पोहा खाने से होते हैं ये फायदे | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

लाइफस्टाइल

पोहा खाने से होते हैं ये फायदे

Published

on

Poha indian Dish
File Photo

पोहा का सेवन सेहत के लिए बहुत लाभकारी होता है। इसमें कई पोषक तत्व मौजूद होते है। जो आपके शरीर को मजबूत बनाते है।

इसे खाने से आपके शरीर में ज्यादा फैट भी नहीं जमता। पोहा खाने से आपका कोलेस्ट्रॉल लेवल कंट्रोल में रहता है। जिससे दिल की बीमारी नहीं होती।

साथ ही हार्ट अटैक आने का खतरा टल जाता है। आज हम आपको पोहे के ऐसे फायदों के बारे में बताने जा रहे है। जिसके बारें में बहुत कम लोग जानते है। आइए जानें पोहे खाने के फायदों के बारें में।

  • ब्लड शुगर कंट्रोल रखें

पोहा में भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। जो आपके शुगर को कंट्रोल रखता है। साथ ही इसे खाने से आपका इम्यून मजबूत होता है। जिससे बीमारियां जल्दी से अपनी चपेट में नहीं लेती।

  • कार्बोहाइड्रेट

आपकी जानकारी के लिए बता दें पोहे में 76 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है। साथ ही इसमें 23 प्रतिशत फैट होता है। जिससे आपका वजन नहीं बढ़ता।

  • कैलोरी

कैलोरी की मात्रा पोहे में सबसे कम पाई जाती है। सब्जी वाले पोहा में 250 कैलोरी पाई जाती है। इतना ही नहीं इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स और मिनरल्स होते है। जो
आपको हेल्दी बनाकर रखते है। साथ ही इसे खाने से आपके शरीर में एनर्जी बनी रहती है।

  • आसानी से पचता है

पोहे में भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। जो पचाने में काफी सहायक होता है। इसे खाने से आपका पाचन मजबूत होता है। साथ ही आपोक पेट से जुड़ी समस्या नहीं रहता है।

WeForNews

लाइफस्टाइल

कंप्यूटर, रसायन, फार्मेसी, बायोटेक्नोलॉजी के छात्र ढूढ़ेंगे कोरोना की दवा

Published

on

coronavirus
प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली। देश में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस की दवा तैयार करने में अब कंप्यूटर विज्ञान, रसायन विज्ञान, फार्मेसी, चिकित्सा और जैव प्रौद्योगिकी (बायोटेक्नोलॉजी) जैसे विभिन्न क्षेत्रों के पेशेवर, शिक्षक, शोधकर्ता और छात्र भी हिस्सा लेंगे।

किसी दवा की खोज में हो रहे प्रयासों को संबल देने के लिए यह अपने आप में एक अनोखी राष्ट्रीय पहल है। इस विषय पर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा, किसी दवा की खोज करना एक बेहद जटिल और महंगी प्रक्रिया है।

इस प्रक्रिया को कम समय में और कम लागत में पूरा करने के लिए कम्प्यूटेशनल ड्रग डिजाइन प्रक्रिया का उपयोग किया जा रहा है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय मंत्री ने कहा, इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि यह पहल दुनिया भर के शोधकर्ताओं के लिए है क्योंकि हम अपने प्रयासों में अंतरराष्ट्रीय प्रतिभाओं को शामिल करने के लिए भी इच्छुक हैं।

इस कार्य योजना के लिए गुरुवार को केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक और केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, पृथ्वी विज्ञान और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने संयुक्त रूप से ड्रग डिस्कवरी हैकाथॉन लांच किया।

इसमें अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) और वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) भी शामिल हैं। इस हैकाथॉन को तीन ट्रैक्स में पूरा किया जायेगा। पहले ट्रैक में ड्रग डिजाइन के लिए कम्प्यूटेशनल मॉडल का इस्तेमाल किया जायेगा या मौजूदा डाटाबेस से ऐसे कंपाउंड की पहचान की जाएगी जिसमें कि सार्स-कोव-2 को रोकने की क्षमता हो।

दूसरे ट्रैक में प्रतिभागियों को डाटा एनालिटिक्स और आर्टिफिशल इंटेलिजेंस एवं मशीन लनिर्ंग का उपयोग करके नए उपकरण और एल्गोरिदम विकसित करने के लिए प्रोत्साहित किया जायेगा ताकि न्यूनतम विषाक्तता और अधिकतम विशिष्टता के साथ दवा जैसे कंपाउंड को ढूंढा जा सके। तीसरे ट्रैक में मून-शॉट दृष्टिकोण के द्वारा केवल नए और अनूठे विचारों को देखा व समझा जायेगा। यह हैकाथॉन सीडैक (सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ एडवांस्ड कंप्यूटिंग), मायगाव, श्रोडिंगर और केमाक्सोन द्वारा समर्थित है।

आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

पूर्व आईआईटीयन ने डिओ से सैनिटाइजर बनाया

Published

on

कानपुर, 2 जुलाई (आईएएनएस)। आईआईटी-गुवाहाटी के एक सहायक प्रोफेसर के साथ मिलकर आईआईटी-कानपुर के एक पूर्व छात्र ने एक डिओडरेंट-कम-सैनिटाइजर तैयार किया है। यह न केवल कोरोनावायरस के खतरे को लगभग 7 से 10 घंटे तक दूर रखता है बल्कि खुशबू भी देता है।

इस परियोजना में इन दोनों लोगों ने कानपुर के फ्रेगरेंस एंड फ्लेवर डेवलपमेंट सेंटर के साथ मिलकर काम किया है। आईआईटी कानपुर के पूर्व छात्र आंशिक गंगवार ने कहा कि यह नया डिओडरेंट त्वचा और पर्यावरण के अनुकूल है और इसकी गंध तनाव से भी छुटकारा दिलाती है।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, डिओडोरेंट का उपयोग शरीर और कपड़ों पर किया जा सकता है। इसमें सैनिटाइजर के घटक हैं जो कि कोरोनावायरस से लड़ने में मदद करते हैं। हमें पेटेंट मिल गया है और सैनिटाइजर-कम डिओडोरेंट शीघ्र ही बाजार में उपलब्ध होगा।

इस प्रोडक्ट में 80 प्रतिशत एथिल अल्कोहल, 10 प्रतिशत ग्रीन ऑयल, 10 प्रतिशत मॉइस्चराइजर न्यूट्रोगेना ऑयल और खुशबू के सुगंधित तेलों का भी उपयोग किया गया है।

Continue Reading

टेक

चीनी एप की टक्कर में ‘बिहारी ब्राउजर

Published

on

Photo-Ians

नई दिल्ली, बिहार के युवा सिर्फ चीन की सीमाओं पर ही नहीं, तकनीक पर भी चीन को कड़ी टक्कर दे रहे हैं। देश में चल रहे चाइनीज एप्स के बहिष्कार के अभियान और केंद्र सरकार द्वारा 59 चायनीज एप्स को बंद किए जाने के बाद मेड इन इंडिया एप की मांग बढ़ी है।

इसी क्रम में दो बिहारी युवाओं का बनाया मैगटैप नाम के वेब ब्राउजर गूगल प्ले स्टोर पर खूब डाउनलोड किया जा रहा है। गूगल प्ले स्टोर पर आने के कुछ महीनों में ही इसे 8 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चूका है और फिलहाल इसकी रेटिंग 4़ 9 है।

एप से जुड़े सत्यपाल चंद्रा बताते हैं कि मैगटैप पूरी तरह से मेड इन इंडिया है। उन्होंने कहा, मैगटैप एक विजुअल ब्राउजर के साथ-साथ डक्यूमेंट रीडर, ट्रांसलेशन और ई-लनिर्ंग की सुविधा देने वाला एप है। इस एप को खास तौर पर देश के हिंदी भाषी छात्रों को ध्यान में रखकर बनाया गया है।

उन्होंने दावा करते हए कहा, प्ले स्टोर पर एजुकेशन कैटेगरी में यह एप दुनिया भर में पहले नंबर पर है। हाल ही में इसका वर्जन 2 भी लांच किया गया है। वर्जन 2 के लांच होने और फिर चायनीज ऐप्स पर बैन के बाद मैगटैप को 2़ 5-3 लाख के करीब डाउनलोड किया गया है।

वे कहते हैं कि इंटरनेट पर अधिकतर अच्छी जानकारियां अंग्रेजी में हैं, ऐसे में उन्हें पढ़ते वक्त यह एप किसी भी शब्द, वाक्य या पूरे पैराग्राफ को भी हिंदी सहित देश की 12 भाषाओँ में अनुवाद कर सकता है। साथ में कोई भी दूसरा एप जैसे- व्हाट्सएप, फेसबुक, मैसेंजर आदि में भी किसी शब्द पर टैप कर उसका अर्थ जाना जा सकता है।

मैगटैप को डेवलप करने वाले रोहन कुमार ने बताया कि उन्होंने अभी ही इसका अपडेटेड वर्जन मैगटैप 2़ 0 लांच किया है। इस नए अपडेट में कई और सुविधाएं जोड़ी गयी हैं, जिससे यह एप चीन की यूसी ब्राउजर के साथ ही गूगल के क्रोम और ओपेरा ब्राउजर से भी बेहतर साबित होगा।

उन्होंने दावा करते हुए कहा कि एप का ट्रांसलेशन फीचर अब 12 भारतीय भाषाओँ के साथ फ्रेंच, जर्मन, इटालियन और अरबी समेत 29 विदेशी भाषाओं में भी पल भर में अनुवाद कर सकेगा।

इससे भारत में हिंदी सहित कोई भी भाषा जानने वाले लोग अपने देश ही नहीं, बल्कि दुनिया भर की सभी मुख्य भाषाओं को घर बैठे सीख सकते हैं। इसके अलावा इस नए अपडेट में आवाज से आवाज और चित्र से आवाज में अनुवाद की भी सुविधा दी गई है।

मैगटैप ऐप बनाने वाली कंपनी मैगटैप टेक्नोलॉजी का मुख्यालय मुंबई में है। यह कंपनी भारत सरकार के स्टार्टअप योजना से भी जुड़ी है। कंपनी के दोनों फाउंडर, सत्यपाल चंद्रा जहां गया के रहने वाले हैं वहीं रोहन सिंह समस्तीपुर के हैं। मैगटैप को रोहन ने डिजाईन किया है और इसके तकनीकी पक्षों को संभालने में उनके 18 वर्षीय भाई अभिषेक सिंह मदद करते हैं।

नक्सल प्रभावित गया के इमामगंज प्रखंड के रहने वाले सत्यपाल चंद्रा अभाव और गरीबी के बीच प्रारंभिक पढाई पूरी कर कमाने के इरादे से वे दिल्ली चले गए। सत्यपाल ने करीब छह माह दिनरात मेहनत कर अंग्रेजी बोलना-लिखना सीखा। इसके बाद उन्होंने एक के बाद एक कई अंग्रेजी उपन्यास लिख डाले। उनकी किताबें द मोस्ट इलिजिबल बैचलर और व्हेन हेवेन्स फॉलडाउन काफी चर्चित रही हैं।

समस्तीपुर के मोहनपुर प्रखंड के निवासी रोहन सिंह ने 19 साल की उम्र में ही वेब डेवलपर के तौर पर काम किया है।

–आईएएनएस

Continue Reading
Advertisement
राष्ट्रीय1 second ago

छत्तीसगढ़ के कोंडागांव में आईटीबीपी ने IED बरामद

airoplane
राष्ट्रीय4 mins ago

अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर 31 जुलाई तक सरकार ने लगाई रोक

राजनीति12 mins ago

सोनिया गांधी ने पीएम मोदी लिखा खत

Mayawati
राजनीति24 mins ago

अपराधियों को किसी कीमत पर न छोड़ा जाए: मायावती

Indian Army in Jammu and Kashmir
अंतरराष्ट्रीय36 mins ago

पाक द्वारा संघर्षविराम उल्लंघनों में पिछले 6 महीनों में 14 भारतीयों की मौत

imran khan
अंतरराष्ट्रीय39 mins ago

पाकिस्तान : प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय पार्को के संरक्षण के लिए पहल की

earthquake
राष्ट्रीय42 mins ago

मिजोरम में 4.6 तीव्रता का भूकंप

shinzo
अंतरराष्ट्रीय44 mins ago

लद्दाख मुद्दे पर भारत को जापान का मजबूत समर्थन

राष्ट्रीय51 mins ago

बीजेपी सांसद लॉकेट चटर्जी कोरोना पॉजिटिव

Tomato
व्यापार57 mins ago

टमाटर हुआ लाल, दिल्ली में 70 रुपये किलो हुआ भाव

Social media. (File Photo: IANS)
टेक3 weeks ago

सोशल मीडिया पर अश्लील तस्वीर डालने पर नायब तहसीलदार निलंबित

Stock Market Down
ब्लॉग3 weeks ago

शेयर बाजार में पूरे सप्ताह रहा उतार-चढ़ाव, 1.5 फीसदी टूटे सेंसेक्स, निफ्टी

Mark Zuckerberg
टेक4 weeks ago

ब्लैक लाइव्स मैटर, नस्लीय भेदभाव को संबोधित करेंगे : जुकरबर्ग

अंतरराष्ट्रीय3 weeks ago

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा कोरोना पॉजिटिव

टेक3 weeks ago

भारत में गुगल सर्च, असिस्टेंट एंड मैप्स पर कोरोना परीक्षण केंद्र खोजें

-Coronavirus-min
राष्ट्रीय3 weeks ago

उत्तराखंड में कोरोना 77 नए मामले

Coronavirus
राष्ट्रीय3 weeks ago

चंडीगढ़ में कोरोना के 5 नए मामले

लाइफस्टाइल3 weeks ago

जेजीयू क्यूएस रैंकिंग 2021 में भारत का शीर्ष निजी विश्वविद्यालय बना

ayurved
लाइफस्टाइल4 weeks ago

कोरोना : इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए अब सैशे में मिलेगा आयुष क्वाथ

लाइफस्टाइल4 weeks ago

जमीनी हालात देखकर अगस्त के बाद खोले जाएंगे स्कूल

Kapil Sibal
राजनीति3 weeks ago

तेल से मिले लाभ को जनता में बांटे सरकार: कपिल सिब्बल

Vizag chemical unit
राष्ट्रीय2 months ago

आंध्र प्रदेश: पॉलिमर्स इंडस्ट्री में केमिकल गैस लीक, 8 की मौत

Delhi Police ASI
शहर3 months ago

दिल्ली पुलिस के कोरोना पॉजिटिव एएसआई के ठीक होकर लौटने पर भव्य स्वागत

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
स्वास्थ्य3 months ago

WHO को दिए जाने वाले अनुदान पर रोक को लेकर टेडरोस ने अफसोस जताया

Sonia Gandhi Congress Prez
राजनीति3 months ago

PM Modi के संबोधन से पहले कोरोना संकट पर सोनिया गांधी का राष्ट्र को संदेश

मनोरंजन3 months ago

रफ्तार का नया गाना ‘मिस्टर नैर’ लॅान्च

WHO Tedros Adhanom Ghebreyesus
अंतरराष्ट्रीय3 months ago

चीन ने महामारी के फैलाव को कारगर रूप से नियंत्रित किया : डब्ल्यूएचओ

मनोरंजन3 months ago

शिवानी कश्यप का नया गाना : ‘कोरोना को है हराना’

Honey Singh-
मनोरंजन4 months ago

हनी सिंह का नया सॉन्ग ‘लोका’ हुआ रिलीज

Akshay Kumar
मनोरंजन4 months ago

धमाकेदार एक्शन के साथ रिलीज हुआ ‘सूर्यवंशी’ का ट्रेलर

Most Popular