

उन्होंने कहा, “किसी को भी कुछ कहने को लेकर सावधानी बरतने की जरूरत है। भारतीय जनता अमनपसंद आवाजें (अभी) नहीं सुनना चाहती। भारत इस वक्त बहुत गुस्से में है।”

क्या हमें बॉलीवुड में सभी पाकिस्तानी कलाकारों को प्रतिबंधित कर देना चाहिए? इस पर शत्रुघ्न ने कहा, “सांस्कृतिक आदान-प्रदान और उनके साथ क्या करना चाहिए, इस बारे में अभी सोचना तक भी सही नहीं होगा। मैं यह कहना चाहूंगा कि यह मोहम्मद रफी, किशोर कुमार, लता मंगेशकर और आशा भोसले की जमीन है। हमें किसी दूसरे देश के गायकों की जरूरत क्यों पड़ती है?”

Continue Reading

राष्ट्रीय

पुलवामा मुठभेड़ में मेजर समेत 4 जवान शहीद, 2 आंतकी ढेर

Published

on

Kashmir

दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा जिले के पिंगलिन इलाके में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में एक मेजर समेत 4 जवान शहीद हो गए, जबकि जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के दो आतंकी मारे गए। इस दौरान एक नागरिक की भी मौत हुई है। 

मुठभेड़ जिस जगह हुई वह कुछ दिनों पहले केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले के स्थान से महज 10 किलोमीटर की दूरी पर ही है।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने कहा, “मारे गए जेईएम आतंकवादियों में एक शीर्ष कमांडर है जो पाकिस्तान का रहने वाला है।”

पिंगलेना गांव में रविवार रात हुई मुठभेड़ में मेजर के अलावा तीन जवान भी शहीद हुए हैं और नागरिक की भी मौत हुई है जिसकी पहचान मुश्ताक अहमद के रूप में हुई है।

मुठभेड़ रविवार देर रात शुरू हुई जब सुरक्षा बलों, राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर), राज्य पुलिस के विशेष अभियान समूह (एसओजी) और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने जैश-ए-मुहम्मद (जेईएम) के आतंकवादियों की यहां छिपे होने की खुफिया सूचना मिलने के बाद पिंगलेना गांव को घेर लिया। 

कालिया ने कहा, “घेराबंदी जैसे ही कड़ी हुई छिपे हुए आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गया।” 

इससे पहले 14 फरवरी को पुलवामा में जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर सीआरपीएफ काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हुए थे। 

  WeForNews

Continue Reading

राष्ट्रीय

आईसीजे में जाधव पर सुनवाई मंगलवार तक के लिए टली

Published

on

kulbhushan jadhav

कुलभूषण जाधव मामले में इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में अंतिम सुनवाई शुरू हो गई है। 18 फरवरी से शुरू होने वाली सुनवाई 21 फरवरी तक चलेगी।

सोमवार को पहले दौर की जिरह खत्म हो गई। अब जिरह का दूसरा दौर मंगलवार (19 फरवरी) को दोपहर ढाई बजे से साढ़े पांच बजे तक चलेगा जिसमें पाकिस्तान अपनी बात रखेगा।

इंटरनेशनल कोर्ट में भारत की तरफ से वकील हरीश साल्वे ने कहा कि कुलभूषण जाधव को काउंसलर एक्सेस के लिए पाकिस्तान को तीन महीने का समय क्यों चाहिए।

साल्वे ने कहा कि बिना काउंसलर एक्सेस के जाधव की हिरासत को गैर कानूनी घोषित करना चाहिए। पाकिस्तान को बिना देरी किए काउंसलर एक्सेस देना चाहिए।

भारत ने दलील दी है कि पाकिस्तान के पास कोई ठोस दलील नहीं है। कुलभूषण जाधव को रिहा किया जाए। पाक ने जाधव को कॉन्सुलर एक्सिस नहीं दिया है। जबकि भारत कन्सुलर एक्सिस का अनुरोध भेजता रहा है। पाकिस्तान ने विएना संधि का भी उल्लंघन किया है। पाक आईसीजे का इस्तेमाल प्रोपेगेंडा के लिए कर रहा है।

साल्वे ने कहा कि भारत ने पाकिस्तान को 30 मार्च, 2016 को जाधव के लिए कॉन्सुलर एक्सिस का अनुरोध भेजा था। लेकिन उनकी ओर से कोई जवाब नहीं मिला। कई अन्य तारीखों पर भारत की ओर से 13 रिमाइंडर भेजे गए थे।

पूर्व सॉलिसिटर जनरल हरीश साल्वे ने कहा, जाधव मामले में राजनयिक संपर्क पर वियना संधि के उल्लंघन सहित केवल दो मूल मुद्दे हैं।

उन्होंने कहा कि जांच का भी पता नहीं है और मौत की सजा सुना दी गई। भारत की ओर से दलील में कहा गया है कि पाक मिलिट्री कोर्ट की सुनवाई ठीक नहीं है। जाधव को वकील तक नहीं दिया गया। पाक ने कई भरोसेमंद सबूत नहीं दिए हैं।

इसी मामले में दूसरे दौर की जिरह 20 फरवरी को शाम साढ़े सात बजे से नौ बजे रात तक चलेगी जिसमें भारत अपना पक्ष रखेगा। अगले दिन 21 फरवरी को रात नौ बजे से 10.30 बजे तक पाकिस्तान अपनी बात रखेगा। 20 फरवरी को भारत अपना जवाबी तर्क पेश करेगा, वहीं पाकिस्तान 21 फरवरी को अपना अंतिम पक्ष कोर्ट में दर्ज कराएगा।

WeForNews

Continue Reading
Advertisement
शहर4 mins ago

प्रयाग में माघी पूर्णिमा का स्नान शुरू, श्रद्धालुओं का उमड़ा रेला

pm modi
राजनीति15 mins ago

प्रधानमंत्री का वाराणसी दौरा आज, कई करोड़ योजनाओं की देंगे सौगात

शहर24 mins ago

यमुना एक्सप्रेसवे पर एंबुलेंस और कार की टक्कर,7 की मौत

accident
शहर47 mins ago

बिहार के मुंगेर में ट्रक और ऑटो में भिड़ंत, 4 की मौत

Fire
शहर1 hour ago

दिल्ली के नरेला इंडस्ट्रियल एरिया की एक फैक्ट्री में लगी आग

anil kapoor
मनोरंजन2 hours ago

‘नायक.’ का सीक्वल बनाना अच्छा विचार होगा : अनिल कपूर

Akhilesh Yadav
शहर12 hours ago

देश को बुलेट ट्रेन नहीं जवानों के लिए बुलेट प्रूफ जैकेट की जरूरत : अखिलेश

Shatrughan Sinha
राष्ट्रीय12 hours ago

पुलवामा हमले पर जल्दबाजी में जवाबी कार्रवाई के खिलाफ हैं शत्रुघ्न सिन्हा

facebook
टेक13 hours ago

फेसबुक कर रहा है ‘डिजिटल गैंगस्टर’ की तरह काम : ब्रिटिश संसद की रिपोर्ट

mamata-modi
राजनीति13 hours ago

पुलवामा हमला : ममता ने मोदी सरकार के इस्तीफे की मांग की

rose day-
लाइफस्टाइल2 weeks ago

Happy Rose Day 2019: करना हो प्यार का इजहार तो दें इस रंग का गुलाब…

Teddy Day
लाइफस्टाइल1 week ago

Happy Teddy Day 2019: अपने पार्टनर को अनोखे अंदाज में गिफ्ट करें ‘टेडी बियर’

mehul-choksi
राष्ट्रीय4 weeks ago

मेहुल चोकसी ने छोड़ी भारतीय नागरिकता

vailtine day
लाइफस्टाइल5 days ago

Valentines Day 2019 : इस वैलेंटाइन टैटू के जरिए करें प्यार का इजहार

Digital Revolution
ज़रा हटके3 weeks ago

अरबपति बनिया कैसे बन गए डिजिटल दिशा प्रवर्तक

Priyanka Gandhi Congress
ओपिनियन3 weeks ago

क्या प्रियंका मोदी की वाक्पटुता का मुकाबला कर पाएंगी?

Priyanka Gandhi
ओपिनियन3 weeks ago

प्रियंका के आगमन से चुनाव-पूर्व त्रिकोणीय हलचल

Rahul Gandhi and Priyanka Gandhi
ब्लॉग3 weeks ago

राहुल, प्रियंका के इर्द-गिर्द नए-पुराने कई चेहरे

politician
ब्लॉग3 weeks ago

‘बदजुबानी’ के आगे दफन हो रहे अहम मुद्दे : जमुना प्रसाद बोस

Priyanka Gandhi
चुनाव3 weeks ago

प्रियंका की ‘संजीवनी’ से उप्र में जिंदा हो सकती है कांग्रेस!

Most Popular