बैंगलोर की ये जगहें काफी डरावनी... | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

लाइफस्टाइल

बैंगलोर की ये जगहें काफी डरावनी…

Published

on

Bangalore-
File Photo

बैंगलोर तो आप घूमें ही होंगे। लेकिन वहां की भूतिया जगहों के बारे में बहुत कम जानते होंगे। अगर आपको हॉरर चीजें देखने पसंद है तो आज हम आपको बैंगलोर की ऐसी जगहों के बारे में बताएंगे जो सचमुच देखने लायक है। साथ ही इन जगहों पर कई अजीबोगरीब घटनाएं हो चुकी है। आइए जानें उन जगहों के बारें में जो बेहद डरावनी है।

टेरा वेरा

यह जगह बैंगलोर की सबसे बड़ी भूतिया जगह मानी जाती है। इस जगह के लोगों का कहना है की साल 1943 में एज वाज ने इसे बनवाया था। इस घर को इसने अपनी बेटियों के नाम कर दिया था। इसमें से एक बेटी डोलसी जो की साल 2002 में मौत हो गई थी।

Image result for टेरा वेरा

कहते है इसकी लाश को इसी घर के गर्डन में छोटी बहन ने दबा दिया था। अगर आप इस घर के आसपस होकर भी गूजरे तो आपको यहां से अजीबोगरीब सी आवाज आएगी।

साथ ही प्यानों बजना और संगीत बजनें जैसी आवाज भी सुनाई देगी। इतना ही नहीं मेरी की टूटी हुई मूर्तियां और मुडे हुइ क्रोस भी आपको देखने को मिलेंगे। ये सचमुच मबहुत ही डरावना घर माना जाता है।

कलपल्ली कब्रिस्तान

कलपल्ली कब्रिस्तान शहर का सबसे पुराना कब्रस्तान माना आ जाता है। इस जगह हर कोई नहीं जा सकता है। यहां के लोगों का कहना है की इस जगह आपको सफेद कपडों एक आदमी घूमता नजर आएगा। साथ ही आवाज देने पर वो गायब हो जाएगा। इतना ही नहीं कहते है की बैंगलोर कब्रिस्तान के कुछ जगहों पर जाकर लोगों का दम घूटता है।

Image result for kalpalli cemetery bangalore

विक्टोरिया हॉस्पिटल

विक्टोरिया हॉस्पिटल के लिए यहां के लोगों का कहना है की यहां भूखा भूत घूमता है। अगर आप अस्पताल के किसी भी पेड़ के नीचे पैक खाना छोड़कर जाएंगे तो। अगले दिन आपको वहां खाली पैकेट मिलेगा।

Image result for विक्टोरिया हॉस्पिटल

मतलब यह भूत भूत है लेकिन किस इंसान को किसी भी प्रकार से चोट नहीं पहुंचाते है। इतना ही नहीं यहां के कुछ लोगों ने अस्पताल में भूतों को घूमते देखा है। साथ ही रात के सन्नाटे में जोर-जोर से रोते हुए भी सूना है।

WeForNews

लाइफस्टाइल

सर्दी-जुकाम से बचाव के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय…

Published

on

Cold
File Photo

सर्दियों के मौसम में ठंड के बढ़ते ही सर्दी, खांसी, बुखार जैसी बीमारियों में बढ़ोतरी हो जाती है। चिकित्सकों का मानना है कि इस मौसम में ठंड से बचने के लिए हम गरम कपड़े तो पहन लेते हैं, मगर ठंड के असर से बचने के लिए शरीर का बाहर के साथ-साथ अंदर से भी गरम रहना जरूरी है।

इसलिए आज हम आपके लिए इन बीमारियों से बचने के कई घरेलू नुस्खे लेकर आए है। जिन्हें अपनाकर आप सर्दी में होने वाली बीमारियां से बच सकते है। रिसर्च के मुताबिक लौंग, तुलसी, काली मिर्च और अदरक से बनी चाय खांसी, सर्दी, जुकाम के लिए ‘रामबाण’ इलाज मानी जाती है।

हाल ही में बॉल्सब्रिज विश्वविद्यालय द्वारा पीएचडी की मानद उपाधि से सम्मानित दूबे ने कहा कि इन बीमारियों का मुख्य कारण वायरस का बढ़ता प्रसार होता है। उन्होंने कहा कि जुकाम एक संक्रामक बीमारी है जो बहुत जल्दी बढ़ती है। यह बीमारी बहती नाक, बुखार, सुखी या गीली खांसी अपने साथ लाती है, जो श्वसन तंत्र पर अचानक हमला करता है।

इसलिए सर्दी में  बच्चों और बुजुर्गों को विशेष ध्यान और सावधानी बरतनी चाहिए। सर्दियों में शहद का सेवन करने से शरीर को कई तरह की रोगों से दूर रखा जा सकता है।

आयुर्वेद में शहद को अमृत माना गया है। सर्दी, जुकाम होने पर रात को सोने से पहले एक ग्लास गुनगुने दूध में एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से यह खत्म हो जाती है।”

उनका कहना है कि शहद शरीर के ‘इम्युन सिस्टम’ को दुरुस्त करता है। उन्होंने कहा कि सर्दी के दिनों में बाजरे की रोटी खाने का बहुत फायदा मिलता है। यह शरीर को तो गर्म रखता ही है, साथ में बाजरे की रोटी में प्रोटीन, विटामिन बी, कैल्शियम, फाइबर और एंटी ऑक्सीडेंट शरीर के लिए अच्छे होते हैं।

ठंड से बचने के लिए बच्चों को भी बाजरे की रोटी खिलानी चाहिए। दूबे ने कहा, सर्दियों में मछली तथा सूप भी बेहद कारगर है। खाने में अदरक के प्रयोग से शरीर तो गरम होता ही है, साथ में पाचन क्रिया भी अच्छा होता है।”उन्होंने बताया कि आंवला डायबिटीज से परेशान लोगों के लिए किसी अमृत से कम नहीं है।

आंवला को प्राचीन आयुर्वेदिक प्रणाली में कई तरह के रोगों के इलाज के लिए लगभग 5000 साल से इस्तेमाल किया जा रहा है। आवंला की तुलना अमृत से की गई है। आंवला में विटामिन सी, विटामिन एबी, पोटैशिम, कैलशियम, मैग्नीशियम, आयरन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर और डाययूरेटिक एसिड होते हैं।

आंवला और मूंगफली सर्दियों में फायदेमंद होता है। तिलों के तेल से मालिश भी हमें ठंड से बचाने का काम करती है। उन्होंने बताया कि सर्दियों में मौसमी और संतरा खाने से बचना चाहिए। खजूर को गर्म दूध के साथ खाने पर भी सर्दी से राहत मिलती है।

WeForNews

Continue Reading

लाइफस्टाइल

दांतों की वजह से भी हो सकता है जीभ का कैंसर

Published

on

cancer
File Photo

देश में दांतों की सफाई के मामले में लापरवाही बरतने वालों की संख्या लगभग 4 से 5 प्रतिशत तक पाई गई है। जो लोग तंबाकू का किसी भी रूप में सेवन नहीं करते हैं, उनमें टूटे दांतों के बीच ठीक से सफाई न होने के कारण मुंह के कैंसर का जोखिम रहता है।

मुंह के अंदर त्वचा में लगातार जलन रहने या ऐसे दांतों की वजह से जीभ का कैंसर भी हो सकता है। आकड़े बताते हैं कि पिछले छह वर्षो में भारत में होंठ और मुंह के कैंसर के मामले दोगुने से अधिक हो गए हैं। हालत को रोकने के लिए खराब दांतों की स्वच्छता, टूटे हुए, तीखे या अनियमित दांतों की ओर ध्यान देना अनिवार्य है।

हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआई) के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. के.के. अग्रवाल कहते हैं कि तंबाकू के उपयोग से ओरल सबम्यूकस फाइब्रोसिस जैसे घाव हो सकते हैं, जो उपयोगकर्ता को मुंह के कैंसर के जोखिम में डाल सकते हैं। इसके अलावा यह उपयोगकर्ता के मुंह में अन्य संक्रमणों का भी कारण बन सकती है।

भारत में, धूम्र-रहित तंबाकू (एसएलटी) का उपयोग तंबाकू से होने वाली बीमारियों का प्रमुख कारण बना हुआ है, जिसमें ओरल कैविटी (मुंह), ईसोफेगस (भोजन नली) और अग्न्याशय का कैंसर शामिल है। एसएलटी न केवल स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है, बल्कि भारी आर्थिक बोझ का कारण भी बनता है।

उन्होंने कहा कि ओरल कैंसर के कुछ अन्य जोखिम कारकों में कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली, ओरल या अन्य किसी प्रकार के कैंसर का पारिवारिक इतिहास, पुरुष होना, ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) संक्रमण, लंबे समय तक धूप में रहने का जोखिम, आयु, मुंह की स्वच्छता में कमी, खराब आहार या पोषण, आदि शामिल हैं।

डॉ. अग्रवाल ने आगे कहा, “अरेका नट यानी छाली के साथ एसएलटी का उपयोग करना भारत में एक आम बात है और जैसा कि शुरुआत में कहा गया है, सुपारी क्विड और गुटखा, ये दो चीजें एसएलटी के आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले रूपों में प्रमुख हैं। एरेका नट को क्लास वन कार्सिनोजेनिक या कैंसरकारी के रूप में वर्गीकृत किया गया है। साथ ही स्वास्थ्य पर इसके अन्य कई प्रतिकूल प्रभाव भी होते हैं।”

उनके कुछ सुझाव :

-तंबाकू का उपयोग न करें। यदि करते हैं, तो इस आदत को छोड़ने के लिए तत्काल कदम उठाएं।

-शराब का सेवन सीमित मात्रा में ही करें।

-धूप में लंबे समय तक न रहें, धूप में जाने से पहले 30 या उससे अधिक एसपीएफ वाले लिप बाम का उपयोग करें।

-जंक और प्रोसेस्ड फूड के सेवन से बचें या इसे सीमित करते हुए, बहुत सारे ताजे फल और सब्जियों सहित स्वस्थ आहार का सेवन करें।

-शॉर्ट-एक्टिंग निकोटीन रिप्लेसमेंट थेरेपी जैसे कि लोजेंज, निकोटीन गम आदि लेने की कोशिश करें।

-उन ट्रिगर्स को पहचानें, जो आपको धूम्रपान करने के लिए उकसाते हंै। इनसे बचने या इनके विकल्प अपनाने की योजना बनाएं।

-तंबाकू के बजाय शुगरलैस गम, हार्ड कैंडी, कच्ची गाजर, अजवाइन, नट्स या सूरजमुखी के बीज चबाएं।

-सक्रिय रहें। शारीरिक गतिविधि को तेज रखने के लिए बार-बार सीढ़ियों से ऊपर-नीचे जाएं, ताकि तंबाकू की तलब से बच सकें।

–आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

जायफल के ये फायदे कर देंगे आपको हैरान…

Published

on

Jaiphal-
File Photo

जायफल एक ऐसा मसाला है जो अपनी खुशबू के लिए मशहूर है। जायफल की सुगंध ही उसे लोगों में लोकप्रिय बनाती है।

नटमेग, या जयपाल, एक विदेशी मसाला है। जायफल अलग-अलग व्यंजनों में इस्तेमाल किया जाता है। यह मसाला मूल रूप से इंडोनेशिया से है। असल में जायफल एक सदाबहार पेड़ मिस्ट्रिस्टिका का बीज है। एक चुटकी जायफल आपको खाने में नया जायका दे सकता है।

Image result for जायफल

लेकिन जायफल का महत्व केवल स्वाद तक नहीं। यह सेहत के खजाने से भी भरा है। जायफल में कई औषधीय गुण होते हैं। नटमेग तेल और मक्खन से आप अपनी खूबसूरती को भी निखार सकते हैं। जायफल में मैग्नीशियम, मैंगनीज और तांबा जैसे पोषक तत्व होते हैं।

Image result for जायफल

जायफल के ऐेसे फायदे जो कर देगें आपको हैरान…

1.पिगमेंटेशन कम करता है

जायफल के सबसे आश्चर्यजनक फायदों में से एक है कि यह आपके चेहरे पर पिग्मेंटेशन को दूर करने की क्षमता है। डार्क सर्कल, पिग्मेंटेशन को दूर करने में यह काफी कारगर साबित हो सकता है। तो अगर आप अपनी त्वचा में भी पाना चाहते हैं नया ग्लो तो आज ही ट्राई करें इस पैक को- पिग्मेंटेशन के लिए नटमेग पैक कैसे करें (Reduces Pigmentatio)

Image result for पिगमेंटेशन कम करता है

सामग्री:
दालचीनी पाउडर
नींबू रस
दही

Image result for नींबू रस

तरीका:

एक कटोरे में सभी सामग्री मिलाएं। अब इस पैक की मोटी परत चेहरे पर लगाएं। इसे चेहरे पर करीब 5 से 10 मिनट तक रखने के बाद हटा दें। हफ्ते में कम से कम तीन बार इसे अप्लाई करें।

2. त्वचा बने मुलायम (Gently Exfoliates Your Skin)

जायफल काफी माइल्ड होता है। त्वचा की परतें उतरने से जुड़ी समस्या के लिए यह एक अच्छा पैक तैयार कर सकता है। इसको इस्तेमाल करना बेहद आसान।

Image result for त्वचा बने मुलायम

सामग्री:
शहद
बेकिंग सोड़ा
लौंग का तेल
जायफल
नींबू का जूस

Image result for शहद बेकिंग सोडा

तरीका:

शहद में बेकिंग सोड़ा को मिला लें और इसमें लौंग का तेल ड़ालें। अब कुछ जायफल इसमें डालें और नींबू का रस भी मिला दें। इससे एक पेस्ट तैयार होगा। इस पेस्ट से चेहरे को मसाज दें। जैसे-जैसे जायफल आपकी त्वचा में जाएगा यह आपकी त्वचा को टाइट करेगा और खुले पोर्स को बंद भी करेगा। अब इसे हल्के गर्म पानी से साफ कर दें।

3. ऑयली स्किन (Oily Skin)

अगर आप अपनी ऑयली स्किन से परेशान हैं तो यह नुस्खा आपके लिए है। ऑयली स्किन से निजात पाने के लिए जायफल आपकी काफी मदद कर सकता है।

Image result for ऑयली स्किन

सामग्री:

जायफल पाउडर
शहद

Image result for जायफल पाउडर and शहद

तरीका:

जायफल पाउडर और शहद दोनों को मिला लें। इस मिश्रण को अपनी त्वचा पर लगाएं और 5 से 10 मिनट तक छोड़ दें। शहद और जायफल दोनों में ही anti-bacterial और anti-inflammatory प्रोपर्टीज होती हैं। यह त्वचा से मुहांसों को दूर करने में मदद करती हैं।

4. जवां त्वचा (Youthful Skin)

जायफल आपके सदा जवां बने रहने के सपने को पूरा का सकता है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट और एंटी एजिंग तत्व होते हैं, जो त्वचा के डेमेज को कम कर उसे जवां बनाए रखते हैं।

सामग्री:
जायफल पाउडर
योगर्ट
शहद

Image result for योगर्ट

तरीका:
शहद, जायफल पाउडर और शहर को मिला कर मिश्रण बना लें। इसे त्वचा पर लगा कर करीब 10 मिनट तक छोड़ दें और ताजा पानी से इसे साफ करें।

Image result for शहद, जायफल पाउडर

WeForNews

Continue Reading
Advertisement
राष्ट्रीय3 mins ago

गांधी परिवार से एसपीजी सुरक्षा हटाए जाने के विरोध में यूथ कांग्रेस का प्रदर्शन

Rabri Devi
राजनीति26 mins ago

झारखंड चुनाव : राजद उम्मीदवारों के लिए प्रचार करेंगी राबड़ी

Amit Shah-In Rajya Sabha
राजनीति27 mins ago

राज्यसभा में बोले अमित शाह- ‘पूरे देश में लाया जाएगा एनआरसी’

अंतरराष्ट्रीय31 mins ago

अमेरिकी सीनेट में हांगकांग मानवाधिकार विधेयक पारित

Cold
लाइफस्टाइल36 mins ago

सर्दी-जुकाम से बचाव के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय…

शहर50 mins ago

लाठीचार्ज के खिलाफ प्रदर्शन करने जा रहे जेएनयू छात्रों को थाने ले गई पुलिस

pds scam
राष्ट्रीय53 mins ago

पीडीएस योजना के भ्रष्टाचार में यूपी-बिहार सबसे ऊपर

Assam
शहर58 mins ago

असम के एनएच पर सड़क हादसा, 8 की मौत

indigo-min (1)
शहर1 hour ago

इंडिगो विमान की कोयंबटूर में आपात लैंडिंग

Shinzo Abe
अंतरराष्ट्रीय1 hour ago

आबे जापान में सबसे लंबे समय तक प्रधानमंत्री रहने वाले नेता

लाइफस्टाइल3 weeks ago

टाइप-2 डायबिटीज से हृदय रोग का खतरा ज्यादा

exercise-
लाइफस्टाइल2 weeks ago

शाम का व्यायाम सुबह की कसरत जितना लाभकारी

bloodpressure-new
लाइफस्टाइल3 weeks ago

लो ब्लड प्रेशर पर ये घरेलू उपाय आपको तुरंत देंगे राहत

cancer
लाइफस्टाइल3 hours ago

दांतों की वजह से भी हो सकता है जीभ का कैंसर

Falsa
लाइफस्टाइल3 weeks ago

इन बीमारियों को दूर करता है फालसा

asthma-
लाइफस्टाइल3 weeks ago

वायु नलिकाओं में सूजन से होता है दमा

Stomach-
स्वास्थ्य1 week ago

पेट दर्द या अपच को कभी न करें अनदेखा…

tej bahadur
राजनीति4 weeks ago

तेजबहादुर ने छोड़ी जेजेपी, कहा- ‘बीजेपी से गठबंधन हरियाणा से गद्दारी’

Sleep-Nap
स्वास्थ्य4 days ago

मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करती है अशांत नींद

Pregnancy
स्वास्थ्य3 weeks ago

मोटापा पीड़ित महिलाओं में कम होती है गर्भधारण की संभावना…

Most Popular