Connect with us

राष्ट्रीय

शहीद दीपक नैनवाल का अंतिम संस्कार आज, बेटी बोली- ‘पापा अब स्टार बन गए’

Published

on

Kulgam
शहीद दीपक नैनवाल

40 दिन से अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ रहे देहरादून के जांबाज दीपक नैनवाल शहीद हो गए। 10 अप्रैल को वह जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में आतंकवादियों से मुठभेड़ के दौरान घायल हो गए थे। आज का पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए देहरादून में उनके घर के बाहर रखा गया, जहां शहीद को श्रद्धाजंलि देने के लिए जन सैलाब उमड़ पड़ा।

इस दौरान शहीद की मासूम बेटी ने भी अपने पिता को श्रद्धाजंलि दी, जिसको देखकर सभी की आखें भर आईं। मासूम ने बच्चे अपनी मम्मी और दादी के साथ बाकी रिश्तेदारों को देखकर मायूस थे। शहीद दीपक की मासूम बेटी समृद्धि ने ऐसी बात कही की सबकी आंखें भर आई। मासूम ने कहा कि पापा आसमान में स्टार बन गए हैं।

शहीद दीपक नैनवाल को श्रद्धांजलि देने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पहुंचें। मुख्यमंत्री ने शहीद के परिजनों से मुलाकात की और उन्हें सांत्वना दी। सीएम ने परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया। इसके अलावा सीएम ने परिवार को हर संभव मदद करने का भी भरोसा दिया।

पूर्व सेना अधिकारी पिता चक्रधर नैनवाल को बेटे के हमेशा के लिए संसार से जाने का दुख है, लेकिन बेटे की शहादत पर गर्व है। उन्होंने कहा कि इस उम्र में बेटे के शव को कंधा देने से बढ़कर जिंदगी का बड़ा दुख और क्या होगा। शहीद के दो बच्चे हैं।

शहीद की मां और उनकी पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल है। दोनों बेसुध हैं, परिजन और रिश्तेदार लगातार सांत्वना दे रहे हैं। मां को बेटे की शहादत पर गर्व हैं, लेकिन दुख इस बात का है कि इतनी कम उम्र में उन्हें और अपने बच्चों को छोड़ गया।

आपको बता दें कि दीपक नैनवाल 10 अप्रैल को दक्षिणी कश्मीर के कुलगाम में आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान गोलियां लगने से घायल हो गए थे। दीपक का इलाज पहले दिल्ली के सैना अस्पताल में किया गया और बाद में उन्हें पुणे भेजा गया था। दीपक ने पुणे में ही इलाज के दौरान आखिरी सांस ली।

WeForNews

राष्ट्रीय

गुजरात सीएम रूपाणी पर एफआईआर का आदेश

Published

on

Vijay Rupani
विजय रूपाणी, मुख्यमंत्री, गुजरात (फाइल फोटो)

मुजफ्फरपुर। बिहार की एक अदालत ने मंगलवार को गुजरात से बिहार के लोगों को कथित रूप से भगाए जाने के मामले में दर्ज एक परिवाद पर सुनवाई करते हुए गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर के खिलाफ स्थानीय थाने को प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया है।

मुजफ्फरपुर व्यवहार न्यायालय के अनुमंडल न्यायिक दंडाधिकारी (पश्चिम) सब्बा आलम की अदालत ने याचिकाकार्ता समाजसेवी तमन्ना हाशमी के एक परिवादपत्र की सुनवाई करते हुए कांटी थाना के प्रभारी को गुजरात के मुख्यमंत्री रूपाणी और कांग्रेस विधायक ठाकोर के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया है।

याचिकाकर्ता ने बताया कि अदालत ने थाना प्रभारी को मामले की जांच करने का आदेश भी दिया है। हाशमी ने पिछले वर्ष 9 अक्टूबर को अदालत में एक परिवादपत्र दायर कर विजय रूपाणी और अल्पेश ठाकोर पर बिहारियों को अपमानित कर जबरन गुजरात से भगाने का आरोप लगाया था। परिवादपत्र में कहा गया है कि यह देश को तोड़ने की कार्रवाई है।

इस परिवादपत्र में भादंवि की धारा 153, 295, 504 लगाई गई है। गौरतलब है कि गुजरात में एक बच्ची के साथ कथित रूप से दुष्कर्म की घटना के बाद स्थानीय लोग उत्तर भारतीय लोगों को निशाना बनाने लगे थे। बिहार के लोग अपनी जान बचाने के लिए वहां से पलायन करने लगे थे।

-आईएएनएस

Continue Reading

राष्ट्रीय

देश के भविष्य से जुड़ा है ईवीएम का मुद्दा: सिब्बल

Published

on

Kapil Sibal
कपिल सिब्‍बल, सांसद, राज्‍यसभा (फोटो: एएनआई)

ईवीएम हैकिंग के खुलासे के बाद कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने इसे बहुत ही संवेदनशील मुद्दा बताया। दिल्ली में एक प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने कहा कि ईवीएम का मुद्दा देश के भविष्य से जुड़ा है। सिब्बल ने कहा कि लंदन में हुए ईवीएम हैकिंग के प्रोग्राम में शामिल होने का बीजेपी उन पर गलत तरह से आरोप लगा रही है।

सिब्बल ने कहा कि वे किसी निजी काम से लंदन गए हुए थे और उन्हें प्रोग्राम में बुलाया गया तो चले गये थे। सिब्बल ने साफ कहा कि इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आशीष रे का ईमेल भी आया था और आयोजक आशीष रे को वह पहले से जानते हैं।

वहीं बीजेपी ने आरोप लगाया कि लंदन में हुए ईवीएम हैकिंग प्रोग्राम को कांग्रेस की तरफ से प्रायोजित था। बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस लंदन में बैठकर भारतीय लोकतंत्र की धज्जियां उड़ा रही है। इस पर कपिल सिब्बल ने पलटवार किया।

बता दें कि लंदन में एक कार्यक्रम में भारतीय मूल के एक अमेरिकी एक्सपर्ट ने ईवीएम हैकिंग का दावा किया था। एक्सपर्ट सैयद शुजा ने बताया कि दिवंगत बीजेपी नेता गोपीनाथ मुंडे ने वर्ष 2014 में ईवीएम की हैकिंग के लिए उनसे संपर्क किया था। सैयद ने दावा किया था कि मुंडे की मौत का कारण भी यही था।

ईवीएम हैकिंग के खुलासे के बाद देश के तमाम राजनीतिक दलों ने एक बार फिर ईवीएम हटाने की मांग की है। विपक्ष की मांग है कि लोकसभा चुनाव 2018 बैलेट पेपर से हो। वहीं चुनाव आयोग ने ईवीएम हैकिंग को नकारा है। चुनाव आयोग ने कहा है कि ईवीएम के खिलाफ रचने वालों पर कानूनी कार्रवाई करेगा।

WeForNews

Continue Reading

राष्ट्रीय

सिद्दगंगा मठ प्रमुख के अंतिम दर्शन के लिए उमड़ी भीड़

Published

on

Shivakumar Swami
सिद्दगंगा मठ के प्रमुख शिवकुमार स्वामी के अंतिम दर्शन के लिए लोगों की भीड़ उमड़ी। (फोटो: एएनआई)

तुमाकुरु (कर्नाटक)। कर्नाटक के तुमाकुरु स्थित सिद्दगंगा मठ के प्रमुख शिवकुमार स्वामी के पार्थिव शरीर के दर्शन के लिए लोगों की भीड़ उमड़ी।

सिद्दगंगा मठ के प्रमुख व लिंगायत समुदाय के बेहद सम्मानित धर्मगुरु शिवकुमार स्वामी का 111 साल की उम्र में सोमवार पूर्वान्ह निधन हो गया। उनका स्वास्थ्य लंबे समय से खराब चल रहा था। मठ के एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, “सोमवार अपरान्ह से लोगों के आने का सिलसिला शुरू हुआ जो पूरी रात जारी रहा और आज भी जारी है। पूरे राज्य के शहरों-गांवों से लोग आ रहे हैं। अब तक करीब तीन लाख लोग दर्शन के लिए आ चुके हैं।”

भक्तों को तुमाकुरु पहुंचाने के लिए राज्य द्वारा संचालित सड़क परिवहन निगम की ओर से 200 से ज्यादा बसों की व्यवस्था की गई है। लेकिन, लोग अपने निजी दोपहिया वाहनों, ट्रैक्टरों से भी यहां पहुंच रहे हैं। इसके अलावा दक्षिण-पश्चिम रेलवे की ओर से बेंगलुरू से तुमाकुरु के लिए स्पेशल ट्रेन भी चलाई जा रही है ताकि भक्त स्वामीजी को श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंच सकें। शिवकुमार स्वामी का पार्थिव शरीर भगवा कपड़ों में लिपटा हुआ है, उनके माथे पर भभूत लगाया गया है। कांच के डिब्बे में उनके पार्थिव शरीर को देखने से लग रहा है कि स्वामीजी बैठने की मुद्रा में निद्रा में हैं।

अधिकारी ने कहा कि स्वामीजी को श्रद्धांजलि अर्पित करने पहुंचे लोगों के लिए मठ की तरफ से मुफ्त भोजन की व्यवस्था की गई है। मठ की इस पहल को देखकर शहर के होटलों और रेस्टोरेंट ने भी लोगों को मुफ्त में खाना खिलाने की व्यवस्था की है। राज्य सरकार ने स्वामीजी के सम्मान में मंगलवार को छुट्टी की घोषणा की हुई है। राज्य के तमाम स्कूल, कॉलेज, दफ्तर बंद हैं। राज्य में तीन दिन के शोक की घोषणा की गई है।

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने इस दौरान बेंगलुरू से तुमाकुरु के बीच हाइवे टोल टैक्स को मंगलवार शाम तक के लिए हटा दिया है। स्वामीजी का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ मठ परिसर में किया जाएगा।

आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular