Connect with us

ज़रा हटके

भारत के इन मंदिरों में मिलता है अनोखा प्रसाद

Published

on

TEMPLE-min
प्रतीकात्मक फोटो

धर्म और संस्कृति के लिए हमारा देश पूरी दुनिया में जाना जाता है, लेकिन अब यहां के मंदिरों में मिलने वाला प्रसाद भी काफी मशहूर हो रहा है। कई मंदिरों में ऐसे-ऐसे प्रसाद दिए जाते हैं जिनके बारे में आप शायद ही जानते होंगे।

कोलकाता के टांगरा एरिया में बना मंदिर काली जी का है। लेकिन आसपास के क्षेत्र में रहने वाले कुछ चाइनीज लोग भी इन्हें मानते हैं। वे यहां मंदिर में नूडल्स, चावल और सब्जियों का भोग लगाते हैं, जिसके कारण यह मंदिर चाइनीज काली मंदिर के नाम से काफी फेमस है और यहां नूडल्स प्रसाद के रूप में दिया जाता है।

राजस्थान का गोगामेडी मंदिर अपनी अनोखे प्रसाद के लिए काफी मशहूर है। यहां प्रसाद में प्याज दिया जाता है।

उज्जैन का काल भैरव मंदिर भी अपने अनोखे प्रसाद को लेकर काफी चर्चा में रहता है। यहां पर लोग काफी दूर-दूर से आते हैं। प्रसाद में यहां पर शराब दी जाती है।

तमिलनाडु का अलागर कोविल मंदिर में भी लोगों का जमावाड़ा लगा रहता है। यहां प्रसाद में डोसा दिया जाता है।

wefornews bureau 

 

ज़रा हटके

आखिर काले रंग के ही क्यों होते हैं गाड़ी के टायर…

Published

on

tyres
प्रतीकात्मक तस्वीर

दोस्तों क्या आप जानते हैं हर गाड़ी के टायर काले रंग के क्यों होते हैं जबकि छोटे बच्चों की साइकिलों के टायर तो सफेद, लाल, पीले या दूसरे रंगों के होते हैं। आखिर टायर बनाने वाली कंपनी सफेद, पीला, नीला, हरा, गुलाबी या किसी और कलर का टायर क्यों नहीं बनाती।

भारत ही नहीं विदेशों में भी गाड़ियों के टायर काले रंग के होते हैं। इसके पीछे गहरा राज है। टायर बनाने वाली सभी कंपनियां टायर का रंग काला ही रखना पसंद करती हैं तो अब हम आपको बताते हैं की टायर का रंग काला ही क्यों होता है।

ये तो आप जानते ही हैं कि टायर रबड़ से बनता है लेकिन प्राकृतिक रबड़ का रंग तो स्लेटी होता है तो फिर टायर काला कैसे? दरअसल, टायर बनाते समय रबड़ का रंग बदला जाता है और ये स्लेटी से काला हो जाता है टायर बनाने की प्रक्रिया को वल्कनाइजेशन कहते हैं।

Image result for गाड़ी के टायर

टायर बनाने के लिए रबड़ में काला कार्बन भी मिलाया जाता है, जिससे रबर जल्दी नहीं घिसे। अगर सादा रबर का टायर 10 हजार किलोमीटर चल सकता है तो कार्बन युक्त टायर एक लाख किलोमीटर या उससे अधिक चल सकता है। अगर टायर में साधारण रबर लगा दिया जाए तो यह जल्दी ही घिस जाएगा और ज्यादा दिन नहीं चलेगा, इसलिए इसमें काला कार्बन और सल्फर मिलाया जाता है। जिससे टायर काफी दिनों तक चलता है।

Related image

बता दें कि काले कार्बन की भी कई श्रेणियां होती हैं। रबर मुलायम होगी या सख्त यह इस पर निर्भर करेगा कि कौन सी श्रेणी का कार्बन उसमें मिलाया गया है। मुलायम रबर के टायरों की पकड़ मजबूत होती है लेकिन वो जल्दी घिस जाते हैं, जबकि सख्त टायर आसानी से नहीं घिसते और ज्यादा दिन तक चलते हैं।

Related image

टायर बनाते वक्त इसमें सल्फर भी मिलाया जाता है और कार्बन काला होने के कारण यह अल्ट्रा वॉयलेट किरणों से भी बच जाता है। आपने किसी टायर को जलते हुए देखा हो तो शायद गौर किया हो कि उससे धुआं बहुत ही काला निकलता है। उसका कारण भी यही ब्लैक कार्बन और सल्फर होता है।

Related image

वैसे आप देखते होंगे कि बच्चों की साइकिलों में सफेद, पीले और दूसरे रंगों के टायर लगे होते हैं। इसका कारण है कि बच्चों की साइकिल रोड पे ज्यादा नहीं चलती है और बच्चों के साइकिल में काला कार्बन नहीं मिलाया जाता है, इसलिए ये टायर ज्यादा दिन तक नहीं चलते हैं और जल्दी घिस जाते हैं।

WeForNews 

 

Continue Reading

ज़रा हटके

ये हैं दुनिया की सबसे डरावनी जगह…

Published

on

canada

छुट्टियां मनाने के लिए खूबसूरत जगहों पर जाना तो एक आम बात है, लेकिन अगर आप कुछ अलग या हटकर करने की सोच रहे हैं और ऐसी जगहों पर घूमने जाना चाहते हैं जो रहस्यों से भरी हुई हो तो हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसी कुछ जगह जहां जाके आप खौफ खा जाएंगे।

द बांफ स्प्रिंग होटल (कनाडा)

कनाडा के बांफ स्प्रिंग होटल को भूतिया किस्सों और रहस्यमय घटनाओं का एक बड़ा घर माना जाता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि, इस होटल के 873 कमरे में एक पुरे परिवार की हत्या की गई थी। कुछ लोग तो ये भी कहते हैं की आज भी वहां एक आदमी लोगों के कमरे की घंटी बजाता है और फिर गायब हो जाता है। ये भूतिया होटल देखने में काफी खूबसूरत है।

भानगढ़ फोर्ट (भारत)

भानगढ़ राजस्थान के अलवर जिले में है, बड़ी तादाद में लोग यहां घूमने आते हैं, लेकिन रात होने से पहले ही वापस चले जाते हैं। आस पास के लोग कहते हैं कि रात के वक्त यहां पर पायल की आवाजें सुनाई देती हैं और घुंघरुओं की गूंज भी।

Image result for कनाडा के बांफ स्प्रिंग होटल

दी स्कीरिड माउंटेन इन (वेल्स)

खूबसूरत ब्रेकन बीकन नेशनल पार्क के पूर्वी किनारे पत्थरों वाले गांवों के बीच बसे, द स्कीर्रिड माउंटेन इन गेलिक राष्ट्र के अतीत की कहानियों से भरा हुआ है। लोग दावा करते हैं कि यहां एक न्यायालय के तथाकथित हैंगिंग न्यायाधीश जॉर्ज जेफरीस के आदेश के बाद अपराधियों को न केवल मौत की सजा सुनाई गयी बल्कि उन्हें फांसी पर लटका दिया गया था।

ski

WeForNews 

 

Continue Reading

ज़रा हटके

ये महिला हॉस्पिटल के कचरे से कमा रही है लाखों…

Published

on

GARBAGE

इस महिला के आमदनी बढ़ाने के तरीके से आप हैरान हो जाएंगे। अक्सर महिलाओं की डिलीवरी के बाद कचरा समझकर फेंक दी जाने वाली गर्भनाल (प्लेसेंटा) के जरिए ये महिला लाखों की कमाई कर रही है।

ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न शहर में रहने वाली 23 साल की कियारा नोबल प्रोफेशनल दाई हैं। ये पिछले दो साल से गर्भनाल के प्रोडक्ट का बिजनेस कर रही है। वो इस बिजनेस के लिए सर्टिफाइड स्पेशलिस्ट भी हैं।

ये महिला गर्भनाल का इस्तेमाल करके कई उत्पाद जैसे एनर्जी कैप्सूल्स, फेस क्रीम और गिफ्ट आइटम्स जैसे कई तरह के दूसरे अन्य सामान भी बनाती है और उन्हें बेचकर पैसा कमाती है। जनवरी 2017 में इसका बिजनेस शुरू करने के बाद महिला को काफी अच्छी इनकम हो रही है और इसके जरिए वो सालाना 8500 पाउंड (करीब 7.5 लाख रुपए) भी कमा रही है।

GARBAGE

कियारा ने जब नई-नई मां बनी महिलाओं को गर्भनाल कैप्सूल्स देकर इससे उन्हें होने वाले फायदों पर रिसर्च की तो उसे जबरदस्त रिजल्ट्स मिले। कियारा नोबल का कहना है कि यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट की पढ़ाई के दौरान उन्हें गर्भनाल की टेबलेट्स के फायदों के बारे में पता चला था। कियारा डिलीवरी के 12 घंटों के अंदर हॉस्पिटल या प्रेग्नेंट महिला के घर जाकर प्लेसेंटा ले आती हैं।

कियारा की सबसे पॉपुलर सर्विस ‘प्लेसेंटा इन्कैप्सूलेशन’ है। जिसमें वो गर्भनाल को सुखाकर उसके पाउडर की मदद से एनर्जी कैप्सूल्स बनाती हैं। उनका दावा है कि इन कैप्सूल्स को खाने से एनर्जी लेवल बढ़ता है साथ ही हार्मोनल असंतुलन और डिलीवरी के बाद होने वाली ब्लिडिंग भी कम होती है साथ ही स्तनों में दूध भी बढ़ जाता है।

WeForNews 

Continue Reading
Advertisement
Congress-reuters
राजनीति4 weeks ago

संघ का सर्वे- ‘कांग्रेस सत्ता की तरफ बढ़ रही’

Sara Pilot
ओपिनियन3 weeks ago

महिलाओं का आत्मनिर्भर बनना बेहद जरूरी : सारा पायलट

Phoolwaalon Ki Sair
ब्लॉग4 weeks ago

फूलवालों की सैर : सांप्रदायिक सद्भाव का प्रतीक

Bindeshwar Pathak
ज़रा हटके4 weeks ago

‘होप’ दिलाएगा मैन्युअल सफाई की समस्या से छुटकारा : बिंदेश्वर पाठक

Toilets
ब्लॉग3 weeks ago

लड़कियों के नाम, नंबर शौचालयों में क्यों?

bundelkhand water crisis
ब्लॉग3 weeks ago

बुंदेलखंड में प्रधानमंत्री के दावे से तस्वीर उलट

Ranveer singh-
मनोरंजन2 weeks ago

दीपिका-रणवीर के रिसेप्शन में पहुंचे बॉलीवुड के ये सितारे, देखें तस्वीरें

Tigress Avni
ब्लॉग4 weeks ago

अवनि मामले में महाराष्ट्र सरकार ने हर मानक का उल्लंघन किया : सरिता सुब्रमण्यम

ATM
ब्लॉग3 weeks ago

देश के आधे एटीएम बंद हुए तो होंगे नोटबंदी जैसे हालात!

PM Modi Rajnath Jaitley
ब्लॉग3 weeks ago

लोकतांत्रिक संस्थाओं को उन शासकों की परवाह क्यों है जो क़ानून को ही ठेंगा दिखाते हैं?

Kangana Runout
मनोरंजन19 hours ago

फिल्म “मणिकर्ण‍िका” का ट्रेलर लॉन्च

RAHUL
राजनीति22 hours ago

कर्ज माफी पर बोले राहुल- ‘जो वादा किया, निभाया’

bjp
राजनीति1 day ago

बीजेपी विधायक की महिला एसडीएम को धमकी

Jammu-Kashmir
शहर2 days ago

कश्मीर में शीतलहर का प्रकोप जारी

delhi-bus--
मनोरंजन3 days ago

निर्भया पर बनी फिल्म ‘दिल्ली बस’, इस दिन होगी र‍िलीज

Kapil Sibal
राष्ट्रीय5 days ago

राफेल पर सिब्‍बल का शाह को जवाब- ‘जेपीसी जांच से ही सामने आएगा सच’

Rajinikanth-
मनोरंजन7 days ago

रजनीकांत के जन्मदिन पर ‘पेट्टा’ का टीजर रिलीज

Jammu And Kashmir
शहर1 week ago

जम्मू-कश्मीर के राजौरी में बर्फबारी

Rajasthan
चुनाव2 weeks ago

राजस्थान में सड़क पर ईवीएम मिलने से मचा हड़कंप, दो अफसर सस्पेंड

ISRO
राष्ट्रीय2 weeks ago

भारत का सबसे भारी संचार उपग्रह कक्षा में स्थापित

Most Popular