विटामिन A की कमी को ऐसे करें दूर... | WeForNewsHindi | Latest, News Update, -Top Story
Connect with us

स्वास्थ्य

विटामिन A की कमी को ऐसे करें दूर…

Published

on

Vitamin-

शरीर के लिए विटामिन बेहद जरूरी होता है। शरीर को समय-समय पर विटामिन्स की पूर्ति करते रहना चाहिए। इन्हीं विटामिन्स में विटामिन ए भी शरीर के लिए काफी फायदेमंद होता है।

विटामिन ए त्वचा, हड्डियों और शरीर की अन्य कोशिकाओं को मजबूत रखता है। विटामिन ए में एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होता है जो कोशिकाओं को क्षतिग्रस्त होने से बचाता है। इसके अलावा विटामिन ए मुक्त कणों को टूटने से रोकता है और हमारे शरीर से सूजन संबंधी समस्या नहीं उत्पन्न होने देता है।

इतना ही नहीं इम्यून सिस्टम के कार्यों को बेहतर बनाने और दिल, फेफड़े, किडनी के साथ ही शरीर के दूसरे आवश्यक अंगों के कार्यों को भी सामान्य रखने के लिए विटामिन ए की भूमिका काफी अहम मानी जाती है। अगर शरीर में विटामिन ए की कमी देखने को मिलती है तो इससे शरीर कई समस्याओं से ग्रस्त हो जाता है।

Image result for vitamin-a

विटामिन ए की कमी

विटामिन ए की कमी से अंधापन, आंखों में सूखापन, रूखे बाल, सूखी त्‍वचा, बार-बार सर्दी-जुकाम, थकान, कमजोरी, नींद न आना, रतोंधी, निमोनिया और वजन में कमी होने जैसी कई परेशानियां झेलनी पड़ जाती हैं। ऐसे में इन रोगों से ग्रस्त रहने से बचने के लिए शरीर में विटामिन ए की कमी की पूर्ति करना काफी आवश्यक हो जाता है।

Image result for vitamin-a

इनका करें सेवन

सब्जियों और फलों के सेवन से आसानी से विटामिन ए की पूर्ति की जा सकती है। शरीर में विटामिन ए की भरपाई करने के लिए अंडा, दूध, गाजर, पीली या नारंगी सब्जियां, पालक, स्वीट पोटेटो, पपीता, दही, सोयाबीन और दूसरी पत्तेदार हरी सब्जियां का सेवन किया जा सकता है।

WeForNews 

शहर

36 घंटे का ऑपरेशन, 2361 लोगों को मरकज से निकाला : सिसोदिया

इसके अलावा, यह उन विदेशियों की भी सूची बनाएगा जो पहले ही अपने देशों के लिए रवाना हो चुके हैं।

Published

on

Corona India Tablighi Jamaat

नई दिल्ली, 1 अप्रैल | एक साथ ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर प्रतिबंध के आदेशों के बावजूद तबलीगी जमात की बैठक रखने के विवाद के बीच जमात के निजामुद्दीन मरकज को पूरी तरह से खाली कर दिया गया है। यह जानकारी दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर दी। सिसोदिया ने ट्वीट किया, चिकित्सा कर्मचारियों की मदद से 36 घंटे के ऑपरेशन के बाद, सुबह 4 बजे तक पूरी इमारत खाली कर दी गई। कुल 2361 व्यक्ति पाए गए, जिनमें से 617 को अस्पतालों में भर्ती कराया गया है और बाकी सभी को क्वारेंटाइन कर दिया गया है।

सिसोदिया ने उन सभी कर्मचारियों को धन्यवाद दिया, जो इस मरकज को खाली कराने में शामिल रहे। तबलीगी आयोजकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

तबलीगी जमात मरकज पर महामारी अधिनियम के प्रावधानों और आईपीसी की धारा 120 बी (आपराधिक साजिश) के उल्लंघन के लिए मामला दर्ज किया गया है। क्राइम ब्रांच मरकज प्रमुख के साथ-साथ साद साद कंधालवी से भी पूछताछ करेगी जिन्होंने संप्रदाय के अनुयायियों की इतनी बड़ी भीड़ को ऐसी स्थिति में एक जगह इकट्ठा किया, जहां कोरोनोवायरस संक्रमण तेजी से फैलने का खतरा था।

क्राइम ब्रांच के सूत्रों ने कहा कि यह अब उन लोगों की तलाश करेगा जिन्होंने इस मरकज में भाग लिया और फिर देश के विभिन्न हिस्सों में गए, उनमें से कई लोग ऐसे हैं जो अपने साथ घातक कोरोना संक्रमण ले गए। कई राज्यों ने बताया है कि इन धार्मिक अनुयायियों को पहले ही कोरोना पॉजिटिव पाया जा चुका है।

इसके अलावा, यह उन विदेशियों की भी सूची बनाएगा जो पहले ही अपने देशों के लिए रवाना हो चुके हैं।

Continue Reading

राष्ट्रीय

दिल्ली में डॉक्टर, नर्सों को 14 दिन काम के बाद 2 हफ्ते का मिलेगा आराम

Published

on

Coronavirus-Infections
प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने अस्पतालों को निर्देश दिया है कि डॉक्टरों, नर्सों और पैरा-मेडिकल कर्मचारियों की लगातार 14 दिनों की सेवा लिए जाने के बाद उन्हें दो सप्ताह का ब्रेक दिया जाए। एक आदेश में दिल्ली स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि कर्मचारी दो शिफ्टों में काम करेंगे।

स्वास्थ्य मंत्री द्वारा अनुमोदित आदेश में कहा गया है, “दस घंटे (सुबह 8 से शाम 6 बजे) और 14 घंटे (शाम 6 से 8 बजे) की दो शिफ्टों में क्वारंटाइन सुविधाओं सहित कोविड -19 (संक्रमण से लड़ने) के लिए नामित अस्पतालों और मेडिकल टीमों को चलाने का निर्णय लिया गया है।”

आदेश में कर्मचारियों को समान कार्य दिवसों से पहले 14 दिनों का अवकाश दिए जाने की बात कही गई है।

आदेश में आगे कहा गया है, “डॉक्टर, नर्स और पैरा-मेडिकल कर्मचारी 14 दिनों तक लगातार काम करेंगे और इसके बाद उन्हें दो सप्ताह का ब्रेक दिया जाएगा। साथ ही इस पूरी अवधि के दौरान डॉक्टरों, नर्सों और पैरा मेडिकल कर्मचारियों के स्टाफ की रहने की व्यवस्था के मद्देनजर अस्पतालों द्वारा उन्हें आवास प्रदान किया जाएगा।”

–आईएएनएस

Continue Reading

राजनीति

यूपी में मजदूरों को सैनिटाइजर से नहलाने पर घिरी योगी सरकार

Published

on

Priyanka-Gandhi
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के बरेली में पलायन करके आए मजदूरों को सैनिटाइजर से नहलाने के मामले पर योगी सरकार बुरी तरह से घिर चुकी है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, बहुजन पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती, समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव प्रशासन की इस कार्रवाई पर कड़ी आपत्ति दर्ज कराई है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपील की, ‘यूपी सरकार से गुजारिश है कि हम सब मिलकर इस आपदा के खिलाफ लड़ रहे हैं लेकिन कृपा करके ऐसे अमानवीय काम मत करिए। मजदूरों ने पहले से ही बहुत दुख झेल लिए हैं। उनको केमिकल डाल कर इस तरह नहलाइए मत। इससे उनका बचाव नहीं होगा बल्कि उनकी सेहत के लिए और खतरे पैदा हो जाएंगे।’

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा, ‘देश में जारी जबर्दस्त लॉडाउन के दौरान जनउपेक्षा व जुल्म-ज्यादती की अनेकों तस्वीरें मीडिया में आम हैं परन्तु प्रवासी मजदूरों पर यूपी के बरेली में कीटनाशक दवा का छिड़काव करके उन्हें दण्डित करना क्रूरता व अमानीवयता है जिसकी जितनी भी निन्दा की जाए कम है। सरकार तुरन्त ध्यान दे।’

वहीं, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सवाल पूछते हुए कहा, ‘यात्रियों पर सेनिटाइज़ेशन के लिए किए गए केमिकल छिड़काव से उठे कुछ सवाल, क्या इसके लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन के निर्देश हैं? केमिकल से हो रही जलन का क्या इलाज है? भीगे लोगों के कपड़े बदलने की क्या व्यवस्था है? साथ में भीगे खाने के सामान की क्या वैकल्पिक व्यवस्था है।’

बता दें कि दिल्ली से लौट रहे मजदूरों पर बरेली के सेटेलाइट अड्डे पर सैनिटाइजर से छिड़काव किया गया था। पुलिस ने सबको एक लाइन में बैठाया और इसके बाद उन्हें सोडियम हाईपोक्लोराइड युक्त पानी से नहलाया गया। कुछ लोगों की आंखें लाल हो गई तो कुछ छोटे बच्चे रोने लगे।

WeForNews

Continue Reading

Most Popular