Connect with us

चुनाव

पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव नतीजों में TMC ने फिर से लहराया परचम

Published

on

tmc
पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव

पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) फिर से सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी।

पंचायत चुनावों में एक बार फिर ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस का डंका बजा है। अभी तक सामने आए नतीजों में टीएमसी ने 4713 ग्राम पंचायत सीटों पर कब्जा जमा लिया है, जबकि करीब 2,762 सीटों पर आगे चल रही है।

चुनाव में बीजेपी दूसरे नंबर की पार्टी बनकर उभरी है. बीजेपी ने अभी तक 898 ग्राम पंचायत सीटों पर कब्जा जमाया है, वहीं 142 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है। इनके अलावा 317 ग्राम पंचायत सीटें निर्दलीयों के हाथ में गई हैं, 136 सीटों पर अभी भी निर्दलीय बढ़त बनाए हुए है। आपको बता दें कि राज्य में कुल 31,802 ग्राम पंचायत सीटें हैं।

सिर्फ ग्राम पंचायत ही नहीं बल्कि जिला परिषद में भी टीएमसी का दबदबा बरकरार रहा है। करीब 19 जिलों में टीएमसी ने एक तरह से क्लीन स्वीप किया है। जबकि बीजेपी दूसरे नंबर की पार्टी बनकर उभरी है।

कुल सीटों की संख्या –

जिला परिषद – 621 सीट

पंचायत समिति – 6119

ग्राम पंचायत – 31789

इससे पहले बुधवार को पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव में हुई दोबारा वोटिंग के दौरान भी हिंसा हुई। मुर्शिदाबाद में हुई हिंसा में तृणमूल कांग्रेस के 2 कार्यकर्ता घायल हो गए, यहां हमलावरों ने हथियारों के साथ हमला किया था, जबकि मालदा के बूथ नंबर 76 पर रिपोलिंग में अज्ञात हमलावर हथियार दिखाकर बैलट बॉक्स ही उठा ले गए।

बता दें कि समूचे पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव के दौरान राज्य निर्वाचन आयोग (SEC) को जिन 568 मतदान केन्द्रों पर हिंसा की शिकायतें मिली थीं, वहां कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच फिर से मतदान गए।

हुगली में 10 मतदान केन्द्रों, पश्चिम मिदनापुर में 28 मतदान केन्द्रों, कूचबिहार में 52 मतदान केन्द्रों, मुर्शिदाबाद में 63 मतदान केन्द्रों, नादिया में 60 मतदान केन्द्रों, उत्तर 24 परगना में 59 मतदान केन्द्रों, मालदा में 55 मतदान केन्द्रों, उत्तर दिनाजपुर में 73 मतदान केन्द्रों और दक्षिण 24 परगना में 26 मतदान केन्द्रों पर पुनर्मतदान हुए।

पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव के दौरान हुई हिंसा से नाराज कई उम्मीदवारों ने आयोग के अधिकारियों से मुलाकात कर पुनर्मतदान की मांग की थी। इस हिंसा में कम से कम 12 लोगों की मौत हो गयी थी और 43 लोग घायल हो गये थे।

WeForNews

चुनाव

राजस्थान में बीजेपी के 162 घोषित उम्मीदवारों में मुस्लिम चेहरा नदारद

Published

on

bjp
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर, भारतीय जनता पार्टी ने सात दिसंबर को राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए दो किस्तों में 162 सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर दिया है, लेकिन इनमें अब तक एक भी मुस्लिम उम्मीदवार नहीं है। इससे कुछ लोग यह मानने लगे हैं कि भाजपा विधानसभा चुनाव में हिंदू कार्ड खेल रही है।

हालांकि, राजस्थान के अलवर के मूल निवासी केंद्रीय पर्यटन व संस्कृति मंत्री महेश शर्मा इस बात से इनकार करते हैं, लेकिन पार्टी के अन्य लोगों का कहना है कि भाजपा को मालूम है कि राजस्थान में मुस्लिम उसका वोट बैंक नहीं है।

नागौर से विधायक हबीबुर रहमान ने बुधवार को कांग्रेस का दामन थाम लिया, क्योंकि रविवार को जारी उम्मीदवारों की सूची में उनका नाम नहीं था। रहमान ने कहा कि भाजपा राजस्थान में हिंदुत्व कार्ड खेल रही है।

वहीं, प्रदेश सरकार में मंत्री यूनुस खान का भी नाम अब तक जारी उम्मीदवारों की सूची में शामिल नहीं है, लेकिन रहमान के विपरीत वह पार्टी के बफादार बने हुए हैं।

भाजपा द्वारा उम्मीदवारों की पहली सूची जारी होने के तुरंत बाद पार्टी के अल्पसंख्यक सेल के महासचिव एम. सादिक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर अपनी चिंता जाहिर करते हुए कहा कि अगर मुस्लिमों को उम्मीदवार नहीं बनाया जाएगा तो फिर पार्टी के सदस्य कैसे मुस्लिम समुदाय के पास वोट मांगने जाएंगे।

भाजपा ने 2013 के विधानसभा चुनाव में मुस्लिम समुदाय से चार उम्मीदवार उतारे थे, जिनमें से दो विजयी रहे। हबीबुर रहमान नागौर से और यूनुस खान डीडवाना से चुनाव जीते थे।

महेश शर्मा ने कहा, “कांग्रेस के विपरीत भाजपा लोकतांत्रिक पार्टी है, जहां बोर्ड द्वारा उम्मीदवार तय किए जाते हैं। उम्मीदवारों की ताकत समेत कई तरह के कारकों को ध्यान में रखकर उम्मीदवारों का चयन किया जाता है।”

राजस्थान में भाजपा के चुनाव प्रभारी अविनाश राय खन्ना ने कहा कि जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं और शीर्ष नेताओं से विचार-विमर्श के बाद उम्मीदवारों की सूची तैयार की जाती है। उन्होंने कहा कि भाजपा उम्मीदवारों की अंतिम सूची आने वाली है और जब तक अंतिम सूची नहीं आ जाती, तब तक जाति या धर्म के आधार पर उम्मीदवारों के बारे में कोई निष्कर्ष नहीं निकाला जाना चाहिए।

राजस्थान कांग्रेस की उपाध्यक्ष अर्चना शर्मा ने कहा, “भाजपा को अच्छा मौका मिला था, लेकिन प्रदेश में कोई काम नहीं कर पाई। अब वह ध्रुवीकरण करने की कोशिश कर रही है। लेकिन यह कोशिश काम नहीं आएगी, क्योंकि राजस्थान उत्तर प्रदेश नहीं है।”

भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के महासचिव सलावत खान ने कहा कि पिछले चुनाव में पार्टी ने चार मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट दिया। उन्होंने कहा, “अब तक हमें पार्टी उम्मीदवारी नहीं है। हमें अभी उम्मीद है कि पार्टी मुस्लिम समुदाय से उम्मीदवारों बनाने पर विचार करेगी।” राजस्थान की 200 सदस्यीय विधानसभा में 2013 में भाजपा 163 सीटों पर चुनाव जीती थी।

–आईएएनएस

Continue Reading

चुनाव

छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर से मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशाना

Published

on

पीएम मोदी (PHOTO CREDIT ANI)

छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनावी रैली से को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि सरकार को हमेशा गरीबों के लिए काम करना चाहिए, हमारी सरकार ने बिना किसी भेदभाव के हर किसी के लिए काम किया है।

पीएम ने कहा कि जब अटल बिहारी वाजपेयी जी ने छत्तीसगढ़, उत्तराखंड और झारखंड बनाया तो किसी तरह का आंदोलन नहीं हुआ, लेकिन कांग्रेस ने सिर्फ तेलंगाना बनाया और इतना बड़ा हंगामा हुआ, जिससे आंध्र प्रदेश-तेलंगाना को काफी नुकसान हुआ, कांग्रेस को भाई-भाई में लड़ाई करवाए बिना चैन नहीं पड़ता है।

पीएम ने कहा कि पिछली बार जब यहां आया था तो यहां के लोगों ने लालकिला बनाया था, उस रैली से दिल्ली वालों की नींद हराम हो गई थी। जिन्होंने अंबिकापुर को बदनाम किया है, उन्हें चुन-चुन इस बार जवाब देने का मौका है।

WeForNews

Continue Reading

चुनाव

राजस्थान चुनाव के लिए कांग्रेस की 152 प्रत्याशियों की पहली सूची

Published

on

congress logo

राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने 152 प्रत्याशियों की पहली सूची जारी कर दी है। पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति के महासचिव मुकुल वासनिक ने सूची जारी की।

पहली सूची में कांग्रेस के सभी बड़े नेताओं का नाम हैंं। इसमें टोंक विधानसभा सीट से कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट चुनाव लड़ रहे हैं जबकि पार्टी महासचिव अशोक गहलोत अपनी परंपरागत सीट जोधपुर के सरदारपुरा से चुनाव लड़ेंगे। वहीं वरिष्ठ नेता सीपी जोशी को नाथद्वारा से चुनाव मैदान में उतारा गया है।

राजस्थान विधानसभा में विपक्ष के नेता रामेश्वर लाल डूडी नोखा सीट से पार्टी के उम्मीदवार होंगे। बुधवार को ही बीजेपी छोड़ कर कांग्रेस में शामिल हुए सांसद हरीश मीणा को देवली उनियारा से मैदान में उतारा गया है। इसी तरह से महिपाल मदेरणा की बेटी दिव्या मदेरणा को भी जोधपुर के ओसियां से विधानसभा में उतारा गया है।

 

बता दें कि राजस्‍थान विधानसभा की 200 सीटों पर 7 दिसंबर को मतदान होगा और मतगणना 11 दिसंबर को होगा।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular