नए मौसम में ऐसा हो फैशन | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

लाइफस्टाइल

नए मौसम में ऐसा हो फैशन

Published

on

winter

नई दिल्ली: सर्दियों का मौसम जाने ही वाला है और वसंत ऋतु के दस्तक देने का समय हो गया है, ऐसे में एक नए ट्रेंड के लिए भारी-भरकम मेकअप को छोड़ने और कुछ नए रंगों को जोड़ने का वक्त आ गया है।

सर्दियों में गाढ़े रंग के कपड़ों को पहनने का फैशन रहता है, लेकिन अब बारी कुछ जानदार और ब्राइट रंगों के परिधानों को पहनने का है। किको मिलानो इंडिया की कस्टमर एक्सपीरियंस ट्रेनर पूजा मल्होत्रा ने ऐसे ही कुछ फैशन टिप्स साझा किए हैं :

सही फाउंडेशन का करें चुनाव

वसंत ऋतु में सर्दियों की तरह हेवी फाउंडेशन की जगह लाईट वेट फाउंडेशन का इस्तेमाल अपने चेहरे पर करें जिससे चेहरे पर एक नैचुरल ग्लो आएगा। ऐसे ऋतु में बीबी क्रीम और ल्यूमीनियस फाउंडेशन्स सबसे बेहतर होते हैं।

ब्रोन्ज व हाइलाईट

वैसे तो पाऊडर ब्रोन्जर और ब्लशर्स काफी अच्छे होते हैं, लेकिन वसंत ऋतु में क्रीम या लिक्विड प्रोड्क्ड का ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए। ये आपकी त्वचा में अच्छे से मिल जाते हैं और इनसे चेहरे को एक नैचुरल लुक मिलता है। कॉन्टोर और ब्लश को हल्का रखें ताकि चेहरे का ग्लो देखने लायक बनें।

ब्राईट लिपस्टिक

वसंत ऋतु का तात्पर्य ही चमकीले रंगों से है, ऐसे में लिपस्टिक का चुनाव भी इसी बात को ध्यान में रखते हुए करें। आप या तो पेस्टल, पिंक या पीच टोन को अप्लाई कर सकते हैं या फिर सैटिन फिनिश के साथ इस मौसम के लिए खासतौर पर बनाए गए प्रोड्क्ट का भी उपयोग कर सकते हैं।

मसकरा

इसे अप्लाई करने से पहले एक बात का ध्यान जरूर रखें और वह ये कि कलर्ड मस्करा को लगाने से पहले बेस मस्करा लगाना न भूलें ताकि ये रंग आपकी आंखों में अच्छे से झलके।

नैचुरल आईशैडो पैलेट्स

इसमें कई तरह के बेहतरीन शेड्स उपलब्ध होते हैं जिन्हें यूज कर आप एक शानदार लुक पा सकते हैं। इस मौसम में डार्क व स्मोकी शेड्स के बजाय वॉर्म बेरी या न्यूड आईशैडो पैलेट्स को अपना सकते हैं।

बोल्ड और कलरफूल आईलाइनर

आंखों के मेकअप से खेलने का यह एक बेहतर समय है। इस मौसम में बोल्ड, रेट्रो ब्लू और चमकीले बैंगनी आईलाइनर्स का इस्तेमाल किया जा सकता है, इससे आंखों को एक बेहतरीन व एक नया लुक मिलेगा।

–आईएएनएस

अंतरराष्ट्रीय

इतिहास में पहली बार पॉप ने अकेले मनाया होली वीक

Published

on

वेटिकन सिटी: कोरोनोवायरस महामारी के कारण पोप फ्रांसिस ने पहली बार यहां के सेंट पीटर्स बेसिलिका में अकेले ही पाम संडे मनाया। ऐसा इतिहास में पहली बार हुआ है।

एफे न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, कैथोलिक कैलेंडर में रविवार को एक महत्वपूर्ण धार्मिक त्योहार होली वीक की शुरुआत हुई, जो कि इस बार वेटिकन स्क्वायर में हर बार की तरह आयोजित नहीं हुई। वहीं इस बार समारोह में लोगों की मंडली भी शामिल नहीं हुई।

हालांकि कोविड-19 महामारी के मद्देनजर दुनियाभर में लागू आइसोलेशन में रह रहे लाखों लोगों ने इंटरनेट, रेडियो और टेलीविजन के माध्यम से प्रार्थना सभा में भाग लिया।

इस दौरान पोप ने कहा, “हम जिस त्रासदी का सामना कर रहे हैं, वह हमें उन चीजों को गंभीरता से लेने के लिए कह रहा है जो वास्तव में गंभीर हैं और उसे कम नहीं आंकना चाहिए। यह फिर से समझने की जरूरत है कि यदि दूसरों की सेवा नहीं की जाती है तो जीवन का कोई फायदा नहीं है। जीवन को प्यार से मापा जाता है।”

इस दौरान सर्विस के लिए पादरी के साथ लोगों का एक छोटा समूह मौजूद था, जो एक दूसरे से सुरक्षित दूरी बनाए हुए थे।

दुनिया भर में 12 लाख से अधिक लोगों के संक्रमित होने और इससे 66,500 लोगों की मौत होने के बाद वेटिकन में एहतियातन सख्ती बरती गई है।

गौरतलब है कि इटली में 128,948 पुष्ट मामलें सामने आए हैं और कोविड-19 के कारण यहां 15,887 मौतें हो चुकी हैं, जो कि दुनियाभर के किसी भी देश से सबसे अधिक है।

–आईएएनएस

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

श्रीलंका ने पहली बार चाय की ऑनलाइन नीलामी

Published

on

कोलंबो: दुनिया के सबसे बड़े और सबसे पुराने ‘कोलंबो टी ऑक्शन’ ने कोरोना महामारी के बीच चल रही चाय की नीलामी में पहली बार ऑनलाइन सत्र संचालित किया।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, श्रीलंका सरकार द्वारा देश में कोविड-19 के प्रकोप को रोकने के लिए लगाए गए कर्फ्यू के कारण कोलंबो टी ऑक्शन को दो सप्ताह के लिए निलंबित कर दिया गया था, जिससे व्यापारियों को दूर से खरीदने और बेचने देने की सुविधा देने के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर इसे लाया गया।

ऑनलाइन नीलामी सफलतापूर्वक आयोजित की गई, जिसमें 680 खेप में 720,000 किलोग्राम एक्स-एस्टेट चाय के साथ डील की गई।

एक प्रमुख स्थानीय चाय निर्यातक इम्पीरियल टी ने 1 किलो पर 2,100 श्रीलंका रुपया (11 डॉलर) में पहली सफल बोली लगाई।

ऑनलाइन नीलामी प्लेटफॉर्म पर अब तक 300 से अधिक खरीदार और आठ दलाल पंजीकरण करा चुके हैं। कोलंबो टी ऑक्शन हर साल औसतन 3000 लाख किलोग्राम चाय की नीलामी करता है।

–आईएएनएस

Continue Reading

ब्लॉग

‘5 अप्रैल, 9 बजे, 9 मिनट’ – मूर्खता के अथाह कुंड में गोताख़ोरी

Published

on

modi deep 9 Baje

प्रवचन और उपदेशों से समाज की विकृतियाँ दूर हुई होती तो चप्पे-चप्पे पर धर्मात्मा ही नज़र आते। दरअसल, समझाने से सिर्फ़ वही समझते हैं, जो समझना चाहते हैं। जो समझना चाहते हैं, उनमें समझने की क्षमता भी विकसित हो जाती है। लेकिन इतिहास ग़वाह है कि मूर्खों को समझा पाना नामुमकिन है। इस ब्रह्म सत्य को मौजूदा निज़ाम से बेहतर और कोई नहीं जानता। इसीलिए पहले ये रही-सही अक्ल वालों को मूर्खों में तब्दील करता है, फिर उनसे लगातार मूर्खता के अथाह कुंड में गोते लगवाता रहता है। ऐसा ही राष्ट्रीय गोताख़ोरी अभियान थी – ‘5 अप्रैल, 9 बजे, 9 मिनट’

देश भर में बड़े पैमाने पर मूर्खों इस मुबारक़ घड़ी का इन्तज़ार कर रहें। लेकिन हुक़ूमत के तमाम प्रलाप के बावजूद कुछ लोग हैं जिन्होंने काजल की कोठरी में होने के बावजूद ख़ुद को कालिख़ से बचा रखा है। जो वास्तव में ‘असतो मा ज्योतिर्गमय’ का मतलब समझते हैं। मैंने क़लम ऐसे ही मुट्ठी भर लोगों के लिए उठायी है। मुझे लगा कि अब भी वक़्त है कि बत्तियाँ बुझाकर, अन्धेरा करके और उस बनावटी अन्धेरे को दूर करने के लिए दीया, मोमबत्ती या मोबाइल के फ़्लैश को टॉर्च बनाकर जलाने वाले ‘इवेंट’ के प्रति आपत्ति या दुविधा रखने वालों को बताया जाए कि कैसे मौजूदा दौर के पागल बादशाह की सनक देश के पॉवर ग्रिड के लिए घातक साबित हो सकती है?

देश में पैदा होने वाली हरेक तरह की बिजली को उस नैशनल पॉवर ग्रिड में डाला जाता है, जिससे वितरित होते हुए असंख्य रूपों में बिजली हम तक पहुँचती है। नैशनल पॉवर ग्रिड को देश की भौगोलिक आकार के हिसाब से पाँच क्षेत्रीय पावर ग्रिडों (RLDCs) और फिर राज्य स्तरीय पॉवर ग्रिडों (SLDCs) में बाँटा गया है। ये हमारे शरीर की शिराओं और धमनियों जैसा बहुत बड़ा और जटिल ढाँचा है। पूरी तरह से सरकारी अनुशासन के मुताबिक़ चलता है। इसका सबसे बड़ा नियम है बिजली की फ्रिक्वेंसी को 50 हर्ट्ज पर बनाये रखना, क्योंकि फ्रिक्वेंसी के कम होने पर जहाँ लो-वोल्टेज की समस्या पैदा होती है, वहीं ज़्यादा होने पर बिजली के उपकरणों के बर्बाद होने का ख़तरा होता है।

देश का पूरा बिजली तंत्र केन्द्रीय बिजली नियामक (CERA) के नियमों से चलता है। यही संगठन देश में बिजली का सुप्रीम कोर्ट है। इसी ने भारतीय बिजली ग्रिड कोड (IEGC) के ज़रिये तय कर रखा है कि पॉवर ग्रिड और उससे जुड़े पूरे तंत्र को हर हालत में बिजली की फ्रिक्वेंसी को 49.95 से लेकर 50.05 हर्ट्ज (Hz) के दायरे में ही रहना है। यानी, नॉर्मल की रेंज में सिर्फ़ 0.1 हर्ट्ज अर्थात महज 2% के उतार-चढ़ाव की गुंज़ाइश रखी गयी है। ये दायरा इतना संवेदनशील है कि जुलाई 2012 में ज़रा सी असावधानी की वजह से उत्तरी और पूर्वी ग्रिड चरमराकर बैठ गया था। मिनटों में हुए इस हादसे के बाद ग्रिड को बहाल होने में 12 घंटे लग गये थे।

दरअसल, ग्रिड में जितनी बिजली डाली जाती है, ख़पत का उतना ही होना ज़रूरी है। यदि माँग ज़्यादा है लेकिन उत्पादन कम है तो हम ग्रिड से ज़्यादा बिजली नहीं ले सकते। इसी तरह, यदि बिजली की खपत कम है लेकिन उत्पादन अधिक, तो हमें फ़ौरन उत्पादन घटाया जाता है। बिजली घरों को इस हिसाब से संचालित किया जाता है कि बहुत कम वक़्त में उनका उत्पादन घटाया या बढ़ाया जा सके। बिजली की माँग के बढ़ने या ख़पत के घटने का सिलसिला इतनी धीमी रफ़्तार में होना चाहिए जो ग्रिड फ्रिक्वेंसी की रेंज में ही रहे।

इन्हीं चुनौतियों को देखते हुए 5 अप्रैल 2020 को पॉवर ग्रिड ने सारे आपातकालीन उपाय किये हैं। सारे ट्रांसमिशन सिस्टम को घड़ी को एकरूप (synchronize) किया है। हरेक महत्वपूर्ण कर्मचारी को शाम छह बजे से रात दस बजे तक ड्यूटी पर रहने का हुक़्म है। हाइड्रो यूनिट्स को शाम 6:10 बजे से 8 बजे तक अपने न्यूनतम उत्पादन करते हुए रात 9 बजे वाले तमाशे के लिए तैयार रहना होगा। इस दौरान थर्मल और गैस आधारित बिजली घरों को शाम के पीक ऑवर वाले लोड के हिसाब से ख़ुद को ढालना होगा। रात 8:57 बजे तक हाइड्रो पॉवर फुल अलर्ट पर आकर ग्रिड की सिस्टम फ्रिक्वेंसी पर नज़र रखते हुए तब तक बिजली का उत्पादन गिराते चलेंगे, जब तक सारी नौटकीं को ख़त्म करके लोग फिर से बिजली की उस माँग को बहाल नहीं कर देते जो बत्तियाँ बन्द किये जाने से पहले थी।

इसके बाद राज्य सरकारों के कोयला या गैस आधारित थर्मल पॉवर स्टेशन्स को पीक ऑवर के समापन के तहत रात 9:55 बजे से अपने उत्पादन को 60 फ़ीसदी या अपनी न्यूनतम तकनीकी सीमा तक घटाना होगा। बिजलीघरों के लिए तकनीकी सीमा का दायरा वो लक्ष्मण रेखा जिसे यदि क़ायम नहीं रखा गया तो अचानक ठप हो जाएँगे। ठप होने के बाद इन्हें फिर से चालू होने में अच्छा ख़ासा वक़्त लगता है। इसीलिए ग्रिड फेल होने की दशा में हालात को सामान्य बनने में घंटों लग जाते हैं। वैसे प्रधानमंत्री के तमाशे के आह्वान को देखते हुए रात 8:30 बजे के बाद से ही सिस्टम फ्रिक्वेंसी न्यूनतम करते हुए 49.90 Hz पर ले जाने की आपातकालीन रणनीति भी अपनायी गयी है, ताकि 9 बजे होने वाली अनहोनी से ज़्यादा से ज़्यादा सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।

चलते-चलते आपको ये बताता चलूँ कि कोरोना लॉकडाउन की वजह से बिजली की माँग में भारी गिरावट आयी है। मसलन, ऊर्जा मंत्रालय के आँकड़ों के अनुसार, बीते 2 अप्रैल को देश में 125.81 गीगा वॉट बिजली की ख़पत थी, जबकि पिछले साल इसी दिन 168.32 गीगा वॉट बिजली की ख़पत हुई थी। ये अन्तर 25 फ़ीसदी का है। ज़ाहिर है, बिजली की माँग का अचानक धड़ाम से गिरना और फिर उठना, हमारे पॉवर ग्रिड और बिजलीघरों के लिए एक नयी आफ़त पैदा कर सकता है। क्योंकि इन दिनों ट्रेनें नहीं चल रहीं, फैक्ट्रियाँ बन्द पड़ी हैं, कृषि क्षेत्र में बिजली की माँग बेहद कम है, इसीलिए विशेषज्ञों ने अचानक देश भर में बत्तियाँ बन्द करने के प्रयोग को ख़तरनाक बताया है।

Continue Reading
Advertisement
coronavirus
स्वास्थ्य16 mins ago

बनी रहे सामाजिक दूरी, पर रिश्तों में हो मिठास : मनोचिकित्सक

Coronavirus
राष्ट्रीय21 mins ago

मुंबई में कोरोना के 57 नए मामले आए सामने, चार की मौत

Coronavirus
राष्ट्रीय44 mins ago

जम्मू-कश्मीर : कोरोना के 3 नए मामले, संक्रमितों की संख्या हुई 109

Kashmir Srinagar Situation
राष्ट्रीय1 hour ago

जम्मू-कश्मीर में 5 आतंकी ढेर, 5 सैनिक शहीद

Kamal Haasan-
मनोरंजन1 hour ago

कमल हासन ने लॉकडाउन के खिलाफ मोदी को लिखा खुला पत्र

Ahmed Patel
राजनीति2 hours ago

अहमद पटेल ने सांसदों की सलैरी कट के सरकार के फैसले का किया स्वागत

Christian Michel
राष्ट्रीय2 hours ago

हाईकोर्ट ने मिशेल की अंतरिम जमानत पर आदेश सुरक्षित रखा

मनोरंजन2 hours ago

‘हैशटैग 9 बजे 9 मिनट’ के दौरान पटाखे फोड़े जाने पर बी-टाउन ने जताई आपत्ति

राष्ट्रीय2 hours ago

कोरोना से दिल्ली में अब तक 7 लोगों की गई जान: केजरीवाल

Iraq
अंतरराष्ट्रीय2 hours ago

इराक में अमेरिकी तेल कंपनी के पास राकेट हमला

मनोरंजन1 week ago

शिवानी कश्यप का नया गाना : ‘कोरोना को है हराना’

Honey Singh-
मनोरंजन1 month ago

हनी सिंह का नया सॉन्ग ‘लोका’ हुआ रिलीज

Akshay Kumar
मनोरंजन1 month ago

धमाकेदार एक्शन के साथ रिलीज हुआ ‘सूर्यवंशी’ का ट्रेलर

Kapil Mishra in Jaffrabad
राजनीति1 month ago

3 दिन में सड़कें खाली हों, वरना हम किसी की नहीं सुनेंगे: कपिल मिश्रा का अल्टीमेटम

मनोरंजन1 month ago

शान का नया गाना ‘मैं तुझको याद करता हूं’ लॉन्च

मनोरंजन2 months ago

सलमान का ‘स्वैग से सोलो’ एंथम लॉन्च

Shaheen Bagh Jashn e Ekta
राजनीति2 months ago

Jashn e Ekta: शाहीनबाग में सभी धर्मो के लोगों ने की प्रार्थना

Tiger Shroff-
मनोरंजन2 months ago

टाइगर की फिल्म ‘बागी 3’ का ट्रेलर रिलीज

Human chain Bihar against CAA NRC
शहर2 months ago

बिहार : सीएए, एनआरसी के खिलाफ वामदलों ने बनाई मानव श्रंखला

Sara Ali Khan
मनोरंजन3 months ago

“लव आज कल “में Deepika संग अपनी तुलना पर बोली सारा

Most Popular