Connect with us

लाइफस्टाइल

मानसून में बालों का यूं रखें ख्याल

Published

on

फाइल फोटो

मानसून न सिर्फ चेहरे पर मुस्कान लाता है, बल्कि बालों से संबंधित कुछ समस्याएं भी लेकर आता है, इस मौसम में बालों की चमक खो जाती है। बालों में चिपचिपापन होता है, बाल उलझे से हो जाते हैं, ऐसे में बालों की सही देखभाल बेहद जरूरी है।

कामा आयुर्वेद के डॉक्टर (इन-हाउस) शरद कुलकर्णी ने मानसून में बालों की देखभाल से संबंधित ये सुझाव दिए हैं : 

* बालों में डिहाइड्रेशन से बचने के लिए हाइड्रेटिंग तेलों जैसे बादाम या नारियल के साथ एंटीबैक्टीरियल तेल नीम को समान मात्रा में लगाए। इससे बाल उलझेंगे या टूटेंगे नहीं और दोमुंहे भी नहीं होंगे। नीम का तेल ठंडक प्रदान कर पसीने को दूर करता है, जिससे रूसी और खुजली नहीं होती है।

Image result for Take care of hair in monsoon

* मानसून के मौसम में एक सप्ताह में एक या दो बार बालों में तेल लगाना पर्याप्त होता है।

* घुंघराले, घने लहराते बालों के उलझने की ज्यादा संभावना होती है, इसलिए हाइड्रेटिंग शैंपू या कंडीशनर का इस्तेमाल करना जरूरी है। नैचुरल उत्पाद का ही इस्तेमाल करें, ताकि केमिकल आपकी बालों को रूखा नहीं बना सके।

* जिन बालों को पहले से ही नुकसान पहुंचा हुआ है या जो उपचार की प्रक्रिया में हैं, उन बालों के लिए सल्फेट-मुक्त शैंपू का इस्तेमाल खास तौर से जरूरी है।

Image result for Take care of hair in monsoon
* हेयर स्टाइलिंग टूल या हेयर ड्रायर के इस्तेमाल से ज्यादा हीट से आपके बालों को नुकसान पहुंच सकता है।

केरास्टेस की मेलिसा ह्यूजेस (एजुकेशन एक्सपर्ट) ने भी इस संबंध में ये सुझाव दिए हैं :

* उमस भरे मौसम में सिर में बैक्टीरिया या फंगी पनपने के ज्यादा आसार होते हैं, जिसके चलते सिर में खुजली होती है। अतिरिक्त तैलीयपन होता है और बाल भी ज्यादा झड़ने लगते हैं। ऐसे में स्कैल्प के लिए अक्सर स्पेसीफिक शैंपू का इस्तेमाल करें। स्कैल्प को ड्राइ रखने के लिए घर पर ड्रायर का इस्तेमाल करें।

* स्कैल्प में ज्यादा समस्या होने पर रोज शैंपू करें, अन्यथा सप्ताह में तीन बार शैंपू करना ज्यादा बेहतर है।

Image result for Take care of hair in monsoon

* बालों के उलझने की समस्या से बचने के लिए एंटी-फ्रीज मास्क या एंटी-फ्रीज कंडीशनर का इस्तेमाल करें। आप एंटी-फ्रीज सीरम, क्रीम का भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

* बालों को टूटने से बचाने के लिए स्कैल्प को साफ और ड्राइ रखना जरूरी है। बारिश में बाल गीले हो जाने पर बाल धोना नहीं भूलें। स्वस्थ स्कैल्प के लिए स्पेसीफिक स्कैल्प शैंपू या मास्क का इस्तेमाल करें। अक्सर बाल धोने के साथ ही बालों में तेल लगाना भी जरूरी है, जिससे बालों में मॉइश्चर बना रहे।

* कलर प्रोटेक्टिंग मास्क बालों में ज्यादा चमक लाते हैं। ग्लॉसी (चमकदार) बालों के लिए सीरम/तेल का इस्तेमाल करें।

Image result for Take care of hair in monsoon

* बारिश के मौसम में पोनी टेल, चोटी, बालों को ऊपर करके बांधना या जूड़ा बनाना ज्यादा उपयुक्त रहेगा।

–आईएएनएस

लाइफस्टाइल

दिल दुरुस्त रखने को आया ‘स्टेअर स्नैकिंग’

Published

on

heart-min

दिनभर की भागदौड़ के बाद आज के जमाने में लोग कसरत या किसी भी शारीरिक गतिविधि के लिए समय नहीं निकाल पाते हैं, ऐसे में व्यस्त दिनचर्या में से इस तरह की चीजों को वक्त न देने में ही भलाई समझते हैं। अब ऐसे लोगों के लिए भी एक खुशखबरी है, क्योंकि अब ये भी एक बहुत ही आसान तरीके से खुद को स्वस्थ रख सकते हैं। 

कनाडा के मैकमास्टर यूनिवर्सिटी के अध्यापक मार्टिन गिबाला का कहना है कि अब लोग कहीं भी और कभी भी ‘स्टेअर स्नैकिं ग’ की मदद से स्वयं को स्वस्थ रख सकते हैं और अपनी फिटनेस को बरकरार रख सकते हैं।

प्रोफेसर गिबाला ने कहा कि ऑफिस टावर्स में काम करने वाले या फिर ऊंची इमारतों में रहने वाले लोग सुबह, दोपहर और शाम को सीढ़ियों पर चढ़-उतर कर वर्कआउट कर सकते हैं और शरीर को बेहतर बनाए रखने में यह वाकई में प्रभावशाली है।

इस अध्ययन में शामिल शोधकर्ताओं का ऐसा मानना है कि अगर कोई दिन भर में दो से तीन बार सीढ़ियों से चढ़ता या उतरता है तो इससे दिल को स्वस्थ रखा जा सकता है।

एक शोध में नौजवानों के एक ऐसे समूह को शामिल किया गया, जिन्हें व्यायाम जैसी चीजों के लिए वक्त नहीं मिल पाता या किसी वजह से इनकी दिनचर्या में इस तरह की कोई भी चीजें शामिल नहीं है, इस ग्रुप के लोगों को दिन में तीन बार तेज गति से सीढ़ियों से चढ़ने और उतरने को कहा गया और ऐसा इन्होंने छह सप्ताह में तीन बार हर रोज किया।

शोधकर्ताओं के मुताबिक, इन समूह के व्यक्तियों में वाकई में दूसरे ग्रुप के सदस्य जिन्होंने ऐसा कुछ भी नहीं किया, की अपेक्षा अंतर पाया गया।

‘स्टेअर स्नैकिं ग’ की इस प्रभावशाली उपयोगिता के बारे में शोधकर्ताओं का निष्कर्ष कई पत्रिकाओं में भी प्रकाशित हुई है।

कनाडा में स्थित एक और यूनिवर्सिटी के सहायक प्राध्यापक जोनेथन लिटिल ने कहा कि आप ऑफिस में कॉफी ब्रेक या बाथरूम ब्रेक के दौरान इस तरह की गतिविधि को करके खुद को फिट रख सकते हैं।

भविष्य में ब्लड प्रेशर या ग्लाइसेमिक जैसी बीमारियों को दूर रखने के लिए इस तरह की कुछ और गतिविधियों के बारे में खोज की जा रही है।

–आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

चेहरे पर मुंहासे और बाल से महिलाओं में तनाव का खतरा

Published

on

महिलाओं के चेहरे पर मुंहासे और बाल वर्तमान में एक आम समस्या बन गए हैं इससे उनमें समाज में शर्म की स्थिति झेलने के साथ-साथ भावनात्मक तनाव और अवसाद की चपेट में आने का खतरा रहता है।

इस समस्या को पॉलीसिस्टिक ओवरियन सिन्ड्रोम (पीसीओएस) कहा जाता है, जिसका जल्दी ही उचित उपचार मिलने से भावनात्मक तनाव कम हो सकता है। पॉलीसिस्टिक ओवरी सिन्ड्रोम वास्तव में एक मेटाबोलिक, हार्मोनल और साइकोसोशल बीमारी है, जिसका प्रबंधन किया जा सकता है, लेकिन ध्यान नहीं दिये जाने से रोगी के जीवन पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। एक अध्यनन के मुताबिक, भारत में पांच में से एक वयस्क महिला और पांच में से दो किशोरी पीसीओएस से पीड़ित है। मुंहासे और हिरसुटिज्म पीसीओएस के सबसे बुरे लक्षण हैं।

पीसीओएस का प्रमुख लक्षण है हाइपरएंड्रोजेनिज्म, जिसका मतलब है महिला शरीर में एंड्रोजन्स (पुरुष सेक्स हॉर्मोन, जैसे टेस्टोस्टेरोन) की उच्च मात्रा। इस स्थिति में महिला के चेहरे पर बाल आ जाते हैं।

दिल्ली में ऑब्स्टेट्रिक्स एवं गायनेकोलॉजी की निदेशक व दिल्ली गायनेकोलॉजिस्ट फोरम (दक्षिण) की अध्यक्ष डॉ. मीनाक्षी आहूजा ने कहा, “त्वचा की स्थितियों, जैसे मुंहासे और चेहरे पर बाल को आम तौर पर कॉस्मेटिक समस्या समझा जाता है। महिलाओं को पता होना चाहिए कि यह पीसीओएस के लक्षण है और हॉर्मोनल असंतुलन तथा इंसुलिन प्रतिरोधकता जैसे कारणों के उपचार हेतु चिकित्सकीय सलाह लेनी चाहिए।”

मुंहासे और हिरसुटिज्म के उपचार के बारे में डॉ. मीनाक्षी आहूजा ने कहा, “पीसीओएस एक चुनौतीपूर्ण सिन्ड्रोम है, लेकिन जोखिमों का प्रबंधन करने के पर्याप्त अवसर हैं। पीसीओएस के बारे में बेहतर जागरूकता की आवश्यकता है, ताकि महिलाएं लक्षणों को पहचानें और सही समय पर सही मेडिकल सहायता लें।” 

उन्होंने कहा, “स्वस्थ जीवनशैली, पोषक आहार, पर्याप्त व्यायाम और उपयुक्त उपचार अपनाने से पीसीओएस के लक्षण नियंत्रित हो सकते हैं। पीसीओएस के कारण होने वाला हॉर्मोनल असंतुलन उपचार योग्य होता है, ताकि मुंहासे और हिरसुटिज्म को रोका जा सके। गायनेकोलॉजिस्ट से उपयुक्त मेडिकल मार्गदर्शन प्रभावी उपचार के लिए महत्वपूर्ण है।” 

देश में पांच से आठ प्रतिशत महिलाएं हिरसुटिज्म से पीड़ित हैं। हार्मोन के असंतुलन के कारण मुंहासे भी होते हैं और यह पीसीओएस का लक्षण है। यह दोनों लक्षण महिला की शारीरिक दिखावट को प्रभावित करते हैं और इनका उपचार न होने से महिला का आत्मविश्वास टूट जाता है और उनका अपने प्रति आदर कम होता है। मुंहासे से पीड़ित 18 प्रतिशत रोगियों में गंभीर डिप्रेशन और 44 प्रतिशत में एन्ग्जाइटी देखी गई है।

डॉ. आहूजा ने कहा, “पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं की भलाई सुनिश्चित करने के लिए समाज और परिवारों को साइकोलॉजिकल तनाव को समझने और साथ ही पूरे आत्मविश्वास के साथ दुनिया का सामना करने के लिए उन्हें सहयोग देने के लिए प्रयास करने की जरूरत है।”

उन्होंने कहा, “अधिकांश महिलाओं को इन स्थितियों का बोध नहीं है और वे चिकित्सकीय मार्गदर्शन के बिना सामयिक उपचार लेती हैं, जिससे त्वचा खराब हो सकती है। यह जानना महत्वपूर्ण है कि अगर आप लक्षणों का उपचार नहीं करेंगे, तो मुंहासे और चेहरे पर बाल दोबारा आ जाएंगे।” 

–आईएएनएस

Continue Reading

लाइफस्टाइल

देश में 60 फीसदी लोगों को पसंद है शाकाहार : रिपोर्ट

Published

on

food

देश में मधुमेह जैसे रोगों से पीड़ित लोगों की तादाद बढ़ने के बीच एक अच्छी खबर है कि ज्यादातर लोग अब स्वास्थ्यवर्धक भोजन पसंद करने लगे हैं।

एक सर्वेक्षण के अनुसार, 63 फीसदी भारतीय गोश्त की जगह वनस्पति से प्राप्त भोजन पसंद करते हैं। मतलब मांसाहारी के बजाए शाकाहारी लोगों की तादाद ज्यादा हो गई है।

ग्लोबल रिसर्च कंपनी इप्सोस की रिपोर्ट ‘फूड हैबिट्स ऑफ इंडियंस : इप्सोस अध्ययन’ में पाया गया कि भारतीय जानकारी के आधार पर पसंद करने लगे हैं। अब वे एक परंपरागत आदत में नहीं, बल्कि प्रयोग में विश्वास करने लगे हैं।

सर्वेक्षणकर्ताओं ने कहा, “हमें मालूम है कि भारत के लोगों को भोजन से लगाव होता है और तंदूरी चिकन, मटन, फिश और विविध प्रकार के मासांहारों को देखकर उनके लार टपकने लगता है। लेकिन रायशुमारी में 63 फीसदी भारतीयों का कहना है कि वे गोश्त के बदले वनस्पति से प्राप्त भोजन खाना पसंद करते हैं।”

रिपोर्ट के अनुसार, 57 फीसदी लोगों ने बताया कि वे जैविक खाद्य पदार्थ ग्रहण् करते हैं।

रिपोर्ट में कहा गया कि भारत में 57 फीसदी लोगों का दावा है कि वे जैविक खाद्य पदार्थ ग्रहण करते हैं, जबकि विकसित देशों में जैविक खाद्य पदार्थ खाने वाले लोग कम हैं, जिनमें जापान में 13 फीसदी और 12 फीसदी ब्रिटिश हैं।

सर्वेक्षण पिछले साल 24 अगस्त से लेकर सात सितंबर तक 29 देशों में करवाया गया था। सर्वेक्षण में भारत में 1,000 नमूने लिए गए थे। 

–आईएएनएस

Continue Reading

Most Popular