नीम के सेवन से ये बीमारियां होती हैं दूर | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

लाइफस्टाइल

नीम के सेवन से ये बीमारियां होती हैं दूर

Published

on

Neem-
File Photo

नीम कड़वा जरूर होता है, लेकिन इसका सेवन आपकी सेहत के लिए लाभकारी है। ये आपके शारीर से कई बीमारियों को दूर करता है। नीम की लकड़ी और बीज बहुत ज्यादा काम में आती है।

क्या आपको पता है कि नीम के कड़वेपन में आपकी स्वस्थ के कई राज छुपे है। नीम एक ऐसी औषद्धि है जिसकी दवाईया तक बनायीं जाती है।

आज हम आपको नीम से होने वाले फायदों के बारे में बताएंगे जिनके बारे में आप नहीं जानते होंगे। तो आइए जानते है कि नीम का सेवन आपको क्या-क्या फायदा पहुँचा सकता है।

  • अगर आपको बार-बार खाना खाने की आदत है तो इसे दूर करने के लिए आप नीम की डंडी चबायें। ऐसे करने से आप ज्यादा खाने से मोटे भी नहीं होंगे, साथ ही ये आदत भी छूट जाएगी।
  • अगर आपके दांतो में कीड़े लगने की समस्या है तो आप नीम की डंडी चबा लें। ऐसा करने से दांत के कीड़े जल्दी गायब हो जाएंगे।
  • नीम का सेवन करने से आपका पाचन तंत्र भी ठीक रहता है।
  • जिसको डबल चीन की समस्या है तो नीम की डंडी रोजना चबाने से आपके मुँह की एक्सरसाइज़ भी हो जाएगी। साथ ही डबल चीन से छुटकारा मिलेगा।
  • जिन्हें डायबिटिज की बीमारी है उनके लिए नीम बेहद फायदेमंद है। नीम का सेवन अंदर के इंसुलिन की क्रिया को तेज़ी से बढ़ता है।
  • नीम की डंडी चबाने से आपका खून भी साफ होता है।
  • अगर आपको नाखून टूटने की समस्या है तो नीम उसके लिए बेहद लाभकारी है। इसे पीसकर लैप बनाकर नाखूनों पर लगा लें। ऐसा करने से नाखून नहीं टूटेंगे।

WeForNews

अंतरराष्ट्रीय

श्रीलंका ने पहली बार चाय की ऑनलाइन नीलामी

Published

on

कोलंबो: दुनिया के सबसे बड़े और सबसे पुराने ‘कोलंबो टी ऑक्शन’ ने कोरोना महामारी के बीच चल रही चाय की नीलामी में पहली बार ऑनलाइन सत्र संचालित किया।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, श्रीलंका सरकार द्वारा देश में कोविड-19 के प्रकोप को रोकने के लिए लगाए गए कर्फ्यू के कारण कोलंबो टी ऑक्शन को दो सप्ताह के लिए निलंबित कर दिया गया था, जिससे व्यापारियों को दूर से खरीदने और बेचने देने की सुविधा देने के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर इसे लाया गया।

ऑनलाइन नीलामी सफलतापूर्वक आयोजित की गई, जिसमें 680 खेप में 720,000 किलोग्राम एक्स-एस्टेट चाय के साथ डील की गई।

एक प्रमुख स्थानीय चाय निर्यातक इम्पीरियल टी ने 1 किलो पर 2,100 श्रीलंका रुपया (11 डॉलर) में पहली सफल बोली लगाई।

ऑनलाइन नीलामी प्लेटफॉर्म पर अब तक 300 से अधिक खरीदार और आठ दलाल पंजीकरण करा चुके हैं। कोलंबो टी ऑक्शन हर साल औसतन 3000 लाख किलोग्राम चाय की नीलामी करता है।

–आईएएनएस

Continue Reading

ब्लॉग

‘5 अप्रैल, 9 बजे, 9 मिनट’ – मूर्खता के अथाह कुंड में गोताख़ोरी

Published

on

modi deep 9 Baje

प्रवचन और उपदेशों से समाज की विकृतियाँ दूर हुई होती तो चप्पे-चप्पे पर धर्मात्मा ही नज़र आते। दरअसल, समझाने से सिर्फ़ वही समझते हैं, जो समझना चाहते हैं। जो समझना चाहते हैं, उनमें समझने की क्षमता भी विकसित हो जाती है। लेकिन इतिहास ग़वाह है कि मूर्खों को समझा पाना नामुमकिन है। इस ब्रह्म सत्य को मौजूदा निज़ाम से बेहतर और कोई नहीं जानता। इसीलिए पहले ये रही-सही अक्ल वालों को मूर्खों में तब्दील करता है, फिर उनसे लगातार मूर्खता के अथाह कुंड में गोते लगवाता रहता है। ऐसा ही राष्ट्रीय गोताख़ोरी अभियान थी – ‘5 अप्रैल, 9 बजे, 9 मिनट’

देश भर में बड़े पैमाने पर मूर्खों इस मुबारक़ घड़ी का इन्तज़ार कर रहें। लेकिन हुक़ूमत के तमाम प्रलाप के बावजूद कुछ लोग हैं जिन्होंने काजल की कोठरी में होने के बावजूद ख़ुद को कालिख़ से बचा रखा है। जो वास्तव में ‘असतो मा ज्योतिर्गमय’ का मतलब समझते हैं। मैंने क़लम ऐसे ही मुट्ठी भर लोगों के लिए उठायी है। मुझे लगा कि अब भी वक़्त है कि बत्तियाँ बुझाकर, अन्धेरा करके और उस बनावटी अन्धेरे को दूर करने के लिए दीया, मोमबत्ती या मोबाइल के फ़्लैश को टॉर्च बनाकर जलाने वाले ‘इवेंट’ के प्रति आपत्ति या दुविधा रखने वालों को बताया जाए कि कैसे मौजूदा दौर के पागल बादशाह की सनक देश के पॉवर ग्रिड के लिए घातक साबित हो सकती है?

देश में पैदा होने वाली हरेक तरह की बिजली को उस नैशनल पॉवर ग्रिड में डाला जाता है, जिससे वितरित होते हुए असंख्य रूपों में बिजली हम तक पहुँचती है। नैशनल पॉवर ग्रिड को देश की भौगोलिक आकार के हिसाब से पाँच क्षेत्रीय पावर ग्रिडों (RLDCs) और फिर राज्य स्तरीय पॉवर ग्रिडों (SLDCs) में बाँटा गया है। ये हमारे शरीर की शिराओं और धमनियों जैसा बहुत बड़ा और जटिल ढाँचा है। पूरी तरह से सरकारी अनुशासन के मुताबिक़ चलता है। इसका सबसे बड़ा नियम है बिजली की फ्रिक्वेंसी को 50 हर्ट्ज पर बनाये रखना, क्योंकि फ्रिक्वेंसी के कम होने पर जहाँ लो-वोल्टेज की समस्या पैदा होती है, वहीं ज़्यादा होने पर बिजली के उपकरणों के बर्बाद होने का ख़तरा होता है।

देश का पूरा बिजली तंत्र केन्द्रीय बिजली नियामक (CERA) के नियमों से चलता है। यही संगठन देश में बिजली का सुप्रीम कोर्ट है। इसी ने भारतीय बिजली ग्रिड कोड (IEGC) के ज़रिये तय कर रखा है कि पॉवर ग्रिड और उससे जुड़े पूरे तंत्र को हर हालत में बिजली की फ्रिक्वेंसी को 49.95 से लेकर 50.05 हर्ट्ज (Hz) के दायरे में ही रहना है। यानी, नॉर्मल की रेंज में सिर्फ़ 0.1 हर्ट्ज अर्थात महज 2% के उतार-चढ़ाव की गुंज़ाइश रखी गयी है। ये दायरा इतना संवेदनशील है कि जुलाई 2012 में ज़रा सी असावधानी की वजह से उत्तरी और पूर्वी ग्रिड चरमराकर बैठ गया था। मिनटों में हुए इस हादसे के बाद ग्रिड को बहाल होने में 12 घंटे लग गये थे।

दरअसल, ग्रिड में जितनी बिजली डाली जाती है, ख़पत का उतना ही होना ज़रूरी है। यदि माँग ज़्यादा है लेकिन उत्पादन कम है तो हम ग्रिड से ज़्यादा बिजली नहीं ले सकते। इसी तरह, यदि बिजली की खपत कम है लेकिन उत्पादन अधिक, तो हमें फ़ौरन उत्पादन घटाया जाता है। बिजली घरों को इस हिसाब से संचालित किया जाता है कि बहुत कम वक़्त में उनका उत्पादन घटाया या बढ़ाया जा सके। बिजली की माँग के बढ़ने या ख़पत के घटने का सिलसिला इतनी धीमी रफ़्तार में होना चाहिए जो ग्रिड फ्रिक्वेंसी की रेंज में ही रहे।

इन्हीं चुनौतियों को देखते हुए 5 अप्रैल 2020 को पॉवर ग्रिड ने सारे आपातकालीन उपाय किये हैं। सारे ट्रांसमिशन सिस्टम को घड़ी को एकरूप (synchronize) किया है। हरेक महत्वपूर्ण कर्मचारी को शाम छह बजे से रात दस बजे तक ड्यूटी पर रहने का हुक़्म है। हाइड्रो यूनिट्स को शाम 6:10 बजे से 8 बजे तक अपने न्यूनतम उत्पादन करते हुए रात 9 बजे वाले तमाशे के लिए तैयार रहना होगा। इस दौरान थर्मल और गैस आधारित बिजली घरों को शाम के पीक ऑवर वाले लोड के हिसाब से ख़ुद को ढालना होगा। रात 8:57 बजे तक हाइड्रो पॉवर फुल अलर्ट पर आकर ग्रिड की सिस्टम फ्रिक्वेंसी पर नज़र रखते हुए तब तक बिजली का उत्पादन गिराते चलेंगे, जब तक सारी नौटकीं को ख़त्म करके लोग फिर से बिजली की उस माँग को बहाल नहीं कर देते जो बत्तियाँ बन्द किये जाने से पहले थी।

इसके बाद राज्य सरकारों के कोयला या गैस आधारित थर्मल पॉवर स्टेशन्स को पीक ऑवर के समापन के तहत रात 9:55 बजे से अपने उत्पादन को 60 फ़ीसदी या अपनी न्यूनतम तकनीकी सीमा तक घटाना होगा। बिजलीघरों के लिए तकनीकी सीमा का दायरा वो लक्ष्मण रेखा जिसे यदि क़ायम नहीं रखा गया तो अचानक ठप हो जाएँगे। ठप होने के बाद इन्हें फिर से चालू होने में अच्छा ख़ासा वक़्त लगता है। इसीलिए ग्रिड फेल होने की दशा में हालात को सामान्य बनने में घंटों लग जाते हैं। वैसे प्रधानमंत्री के तमाशे के आह्वान को देखते हुए रात 8:30 बजे के बाद से ही सिस्टम फ्रिक्वेंसी न्यूनतम करते हुए 49.90 Hz पर ले जाने की आपातकालीन रणनीति भी अपनायी गयी है, ताकि 9 बजे होने वाली अनहोनी से ज़्यादा से ज़्यादा सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।

चलते-चलते आपको ये बताता चलूँ कि कोरोना लॉकडाउन की वजह से बिजली की माँग में भारी गिरावट आयी है। मसलन, ऊर्जा मंत्रालय के आँकड़ों के अनुसार, बीते 2 अप्रैल को देश में 125.81 गीगा वॉट बिजली की ख़पत थी, जबकि पिछले साल इसी दिन 168.32 गीगा वॉट बिजली की ख़पत हुई थी। ये अन्तर 25 फ़ीसदी का है। ज़ाहिर है, बिजली की माँग का अचानक धड़ाम से गिरना और फिर उठना, हमारे पॉवर ग्रिड और बिजलीघरों के लिए एक नयी आफ़त पैदा कर सकता है। क्योंकि इन दिनों ट्रेनें नहीं चल रहीं, फैक्ट्रियाँ बन्द पड़ी हैं, कृषि क्षेत्र में बिजली की माँग बेहद कम है, इसीलिए विशेषज्ञों ने अचानक देश भर में बत्तियाँ बन्द करने के प्रयोग को ख़तरनाक बताया है।

Continue Reading

लाइफस्टाइल

आयुर्वेदिक दवाओं से बढ़ाएं रोग प्रतिरोधक क्षमता

Published

on

नई दिल्ली: आयुर्वेदिक विशेषज्ञों ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए आयुर्वेद की दवाओं और नुस्खे का सेवन किया जा सकता है और इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाई जा सकती है।

आयुष इंटीग्रेटेड मेडिकल एसोसिएशन की मानें तो आयुर्वेद में तमाम ऐसी दवाइयां मौजूद हैं जिनसे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है। वायरस या बैक्टीरिया के शरीर में प्रवेश होने के बावजूद शरीर में रोग का संक्रमण नहीं हो पाता है।

उत्तरी दिल्ली नगर निगम के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. आरपी पाराशर ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के लिहाज से लोगों को रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करने पर ध्यान देना चाहिए। इसके लिए आयुर्वेद में दवाएं भी हैं और कुछ ऐसे नुस्खे भी, जिनका घर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने से संक्रमण ही नहीं, अन्य तरह की बीमारियों से भी बचा जा सकता है।

इसी तरह की दवा फीफाट्रोल पर भोपाल स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के डॉक्टरों ने अध्ययन में पाया कि फीफाट्रोल एक मल्टी ड्रग कॉम्बिनेशन है, जिसमें मृत्युंजय रासा, संजीवनी वटी, तुलसी और गिलोई का इस्तेमाल किया गया है। ये औषधियां वायरल संक्रमण से बचाव के लिए शरीर की रक्षात्मक शक्ति को बढ़ावा देती है।

केंद्रीय आयुष मंत्रालय के अनुसार, कोविड-19 महामारी के इस वक्त में आयुर्वेद के जरिये रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर संक्रमण से बचाव किया जा सकता है। वहीं विशेषज्ञों के अनुसार, कोरोना वायरस एक इन्फ्लुएंजा है, जिसके लक्षण एक फ्लू की भांति ही हैं। आमतौर पर बुखार, सर्दी, जुकाम, नजला, सूखी खांसी जैसी परेशानी से निपटने में आयुर्वेद के नुस्खे काफी मददगार साबित होते हैं।

ऐसे कर सकते हैं अपना बचाव

-प्रतिदिन गर्म पानी का सेवन करें।

-हल्दी, जीरा, लहसुन और धनिए का खाने में इस्तेमाल करें।

-10 ग्राम च्वयनप्राश सुबह और शाम लें। मधुमेह होने पर शुगर फ्री च्वयनप्राश ले सकते हैं।

-दिन में एक या दो बार 150 एमएल गर्म दूध में आधी चम्मच हल्दी डालकर लें।

-नारियल का तेल या देशी घी सुबह और शाम नाक में डालें।

-एक चम्मच नारियल तेल मुंह में रखें, इसे पीना नहीं है। 2 से 3 मिनट बाद इसे गर्म पानी के साथ बाहर निकाल देना है।

-कफ या गले में खराश होने पर लौंग पाउडर के साथ शहद मिलाकर दिन में दो से तीन बार ले सकते हैं।

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular